Coronavaccine, Dronedelivery, Dronesfor Vaccines, Vaccine Drone, Indian Council Of Medical Research, Vaccine Drone, Drones To Deliver Covid-19 Vaccines, Vaccines By Drone

Coronavaccine, Dronedelivery

भास्कर एक्सप्लेनर: जहां सड़कें नहीं जातीं, वहां 600 रु. में ड्रोन से पहुंचेंगी वैक्सीन की 10 हजार शीशियां; कर्नाटक में आज से ट्रायल शुरू, तेलंगाना में भी जल्द ही

भास्कर एक्सप्लेनर: जहां सड़कें नहीं जातीं, वहां 600 रु. में ड्रोन से पहुंचेंगी वैक्सीन की 10 हजार शीशियां; कर्नाटक में आज से ट्रायल शुरू, तेलंगाना में भी जल्द ही @ravibhajni #CoronaVaccine #DroneDelivery

18-06-2021 09:59:00

भास्कर एक्सप्लेनर: जहां सड़कें नहीं जातीं, वहां 600 रु. में ड्रोन से पहुंचेंगी वैक्सीन की 10 हजार शीशियां; कर्नाटक में आज से ट्रायल शुरू, तेलंगाना में भी जल्द ही ravibhajni Corona Vaccine Drone Delivery

जल्द ही दूरदराज के गांवों में ड्रोन उड़ते नजर आएंगे। भारत में पहली बार दवाइयों और वैक्सीन की सप्लाई के लिए ड्रोन का इस्तेमाल होने जा रहा है। कर्नाटक में 18 जून से 100 घंटे का ट्रायल शुरू हो रहा है, जिसमें 13 ड्रोन कंपनियां शामिल हो रही हैं। इस ट्रायल का उद्देश्य दवाएं ही नहीं बल्कि अन्य सामान पहुंचाने की संभावनाएं तलाशना भी है। | Coronavirus Vaccine by drone; Here's what you need to know ICMR की ओर से जारी टेंडर को भी समझा। विंग कमांडर एस विजय के शब्दों में ही समझिए भारत में ड्रोन से सामान डिलीवरी को लेकर क्या हुआ है और आगे हो रहा है...

जल्द ही दूरदराज के गांवों में ड्रोन उड़ते नजर आएंगे। भारत में पहली बार दवाइयों और वैक्सीन की सप्लाई के लिए ड्रोन का इस्तेमाल होने जा रहा है। कर्नाटक में 18 जून से 100 घंटे का ट्रायल शुरू हो रहा है, जिसमें 13 ड्रोन कंपनियां शामिल हो रही हैं। इस ट्रायल का उद्देश्य दवाएं ही नहीं बल्कि अन्य सामान पहुंचाने की संभावनाएं तलाशना भी है।

नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत, एक उलझी पहेली... - BBC News हिंदी पंजाब: CM की कुर्सी संभालते ही चन्नी ने दिया सरकारी कर्मचारियों को तोहफा, वेतन में 15 % की बढ़ोतरी राष्ट्रीय महिला आयोग ने सोनिया गांधी से की अपील, महिला सुरक्षा के लिए खतरा हैं पंजाब के मुख्यमंत्री, उन्हें पद से हटाया जाए

तेलंगाना सरकार ने भी वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के साथ ‘मेडिसिंस फ्रॉम द स्काई’ प्रोजेक्ट पर काम करने का फैसला किया है। इसमें दवाएं और इमरजेंसी मेडिकल इक्विपमेंट पहुंचाने की योजना बनाई गई है। इसके ट्रायल 21 या 22 जून से शुरू हो सकते हैं। इसके अलावा 11 जून को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने भी टेंडर जारी किए हैं ताकि दूरदराज के इलाकों में वैक्सीन पहुंचाने में ड्रोन की मदद ली जा सके। यह कैसे होगा और कितना सस्ता व तेज होगा, यह समझने के लिए हमने स्काई (Skye) एयर मोबिलिटी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर विंग कमांडर एस. विजय (वेटरन) से बात की। साथ ही तेलंगाना सरकार और ICMR की ओर से जारी टेंडर को भी समझा। विंग कमांडर एस विजय के शब्दों में समझिए, भारत में ड्रोन से सामान डिलीवरी को लेकर क्या हुआ है और आगे हो रहा है...

