Coronavirus, Coronapandemic, Covid19, Variant B.1.617, What İs Indian Mutant Covid, Covid Variants, Covid19 Latest Update, Variants Of Concern Voc Covid

Coronavirus, Coronapandemic

भास्कर एक्सप्लेनर: कोरोना के B.1.617 वैरिएंट से भारत में केस बढ़े, रीइन्फेक्ट भी कर रहा यह वैरिएंट; जानिए वैज्ञानिकों को अब तक इसके बारे में क्या पता चला है

भास्कर एक्सप्लेनर: कोरोना के B.1.617 वैरिएंट से भारत में केस बढ़े, रीइन्फेक्ट भी कर रहा यह वैरिएंट; जानिए वैज्ञानिकों को अब तक इसके बारे में क्या पता चला है #coronavirus @ravibhajni #CoronaPandemic @WHO

14-05-2021 06:51:00

भास्कर एक्सप्लेनर: कोरोना के B.1.617 वैरिएंट से भारत में केस बढ़े, रीइन्फेक्ट भी कर रहा यह वैरिएंट; जानिए वैज्ञानिकों को अब तक इसके बारे में क्या पता चला है coronavirus ravibhajni CoronaPandemic WHO

भारत में फरवरी के बाद शुरू हुई दूसरी लहर थमने का नाम ही नहीं ले रही है। करीब दो हफ्ते तक नए केस कम होने के बाद गुरुवार को फिर बढ़ गए। साफ है कि अभी दूसरी लहर का पीक दूर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पिछले साल अक्टूबर में महाराष्ट्र में सामने आए कोरोना वायरस यानी SARS-CoV-2 के नए वैरिएंट B.1.617 को वैरिएंट्स ऑफ कंसर्न की सूची में शामिल किया है। यानी यह 2019 में चीन के वुहान में मिले ओरिजिनल को... | What is Covid-19 Variant B.1.617 ? Double Mutant Triple Mutant Coronavirus Variant; Everything You need to know ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पिछले साल अक्टूबर में महाराष्ट्र में सामने आए कोरोनावायरस यानी SARS-CoV-2 के नए वैरिएंट B.1.617 को वैरिएंट्स ऑफ कंसर्न की सूची में शामिल किया है। यानी यह 2019 में चीन के वुहान में मिले ओरिजिनल कोरोनावायरस के मुकाबले यह अधिक संक्रामक और घातक है।

भारत में फरवरी के बाद शुरू हुई दूसरी लहर थमने का नाम ही नहीं ले रही है। करीब दो हफ्ते तक नए केस कम होने के बाद गुरुवार को फिर बढ़ गए। साफ है कि अभी दूसरी लहर का पीक दूर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पिछले साल अक्टूबर में महाराष्ट्र में सामने आए कोरोना वायरस यानी SARS-CoV-2 के नए वैरिएंट B.1.617 को वैरिएंट्स ऑफ कंसर्न की सूची में शामिल किया है। यानी यह 2019 में चीन के वुहान में मिले ओरिजिनल कोरोना वायरस के मुकाबले अधिक संक्रामक और घातक है।

UP News: एक लाख युवाओं को सरकारी नौकरी देगी योगी सरकार, दिसंबर तक भर्ती प्रक्रिया पूरी करने की तैयारी दिग्विजय सिंह के 'ऑडियो लीक' पर जितिन प्रसाद ने उन्हें बताया ‘पाकिस्तान समर्थित’ - BBC Hindi मध्य प्रदेश में भी कोरोना से मौतों के सरकारी आंकड़े वास्तविकता से कम होने के मिले संकेत

भारत में पिछले तीन-चार हफ्ते से कोरोना वायरस के मामलों में जिस तरह बढ़ोतरी हुई है, उससे मौतों का आंकड़ा भी ढाई लाख को पार कर चुका है। 50 हजार मौतें तो महज 15 दिन में हो गईं। इसके लिए कोई जिम्मेदार है तो वह नया वैरिएंट ही है। इसे कई जगह इंडियन वैरिएंट भी लिखा और बोला जा रहा है। पर भारत सरकार को इस पर आपत्ति है। उसका कहना है कि WHO की रिपोर्ट में इस वैरिएंट को कोई नाम नहीं दिया गया है, इसे इंडियन वैरिएंट कहना गलत होगा। सच भी है, कोरोना का यह नया वैरिएंट B.1.617 सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के 44 देशों में मिला है। इसी वजह से WHO ने इसे वैरिएंट्स ऑफ इंटरेस्ट (VOI) की श्रेणी से हटाकर वैरिएंट्स ऑफ कंसर्न (VOC) घोषित किया है।

