Coronavirus, Coronavaccine, Coronavirus Infection After Vaccination, Covid İnfection After Vaccination, Covid İnfection After Vaccination İn İndia, Covid İnfection After Vaccination Symptoms, Covid Complications After Vaccination, Covid İnfection After Shots

Coronavirus, Coronavaccine

भास्कर एक्सप्लेनर: वैक्सीन लगने के बाद भी क्यों हो रहा है इन्फेक्शन? क्या वैक्सीनेट व्यक्ति भी इन्फेक्शन फैला सकता है?

भास्कर एक्सप्लेनर:वैक्सीन लगने के बाद भी क्यों हो रहा है इन्फेक्शन? क्या वैक्सीनेट व्यक्ति भी इन्फेक्शन फैला सकता है? #coronavirus #CoronaVaccine @ravibhajni

25-07-2021 05:45:00

भास्कर एक्सप्लेनर:वैक्सीन लगने के बाद भी क्यों हो रहा है इन्फेक्शन? क्या वैक्सीनेट व्यक्ति भी इन्फेक्शन फैला सकता है? coronavirus CoronaVaccine ravibhajni

भारत में कोविड-19 वैक्सीन के करीब 43 करोड़ डोज दिए जा चुके हैं। स्टडीज का दावा है कि वैक्सीन लगी हो तो कोविड-19 की वजह से गंभीर लक्षण या मौत होने की आशंका काफी कम हो जाती है। न तो नेचुरल इन्फेक्शन से बनी एंटीबॉडी आपको रीइन्फेक्शन से बचा सकती है और न ही वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी। | What is a breakthrough infection?; Does Vaccine Prevent Long Covid? Tested Positive For Coronavirus Covid After Vaccine क्सीन लगने के बाद आपको एक तरह का कवच मिलता है। पर कई लोगों को इसके बाद भी इन्फेक्शन हो रहा है, जिसे विशेषज्ञ ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन कह रहे हैं। विशेषज्ञ कह रहे हैं कि वैक्सीन लगाने के बाद भी इन्फेक्शन से 100% इम्यूनिटी नहीं मिलती है। इसका मतलब यह है कि वैक्सीनेट हो चुके लोगों को भी इन्फेक्शन होने का खतरा बना हुआ है।

भारत में कोविड-19 वैक्सीन के करीब 43 करोड़ डोज दिए जा चुके हैं। स्टडीज का दावा है कि वैक्सीन लगी हो तो कोविड-19 की वजह से गंभीर लक्षण या मौत होने की आशंका काफी कम हो जाती है। न तो नेचुरल इन्फेक्शन से बनी एंटीबॉडी आपको रीइन्फेक्शन से बचा सकती है और न ही वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी।

तालिबान का हज्जामों को हुक़्म- 'ना शेव करें और ना ही दाढ़ी काटें' - BBC News हिंदी मोईन अली टेस्ट क्रिकेट से रिटायर हुए, इंग्लैंड के लिए 64 मैच खेलने के बाद कहा अलविदा - BBC Hindi अमेरिका ने तुर्की से कहा रूस से हथियार न खरीदे, क्या दिया तुर्की ने जवाब? - BBC Hindi

पर सवाल तो उठ ही रहे हैं कि वैक्सीन लेने के बाद भी इन्फेक्शन क्यों हो रहे हैं? क्या वैक्सीन लगने के बाद कोई इन्फेक्ट हुआ तो वह अपने आसपास के और लोगों को भी इन्फेक्ट कर सकता है? इस तरह के कुछ और भी प्रश्न हैं, जिनके जवाब भारत और दुनियाभर में हुईं स्टडीज दे रही हैं…

ब्रेकथ्रू कोविड-19 इन्फेक्शन क्या है? इसकी स्टडी क्यों जरूरी है?वैक्सीन लगने के बाद आपको एक तरह का कवच मिलता है। पर कई लोगों को इसके बाद भी इन्फेक्शन हो रहा है, जिसे विशेषज्ञ ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन कह रहे हैं। विशेषज्ञ कह रहे हैं कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी इन्फेक्शन से 100% इम्यूनिटी नहीं मिलती है। इसका मतलब यह है कि वैक्सीनेट हो चुके लोगों को भी इन्फेक्शन होने का खतरा बना हुआ है। headtopics.com