यह कितना तेज और सस्ता होगा?सुनने में यह बहुत महंगा लग सकता है। पर सच यह है कि ड्रोन तेज भी है और सस्ता भी। 30 किमी की दूरी पर वैक्सीन या सामान पहुंचाने में ड्रोन पर 500-600 रुपए ही खर्च होंगे। समय भी सिर्फ 30 मिनट ही लगेंगे। दिन में 15 ट्रिप्स तक हो सकती हैं। headtopics.com

अगर यही सामान बाइक पर कोई व्यक्ति लेकर जाए तो सड़क की दूरी बढ़ सकती है। साथ ही ईंधन और लेकर जाने वाले व्यक्ति का खर्च भी लगेगा। और तो और, यहां बात उन इलाकों की हैं जहां सड़क नेटवर्क नहीं है या उनकी हालत अच्छी नहीं है। तब तो समय भी ज्यादा लगेगा। व्यक्ति भी दो से ज्यादा ट्रिप्स नहीं लगा सकेगा।

मौजूदा प्रक्रिया में दूरदराज के इलाकों में दवाएं या वैक्सीन पहुंचाने के लिए ट्रकों से लेकर बाइक तक का इस्तेमाल हो रहा है। इसमें कर्मचारी चाहिए और वाहन भी। ट्रैफिक जाम या सड़कें खराब होने से वैक्सीन की क्वालिटी खराब होने का डर भी है। जिन इलाकों में सड़कों का नेटवर्क नहीं हैं या जहां मानसून में ट्रांसपोर्ट संभव नहीं होता, वहां वैक्सीनेशन प्रभावित होगा। वहां ड्रोन की मदद से काम बड़ी आसानी से हो जाएगा।

सबसे पहले बात ड्रोन से डिलीवरी के नियमों कीICMR ने तो 11 जून को टेंडर जारी किए हैं। यह पूरी तरह से कोविड वैक्सीन की डिलीवरी को लेकर है। पर ड्रोन से सामान डिलीवरी पर काम लंबे समय से चल रहा है। डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने 2019 में बियॉन्ड द विजुअल लाइन ऑफ साइट (BVLOS) यानी 30-35 किमी दूर तक सामान डिलीवर करने के लिए कंपनियों से प्रस्ताव मांगे थे। इसमें 20 कंसोर्टियम (कंपनियों के ग्रुप्स) ने रुचि दिखाई है। इसी के पहले प्रायोगिक ट्रायल्स बेंगलुरू में होने हैं।

बेंगलुरू में क्या होगा?ड्रोन उड़ाने का मामला राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है, इसलिए इस प्रक्रिया में DGCA के साथ ही गृह मंत्रालय और खुफिया ब्यूरो (IB) भी शामिल हैं। रूट प्लानिंग में मिलिट्री स्टेशन जैसे संवेदनशील स्थानों को अलग रखा गया है। सभी विभागों से कंपनियों और रूट को क्लियरेंस मिलने के बाद 18 जून को बेंगलुरू में 100 घंटे की प्रायोगिक उड़ान भरी जा रही है। headtopics.com

ब्रिटेन सरकार के इस नियम पर भारत में गहरी नाराज़गी, क्या है मामला? - BBC Hindi PM Modi: महंत नरेंद्र गिरि का देहावसान अत्यंत दुखद, संत समाज को जोड़ने में बड़ी भूमिका निभाई थी इंग्लैंड ने अपना पाकिस्तान दौरा रद्द किया, अक्टूबर में खेले जाने थे दो टी-20 मुकाबले

इस प्रयोग में 20 कंसोर्टियम भाग ले रहे हैं। सब कंपनियों का उद्देश्य अलग-अलग है। जैसे तीन कंपनियां मैपिंग के लिए ड्रोन का इस्तेमाल करना चाहती हैं। वहीं, कुछ कंपनियां डिलीवरी के लिए। स्काई एयर मोबिलिटी भी डिलीवरी स्टार्टअप डुंजो डिजिटल प्रा.लि. के पार्टनर के तौर पर इन ट्रायल्स में भाग ले रही है।

ये प्रयोग सिर्फ दवाओं और वैक्सीन की डिलीवरी तक सीमित नहीं है। नेशनल हाईवे की मैपिंग, रेलवे ट्रैक की मैपिंग, खेती से जुड़े स्मार्ट वर्क, कृषि भूमि का सर्वे, जंगलों की निगरानी, सर्विलांस जैसे कई कामों के लिए ड्रोन के इस्तेमाल की व्यवहारिकता जांची जाएगी। हो सकता है कि आगे चलकर ई-कॉमर्स डिलीवरी भी ड्रोन से की जाए।