आइए, जानते हैं कि कोरोना के इस नए वैरिएंट के बारे में वैज्ञानिकों ने क्या जानकारी जुटाई है...क्या कहा है WHO ने?संगठन ने 11 मई को वीकली रिपोर्ट जारी की। इसमें कहा कि B.1.617 वैरिएंट अब दुनियाभर के लिए चिंता का विषय (वैरिएंट्स ऑफ कंसर्न या VOC) बन गया है। दरअसल, WHO ने वायरस में होने वाले बदलावों पर नजर रखने के लिए ग्लोबल डेटाबेस बनाया है- GISAID, जो सभी के लिए खुला है। इस डेटाबेस में 44 देशों से आए 4,500 जीनोम सीक्वेंस में B.1.617 की पुष्टि हुई है। 5 और देशों ने भी इसकी पहचान की है, पर अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है। headtopics.com

इस वैरिएंट को तीन सब-लाइनेज में बांटा गया है- B.1.617.1, B.1.617.2 और B.1.617.3, जिसमें शुरुआती दो सबसे खतरनाक हैं। WHO का कहना है कि कई देशों में हाल ही में केस बढ़े हैं तो उसकी वजह यह वैरिएंट्स ही हैं। शुरुआती नतीजे बताते हैं कि भारत में दो वैरिएंट्स B.1.617.1 और B.1.617.2 तेजी से फैल रहे हैं। तीसरे सब-लाइनेज की जीनोम सीक्वेंसिंग में संख्या बहुत कम मिली है।

अब तक वैज्ञानिकों को क्या पता चला है?दो हफ्ते पहले तक भारत में कई वैरिएंट्स पॉजिटिव केस का कारण बन रहे थे। जीनोमिक डेटा बताता है कि यूके में सबसे पहले नजर आया B.1.1.7 वैरिएंट दिल्ली और पंजाब में सक्रिय था। वहीं, B.1.618 पश्चिम बंगाल में और B.1.617 महाराष्ट्र में केस बढ़ा रहा था।

बाद में B.1.617 ने पश्चिम बंगाल में B.1.618 को पीछे छोड़ दिया और ज्यादातर राज्यों में प्रभावी हो गया है। दिल्ली में भी यह तेजी से बढ़ा है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के डायरेक्टर सुजीत सिंह ने 5 मई को दिल्ली में पत्रकारों से कहा था कि केस 3-4 लाख तक पहुंचे तो उसके लिए B.1.617 ही जिम्मेदार है।

WHO के मुताबिक भारत में 0.1% पॉजिटिव सैम्पल की जीनोम सीक्वेंसिंग की गई। ताकि वैरिएंट्स का पता चल सके। अप्रैल 2021 के बाद भारत में सीक्वेंस किए गए सैम्पल्स में 21% केसेज B.1.617.1 के और 7% केसेस B.1.617.2 के थे। यानी केस में बढ़ोतरी के लिए यह जिम्मेदार है। headtopics.com

कटमनी पार्टी से आए लोगों का BJP में रहना मुश्किल : मुकुल रॉय की TMC में वापसी पर दिलीप घोष वैक्सीनेशन के बाद सिक्के चिपकने का दावा फेल: SMS अस्पताल के डॉक्टरों की टीम ने दैनिक भास्कर ऑफिस में दिया लाइव डेमो, कहा- चुंबकीय शक्ति जैसा कुछ नहीं, पसीने से चिपकते हैं सिक्के जी-7 समिट में मोदी: PM ने वन अर्थ-वन हेल्थ का मंत्र दिया; कहा- भविष्य की महामारियों को रोकना लोकतांत्रिक और पारदर्शी समाज की जिम्मेदारी

सोनीपत की अशोका यूनिवर्सिटी के वायरोलॉजिस्ट और भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के प्रमुख शाहिद जमील का कहना है कि B.1.617 वैरिएंट्स तेजी से नए केस बढ़ा रहा है क्योंकि यह अन्य के मुकाबले ज्यादा फिट है। वहीं यूके के यूनिवर्सिटी ऑफ कैम्ब्रिज के वायरोलॉजिस्ट रवींद्र गुप्ता भी कहते हैं कि इस वैरिएंट की ट्रांसमिशन क्षमता सबसे ज्यादा है।

