Hindi, English, Indianlanguages, Linguistic Culture, Hindi Language, English, İndian Languages, Columns News İn Hindi, Opinion News İn Hindi, Opinion Hindi News

Hindi, English

भाषायी संस्कृति का संघर्ष: भारतीयता पर अंग्रेजियत का बोझ

भाषायी संस्कृति का संघर्ष: भारतीयता पर अंग्रेजियत का बोझ #Hindi #English #IndianLanguages

27-07-2021 05:10:00

भाषायी संस्कृति का संघर्ष: भारतीयता पर अंग्रेजियत का बोझ Hindi English IndianLanguages

वर्ष 1857 के पहले स्वाधीनता संग्राम की नाकामी के बावजूद देश में राष्ट्रवाद की भावना जोर मारने लगी थी। ऐसे में, अंग्रेज

पिछले दिनों केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार के बाद स्वास्थ्य मंत्री बने मनसुख भाई मांडविया के अंग्रेजी ज्ञान का मजाक उड़ाना भारतीय समाज के लिए नई बात नहीं है। लीलावती लिखने वाले भास्कराचार्य हों या दुनिया के पहले सर्जन माने जाने वाले सुश्रुत सब यहीं के थे। जब उनका अस्तित्व था, तब अंग्रेजी विकासमान भी नहीं थी। इसके बावजूद पूरी दुनिया उनके ज्ञान को मानती है, पर उन्हीं के देश में पढ़ा-लिखा होने की बुनियाद अंग्रेजी बोलना और जानना है। आज विद्यार्थी गणित, विज्ञान, समाज विज्ञान, साहित्य आदि में चाहे कितना भी विद्वान क्यों न हो, भारतीय मानसिकता उसे उस तरह पढ़ा-लिखा नहीं मानती, जिस तरह अंग्रेजी बोलने वाले को माना जाता है। कोरोना की वजह से हर दस साल पर होने वाली जनगणना इस बार नहीं हो रही। बहरहाल 1911 की जनगणना के भाषा खंड की प्रस्तावना में जो कहा गया है, उस पर हमें ध्यान देना चाहिए, जिसमें कहा गया था, 'भाषा आत्मा का वह रक्त है, जिसमें विचार प्रवाहित होते और पनपते हैं।'

कर्नाटक: ‘जब कांग्रेस छोड़ी थी तब BJP ने दिया था पैसों का ऑफर’, MLA का दावा कट्टरता से परे हों धर्म के मूल्य, स्वामी विवेकानंद के शब्दों पर ध्यान देने की जरूरत- CJI रमणा तालिबान पर मोदी का 'माइंडगेम', भारत की कूटनीति से कुचलेगी 'आतंकनीति'!

मनसुख मांडविया की खराब अंग्रेजी का मजाक उड़ाने वालों में भी ज्यादातर ऐसे ही हैं, जिनके मूल विचार और उनकी आत्मा यानी मूल भाषा में पनपते और प्रवाहित होते रहते हैं। पर श्रेष्ठता बोध का भाव और रिचर्ड टेम्पल जैसे लोग की कोशिश का असर ही है कि वे भी खराब अंग्रेजी जानने का मजाक उड़ाने से नहीं चूक रहे। अंग्रेजी को लेकर यह श्रेष्ठता बोध ऐसा है, जहां से वापस लौटना अब आसान नहीं दिखता। भारत में जारी दोहरी शिक्षा व्यवस्था और कालांतर में सरकारी शिक्षा व्यवस्था के मुकाबले अंग्रेजी केंद्रित निजी शिक्षा के विस्तार ने पूरे भारत को अपनी भाषाओं के प्रति हीनता बोध बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। शासन में आने वाले लोग भले ही खुद अंग्रेजी बोलने-लिखने में सहज न हों, पर वे भी अंग्रेजी बोलने वाले वर्ग पर मोहित होते चले गए। इस वजह से भाषायी माध्यम के छात्र लगातार पिछड़ते चले गए। इसके बाद इस मान्यता को पोषित होना ही था कि समाज में रसूख हासिल करना है, तो अंग्रेजी बोलने के साथ उसकी जानकारी होनी चाहिए। यही वजह है कि सरकारी स्तर पर भी अंग्रेजी को पढ़ाई का माध्यम बनाने की मांग बढ़ी।

