Babulsupriyo, Bjp, Westbengal, Politics, बाबुलसुप्रियो, भाजपा, पश्चिमबंगाल, राजनीति

Babulsupriyo, Bjp

मंत्री पद जाने के बाद भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो ने राजनीति छोड़ने की घोषणा की

मंत्री पद जाने के बाद भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो ने राजनीति छोड़ने की घोषणा की #BabulSupriyo #BJP #Westbengal #Politics #बाबुलसुप्रियो #भाजपा #पश्चिमबंगाल #राजनीति

01-08-2021 21:30:00

मंत्री पद जाने के बाद भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो ने राजनीति छोड़ने की घोषणा की BabulSupriyo BJP Westbengal Politics बाबुलसुप्रियो भाजपा पश्चिमबंगाल राजनीति

50 वर्षीय बाबुल सुप्रियो ने 2014 से नरेंद्र मोदी सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री के रूप में कई विभागों को संभाला था. उन्हें इस महीने की शुरुआत में एक बड़े मंत्रिमंडल फेरबदल के दौरान हटा दिया गया था. उन्होंने सांसद के पद से भी इस्तीफ़ा देने की बात कही है. सुप्रियो ने संकेत दिया कि उन्होंने यह निर्णय आंशिक रूप से मंत्री पद जाने और भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के नेतृत्व के साथ मतभेदों के कारण लिया है.

कोलकाता:केंद्रीय मंत्रिमंडलके फेरबदल में मंत्री पद से हटाए जाने के कुछ दिनों बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता बाबुल सुप्रियो ने शनिवार को कहा कि उन्होंने राजनीति छोड़ने का फैसला किया है और वह एक सांसद के रूप में इस्तीफा दे देंगे.

सोनू सूद पर IT का छापा: अकाउंट बुक में गड़बड़ी के आरोप में 6 जगह सर्वे की कार्रवाई; 18 दिन पहले दिल्ली सरकार ने ब्रांड एम्बेसडर बनाया था JEE Mains Result: मिलिए दिल्ली के AIR-1 टॉपर से, जानें- कैसे 300 में पाए 300 नंबर हेलमेट की अहमियत बताने वाला VIDEO: गुजरात के दाहोद में सड़क पर गिरे युवक के सिर के ऊपर से निकला ट्रॉली का पहिया, हेलमेट की वजह से बच गई जान

सुप्रियो ने संकेत दिया कि उन्होंने यह निर्णय आंशिक रूप से मंत्री पद जाने और भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के नेतृत्व के साथ मतभेदों के कारण लिया है.50 वर्षीय सुप्रियो ने 2014 से नरेंद्र मोदी सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री (एमओएस) के रूप में कई विभागों को संभाला था. उन्हें इस महीने की शुरुआत में एक बड़े मंत्रिमंडल फेरबदल के दौरान हटा दिया गया था.

सुप्रियो ने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘जा रहा हूं अलविदा. अपने माता-पिता, पत्नी, दोस्तों से बात की और उनकी सलाह सुनने के बाद मैं कह रहा हूं कि मैं जा रहा हूं. मैं किसी अन्य पार्टी में नहीं जा रहा हूं- तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस, माकपा, कहीं नहीं. मैं पुष्टि कर रहा हूं कि किसी ने मुझे फोन नहीं किया है.’ headtopics.com

उन्होंने लिखा, ‘मैं कहीं नहीं जा रहा हूं. मैं एक टीम का खिलाड़ी हूं! हमेशा एक टीम मोहन बागान का समर्थन किया है – केवल एक पार्टी के साथ रहा हूं- भाजपा पश्चिम बंगाल. बस!! जा रहा हूं.’उन्होंने लिखा, ‘मैं बहुत लंबे समय तक रहा हूं. मैंने किसी की मदद की है, किसी को निराश किया है, यह लोगों को तय करना है. सामाजिक कार्यों में शामिल होने के लिए, आप किसी भी राजनीति में शामिल हुए बिना भी ऐसा कर सकते हैं. हां, मैं सांसद के पद से इस्तीफा दे रहा हूं.’

