Anildeshmukh, Maharashtra, Mumbai, Cbı, Bombay High Court, Anil Deshmukh News, Antilia Case, Parambir Singh, Cbi Alleges Maharashtra Government Not Cooperating, İnvestigation Against Anil Deshmukh, Maharashtra News, Allegations Against Anil Deshmukh, Tushar Mehta, Sachin Vaze, Cbi Fir İn Connection With Deshmukh Corruption

Anildeshmukh, Maharashtra

बॉम्बे हाईकोर्ट: अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही महाराष्ट्र सरकार, सीबीआई का आरोप

सीबीआई ने सोमवार को बॉम्बे हाईकोर्ट में महाराष्ट्र सरकार की शिकायत की। केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि महाराष्ट्र

21-06-2021 20:52:00

बॉम्बे हाईकोर्ट: अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही महाराष्ट्र सरकार, सीबीआई का आरोप AnilDeshmukh Maharashtra Mumbai CBI

सीबीआई ने सोमवार को बॉम्बे हाईकोर्ट में महाराष्ट्र सरकार की शिकायत की। केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि महाराष्ट्र

सीबीआई की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को बताया कि हाईकोर्ट के पिछले आदेश के बाद शुरू की गई जांच, 'पूरे राज्य प्रशासन की सफाई करने' का मौका थी, लेकिन महाराष्ट्र सरकार केंद्रीय एजेंसी के साथ सहयोग करने से इनकार कर रही है। मेहता ने महाराष्ट्र सरकार द्वारा लगाए गए इन आरोपों से इनकार किया कि सीबीआई जांच में पूर्व सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाजे की बहाली और मुंबई पुलिस अधिकारियों के स्थानांतरण और तैनाती में देशमुख के अनुचित हस्तक्षेप के मुद्दों को शामिल करके हाईकोर्ट के आदेश से बाहर जा रही है।

किसानों के लिए 'मवाली' शब्द इस्तेमाल कर पीछे हटीं बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी - BBC Hindi दैनिक भास्कर पर IT रेड के खिलाफ भड़का जनाक्रोश: विपक्षी दलों ने सरकार पर बोला हमला- कहा लोकतंत्र की हत्या हो रही; आम लोगों ने कहा- मैं भी भास्कर हूं जासूसी मामले में नया खुलासा: पेगासस स्पायवेयर की लिस्ट में अनिल अंबानी और पूर्व CBI प्रमुख आलोक वर्मा के भी नाम

रफीक दादा के आरोपों का किया खंडनमेहता ने राज्य के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता रफीक दादा द्वारा लगाए गए आरोपों का खंडन किया कि सीबीआई अवैध फोन टैपिंग और पुलिस तैनाती से संबंधित संवेदनशील दस्तावेजों को कथित तौर पर लीक करने के मामले में आईपीएस अधिकारी रश्मि शुक्ला के खिलाफ जांच में पिछले दरवाजे से प्रवेश पाने के लिए देशमुख के खिलाफ चल रही तहकीकात का इस्तेमाल कर रही है। सॉलिसिटर जनरल ने न्यायमूर्ति एसएस शिंदे और न्यायमूर्ति एनजे जामदार की पीठ के समक्ष अभिवेदन दिया, जो इस साल की शुरुआत में देशमुख के खिलाफ सीबीआई द्वारा दर्ज प्राथमिकी से दो पैराग्राफ को हटाने का आग्रह करने वाली महाराष्ट्र सरकार की एक याचिका पर सुनवाई कर रही है।

परमबीर सिंह ने लगाए है देशमुख पर आरोपसीबीआई देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार और कदाचार के आरोपों की जांच कर रही है। यह आरोप मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने लगाए हैं। हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता की अगुवाई वाली पीठ ने अप्रैल में सीबीआई को निर्देश दिया था कि वह मुंबई के एक थाने में वकील जयश्री पाटिल की ओर से दर्ज कराई गई एक आपराधिक शिकायत के आधार पर देशमुख के खिलाफ प्रारंभिक जांच शुरू करे। बता दें कि अदालत के आदेश के बाद देशमुख ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। पाटिल ने हाईकोर्ट में एक याचिका दायर कर उनकी ओर से दर्ज कराई गई शिकायत पर कार्रवाई की गुजारिश की थी। headtopics.com

उन्होंने अपनी याचिका में देशमुख के खिलाफ सिंह द्वारा लगाए गए आरोपों का उल्लेख किया है और सिंह द्वारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे गए एक पत्र की एक प्रति भी संलग्न की है, जिसमें मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त ने देशमुख के खिलाफ आरोप लगाए हैं। मेहता ने कहा, 'वाजे की बहाली और तबादलों व तैनाती के मुद्दे, अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों से जुड़े हुए हैं। अगर अवैध तैनाती और तबादलों का गिरोह मौजूद है, तो सीबीआई को इसकी जांच करनी चाहिए। फिर राज्य सरकार कैसे कह सकती है कि इन हिस्सों को प्राथमिकी से हटा दिया जाए?'