तेलंगाना का प्रोजेक्ट कितना अलग है?इस पर काम मार्च 2020 में ही शुरू हो गया था। तेलंगाना के चार जिलों की पहचान की गई, जहां सड़कों का नेटवर्क नहीं है। सड़कें हैं भी तो उनकी हालत बहुत अच्छी नहीं है। मानसून में रोड नेटवर्क पूरी तरह टूट जाता है। इन जिलों में स्वास्थ्य सुविधाओं को तेज गति से पहुंचाने के लिए ड्रोन के इस्तेमाल पर विचार शुरू हुआ। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) के ‘मेडिसिंस फ्रॉम द स्काई’ प्रोग्राम के तहत प्लानिंग हुई।

शुरुआत में इसका उद्देश्य मरीजों को स्वास्थ्य सुविधाएं यानी दवाएं और ब्लड आदि पहुंचाने के लिए ड्रोन के इस्तेमाल की संभावनाओं को तलाशना था। चूंकि, नीति आयोग भी इस प्लान में हिस्सेदार था, इसलिए उसने कोविड से जुड़ी दवाओं और वैक्सीन की डिलीवरी को भी इसमें जोड़ने का प्रस्ताव दिया। headtopics.com

इस प्रोजेक्ट में 8 कंपनियों को चुना गया है। इनमें से तीन कंसोर्टियम के साथ भी काम कर रही हैं, जो फ्लिपकार्ट, डुंजो डिजिटल प्रा.लि. और ब्लूडार्ट के हैं। इस प्रोजेक्ट के लिए सभी अनुमतियां मिल चुकी हैं। ट्रायल्स 21-22 जून के आसपास शुरू हो सकते हैं। तारीखें अभी तय नहीं हैं।

प्रोजेक्ट में तीन किलो पेलोड के साथ ड्रोन उड़ान भरने वाले हैं। इसमें डेढ़ किलो वजन वैक्सीन की 10 हजार शीशियों का होगा। बचा डेढ़ किलो वजन कोल्ड बॉक्स और ड्राई आइस का होगा, जो वैक्सीन का टेम्परेचर मेंटेन करने के लिए जरूरी है।तो ICMR ने टेंडर क्यों जारी किया?

Mahant Narendra Giri की रहस्यमयी मौत- सुसाइड या मर्डर? देखें दस्तक चरणजीत सिंह चन्नी हुए भावुक, कहा बचपन में जिस के सिर पर छत नहीं थी उसे CM बना दिया - BBC Hindi नरेंद्र गिरि की मौत पर यूपी के डिप्टी सीएम बोले- आध्यात्मिक जगत के लिए अपूरणीय क्षति

जब कर्नाटक और तेलंगाना में ड्रोन के इस्तेमाल पर काम शुरू हुआ तो ICMR ने भी सोचा कि दूरदराज के इलाकों तक वैक्सीन पहुंचाने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर सकते हैं। IIT-कानपुर के साथ मिलकर उसने एक फीजिबिलिटी स्टडी की। यह देखा कि क्या यह संभव है? इसके लिए DGCA से जरूरी अनुमतियां ली गईं।

यह सब हो गया, तब ICMR की ओर से केंद्र सरकार के लिए वैक्सीन खरीद रही मिनीरत्न कंपनी एचएलएल इंफ्रा टेक सर्विसेज ने 11 जून को टेंडर जारी किए। इसमें कुछ शर्तों के साथ उन कंपनियों से प्रस्ताव मंगवाए गए, जो देशभर में दूरदराज के इलाकों में वैक्सीन की ड्रोन से डिलीवरी कर सकती हैं।

ड्रोन से वैक्सीन या सामान की डिलीवरी कब तक: कर्नाटक और तेलंगाना में जो प्रयोग चल रहे हैं, उनके नतीजों के आधार पर ही सब कुछ तय होगा। यह अनुमतियां DGCA को देनी हैं, जो प्रयोगों के आधार पर तारीखें तय करेगी। सब ठीक रहा तो इस मानसून में ही हम भारत में ड्रोन से डिलीवरी होते देखेंगे। वैसे, अच्छी बात यह है कि भारत में ड्रोन से सामान डिलीवरी की शुरुआत दवाओं और वैक्सीन के तौर पर हो रही है। आगे चलकर ई-कॉमर्स कंपनियां भी दूरदराज के इलाकों में डिलीवरी के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर सकती हैं।

