Supremecourt, Central Government, Supreme Court, सुप्रीम कोर्ट, केंद्र सरका, झारखंड, Jharkhand

Supremecourt, Central Government

भूख से मौत और तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द करने के आरोपों की जांच को तैयार केंद्र सरकार

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने झारखंड में भूख की वजह से कोई मौत होने और देश में करीब तीन करोड़ लोगों के राशन कार्ड

24-02-2020 23:43:00

केंद्र सरका र ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में झारखंड में भूख से मौत और देशभर में गरीब लोगों के करीब तीन करोड़ राशन कार्डों को मनमाने तरीके से रद्द करने के आरोपों का खंडन किया। SupremeCourt Jharkhand CMO HemantSorenJMM

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरका र ने झारखंड में भूख की वजह से कोई मौत होने और देश में करीब तीन करोड़ लोगों के राशन कार्ड

Updated Tue, 25 Feb 2020 12:14 AM ISTविज्ञापनख़बर सुनेंख़बर सुनेंकेंद्र सरकार ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में झारखंड में भूख से मौत और देशभर में गरीब लोगों के करीब तीन करोड़ राशन कार्डों को मनमाने तरीके से रद्द करने के आरोपों का खंडन किया। सरकार ने जोर देकर कहा कि वह इन आरोपों को गलत साबित करने के लिए जांच के लिए तैयार है। अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने चीफ जस्टिस एसए बोबडे और जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस सूर्य कांत की पीठ को बताया कि पहले याचिकाकर्ताओं को हलफनामा रखने दीजिए। इसका मैं जवाब दूंगा और दिखाऊंगा कि ये सभी गलत हैं। ये सभी गलत आंकड़े हैं।

अशोक लवासा अगले मुख्य चुनाव आयुक्त होते लेकिन बने ADB के वीपी Heavy rain lashes Mumbai, IMD issues orange for next 48 hrs राजस्थान के सियासी घमासान में अब BSP भी कूदी, कांग्रेस के खिलाफ जाएगी कोर्ट, जानें क्या है पूरा मामला

वेणुगोपाल ने वरिष्ठ वकील कोलिन गोंजाल्विस द्वारा दी जा रही दलीलों के दौरान हस्तक्षेप करते हुए यह बात कही। गोंजाल्विस एक पीआईएल के लिए कोर्ट में पेश हुए जिसमें आरोप लगाया गया है कि झारखंड में एक परिवार को आधार कार्ड नहीं होने की वजह से राशन नहीं दिया गया और इस वजह से 13 वर्षीय एक बच्ची की भूख के चलते मौत हो गई। साथ ही उन्होंने दावा किया कि देशभर में गरीब परिवारों के करीब तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द कर दिए गए।

अटॉर्नी जनरल ने दलील दी कि केंद्र इस मुद्दे पर व्यापक हलफनामा दाखिल करेगा और वह इसके लिए राज्य सरकारों के जवाब का इंतजार कर रहा है। उन्होंने कहा कि राज्यों के जवाब के बाद केंद्र हलफनामा दाखिल करेगा। पीआईएल याचिकाकर्ता और केंद्र सरकार ने राशन कार्डों को रद्द करने के आंकड़ों को लेकर एक दूसरे पर आरोप लगाए। पीठ ने आदेश दिया कि वह इस मामले की सुनवाई चार हफ्ते बाद करेगा। साथ ही उसने राज्यों को इस समय सीमा के अंदर अपना जवाब देने का निर्देश दिया है।

केंद्र सरकार ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में झारखंड में भूख से मौत और देशभर में गरीब लोगों के करीब तीन करोड़ राशन कार्डों को मनमाने तरीके से रद्द करने के आरोपों का खंडन किया। सरकार ने जोर देकर कहा कि वह इन आरोपों को गलत साबित करने के लिए जांच के लिए तैयार है। अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने चीफ जस्टिस एसए बोबडे और जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस सूर्य कांत की पीठ को बताया कि पहले याचिकाकर्ताओं को हलफनामा रखने दीजिए। इसका मैं जवाब दूंगा और दिखाऊंगा कि ये सभी गलत हैं। ये सभी गलत आंकड़े हैं।

विज्ञापनवेणुगोपाल ने वरिष्ठ वकील कोलिन गोंजाल्विस द्वारा दी जा रही दलीलों के दौरान हस्तक्षेप करते हुए यह बात कही। गोंजाल्विस एक पीआईएल के लिए कोर्ट में पेश हुए जिसमें आरोप लगाया गया है कि झारखंड में एक परिवार को आधार कार्ड नहीं होने की वजह से राशन नहीं दिया गया और इस वजह से 13 वर्षीय एक बच्ची की भूख के चलते मौत हो गई। साथ ही उन्होंने दावा किया कि देशभर में गरीब परिवारों के करीब तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द कर दिए गए।