मेहता ने कहा कि वाजे सिर्फ एक एपीआई (सहायक पुलिस निरीक्षक) था, लेकिन गृह मंत्री के आवास तक उसकी सीधी पहुंच थी। उसका अतीत संदेहपूर्ण था, फिर भी उसे 15 साल बाद (2020 में) बहाल कर दिया गया था जब राज्य में एक खास शख्स गृह मंत्री था। वाजे को अब बर्खास्त किया जा चुका है। इस पर अदालत ने पूछा कि क्या सीबीआई तीन सदस्यीय समिति के खिलाफ भी जांच कर रही है जिसने वाजे की बहाली को मंजूरी दी थी? तो मेहता ने कहा कि वह तफ्तीश करना तो चाहती है कि लेकिन महाराष्ट्र सरकार सीबीआई को वाजे की बहाली से संबंधित दस्तावेज नहीं दे रही है।

राज्य सरकार के वकील दादा ने कहा कि हाईकोर्ट यह अनुमान नहीं लगा सकता कि प्रारंभिक जांच का निर्देश देने वाले अदालत के आदेश के तहत राज्य सरकार के लिए जरूरी है कि वह सीबीआई को वे दस्तावेज दे जो उसने मांगे हैं। हाईकोर्ट बुधवार को मामले की आगे सुनवाई करेगी।

विस्तार सरकार राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही है। देशमुख भ्रष्टाचार और कदाचार के आरोपों का सामना कर रहे हैं।विज्ञापनसीबीआई की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को बताया कि हाईकोर्ट के पिछले आदेश के बाद शुरू की गई जांच, 'पूरे राज्य प्रशासन की सफाई करने' का मौका थी, लेकिन महाराष्ट्र सरकार केंद्रीय एजेंसी के साथ सहयोग करने से इनकार कर रही है। मेहता ने महाराष्ट्र सरकार द्वारा लगाए गए इन आरोपों से इनकार किया कि सीबीआई जांच में पूर्व सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाजे की बहाली और मुंबई पुलिस अधिकारियों के स्थानांतरण और तैनाती में देशमुख के अनुचित हस्तक्षेप के मुद्दों को शामिल करके हाईकोर्ट के आदेश से बाहर जा रही है। headtopics.com

दैनिक भास्कर पर इनकम टैक्स छापों की निंदा: हरियाणा-पंजाब के नेताओं ने कहा-यह प्रेस की आजादी पर हमला, कोरोनाकाल में जनता की आवाज उठाने से डर गई सरकार आंदोलनकारी किसानों को 'मवाली' कहा केंद्रीय मंत्री ने, क्या बोले इस पर किसान - BBC Hindi IT रेड पर वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष बोले: दैनिक भास्कर ने निर्भीक पत्रकारिता की है, सरकार उसकी आवाज दबाना चाहती है; यह हमारे डेमोक्रेसी की आत्मा पर हमला है

रफीक दादा के आरोपों का किया खंडनमेहता ने राज्य के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता रफीक दादा द्वारा लगाए गए आरोपों का खंडन किया कि सीबीआई अवैध फोन टैपिंग और पुलिस तैनाती से संबंधित संवेदनशील दस्तावेजों को कथित तौर पर लीक करने के मामले में आईपीएस अधिकारी रश्मि शुक्ला के खिलाफ जांच में पिछले दरवाजे से प्रवेश पाने के लिए देशमुख के खिलाफ चल रही तहकीकात का इस्तेमाल कर रही है। सॉलिसिटर जनरल ने न्यायमूर्ति एसएस शिंदे और न्यायमूर्ति एनजे जामदार की पीठ के समक्ष अभिवेदन दिया, जो इस साल की शुरुआत में देशमुख के खिलाफ सीबीआई द्वारा दर्ज प्राथमिकी से दो पैराग्राफ को हटाने का आग्रह करने वाली महाराष्ट्र सरकार की एक याचिका पर सुनवाई कर रही है।