आसनसोल से दो बार के सांसद सुप्रियो उन कई मंत्रियों में शामिल हैं, जिन्हें सात जुलाई को एक बड़े फेरबदल के तहत केंद्रीय मंत्रिपरिषद् से हटा दिया गया था.हालिया विधानसभा चुनाव में उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के अरूप बिस्वास के खिलाफ विधानसभा चुनाव लड़ा और उन्हें हार का सामना करना पड़ा था.

सुप्रियो और देबाश्री चौधरी दोनों को मंत्री पद से हटा दिया गया था. पश्चिम बंगाल के चार अन्य सांसदों- नीसिथ प्रमाणिक, शांतनु ठाकुर, सुभाष सरकार और जॉन बारला को मंत्रिपरिषद में राज्य मंत्री के रूप में शामिल किया गया.उन्होंने लिखा, ‘लेकिन, मुझे एक सवाल का जवाब देना है, क्योंकि यह प्रासंगिक है! सवाल यह है कि मैंने राजनीति क्यों छोड़ी? क्या इसका मंत्रालय छोड़ने से कोई लेना-देना है? हां, तो यह कुछ हद तक सही है. मैं दिखावा नहीं करना चाहता इसलिए मेरी तरफ से सवालों का जवाब देना सही होगा और इससे मुझे भी शांति मिलेगी.’

किसी का नाम लिए बगैर सुप्रियो ने कहा कि राज्य नेतृत्व के साथ मतभेद से भी मामलों में कोई मदद नहीं मिल रही है और पार्टी के स्तर पर गलत संदेश जा रहा है.उन्होंने कहा, ‘चुनावों से पहले कुछ मुद्दों पर राज्य नेतृत्व के साथ असहमति थी, लेकिन कुछ मामले सार्वजनिक रूप से सामने आ रहे थे. कहीं मैं इसके लिए जिम्मेदार हूं (मैंने एक फेसबुक पोस्ट की जो पार्टी अनुशासन तोड़ने के समान है) और कहीं और अन्य नेता भी बहुत ज्यादा जिम्मेदार हैं, हालांकि मैं इसकी गहराई में नहीं जाना चाहता कि इसके लिए कौन जिम्मेदार है.’ headtopics.com

सोनू के दफ्तर पर IT का छापा: कभी 5500 रुपए लेकर मुंबई आए थे सोनू सूद, आज 130 करोड़ की संपत्ति के मालिक Time Magazine की 100 'सबसे प्रभावशाली लोगों' की सूची में मोदी-ममता और अदार पूनावाला ओडिशा उपचुनाव: बीजेपी ने झोंकी पूरी ताकत, तीन केंद्रीय मंत्री करेंगे प्रचार

सुप्रियो ने लिखा, ‘लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के बीच उन असहमति और झगड़ों के कारण जमीन खो रही थी. हमें यह समझने के लिए ‘रॉकेट साइंस’ के ज्ञान की आवश्यकता नहीं है कि यह किसी भी तरह से पार्टी कार्यकर्ताओं के मनोबल की मदद नहीं कर रहा है. हालांकि अभी यह पूरी तरह से अवांछित है, इसलिए मैं आसनसोल के लोगों के प्रति अपार कृतज्ञता और प्रेम के साथ जा रहा हूं.’

उन्होंने कहा, ‘आज भाजपा बंगाल में मुख्य विपक्षी दल है. पार्टी में आज कई नए होनहार युवा नेताओं के साथ-साथ कई अनुभवी नेता भी हैं. उनके नेतृत्व वाली टीम यहां से काफी आगे जाएगी. मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि आज पार्टी में किसी व्यक्ति का होना कोई बड़ी बात नहीं है और इस तथ्य को स्वीकार करना ही सही फैसला होगा.’

सुप्रियो ने भाजपा के शीर्ष नेताओं- केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को उनके प्रति ‘उनके प्यार और स्नेह’ के लिए धन्यवाद दिया और स्पष्ट किया कि उनका कदम ‘सौदेबाजी’ के उद्देश्य से नहीं है.उन्होंने लिखा, ‘पिछले कुछ दिनों से जब भी मैंने उन्हें अपने फैसले के बारे में बताया था, तो उन्होंने मुझे न जाने के लिए मनाने की कोशिश की थी. इसलिए अगर मैं उनके पास इसी दलील के साथ जाता रहा, तो वे सोच सकते हैं कि मैं किसी ‘पद’ के लिए ‘सौदेबाजी’ कर रहा हूं और ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. मैं प्रार्थना करता हूं कि वे मुझे गलत न समझें और मुझे क्षमा कर दें.’