WHO की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में दूसरी लहर के लिए वैरिएंट्स के साथ-साथ राजनीतिक रैलियां और धार्मिक आयोजन भी जिम्मेदार हैं। उसका इशारा कुंभ मेले में उमड़ी भीड़ को लेकर था। WHO की रिपोर्ट आने के एक दिन बाद ही ईद से पहले दिल्ली के बाजारों में भीड़ उमड़ी। कई लोग बिना मास्क के या नाक के नीचे मास्क पहने नजर आ रहे हैं।

सबसे पहले यह वैरिएंट किसे और कैसे मिला?B.1.617 को भारतीय वैज्ञानिकों ने सबसे पहले महाराष्ट्र से अक्टूबर 2020 में लिए कुछ सैम्पल्स में पकड़ा था। INSACOG ने जनवरी में अपनी सक्रियता बढ़ाई और ध्यान में आया कि महाराष्ट्र में बढ़ते मामलों के पीछे B.1.617 ही जिम्मेदार है।

पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) की डायरेक्टर प्रिया अब्राहम के मुताबिक 15 फरवरी तक महाराष्ट्र में 60% केसेज के लिए B.1.617 ही जिम्मेदार था। इसके बाद इसके सब-लाइनेज सामने आते चले गए।3 मई को एक स्टडी में NIV वैज्ञानिकों ने दावा किया कि इस वैरिएंट ने स्पाइक प्रोटीन, जिससे वायरस इंसान के शरीर के संपर्क में आता है, में 8 म्यूटेशन किए हैं। इसमें दो म्यूटेशंस यूके और दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट्स जैसे थे। वहीं, एक म्यूटेशन ब्राजील वैरिएंट जैसा था, जो इसे इम्युनिटी और एंटीबॉडी को चकमा देने में मदद करता है। अगले ही दिन जर्मनी की एक टीम ने भी अपनी स्टडी में इस दावे का समर्थन किया। headtopics.com

क्या यह वैरिएंट ही कोरोना के गंभीर लक्षणों के लिए जिम्मेदार है?कुछ कह नहीं सकते। पर जानवरों में हुई छोटी स्टडी कहती है कि यह वैरिएंट गंभीर लक्षण के लिए जिम्मेदार हो सकता है। 5 मई को NIV की वैज्ञानिक प्रज्ञा यादव की एक स्टडी प्री-प्रिंट हुई, जिसमें दावा किया गया है कि अन्य वैरिएंट्स के मुकाबले B.1.617 से इन्फेक्टेड हैमस्टर्स के फेफड़ों में गंभीर असर हुआ है।

पर क्या यह स्टडी वास्तविक दुनिया में भी असर दिखा रही है, यह दावा करने के लिए और डेटा चाहिए। कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के वायरोलॉजिस्ट रवींद्र गुप्ता कहते हैं कि रिसर्च बताती है कि यह वैरिएंट गंभीर लक्षण पैदा कर सकता है। पर हैमस्टर्स से तुलना के आधार पर यह बताना सही नहीं होगा। इसके लिए और स्टडी की जरूरत है।

वैक्सीनेशन पर मोदी को सलाह: युवाओं और बच्चों को फौरन वैक्सीन लगाना फायदे का सौदा नहीं, जिन्हें कोरोना हो चुका उन्हें भी टीका जरूरी नहीं अवसान: कोरोना के कारण भुवन बाम के माता-पिता का निधन, कहा- अब कुछ भी पहले जैसा नहीं रहेगा Coronavirus Lockdown Live Updates: गोवा में 21 जून तक बढ़ाया गया कोरोना कर्फ्यू, शादी में 50 लोगों को अनुमति

कानपुर के एक अस्पताल में गंभीर मरीज को स्ट्रेचर पर लेकर जाते स्वास्थ्यकर्मी। नए वैरिएंट पर हुई स्टडी इशारा करती है कि दूसरी लहर में गंभीर मरीजों की बढ़ी संख्या के लिए भी B.1.617 ही जिम्मेदार है।इस पर एंटीबॉडी या वैक्सीन कारगर है या नहीं?पक्के तौर पर नहीं पता। WHO का कहना है कि B.1.617 पर वैक्सीन की इफेक्टिवनेस, इलाज में इस्तेमाल हो रही दवाएं कितना प्रभावी हैं या रीइन्फेक्शन का खतरा कितना है, पक्के तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता। शुरुआती नतीजे कहते हैं कि कोविड-19 के ट्रीटमेंट में इस्तेमाल होने वाली एक मोनोक्लोनल एंटीबॉडी की इफेक्टिवनेस कम हुई है।