परमबीर सिंह ने लगाए है देशमुख पर आरोपसीबीआई देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार और कदाचार के आरोपों की जांच कर रही है। यह आरोप मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने लगाए हैं। हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता की अगुवाई वाली पीठ ने अप्रैल में सीबीआई को निर्देश दिया था कि वह मुंबई के एक थाने में वकील जयश्री पाटिल की ओर से दर्ज कराई गई एक आपराधिक शिकायत के आधार पर देशमुख के खिलाफ प्रारंभिक जांच शुरू करे। बता दें कि अदालत के आदेश के बाद देशमुख ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। पाटिल ने हाईकोर्ट में एक याचिका दायर कर उनकी ओर से दर्ज कराई गई शिकायत पर कार्रवाई की गुजारिश की थी।

उन्होंने अपनी याचिका में देशमुख के खिलाफ सिंह द्वारा लगाए गए आरोपों का उल्लेख किया है और सिंह द्वारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे गए एक पत्र की एक प्रति भी संलग्न की है, जिसमें मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त ने देशमुख के खिलाफ आरोप लगाए हैं। मेहता ने कहा, 'वाजे की बहाली और तबादलों व तैनाती के मुद्दे, अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों से जुड़े हुए हैं। अगर अवैध तैनाती और तबादलों का गिरोह मौजूद है, तो सीबीआई को इसकी जांच करनी चाहिए। फिर राज्य सरकार कैसे कह सकती है कि इन हिस्सों को प्राथमिकी से हटा दिया जाए?'

मेहता ने कहा कि वाजे सिर्फ एक एपीआई (सहायक पुलिस निरीक्षक) था, लेकिन गृह मंत्री के आवास तक उसकी सीधी पहुंच थी। उसका अतीत संदेहपूर्ण था, फिर भी उसे 15 साल बाद (2020 में) बहाल कर दिया गया था जब राज्य में एक खास शख्स गृह मंत्री था। वाजे को अब बर्खास्त किया जा चुका है। इस पर अदालत ने पूछा कि क्या सीबीआई तीन सदस्यीय समिति के खिलाफ भी जांच कर रही है जिसने वाजे की बहाली को मंजूरी दी थी? तो मेहता ने कहा कि वह तफ्तीश करना तो चाहती है कि लेकिन महाराष्ट्र सरकार सीबीआई को वाजे की बहाली से संबंधित दस्तावेज नहीं दे रही है। headtopics.com

राज्य सरकार के वकील दादा ने कहा कि हाईकोर्ट यह अनुमान नहीं लगा सकता कि प्रारंभिक जांच का निर्देश देने वाले अदालत के आदेश के तहत राज्य सरकार के लिए जरूरी है कि वह सीबीआई को वे दस्तावेज दे जो उसने मांगे हैं। हाईकोर्ट बुधवार को मामले की आगे सुनवाई करेगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Population Control Policy: विकासवादी सोच या ध्रुवीकरण की राजनीति, देखें 10 तक

आबादी ज्यादा तो जनता के लिए जरूरी संसाधनों का बंटवारा सभी को बराबरी और जरूरत मुताबिक मिल पाना कठिन होता है. 130 करोड़ से ज्यादा आबादा वाला देश भारत. जहां की जनसंख्या चुनावी भाषणों में देश की ताकत के रूप में प्रदर्शित की जाती है. उसी देश में आबादी को नियंत्रित करने की पॉलिसी का ड्राफ्ट जब चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश में आता है तो विकास के लिए आवश्यक जनसंख्या नियंत्रण नीति राजनीति में फंस जाती है. विकासवादी सोच के मुकाबले ध्रुवीकरण और अपना अपना धर्म, अपनी आबादी आबादी की चिंता के विवाद में ज्यादा उलझी नजर आती है. देखें वीडियो.

महाराष्ट्र का गृहमंत्री है। High Alert Shocking Real Truth from Political mouth State Run By Goondas Maharastra Govt. runby Certified Goondas? Can a Certified Goonda run democracy the system be part ofthe system govt.? How? ‘We R Certified Goondas’:SanjayRaut AfterClash at SenaOffice