कोरोनावायरस जितने समय तक कम्युनिटी में सर्कुलेट होता रहेगा, उतना ही इन्फेक्शन या रीइन्फेक्शन का खतरा बना रहेगा। पर अच्छी बात यह है कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) समेत दुनियाभर में हुई स्टडी बताती है कि वैक्सीन इन्फेक्शन के गंभीर लक्षणों से बचाने में मददगार है।

ब्रेकथ्रू कोविड-19 इन्फेक्शन हो क्यों रहा है?इसे हमें तीन स्तरों पर देखना होगा-वायरसःमहामारी के वायरस में लगातार म्यूटेशन हो रहा है। वह अपनी संरचना बदलकर पहले से ज्यादा इन्फेक्शियस नए वैरिएंट बना रहा है। ओरिजिनल वायरस से अल्फा वैरिएंट करीब 70% ज्यादा इन्फेक्शियस है, जबकि डेल्टा तो अल्फा से भी 50% ज्यादा इन्फेक्शियस है। यह वैरिएंट्स ही नए केसेस का कारण है। ICMR की स्टडी में 86% ब्रेकथ्रू केसेस का कारण डेल्टा वैरिएंट ही निकला है।

वैक्सीनःडेटा बताता है कि वैरिएंट्स से बचने के लिए दो डोज जरूरी हैं। पर अभी अधिकांश लोगों को दोनों डोज नहीं लगे हैं। इसी तरह वैक्सीन की इफेक्टिवनेस भी एक फेक्टर है। कोवीशील्ड की इफेक्टिवनेस 60% से 90% है तो वहीं, कोवैक्सिन 78% इफेक्टिव है। यानी बचे हुए लोगों के इन्फेक्ट होने का खतरा तो रहेगा ही।

एंटीबॉडी रिस्पॉन्सःसबसे प्रभावी वैक्सीन भी इम्यूनिटी की गारंटी नहीं देती। कुछ लोगों में वैक्सीन के दोनों डोज के बाद भी एंटीबॉडी का स्तर ऐसा नहीं होता कि इन्फेक्शन से बचा जा सके। उन लोगों को डर अधिक है, जो कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज करने के लिए इम्यूनोसप्रेसिव दवाएं ले रहे हैं। headtopics.com

किसानों का भारत बंद आज: दिल्ली-सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन के दौरान एक किसान की मौत, पुलिस का दावा- दिल का दौरा पड़ने से गई जान सुप्रीम कोर्ट के ताज़ा फ़ैसले से क्यों चर्चा में है केरल का श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर? - BBC News हिंदी किसानों का भारत बंद आज: सड़कों पर बैठे किसान नेता; दिल्ली-अमृतसर हाईवे बंद, कई जगह रूट डायवर्ट, हैदराबाद-बेंगलुरु में भी बंद का असर

ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन कितने कॉमन हैं?इसे ट्रैक करना बेहद मुश्किल है। खासकर जब रुटीन सर्विलांस यानी कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जांच ज्यादातर देशों ने बंद कर दी है। सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल (CDC) के मुताबिक अप्रैल से चार महीनों में 13 करोड़ वैक्सीन डोज लगे, पर इस दौरान ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन सिर्फ 10 हजार सामने आए। यानी 10 हजार की आबादी पर 1 इन्फेक्शन।

रोड आइलैंड में प्रिजन सिस्टम में एक स्टडी की गई। कैदियों और गार्ड्स की हर हफ्ते जांच होती है। वहां मार्च से मई के बीच 2,380 वैक्सीनेटेड लोगों में से 27 ही पॉजिटिव टेस्ट हुए हैं। भारत में भी वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ने के बाद नए केस मिलने का रेट कम हुआ है। यानी कुछ हद तक वैक्सीनेशन इन्फेक्शन को रोक रहा है।