और पढो: Dainik Bhaskar »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

ravibhajni Vaccine lene k karan ,,mere father ki 5 ghntey k under maut ho gyi

रिपोर्ट : अर्थव्यवस्था में 2021-22 की पहली तिमाही में 12 प्रतिशत गिरावट की आशंकारिपोर्ट : अर्थव्यवस्था में 2021-22 की पहली तिमाही में 12 प्रतिशत गिरावट की आशंका Economy Decline Firstquarter FinMinIndia nsitharaman FinMinIndia nsitharaman फेकू निरंतर गोबर कर रहे हैं। हम देश की बुद्धि क्या कहे जो इस गधे को घोड़ा समझ बैठे हैं FinMinIndia nsitharaman संबित पात्रा लापता

अयोध्या: ट्रस्ट की जमीन के बगल में दूसरी जमीन की कीमत में भी मिला अंतरमामले पर हिसाब-किताब लगाने पर 3040 वर्ग मीटर की जमीन 6250 रुपए प्रति वर्ग मीटर की पड़ती है। लेकिन 18 मार्च को जिस जमीन को ट्रस्ट ने खरीदी है वह जमीन 15314 रुपए प्रति वर्ग मीटर की दर से पड़ रही है। दोनों में बड़ा अंतर है।

अमेरिका की प्रशांत क्षेत्र में नौसेना तैनाती की योजना, चीन को करारा जवाब देने की तैयारीअमेरिका प्रशांत महासागर क्षेत्र में चीन को करारा जवाब देने की तैयारी कर रहा है। पेंटागन इस क्षेत्र में स्थाई रूप से नौसेना टास्क फोर्स की तैनाती पर विचार कर रहा है। इसमें उसके मित्र देश भी सहयोगी होंगे।

तीखी बहस: टीकाकरण नीति की समीक्षा की मांग पर लोक लेखा समिति की बैठक में हंगामातीखी बहस: टीकाकरण नीति की समीक्षा की मांग पर लोक लेखा समिति की बैठक में हंगामा Vaccination CoronaVaccine PACmeeting PMOIndia INCIndia

बद से बदतर होती लड़ाई: मीका सिंह ने कमाल राशिद खान को भारत में डेढ़ साल से बैन बताया, जवाब में KRK ने सुअर से की सिंगर की तुलनास्वघोषित फिल्म क्रिटिक कमाल राशिद खान उर्फ केआरके और सिंगर मीका सिंह का विवाद बद से बदतर होता जा रहा है। मीका सिंह ने अपने ताजा बयान में दावा किया है कि प्रॉपर्टी विवाद के चलते केआरके की भारत में एंट्री प्रतिबंधित है। वहीं, पलटवार करते केआरके ने मीका को रेपिस्ट और हवस का पुजारी बताया। साथ ही उनकी तुलना सुअर से की है। | Mika Singh Claims KRK Is Banned In India Because Of Property Fraud, KRK Calls Singer ‘Suar’ In Video; स्वघोषित फिल्म क्रिटिक कमाल राशिद खान उर्फ केआरके और सिंगर मीका सिंह का विवाद बद से बदतर होता जा रहा है। kRK bhaia k liye jaan de skte hain meeka ko pelte raho krk bhaia you are biggest superstar of india and most neutral film critic of the nation.

बचपन की गलती की सजा: सऊदी अरब में 26 वर्षीय लड़के को मौत की सजा, 17 साल की उम्र में सरकार विरोधी प्रदर्शन में शामिल होने का लगा था आरोपसऊदी अरब में एक ऐसे युवक को मौत की सजा दे दी गई, जिसने एक अपराध 17 साल की उम्र में किया था। मुस्तफा हाशेम अल दारविश नाम के इस युवक पर 2011-12 में सरकार विरोधी प्रदर्शनों व दंगों में शामिल होने का आरोप लगा था, तब वह नाबालिग था। साल 2015 में दारविश को अरेस्ट किया गया था और अब उसे मौत की सजा दे दी गई। | 26-year-old boy sentenced to death in Saudi Arabia, was accused of participating in anti-government protests at the age of 17 मानबीय अपराध वहां जाओ लीब्रण्डू लोग तुमलोगो की बुलाहट है 😂😂