बता दें कि साल 1992 में सुप्रियो ने स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक में अपनी नौकरी छोड़कर बॉलीवुड में प्लेबैक सिंगर बनने के सफर पर निकल गए थे. भाजपा में शामिल होने से पहले उन्होंने कई बंगाली फिल्मों में उन्होंने छोटे-छोटे किरदार निभाए हैं.पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने इस पर कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, ‘ऐसे लोग हैं जो आते हैं और जाते हैं. मुझे इस बात की जानकारी नहीं है कि उन्होंने पार्टी से या एक सांसद के रूप में इस्तीफा दे दिया है. मैं फेसबुक या ट्विटर पोस्ट को नहीं देखता, इसलिए मैं इस पर टिप्पणी नहीं कर सकता.’ headtopics.com

हालांकि, तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व ने सभी को साथ लेने में विफल रहने के लिए भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई पर निशाना साधा और सुप्रियो के सोशल मीडिया पोस्ट को ‘नाटक’ करार दिया.तृणमूल कांग्रेस की राज्य इकाई के महासचिव कुणाल घोष ने कहा, ‘बाबुल सुप्रियो नाटक कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें मंत्रालय से हटा दिया गया है. अगर वह इस्तीफा देने के इच्छुक थे, तो उन्हें अपना इस्तीफा लोकसभा अध्यक्ष को भेज देना चाहिए था. इसके बजाय वह उन चालों में शामिल हैं, लेकिन यह घटना भाजपा में आंतरिक कलह को भी सामने लाई है.’

रिपोर्टके अनुसार, 2014 के आम चुनावों से ठीक पहले सुप्रियो राजनीति में शामिल हुए थे और आसनसोल से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था. नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्हें शहरी विकास के लिए राज्यमंत्री नियुक्त किया गया था.इस दौरान सुप्रियो में पार्टी में अपनी जगह बनाई और बंगाल के भाजपा नेताओं के बीच अपनी स्थिति मजबूत की. भ्रष्टाचार और समुचित विकास न होने को लेकर उन्होंने टीएमसी पर जोरदार हमला किया और ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी के आलोचक बनकर उभरे.

डॉक्टर्स का दावा- सफेद दाग का इलाज कर सकती है DRDO की ये दवा चट्टानों पर उभरी गणेश की अनूठी प्रतिमा: पहाड़ियों के बीच दुर्गम रास्तों से पहुंचते हैं लोग, 45 फीट ऊंचाई पर है प्रतिमा, पांच खंडों में है कान, शीश्, ललाट और सूंड UP में जनता की जान की चिंता छोड़ अब्बाजान, चचाजान की राजनीति, देखें 10 तक

साल 2019 के चुनाव में वह पहली बार से भी अधिक वोटों से आसनसोल से दूसरी बार जीते. उन्हें एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रिमंडल में जगह मिली और उन्हें पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री बनाया गया.इसके बाद घोष और सुप्रियो के मतभेद भी खुलकर सामने आने लगे और कई मौकों पर दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ खुलकर बयानबाजी की.

बीते 11 जून को भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय पार्टी में 44 महीने बिताने के बाद टीएमसी में वापस लौट गए. वहीं लगभग रोजाना ही बड़ी संख्या में भाजपा के निचले स्तर के कार्यकर्ता टीएमसी में शामिल हो रहे हैं.इसके साथ ही विधानसभा चुनावों से ठीक पहले भाजपा में शामिल होने वाले अनेक टीएमसी कार्यकर्ताओं ने अब भाजपा की संगठनात्मक बैठकों में शामिल होना बंद कर दिया है और कई ने टीएमसी में वापस लौटने की इच्छा जाहिर की है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

हल्ला बोल: Mumbai में रह रहे आतंकी की गिरफ्तारी पर क्यों सुलग उठी सियासत?