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) के अधिकारियों का दावा है कि भारत बायोटेक की कोवैक्सिन इस वैरिएंट से इन्फेक्शन को रोकने में कारगर साबित हुई है। भारत में उपलब्ध अन्य वैक्सीन की इफेक्टिवनेस की अभी जांच की जा रही है।कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में हुई स्टडी में भारत में मिला वैरिएंट फाइजर की वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी से बचने में कामयाब रहा है। एक अन्य स्टडी में दिल्ली में रीइन्फेक्ट हुए डॉक्टरों में यह वैरिएंट मिला है। इन डॉक्टरों ने तीन-चार महीने पहले कोवीशील्ड के डोज लिए थे।

इसका मतलब यह है कि अगर आपको पहले कोरोना इन्फेक्शन हुआ है तो नए वैरिएंट्स आपको रीइन्फेक्ट कर सकते हैं। वैक्सीन भी इन्फेक्शन रोक नहीं सकेगी। पर अच्छी बात यह है कि जिसे वैक्सीन लगी होगी, उसमें काफी हद तक गंभीर लक्षण नहीं होंगे।ये वैरिएंट्स क्या हैं और इनसे क्या खतरा है?

देश की नामी वैक्सीन साइंटिस्ट और क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, वेल्लोर की प्रोफेसर डॉ. गगनदीप कंग के मुताबिक वायरस में म्यूटेशन कोई नई बात नहीं है। यह स्पेलिंग मिस्टेक की तरह है। वायरस लंबे समय तक जीवित रहने और ज्यादा से ज्यादा लोगों को इन्फेक्ट करने के लिए जीनोम में बदलाव करते हैं। ऐसे ही बदलाव कोरोना वायरस में भी हो रहे हैं। महामारी विशेषज्ञ डॉ. चंद्रकांत लहारिया के मुताबिक वायरस जितना ज्यादा मल्टीप्लाई होता है, उसमें म्यूटेशन होते जाएंगे। जीनोम में होने वाले बदलावों को ही म्यूटेशन कहते हैं। इससे नए और बदले रूप में वायरस सामने आता है, जिसे वैरिएंट कहते हैं। WHO की नई रिपोर्ट में कहा गया है कि वायरस जितने समय तक हमारे बीच रहेगा, उतना ही उसके गंभीर वैरिएंट्स सामने आने की आशंका बनी रहेगी। अगर इस वायरस ने जानवरों को इन्फेक्ट किया और ज्यादा खतरनाक वैरिएंट्स बनते चले गए तो इस महामारी को रोकना बहुत मुश्किल होने वाला है।

और पढो: Dainik Bhaskar »

कोस्ट गार्ड के रेस्क्यू मिशन का वीडियो: मर्चेंट शिप के 50 वर्षीय कैप्टन को तबीयत बिगड़ने पर एयरलिफ्ट किया, गोवा के अस्पताल में भर्ती कराया

इंडियन कोस्ट गार्ड ने रविवार को एक मुश्किल रेस्क्यू मिशन को अंजाम देते हुए नौसेना के एक कैप्टन की जान बचाई। समुद्र के बीच शिप पर ड्यूटी के दौरान अचानक तबीयत खराब होने के बाद कैप्टन को एयरलिफ्ट कर गोवा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस रेस्क्यू मिशन का एक वीडियो भी सामने आया है। | Indian Coast Guard Rescues Captain of Cargo Vessel for Urgent Medical Airlifted Video