समाजवादी और राष्ट्रवादी, दोनों ही वैचारिक धाराएं सैद्धांतिक रूप से भारतीय भाषाओं पर अंग्रेजी को तवज्जो देने के खिलाफ रही हैं। लेकिन अब स्थिति ऐसी है कि चाहे किसी भी धारा की राज्य सरकार हो, वह धड़ाधड़ अंग्रेजी माध्यम की पढ़ाई का विस्तार करती जा रही है। अंग्रेजी से किसी को विरोध नहीं होना चाहिए। 'अंग्रेजी हटाओ' आंदोलन के अगुआ लोहिया भी ऐसा ही मानते थे। पर वह अंग्रेजी मानसिकता के विरोधी थे। हो यह रहा है कि अंग्रेजी के साथ अंग्रेजियत का वर्चस्व बढ़ता जा रहा है। इसी का असर है कि केंद्रीय मंत्री को नीचा दिखाने की कोशिश हुई। यह ठीक है कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में स्थानीय भाषाओं की इज्जत अंग्रेजी से कम नहीं है। पर यह भी सच है कि अंग्रेजी को विशेष तो माना ही जाता है। पर यह नहीं भूलना चाहिए कि इसी दौर में एक वर्ग ऐसा भी है, जो अंग्रेजी को जटिल मानते हुए भी उसके सामने झुकता नहीं। यह वर्ग भी अब मुखर होने लगा है। इसका असर सोशल मीडिया पर मांडविया प्रकरण में ही दिखा, जब लोगों का हुजूम मांडविया के समर्थन में उतर आया। इसलिए यह देखा जाना दिलचस्प होगा कि भाषायी संस्कृति का यह संघर्ष आगे किस बिंदु पर जाकर थमता है। headtopics.com

सरकार का चिंतित होना स्वाभाविक ही था। लिहाजा उन्होंने भारत को बदलने की तैयारी शुरू की। भारतीय शिक्षा पर अंग्रेजी शिक्षा को तवज्जो देना शुरू हुआ। उन्हीं दिनों तत्कालीन बंबई के गवर्नर रहे रिचर्ड टेम्पल ने पश्चिमी शिक्षा को लेकर बड़ी बात कह थी। उन्होंने कहा था, 'अंग्रेजी भाषा, साहित्य और दर्शन से शिक्षित व्यक्ति अपनी राष्ट्रीयता से मुक्त होकर इंग्लिश राष्ट्र के निकट आ जाएगा।'

विज्ञापनपिछले दिनों केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार के बाद स्वास्थ्य मंत्री बने मनसुख भाई मांडविया के अंग्रेजी ज्ञान का मजाक उड़ाना भारतीय समाज के लिए नई बात नहीं है। लीलावती लिखने वाले भास्कराचार्य हों या दुनिया के पहले सर्जन माने जाने वाले सुश्रुत सब यहीं के थे। जब उनका अस्तित्व था, तब अंग्रेजी विकासमान भी नहीं थी। इसके बावजूद पूरी दुनिया उनके ज्ञान को मानती है, पर उन्हीं के देश में पढ़ा-लिखा होने की बुनियाद अंग्रेजी बोलना और जानना है। आज विद्यार्थी गणित, विज्ञान, समाज विज्ञान, साहित्य आदि में चाहे कितना भी विद्वान क्यों न हो, भारतीय मानसिकता उसे उस तरह पढ़ा-लिखा नहीं मानती, जिस तरह अंग्रेजी बोलने वाले को माना जाता है। कोरोना की वजह से हर दस साल पर होने वाली जनगणना इस बार नहीं हो रही। बहरहाल 1911 की जनगणना के भाषा खंड की प्रस्तावना में जो कहा गया है, उस पर हमें ध्यान देना चाहिए, जिसमें कहा गया था, 'भाषा आत्मा का वह रक्त है, जिसमें विचार प्रवाहित होते और पनपते हैं।'

मनसुख मांडविया की खराब अंग्रेजी का मजाक उड़ाने वालों में भी ज्यादातर ऐसे ही हैं, जिनके मूल विचार और उनकी आत्मा यानी मूल भाषा में पनपते और प्रवाहित होते रहते हैं। पर श्रेष्ठता बोध का भाव और रिचर्ड टेम्पल जैसे लोग की कोशिश का असर ही है कि वे भी खराब अंग्रेजी जानने का मजाक उड़ाने से नहीं चूक रहे। अंग्रेजी को लेकर यह श्रेष्ठता बोध ऐसा है, जहां से वापस लौटना अब आसान नहीं दिखता। भारत में जारी दोहरी शिक्षा व्यवस्था और कालांतर में सरकारी शिक्षा व्यवस्था के मुकाबले अंग्रेजी केंद्रित निजी शिक्षा के विस्तार ने पूरे भारत को अपनी भाषाओं के प्रति हीनता बोध बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। शासन में आने वाले लोग भले ही खुद अंग्रेजी बोलने-लिखने में सहज न हों, पर वे भी अंग्रेजी बोलने वाले वर्ग पर मोहित होते चले गए। इस वजह से भाषायी माध्यम के छात्र लगातार पिछड़ते चले गए। इसके बाद इस मान्यता को पोषित होना ही था कि समाज में रसूख हासिल करना है, तो अंग्रेजी बोलने के साथ उसकी जानकारी होनी चाहिए। यही वजह है कि सरकारी स्तर पर भी अंग्रेजी को पढ़ाई का माध्यम बनाने की मांग बढ़ी।