और पढो: Amar Ujala »

Turkey Earthquake: भूकंप से भारी तबाही, तुर्की में 9 की मौत, ईरान में 65 घायलTurkey Earthquake: तुर्की में रविवार को लगातर भूकंप के झटके मसहूस किए गए. पहले रिक्टर स्केल पर 5.7 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए. जबकि थोड़ी देर बाद ही रिक्टर स्केल पर 6 तीव्रता वाले भूकंप के झटके आए. Good bahot kashmir kashmir chilla raha tha🤣🤣 अच्छा हुआ, खुदा घर देर है अंधेर नहीं, पाकिस्तान का साथ देने का परिणाम मिल गया दुखद

डिप्रेशन में थी मीका सिंह की मैनेजर सौम्या खान, इस वजह से हुई मौतमुंबई मिरर ऑनलाइन में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्सोवा पुलिस स्टेशन के इंस्टपेक्टर पी. भोंसले ने कहा कि सौम्या खान (Saumya Khan) डिप्रेशन में थीं और अत्यधिक मात्रा में ड्रग का सेवन करने के चलते उनकी मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि पारिवारिक मुद्दों और तनाव के चलते वह मीका सिंह के स्टूडियो की पहली मंजिल पर अकेले रहती थीं. | entertainment News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी Very sad News डिप्रेशन से मौत कैसे हो सकती स्थाई पागलपन हो सकता है वो भी अधिकतम।

कोरोनावायरस: चीन में मृतक संख्या 2442 हुई, दक्षिण कोरिया में चार लोगों की मौतकोरोनावायरस का कहर और अधिक बढ़ता जा रहा है। चीन में इस घातक वायरस से 97 और लोगों की मौत के बाद शनिवार को इससे मरने वालों

गाजा पट्टी और सीरिया में इजराइल के हवाई हमले में छह लोगों की मौतगाजा पट्टी और सीरिया में इस्लामिक जिहादी चरमपंथी समूह को निशाना बनाकर किए गए इजराइली हवाई हमलों में छह लड़ाके मारे गए हैं। bharat thodi he vote ki khatir aatankwadi ko rastion card vote biriyani khilayga isreal he ankh uthake kui dekhnehi sakta इधर दिल्ली जल रही है और इस के गाजा और इस्राइल की चिंता है AmitShah HMOIndia DelhiPolice सीखो अपने देश अपने लोगों की रक्षा कैसे की जाती है 👆 IStandWithKapilMishra IslamicTerrorism RadicalIslamicTerrorism

बजट से FPI में जगा विश्वास, फरवरी में अब तक 23102 करोड़ का निवेशडिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, तीन फरवरी से 20 फरवरी के दौरान विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने इक्विटी में 10,750 करोड़ रुपये और बांड श्रेणी में 12,352 करोड़ रुपये लगाए हैं. इस दौरान आलोच्य अवधि में FPI का कुल निवेश 23,102 करोड़ रुपये रहा.

कोरोना से बाजार में भूचाल, पर सोने में निवेश करने वाले हो रहे मालामालदरअसल बजट के बाद बाजार में अब तक की यह सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली है. लेकिन इस बीच सोने में निवेश करने वाले मालामाल हो रहे हैं. कोरोना वायरस की वजह से अंतरराष्ट्रीय बाजार दबाव में है. ऐसे में सोना सबसे सुरक्षित निवेश के लिए विकल्प बन जाता है. (Photo: File)

सचिन पायलट बोले- मैं बीजेपी में शामिल होने नहीं जा रहा WHO ने कहा- कोरोना अभी बद से बदतर होगा, वैक्सीन और इम्युनिटी से भी निराशा नेपाल के पीएम ओली अयोध्या और राम पर अपने ही देश में घिरे राजस्थान: सचिन पायलट को कांग्रेस ने उपमुख्यमंत्री पद से हटाया गूगल कंपनी भारत में करेगी 75 हज़ार करोड़ का निवेश ईरान ने भारत को दिया झटका, चार साल पहले मोदी ने किया था करार सचिन पायलट ने बीजेपी में जाने से किया इनकार लेकिन स्पीकर ने थमाया नोटिस कांग्रेस का बवंडर सिंधिया और सचिन तक थमेगा या सब उड़ा ले जाएगा? नेपाल के पीएम ओली का अयोध्या को लेकर बयान, खड़ा हुआ विवाद कोरोना वायरस: क्या भारत में संक्रमण का सबसे बुरा दौर अभी बाक़ी है? - BBC Hindi ईरान और चीन की गहराती क़रीबी से भारत की बढ़ी परेशानी?