हमारे पास ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन के बारे में क्या जानकारी है?अब हमारे पास इस बात के पक्के सबूत हैं कि कोविड-19 वैक्सीन इन्फेक्शन के गंभीर लक्षणों और मौतों को रोकने में कारगर है। मई के बाद से CDC ने ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन पर नजर रखना बंद कर दिया है। 12 जुलाई तक उसने 791 मौतों और 3,733 हॉस्पिटलाइजेशन का डेटा जुटाया है। हॉस्पिटल में भर्ती लोगों में से 97% को वैक्सीन नहीं लगी थी।

इजराइल ने 2021 की शुरुआत में दुनिया में किसी भी और देश की तुलना में प्रति व्यक्ति अधिक कोविड वैक्सीन डोज दिए थे। अप्रैल के अंत तक वैक्सीनेटेड लोगों में 400 अस्पताल में भर्ती हुए। उनमें से 234 को गंभीर लक्षणों का सामना करना पड़ा। 90 लोगों की मौत हुई। जो लोग अस्पताल में भर्ती हुए, उनमें आधे से अधिक में हाई ब्लडप्रेशर, डाइबिटीज और हार्ट फेल्योर का रिस्क अधिक था। यानी उनकी पहले से मौजूद बीमारियों ने उनके इम्यून सिस्टम को कमजोर कर रखा था। headtopics.com

ICMR की नई स्टडी से साफ है कि डेल्टा वैरिएंट हो या अल्फा-बीटा या कप्पा वैरिएंट, वैक्सीन का असर गंभीर लक्षणों को रोकने में साफ दिख रहा है। स्टडी कहती है कि 17 राज्यों के 677 सैम्पल्स में से सिर्फ तीन लोगों (0.4%) की मौत हुई और 67 लोगों (9.8%) को हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा। साफ है कि वैक्सीन लगने के बाद भी जिन लोगों को इन्फेक्शन हुआ, उनमें दस में से नौ लोगों को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत नहीं पड़ी।

कोविड-19 से बचाने में वैक्सीन कितनी इफेक्टिव है?क्लिनिकल ट्रायल्स में कोविड वैक्सीन 50% से 95% तक इफेक्टिव साबित हुई हैं। भारत की बात करें तो कोवैक्सिन 78%, कोवीशील्ड 70% से 90% और स्पुतनिक वी 91% इफेक्टिव साबित हुई है। अगर आप किसी वैक्सीन के 80% इफेक्टिव होने की बात कहते हैं तो बचे हुए 20% के इन्फेक्ट होने का खतरा कायम रहता है।

बीटल्स का वो इंटरव्यू और कबीर बेदी के ऐक्टर बनने की कहानी - BBC News हिंदी पांचजन्य ने अब अमेज़न पर साधा निशाना, बताया 'ईस्ट इंडिया कंपनी 2.0' - BBC Hindi रोहिणी कोर्ट में गैंगवार के बाद अभियुक्तों की वहीं सरेंडर की थी योजना - BBC News हिंदी

पर वास्तविक दुनिया में वैक्सीन का परफॉर्मेंस क्लिनिकल ट्रायल्स जैसा ही हो, यह जरूरी नहीं है। इसमें आबादी, समय और डोज के तौर-तरीके के आधार पर बदलाव हो सकता है। यह रेट्स कई कारणों से प्रभावित होते हैं, जिसमें कोविड-19 के वैरिएंट्स की मौजूदगी एक बड़ा कारण है। इसके अलावा वायरस के ट्रांसमिशन को रोकने के लिए सोशल और पब्लिक हेल्थ उपायों पर भी ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

जून में वेल्लोर (तमिलनाडु) के क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज की स्टडी आई थी। इसके मुताबिक 7,080 वैक्सीनेटेड स्टाफ में से 679 को ही इन्फेक्शन हुआ। सिर्फ 64 को ही हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा। इसमें भी चार को ऑक्सीजन थैरेपी और 2 को आईसीयू केयर की जरूरत पड़ी। यानी वैक्सीन इन्फेक्शन रोकने में 90% से अधिक इफेक्टिव साबित हुई।