मुंबई में रह रहे आतंकवादी जान मोहम्मद की गिरफ्तारी को लेकर सियासत सुलगने लगी है. महाराष्ट्र बीजेपी ने उद्धव सरकार पर निशाना साध लिया और पूछा कि क्या राज्य की एजेंसियां सो रही थीं और क्या आतंकी के एक खास मजहब के होने का उसे फायदा मिला? उद्धव सरकार ने बीजेपी के आरोपों को खारिज किया है. आतंक के इन छह सौदागरों ने नापाक साजिश का पूरा ब्लूप्रिंट तैयार कर रखा था, डी कंपनी से फंडिंग हो चुकी थी. छह में से दो ने पाकिस्तान के उस फार्म हाउस मेंजाकर ट्रेनिंग भी पूरी कर ली थी जहां अजमल कसाब को ट्रेनिंग दी गई थी. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI इन सबका रिमोट अपने हाथ में ले चुकी थी. साजिशों को अंजाम देने के लिए बस नवरात्रों का इंतजार था, लेकिन दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया. देखिए हल्ला बोल का ये एपिसोड.

मंत्री पदच्युत बाबुल सुप्रियो के राजनीति छोड़ने का बंगाल की राजनीति में दूरगामी परिणाम होंगे। BabulSupriyo BJP Westbengal Politics बाबुलसुप्रियो भाजपा पश्चिमबंगाल राजनीति जय श्रीराम नारा लगाने वाले बीजेपी नेता टुकड़े गैंग खेला होबे खेमे में जा रहें हैं🤣 Trainee IPS Modi ji से बातचीत में जिस इज्जत के साथ पेश आए यही IPS Modi को PM बनाने वाली जनता से भी इसी इज्जत के साथ पेश आएंगे और किसी के भी दवाव में किसी भी निर्दोष पर गलत धाराएँ नहीं लगाएँगे।

आज हिला के सोना तुम लोग एक कलाकार के लिए सही निर्णय है? Rajniti cbhodo,jen sewa men lago

नागरिकों के सम्मान की रक्षा के लिए बहुत कुछ करने की जरूरत: जस्टिस ललितसुप्रीम कोर्ट के जज, जस्टिस यूयू ललित ने कहा है कि देश के हरेक पुलिस थाने में किसी भी नागरिक को फ्री कानूनी सहायता दिए जाने की जानकारी डिस्प्ले बोर्ड पर लिखी होनी चाहिए. सभी आरोपियों को पता होना चाहिए कि कानूनी सहायता उसका अधिकार है और ये भी कि उसे ये सुविधा कैसे मिलेगी. mewatisanjoo Mr Justice you nonsense anpad ganwar politicians need to be educated. mewatisanjoo बोलने से कुछ नही होता जज साहेब करने से होता है; सर्वप्रथम तो जितने भी पद खाली हैं जजों के, उन्हें तत्काल से भरने की प्रक्रिया शुरू करे व ये सुनिश्चित करें कि इसप्रक्रिया में कोई धांधलेबाजी ना हो रिजल्ट भी तयसमयसीमा पर आए क्योंकि जितने केसों का निर्णय नहींहुआ उससे ज्यादा बांकी हैं mewatisanjoo Mr Justice nonsense anpad ganwar politicians need to be educated.

UNSC के अध्यक्ष के तौर पर India की ताजपोशी से क्यों घबराया है Pakistan?दुनिया की सबसे ताकतवर संस्था यूनाइटेड नेशंस सिक्योरिटी काउंसिल के अध्यक्ष के तौर पर भारत की ताजपोशी हो गई है. भारत का दुनिया की सबसे बड़ी और ताकतवर पंचायत का अध्यक्ष चुने जाने के बाद पाकिस्तान घबराया हुआ है. पाकिस्तान की सरकार को इस बात का डर लग रहा है कि कहीं भारत उसके साथ खेल ना कर दे. आज से एक महीने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की कमान भारत के हाथों में होगी. भारत को अगस्त महीने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अध्यक्ष चुना गया है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता मिलते ही भारत ने अपनी मंशा जाहिर कर दी. भारत ने साफ कर दिया कि उसकी प्रथमिकता समुद्री सुरक्षा, शांति स्थापना की कवायद और आतंकवाद पर कड़ा प्रहार है. देखिए ये रिपोर्ट. राफेल से भी चीन और पाकिस्तान थर्रा गया था, यही झूंठ फैलाया था न आज तक जैसे गुल्लू चैनलों ने, फिर भी थर्राते हुए चीन भारत की सरहद में क्या पिकनिक मना रहा है? बधाई तो फिर हिन्दू मुस्लिम ,भारत पाकिस्तान चाइना का राग क्यों अलापते हो रात-दिन