WHO की रिपोर्ट में कोरोना वैरिएंट को 'भारतीय' नहीं बताया गयाः Government Fact-Checksकेंद्र सरकार ने B.1.617 कोविड वैरिएंट को भारतीय वैरिएंट के रूप में लेबल करने पर आपत्ति जताई है. केंद्र ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भारतीय शब्द का इस्तेमाल कहीं नहीं किया है. पाकिस्तान , बांग्लादेश की चिंता कर उन्हें सहायता के रूप में वेक्सीन दे सकती हैं मोदी सरकार, लेकिन भारत के नागरिकों को क्यों नहीं ? पाकिस्तान बांग्लादेश इतना प्यारा कैसे हो गया ? आपकी अनुपम कृपा से दरूहे खुश, गोबर बीनने वाले खुश, पर हम पढ़े लिखे बेरोजगारों ने मेरिट में स्थान बनाकर कौन सी गलती कर दी है कका चयनित_अभ्यर्थी_मांगे_तत्काल_नियुक्तिbhupeshbaghel ChhattisgarhCMO TS_SinghDeo Drpremsaisingh MohanMarkamPCC GovernorCG INCChhattisgarh मोदीओ मोदी नरसंहारी narendramodiऔर कोविड १९ जुड़वां भाई हैं PMOIndia INCIndia RahulGandhi MamataOfficial INCIndia HarsimratBadal officeofssbadal _JaiKisan, YogendraYadav RakeshTikaitBKU abhaySChautala BhupinderSHooda rssurjewala

भास्कर इंपैक्ट: जालौन में नाइट कर्फ्यू में ओवरलोड 300 ट्रकों से रोज वसूली करने वाले सिपाही-होमगार्ड पर भ्रष्टाचार की FIR; सस्पेंड किए गएबुधवार को दैनिक भास्कर ने सबसे पहले खबर प्रकाशित की थी,SP यशवीर सिंह ने खबर का लिया संज्ञान, मौरंग के ट्रक निकल रहे थे | Uttar Pradesh Police Tax On Illegal Mining; Corruption FIR Registered Against UP Police Constable And Homegaurd In Jalaun:जालौन में नाइट कर्फ्यू में ओवरलोड 300 ट्रकों से रोज वसूली करने वाले सिपाही-होमगार्ड पर भ्रष्टाचार की FIR; SP ने लिया एक्शन ये तो बहुत ही सामान्य है, कही भी चले जाओ, चाहे घाटमपुर हो, चंदौली हो, मधेपुरा, दुमका, सागर, या दक्षिण में बेल्लारी, गोवा, कोंकण का इलाका .... रात में चौराहे में खड़े हो जाओ...फिर देखो तमाशा

अभय प्रशाल में 5 दिन में 1000 युवाओं का वैक्सीनेशनअभय प्रशाल स्पोर्ट्स क्लब एवं जैन सोशल ग्रुप लीजेंड द्वारा संयुक्त रूप से लाभ मंडपम में कोरोनावायरस टीकाकरण शिविर आयोजित किया जा रहा है। पूर्व बुकिंग के आधार पर ही यहां टीके लगाए जा रहे HindiNews Indore CoronaVaccination AbhyaPrashal

इसराइल में हिंसा हुई बेकाबू, गाजा सिटी में मातम के बीच मन रही ईदगाजा सिटी। हमास और इसराइल के बीच जारी संघर्ष के कारण फलस्तीन के लोगों के लिए मातम के साथ रमजान के पवित्र महीने का समापन हुआ है। यह संघर्ष ऐसे वक्त चल रहा है जब मुस्लिमों के लिए रमजान का पवित्र महीना खत्म होने के बाद ईद मनाई जा रही है।

गुजरात: कोविड केयर सेंटर में लगी आग, 61 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में ले जाया गयागुजरात के भावनगर में कोविड देखभाल केंद्र में तब्दील किए गए एक होटल में बुधवार तड़के आग लग गई. अधिकारियों ने बताया कि घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है. अधिकारी ने बताया कि “मामूली आग लगने और धुआं उठने के बाद” कोरोना वायरस के कुल 61 मरीजों को अन्य अस्पतालों में ले जाया गया. Akhir kya bat ha aaag lagane ka samsya ha kvi Mumbai Gujarat Orrr v state me hota ha

वैश्विक महामारी के दौर में राहतकारी ऑक्सीजन एक्सप्रेस की भूमिका में भारतीय रेलप्राणवायु के लिए मचे हाहाकर के बीच भारतीय रेल ने एक बेहतर पहल करते हुए औद्योगिक आक्सीजन उत्पादक क्षेत्रों से देश के उन तमाम इलाकों तक आक्सीजन पहुंचाने का काम शुरू किया जहां इनकी सर्वाधिक आवश्यकता महसूस की जा रही है। Jai Hind.