Sonia Gandhi, Congress President, Congress, Rahul Gandhi, Elections, Cwc, Cwc Meeting, Congress Working Committee, Congress New President, Priyanka Gandhi, सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष, कांग्रेस, राहुल गांधी, चुनाव आयोग, सीडब्ल्यूसी, कांग्रेस वर्किंग कमेटी, कांग्रेस नया अध्यक्ष, प्रियंका गांधी

Sonia Gandhi, Congress President

बीमार सोनिया गांधी के लिए मुश्किलें हैं अपार, अंदर और बाहर से मिल रही हैं चुनौतियां

बीमार सोनिया गांधी के लिए मुश्किलें हैं अपार, अंदर और बाहर से मिल रही हैं चुनौतियां

12.8.2019

बीमार सोनिया गांधी के लिए मुश्किलें हैं अपार, अंदर और बाहर से मिल रही हैं चुनौतियां

कांग्रेस के लिए यह सबसे बड़ी चुनौती है कि जिस दिन राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक पेश हुआ, उसके सांसद संजय सिंह ने इस्तीफा

जिस दिन राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक पेश हुआ, तब कांग्रेस के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने इस्तीफा दे दिया। वहीं जब केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक-2019 पेश किया, तब पार्टी के चीफ व्हिप भुबनेश्वर कलिता ने इस्तीफा दे दिया। पार्टी के तमाम विरोध के बावजूद न केवल सूचना का अधिकार (संशोधन) विधेयक राज्यसभा में पारित हो गया, बल्कि तीन तलाक, यूएपीए संशोधन विधेयक, जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक-2019 को सत्तापक्ष के अल्पमत में रहने के बाद भी राज्यसभा में बड़े अंतर से मंजूरी मिल गई। इतना ही नहीं 25 मई से पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर बैठे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के ऊपर कांग्रेस के नेताओं ने ही अंगुली उठानी शुरू कर दी।

जबकि राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद पार्टी लाइन को लेकर इसके विरोध में थे। माना जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी के इतिहास में यह उसका अब तक का सबसे बड़ा संक्रमण काल है। यह एक ऐसा दौर है, जहां पार्टी खुद को एकजुट नहीं रख पा रही है। इस बिखराव के चलते विपक्ष की एकता और ताकत भी भोथरी दिखाई दी।

सोनिया गांधी की तबियत पिछले कई सालों से नासाज है। वह अपना इलाज विदेश में कराती हैं। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष ने स्वास्थ्य वजहों के चलते लंबे समय से सक्रिय राजनीति में अपनी भूमिका को काफी कम कर रखा है। चिकित्सकों ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष को सर्दी, गर्मी, धूल, धूप जैसी परिस्थितियों से बचकर रहने की सलाह दी है। यही वजह है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने पिछले छह-सात साल से जनसभा, रैली, जमीनी राजनीतिक अभियान, विरोध प्रदर्शन आदि से खुद को करीब-करीब दूर रखा है। लोकसभा चुनाव-2019 से लेकर पिछले कई विधानसभा चुनावों में उन्होंने पहले से निर्धारित अपनी कई जनसभाओं में ऐन वक्त पर जाने का फैसला टाला है।

निराशा, हताशा, राजनीतिक इच्छाशक्ति के बिखराव पर खड़ी पार्टी को संभालने की चुनौती

जिस दिन राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक पेश हुआ, तब कांग्रेस के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने इस्तीफा दे दिया। वहीं जब केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक-2019 पेश किया, तब पार्टी के चीफ व्हिप भुबनेश्वर कलिता ने इस्तीफा दे दिया। पार्टी के तमाम विरोध के बावजूद न केवल सूचना का अधिकार (संशोधन) विधेयक राज्यसभा में पारित हो गया, बल्कि तीन तलाक, यूएपीए संशोधन विधेयक, जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक-2019 को सत्तापक्ष के अल्पमत में रहने के बाद भी राज्यसभा में बड़े अंतर से मंजूरी मिल गई। इतना ही नहीं 25 मई से पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर बैठे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के ऊपर कांग्रेस के नेताओं ने ही अंगुली उठानी शुरू कर दी।

कांग्रेस पार्टी का दिल्ली, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में प्रदेश अध्यक्ष नहीं है। लोकसभा चुनाव-2019 के बाद से ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कई नेता अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। केंद्रीय संगठन में सुधार और विस्तार देना है। संगठन के चुनाव कराकर पार्टी को पूर्णकालिक राष्ट्रीय अध्यक्ष देना है। हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान समेत कई राज्यों में पार्टी के नेताओं के भीतर भारी अंतर्विरोध है, साथ ही पार्टी के भीतर आंतरिक चुनौतियां भी हैं।

डाक्टरों की सर्दी, गर्मी और धूल से दूर रहने की सलाह

और पढो: Amar Ujala

चुनौती बची ही कहाँ है जो बची है पाकिस्तानी प्रेम ले डूबेगी Soniya Gandhi the last president of Cong log kahenge ek thi cong Tum kyun pareshaan ho Congress ke liye itni chinta kab se hone lagi godi media ko भारत राष्ट्र की सार्वभौमिक एकता और संप्रभुता के लिए ये खुद एक बड़ी चुनौती है , भला इन्हें क्यों कोई चुनौती देगा ?