100 करोड़ की रिश्वत का मामला: बॉम्बे हाईकोर्ट में CBI का आरोप- अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही महाराष्ट्र सरकारसेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन ( CBI ) ने सोमवार को हाईकोर्ट को बताया कि महाराष्ट्र सरकार राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में उनका सहयोग नहीं कर रही है। CBI , देशमुख के खिलाफ 100 करोड़ की रिश्वत के परमबीर सिंह के आरोप की जांच कर रही है। इस मामले में देशमुख से 3 बार पूछताछ भी हो चुकी है। कुछ महीने पहले CBI ने देशमुख के 12 ठिकानों पर छापा भी मारा था। | CBI alleges Maharashtra government in High Court, said- Maharashtra government is not cooperating in the investigation against Anil Deshmukh Anil Deshmukh toh bas ek pyada tha. Maha Vasooli Party Kab sahyog kiya hai jo ab karega. Kitne hi case utha lo sab mein yahi haal hai Ise hi to kha nata h takt war log,,

100 करोड़ की रिश्वत का मामला: बॉम्बे हाईकोर्ट में CBI का आरोप- अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही महाराष्ट्र सरकारसेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन ( CBI ) ने सोमवार को हाईकोर्ट को बताया कि महाराष्ट्र सरकार राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में उनका सहयोग नहीं कर रही है। CBI , देशमुख के खिलाफ 100 करोड़ की रिश्वत के परमबीर सिंह के आरोप की जांच कर रही है। इस मामले में देशमुख से 3 बार पूछताछ भी हो चुकी है। कुछ महीने पहले CBI ने देशमुख के 12 ठिकानों पर छापा भी मारा था। | CBI alleges Maharashtra government in High Court, said- Maharashtra government is not cooperating in the investigation against Anil Deshmukh Anil Deshmukh toh bas ek pyada tha. Maha Vasooli Party Kab sahyog kiya hai jo ab karega. Kitne hi case utha lo sab mein yahi haal hai Ise hi to kha nata h takt war log,,

देश को विज्ञापन नहीं, वैक्सीन चाहिए : मनीष सिसोदिया का केंद्र पर कटाक्षमनीष सिसोदिया ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार पहले इमेज मैनेजमेंट के लिए सरकार विदेशों में वैक्सीन बेचती रही, फिर कहा कि राज्य सरकार ग्लोबल मार्केट से खरीदें. Lo ab marketing company bhe yese baat karne lage hai Abe ye Khujliwal ko bol ये गधा और इसका आका केजरी तो देश के सबसे बड़े विज्ञापन मास्टर हैं! इन फ़्रॉड्स के मुहँ से ऐसी बात अच्छी नहीं लगती!! गधा.... msisodia

चुनाव परिणाम के खिलाफ याचिका: ममता के बाद चुनाव हारने वाले 4 TMC नेताओं ने भी कलकत्ता हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, चुनाव प्रक्रिया में धांधली का आरोपमुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बाद बंगाल विधानसभा चुनाव हारने वाले 4 और तृणमूल कांग्रेस नेताओं ने कलकत्ता हाईकोर्ट में याचिकाएं लगाई हैं। इनमें चुनाव प्रक्रिया में धांधली का आरोप लगाया गया है और परिणाम की समीक्षा की मांग की गई है। | Mamata Banerjee vs Shubhendu Adhikari, Mamata Banerjee, Shubhendu Adhikari, Narendra Modi, Calcutta High Court, West Bengal Assembly Polls 2021 AITCofficial भाजपा में भी हारने वालों को कोर्ट में गुहार लगानी चाहिए AITCofficial Harne wale pure TMC ..MLA kyo nhi thok dete review petition..🙈🙉🙊 AITCofficial इसी (दीदी) को तो भेड़ चाल कहते हैं ।

पश्चिम बंगाल हिंसाः अंतरिम आदेश पर स्टे के लिए ममता पहुंचींकोलकाता हाईकोर्ट ने शनिवार को ममता सरकार को चुनाव बाद हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहरा कड़ी फटकार लगाई और हिंसा की जांच के लिए एक कमेटी का गठन कर दिया। सरकार को कोर्ट का फैसला नागवार गुजरा। रविवार को सरकार ने हाईकोर्ट में याचिका देकर अपील की कि कल के आदेश पर रोक लगाई जाए। \n

चीन में चमक-दमक के बीच नौजवानों में क्यों घर कर रही है भारी निराशा - BBC News हिंदीचीन में नौजवान पीढ़ी जिस तरह से निराशा और हताशा का सामना कर रही है, उसे देखते हुए अब लाखों लोग प्रतिस्पर्धा की दौड़ से निकलना चाहते हैं. अबे अपने देश के नौजवानों की चिंता कर ले,चीन जाये भाड़ में। 'पैदा लेते ही'? दद्वितीय पंक्ति में ही भाषा किरकिरी हुई आप BBC है, अपनी गरिमा का कुछ तो खयाल करें!