वैक्सीनेटेड लोगों से कोरोनावायरस के फैलने का खतरा कितना है?इसका जवाब तलाशने के लिए अब तक कुछ ही स्टडी हुई हैं। स्कॉटलैंड में हेल्थकेयर वर्कर्स के बीच कराई गई स्टडी कहती है कि वैक्सीन नहीं लगवाने वालों के मुकाबले वैक्सीन लगाने वालों के परिवार के सदस्यों के इन्फेक्ट होने का खतरा 30% कम हो जाता है।

इसी तरह इंग्लैंड में हुई स्टडी कहती है कि वैक्सीनेशन के बाद घरों में इन्फेक्शन फैलने का खतरा 40% से 50% तक कम हो जाता है। पर ज्यादा तेजी से ट्रांसमिट होने वाले वैरिएंट इस दावे को झूठला सकते हैं। इस समय डेल्टा वैरिएंट के साथ ऐसा ही हो रहा है। इसके बाद भी कोविड वैक्सीन ने रिकवरी समय घटाने के साथ ही वायरल लोड भी कम करने में कामयाबी दिखाई है।

क्या बूस्टर शॉट्स की जरूरत पड़ेगी?थाईलैंड, बहरीन और यूनाइटेड स्टेट्स अमीरात ने शुरुआत में चीन के सिनोवेक बायोटेक लिमिटेड या सिनोफार्म ग्रुप्स की वैक्सीन लगवाई थी। पर जब केस बढ़ने लगे तो वैक्सीन की इफेक्टिवनेस पर सवाल उठे। इसके बाद फाइजर या मॉडर्ना की वैक्सीन के बूस्टर शॉट की जरूरत पड़ी।

अमेरिका और यूरोप में वैक्सीन एक्सपर्ट और हेल्थ अधिकारी कह रहे हैं कि बूस्टर डोज की जरूरत पड़ सकती है। पर इसे लेकर डेटा नहीं है। पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट का कहना है कि पहले उन लोगों को वैक्सीनेट करने की जरूरत है, जिन्हें एक भी डोज नहीं लगा है। इसके बाद ही तीसरे डोज के तौर पर बूस्टर डोज पर विचार होना चाहिए।

और पढो: Dainik Bhaskar »

US दौरे पर PM मोदी, अब होगा आतंक पर वार! देखें हल्ला बोल

दो साल बाद अमेरिका के लिए पीएम मोदी की उड़ान तेजी से बदलती दुनिया में भारत की आन-बान और शान को दमदार अंदाज़ में दर्ज कराएगी. ये पहला मौका होगा जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन आमने सामने मुलाकात करेंगे. माना जा रहा है कि पीएम मोदी और जो बाइडेन की मुलाकात में अफगानिस्तान में तालिबान राज और उसके बाद के बढ़ते खतरे पर भी बात होगी. भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूती देने के अलावा प्रधानमंत्री के एजेंडे में आतंकवाद पर दुनिया को कड़ा संदेश देना भी शामिल होगा. SCO की बैठक में पीएम मोदी आतंकवाद को लेकर चीन और पाकिस्तान के सामने खरी-खरी सुना चुके हैं. आज हल्ला बोल में देखें इसी मुद्दे पर चर्चा.

ravibhajni ravibhajni वेक्सीनेट ही इंफेक्शन फैला सकती है । अगर नकली नही है ।

खिलाड़ियाें का मनाेबल बढ़ाने के लिए दिल्ली मेट्रो की अनूठी पहल, प्रमुख स्टेशनों पर ओलंपिक ‘सेल्फी प्वाइंट’ बनाएखिलाड़ियाें का मनाेबल बढ़ाने के लिए दिल्ली मेट्रो की अनूठी पहल, प्रमुख स्टेशनों पर ओलंपिक ‘सेल्फी प्वाइंट’ बनाए via NavbharatTimes Tokyo2020 कोरोना प्रेम जरूरी है