समाजवादी और राष्ट्रवादी, दोनों ही वैचारिक धाराएं सैद्धांतिक रूप से भारतीय भाषाओं पर अंग्रेजी को तवज्जो देने के खिलाफ रही हैं। लेकिन अब स्थिति ऐसी है कि चाहे किसी भी धारा की राज्य सरकार हो, वह धड़ाधड़ अंग्रेजी माध्यम की पढ़ाई का विस्तार करती जा रही है। अंग्रेजी से किसी को विरोध नहीं होना चाहिए। 'अंग्रेजी हटाओ' आंदोलन के अगुआ लोहिया भी ऐसा ही मानते थे। पर वह अंग्रेजी मानसिकता के विरोधी थे। हो यह रहा है कि अंग्रेजी के साथ अंग्रेजियत का वर्चस्व बढ़ता जा रहा है। इसी का असर है कि केंद्रीय मंत्री को नीचा दिखाने की कोशिश हुई। यह ठीक है कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में स्थानीय भाषाओं की इज्जत अंग्रेजी से कम नहीं है। पर यह भी सच है कि अंग्रेजी को विशेष तो माना ही जाता है। पर यह नहीं भूलना चाहिए कि इसी दौर में एक वर्ग ऐसा भी है, जो अंग्रेजी को जटिल मानते हुए भी उसके सामने झुकता नहीं। यह वर्ग भी अब मुखर होने लगा है। इसका असर सोशल मीडिया पर मांडविया प्रकरण में ही दिखा, जब लोगों का हुजूम मांडविया के समर्थन में उतर आया। इसलिए यह देखा जाना दिलचस्प होगा कि भाषायी संस्कृति का यह संघर्ष आगे किस बिंदु पर जाकर थमता है। headtopics.com

पवित्र रिश्ता 2 के ट्रोल होने पर बोलीं अंकिता लोखंडे- 'ये सुशांत के रियल फैंस हैं' रामविलास पासवान की बरसी पर चिराग के घर पहुंचे बीजेपी के नेता, JDU ने बनाई दूरी Gujarat के नए सीएम ने चौंकाया, क्या कैबिनेट के नाम भी होंगे चौंकाने वाले?

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

दिल्ली के तरह लखनऊ घेरने के एलान के साथ किसानों का मिशन उत्तर प्रदेश का आगाजउत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अब किसान संगठनों ने भी अपनी ताल ठोंक दी है। आज लखनऊ में संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने उत्तर प्रदेश में किसान आंदोलन को और तेज करने का एलान किया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने दिल्ली की तरह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ घेरने का भी एलान किया है।

Tokyo Olympics: चौथे दिन भारतीय एथलीट्स का निराशाजनक प्रदर्शन, देखें पदक तालिका में भारत का स्थानTokyo Olympics: चौथे दिन भारतीय एथलीट्स का निराशाजनक प्रदर्शन, देखें पदक तालिका में भारत का स्थान Tokyo2020 TeamIndia TokyoOlympics2021 TokyoOlympics

बिहार के पूर्व डीजीपी का नया अवतार, वृंदावन से शुरू किया कथा प्रवचन का सिलसिलाबोले पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे अब ठाकुरजी के हाथ की वंशी हो गया हूं। चैतन्य विहार स्थित पाराशर आध्यात्म ट्रस्ट में रविवार को पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने मुलाकात के दौरान पुलिस अधिकारी से आध्यात्मिक रूप में आने के सवाल पर कहा आदमी पहले बच्चा होता है। Lol... सारे को हरि नाम। बेचारे …राजनीति के लालच में …..🤦‍♂️

Corona Vaccine: नहीं बढ़ा कोवाक्सिन का उत्पादन, जुलाई तक 50 करोड़ टीके लगने का लक्ष्य अटकाCorona Vaccine: नहीं बढ़ा कोवाक्सिन का उत्पादन, जुलाई तक 50 करोड़ टीके लगने का लक्ष्य अटका Coronavaccine covid19 Covaxin mansukhmandviya MoHFW_INDIA ICMRDELHI mansukhmandviya MoHFW_INDIA ICMRDELHI Plz help me 9125207402

आज का कार्टून: ताकत के खेल में छोरियों का डंका बजा, हंगरी से टोक्यो तक भारत का दबदबाआज का कार्टून: ताकत के खेल में छोरियों का डंका बजा, हंगरी से टोक्यो तक भारत का दबदबा cartoonistnaqvi cartoonoftheday cartoonistnaqvi कल के बेशर्म कार्टून के बाद आज अक्कल आयी दैनिक भास्कर cartoonistnaqvi एक सच ये भी है… कृपया जैसे हम पूर्व मंत्रियों को सुरक्षा व उन्हें Tax Payer के पैसों से सारी facility देते हैं वैसी facility हमारे मेडल लाने वालों को भी ज़रूर देना.. फिर देखें..’घर घर का चिराग़ मेडल लावेगा…’ ianuragthakur ji 🙏

6 साल में 12 बार मिला सरकारी नौकरियों का मौका, IPS बनकर दे रहे हैं सेवाएं, संघर्ष प्रेरणा देगाPrem Sukh Delu, Prem Sukh Delu IPS, IPS Prem Sukh Delu, IPS Success Story, IAS Success Story in Hindi , Rajasthan, Bikaner, Government Job Cracks, प्रेमसुख डुलू, आईपीएस