'आराधना' की शूटिंग खत्म होने के बाद राजेश खन्ना से हुई थी फरीदा जलाल की दोस्तीफिल्म 'आराधना' ​में राजेश खन्ना के साथ शर्मिला टैगोर लीड रोल में नज़र आई थी। दोनों की ऑन स्क्रीम केमिस्ट्री दर्शकों को खूब पसंद आई थी। एक्ट्रेस फरीदा जलाल भी इस फिल्म में सपोर्टिंग रोल में दिखाई दी थी

किसान की ओलिंपियन बेटी कमलप्रीत की कहानी: पंजाब के गांव मुक्तसर से निकलकर शाकाहार के दम पर पाया मुकाम; बड़े संस्थानों में दाखिला नहीं मिला तो स्कूल के स्टेडियम में की प्रैक्टिसजब आदमी कुछ कर गुजरने की ठान लेता है तो फिर कोई भी डगर मुश्किल नहीं होती। यही कहानी है पंजाब मुक्तसर के छोटे से गांव से निकलकर ओलिंपिक के फाइनल में जगह बना चुकी कमलप्रीत कौर की। वह पिछले 7 साल से इस मुकाम के लिए संघर्ष कर रही है। इतना ही नहीं, आम तौर पर देर-सवेर खिलाड़ी नॉनवेज खाने को अपना ही लेते हैं, लेकिन कमलप्रीत कौर ने ऐसा भी कुछ नहीं अपनाया। शुद्ध शाकाहार के दम पर ही इतना बड़ा मुकाम पाया है। न... | Punjab: Farmer's daughter made a place with indigenous diet, if she did not get admission in the center of SAI, she used to go to the nearby school every day. जब आदमी कुछ कर गुजरने की ठान लेता है तो फिर कोई भी डगर मुश्किल नहीं होती। यही कहानी है पंजाब मुक्तसर के छोटे से गांव से निकलकर ओलंपिक के फाइनल में जगह बना चुकी कमलप्रीत कौर की। वह पिछले 7 साल से इस मुकाम के लिए संघर्ष कर रही है

दुनिया के महान फुटबॉलर में से एक Neymar की देखें संघर्ष की कहानीब्राजील के फुटबॉलर नेमार दुनिया के महान खिलाड़ियों की फेहरिस्त में शामिल हैं. लेकिन नेमार का बचपन संघर्ष से भरा था. लेकिन तमाम मुश्किलों के बावजूद नेमार ने कभी हार नहीं मानी और अब नेमार पूरी दुनिया में मशहूर हैं. फुटब़ॉल की दुनिया में रोनाल्डो और मेसी के साथ अगर किसी महान खिलाड़ी का नाम गिना जाता है तो वो है नेमार. ब्राजील के इस फुटब़ॉल खिलाड़ी का पूरी दुनिया लोहा मानती है. साल 2017 में नेमार दुनिया के सबसे महंगे फुटबॉल खिलाड़ी बने थे. लेकिन नेमार के लिए ये मुकाम हासिल करना आसान नहीं था. उनकी जिंदगी संघर्ष से सफलता हासिल करने की कहानी है. देखिए.

बिहारः चिराग की LJP में टूट के पीछे नीतीश के 'राइट हैंड' ललन का दिमाग!बिहारः चिराग की LJP में टूट के पीछे नीतीश के 'राइट हैंड' ललन का दिमाग! सवर्णों में सकारात्मक संदेश के लिए सौंपी गई JDU की कमान