भास्कर एक्सप्लेनर: पेगासस भी हाइब्रिड वॉरफेयर का एक हथियार है; जानिए कैसा है यह युद्ध? बिना हथियारों से कैसे लड़ा जा रहा है येअमेरिका और अन्य देशों में सरकारी संगठनों और कारोबार पर हुए रैंसमवेयर अटैक के बाद वॉशिंगटन और मॉस्को में आरोप-प्रत्यारोप का दौर तेज हो गया है। दोनों एक-दूसरे पर साइबर अटैक के आरोप लगा रहे हैं। विदेशी एक्सपर्ट इसे हाइब्रिड वॉरफेयर का एक हिस्सा कह रहे हैं, जिसका मकसद दुश्मन देश को अंदर से खोखला करना है। | Pegasus is also a weapon of hybrid warfare; Know how this war is? how war is being fought without weapons MAHARASHTRACHI VAAT LAAGLI In the month of April 2020 I warned many time that ' Jab tak rahega yeh Manhus SeaM tab tak rahega Carona, Tabaahi. Yeh Pandharpur Mandir me gaya aur saraa Kokan tabhaah huva Jab tak yeh rahega Artificial and Natural Haani hoti rahegi

जर्मनी में बाढ़: ‘फिर से मच सकती है भारी तबाही’ | DW | 23.07.2021बाढ़ का पानी उतर गया है, लेकिन स्थानीय लोग चिंतित हैं कि जिस तेजी से जलवायु परिवर्तन हो रहा है उससे आने वाले दिनों में और भी भीषण आपदाएं आ सकती हैं. Germany floods

MP News: आसमान से खंबे पर गिरी जोरदार बिजली, रोंगटे खड़े करने वाला नजारा कैमरे में कैदबिजली गिरने से हालांकि कोई भी नुकसान नहीं हुआ है. बिजली गिरने का यह वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. Therefore Mudi shud resin. आजकल NDTV के समाचार पे कोई विश्वास नहीं करता। रबीशकुमार, बर्खा दत्त की बकवास सुनकर सब हैरान है। Prakirti Ka vipda

तीसरी लहर से बचने का फॉर्मूला: वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके हैं फिर भी मास्क लगाना जरूरी, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी ने WHO के सुझाव का किया समर्थनदुनिया में कोरोना की तीसरी लहर जारी है। इस लहर में भी डेल्टा वैरिएंट तेजी से फैल रहा है। इसी वैरिएंट के चलते दूसरी लहर में भारत में बड़ी संख्या में मौतें हुईं थीं। इस वैरिएंट के संक्रमण से बचने के लिए वैक्सीन प्रभावी माना जा रहा है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का मानना है कि फुल वैक्सीनेशन के बाद भी लोगों को इनडोर स्पेस में मास्क लगाना जरूरी है। जून के आखिरी दिनों में WHO ने सभी लोगों से हमेश... | covid 19 who recommendation mask is important even for fully vaccinated people California university in support वैक्सीन के दोनों डोज लगाने के बाद भी मास्क लगाना क्यों है जरूरी? जानिए WHO ने क्यों दिया है ऐसा सुझाव WHO ड्यूटी के दौरान कोरोनावायरस से निधन हुए पुलिसकर्मियों को कोरोना शहीद का दर्जा दिया जाय, इसे आकस्मिक निधन या साधारण निधन सरकार न माने, एक वर्ष हो गए कोरोनाशहीद के लिए शासन के पास कोई योजना या नियम नही है। इन्हे इग्नोर न करो। मै_भारतीय_दिव्यांग_हूं। RightToCoronaWarrior WHO Seedhe seedhe kahiye k jab tak mrte nhi tab tak mask lagana h WHO Dalal news

इस साल के अंत तक मिनी LED डिस्प्ले के साथ लॉन्च हो सकता है MacBook Proकुछ दिन पहले आई एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि इसी साल सितंबर में MacBook Pro को 14 इंच और 16 इंच की साइज में पेश किया जाएगा।