पकिस्तान के भक्त है कांग्रेसी अब काहे की समस्या है कांग्रेस बीमार सोनिया बीमार जोड़ी अच्छी अबकीबार सपा सरकार yadavakhilesh

‘दीदी के बोलो’ कार्यक्रम में लोगों के सवालों से छूट रहे हैं तृणमूल नेताओं के पसीनेपश्चिम बंगाल में ‘दीदी के बोलो’ कार्यक्रम के तहत तृणमूल कांग्रेस के जनसंपर्क अभियान के तहत पार्टी के नेता और मंत्री गांवों में जा तो रहे हैं, लेकिन ... MamataOfficial AITCofficial CPIM_WESTBENGAL WestBengalPMC MamataOfficial AITCofficial CPIM_WESTBENGAL WestBengalPMC Our corrupt LOOTERP oliticians Are Besharm also You need not to go to villages Why you are going Because Development and work did not go there You have accepted KATH MONEY Do you deserve to be best cm You should DIE But You say against NSCB Mai Tumhara Khoon Kar ke CM Banoogi.? MamataOfficial AITCofficial CPIM_WESTBENGAL WestBengalPMC Momota must think about her inhuman activities Today you are begging in villages When they...... Then you become King And CHAMRI UDHER.... You are a Criminal Our Law is not able to.. Otherwise Criminal politician would not have been roaming freely If I get chance I shall......? MamataOfficial AITCofficial CPIM_WESTBENGAL WestBengalPMC Kursi ka Deal hai?

अपनों का हाल जानने के लिए क्या कर रहे हैं कश्मीरीदिल्ली से प्रकाशित होने वाले प्रमुख अख़बारों की ख़ास सुर्खियां एक साथ पढ़िए. तनाव के बीच 3 दिनो के लिए जम्मू-कश्मीर के दौरे पर जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह मतलब लोगो का डर भगाने के लिए गांव मे बाघ छोड़ा जाएगा🤣

IPL 2020 में होगा बड़ा बदलाव, राजस्थान छोड़कर इस टीम के लिए खेल सकते हैं रहाणेराजस्थान रॉयल्स की दूसरी पहचान रहे कप्तान अजिंक्य रहाणे अपनी टीम का साथ छोड़ सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो

अगर कश्मीर में हालात सामान्य हैं तो डोभाल साहब के पीछे की दुकानें क्यों बंद हैं?कश्मीर के मौजूदा हालात पर एक निजी टीवी न्यूज चैनल के लाइव डिबेट कार्यक्रम में जब जम्मू-कश्मीर के हालात पर चर्चा की गई। जन हटा दीजिये नाम के आगे से सट्टा ठीक रहेगा अगर दुकान खुली होती तो इनका प्रश्न होता खरीदार कहा है अगर खरीदार होता तो कहते डोभाल पैसा देकर खरीदार बुलाये है खैर आप सनसनीखेज हेडलाइन बनाते रहिये Jal rahi hai na teri sach bol Why showing only negative news, I think they're not happy with 370. Please stop BBCHindi ndtv

करतारपुर कॉरिडोर पर पाक के नखरे, बैठक के लिए भारत ने पूछा समय, नहीं दिया जवाबकरतारपुर कॉरिडोर को गुरु नानक देव की 550वीं जयंती तक खोलने का निर्णय लिया गया है. इसे लेकर तेजी काम किया जा रहा है. पूछा ही क्यों भाई और कर्र भी क्या सकते हैं ? चारों ओर से बेज़्ज़ती हो रही है .... अपने देश के लोगों को दिखना चाहते हैं ... पाकिस्तान, भारत को लेकर किसी भी प्रकार रिस्क लेने को तैयार नहीं हैं, पता न भारत कौन से बहाने से POK पहुच जाए. ✌️🇮🇳😁

कभी थे झारखंड के सबसे बड़े डॉक्टर, संपत्ति के लिए बेटी ने अमेरिका में बनाया बंधकडॉ. एबी बलसारा झारखंड के काफी प्रसिद्ध न्यूरो फिजिशियन रहे हैं. मरीजों के मुफ्त इलाज का डॉक्टर का रिकार्ड रहा है. लेकिन अब इस डॉक्टर की संपत्ति जान की दुश्मन बन गई है. कभी बेटा किडनैप करता है तो कभी बेटी. Aajkal log paishe ke liye rishte bhul gaye hai..log apno ke hi dard dene lage hai. Aulad se hi insan dukhi hai. good गरीबो का खून चूस कर बहुत कमाये है अच्छा हो रहा है

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

12 अगस्त 2019, सोमवार समाचार

पिछली खबर

भारत की कश्मीर मुद्दे पर चीन को दो टूक, कहा- ये भारत का आंतरिक मामला है

अगली खबर

Man vs Wild: बेयर ग्रिल्स के साथ पीएम मोदी, रोमांच के बीच खतरों का खेल