Farmbills 2020, Agriculture Bill, Karnataka, Protest, Farmer, कृषि बिल, कर्नाटक, विरोध, किसान

Farmbills 2020, Agriculture Bill

बीजेपी शासित कर्नाटक में भी केंद्र के कृषि कानून का जोरदार विरोध, सड़क पर उतरे किसान

BJP शासित राज्य होने के बावजूद #FarmBills2020 के साथ-साथ कर्नाटक के भूमि सुधार बिल के खिलाफ राज्य में किसानों ने प्रदर्शन किया.

28-09-2020 16:06:00

BJP शासित राज्य होने के बावजूद FarmBills2020 के साथ-साथ कर्नाटक के भूमि सुधार बिल के खिलाफ राज्य में किसान ों ने प्रदर्शन किया.

केंद्र सरकार की तरफ से तीन नए किसान कानूनों के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी है. दक्षिण भारत में भी अब किसान सड़कों पर उतर आए हैं. बीजेपी शासित राज्य होने के बावजूद कृषि बिल के साथ-साथ कर्नाटक के भूमि सुधार बिल के खिलाफ राज्य में किसान ों ने प्रदर्शन किया.

बेंगलुरु: केंद्र सरकार की तरफ से तीन नए किसान कानूनों के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी है. दक्षिण भारत में भी अब किसान सड़कों पर उतर आए हैं. बीजेपी (BJP)शासित राज्य होने के बावजूद कृषि बिल के साथ-साथ कर्नाटक (Karnataka) के भूमि सुधार बिल के खिलाफ राज्य में किसानों ने प्रदर्शन किया. मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी किसान नेता माने जाते हैं ऐसे में उनके राज्य में शुरू हुए आंदोलन से उन्हें परेशानी हो सकती है. कर्नाटक में बेंगलुरू के साथ-साथ तक़रीबन सभी जगहों पर केंद्र सरकार के कृषि बिल के ख़िलाफ़ इसी तरह प्रदर्शन देखने को मिले. किसानों का आरोप है कि आलू प्याज़ दलहन को नया कानून आने के बाद से न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलेगा जिससे उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. हालांकि केंद्र सरकार की तरफ से लगातार इससे इनकार किया जाता रहा है.

उद्धव सरकार का बड़ा फैसला, महाराष्ट्र में बिना इजाजत CBI की 'नो एंट्री' यूपी: ट्वीट के लिए गिरफ़्तार पत्रकार प्रशांत कनौजिया को दो महीने बाद मिली हाईकोर्ट से ज़मानत मुंबई : फर्जी TRP मामले की जांच में 2 और चैनलों के नाम, अब तक 8 लोग गिरफ्तार

यह भी पढ़ेंकेंद्र के कृष‍ि विधेयकों को खारिज करने के लिए कानूनों पर विचार करें कांग्रेस शासित राज्य : सोनिया गांधीकर्नाटक किसान संघ के अध्यक्ष के चंद्रशेखर ने कहा हैं,"यह सरकार किसानों से झूठ बोल रही है, नरेंद्र मोदी झूठे हैं. इसे लागू करने की कोशिश कर रहे येदियुरप्पा झूठ में मोदी का साथ दे रहे हैं. यह सब किसानों के विरोधी हैं. इसके अलावा जो भूमि सुधार कानून लाया गया है वह भी किसानों के लिए नुकसानदेह ही है. सिर्फ कंपनियों को इससे फायदा होगा. इससे देश के लोगों को बहुत बड़ा झटका लगेगा इसलिए हमें आजादी की दूसरी लड़ाई लड़नी पड़ेगी." कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा,"नरेंद्र मोदी और बीएस येदियुरप्पा दोनों ही कृषि के लिए हानिकारक हैं" साथ ही उन्होंने कहा कि यह सरकार किसान-विरोधी है, किसान की आवाज़ को लगातार दबाने का प्रयास किया जा रहा है. हम भूमि सुधार बिल और APMC अधिनियम को वापस लेने तक किसान के साथ एकजुट रहेंगे, हमारा संघर्ष जारी रहेगा.

किसानों का विरोध प्रदर्शन सुबह से ही देखने को मिला. राज्य के अलग-अलग हिस्सों में किसानों के साथ कन्नड़ संगठन भी आ खड़े हुए. बेंगलुरु के टाउन हॉल से मैसूर बैंक सर्किल तक कुछ इसी तरह शोर शराबा होता रहा. केंद्र सरकार के कृषि बिल और राज्य की बीजेपी सरकार के भूमि सुधार बिल को लेकर नाराज़गी दिखी. भूमि सुधार बिल के तहत किसानों की 4 एकड़ तक उपजाऊ भूमि  उद्योगपति किसानों से सीधे ख़रीद सकेंगे. Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

agriculture billKarnatakaprotestटिप्पणियां भारत में कोरोनावायरस महामारी के फैलाव पर नज़र रखें, और NDTV.in पर पाएं दुनियाभर से COVID-19 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें.लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

पाटलिपुत्र: 'लालू राज' में बिहार कैसा था, जानिए पूरा इतिहास

1980 में जब केंद्र में कांग्रेस पार्टी की वापसी हुई तो उसने 9 गैर कांग्रेस शसित राज्यों में राष्ट्रपति शासन लगा दिया. इन राज्यों में बिहार भी शामिल था. 11 जून 1948 को लालू प्रसाद यादव का जन्म हुआ था. 42 साल की उम्र में लालू पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री बने. 1990 से 1997 तक लालू मुख्यमंत्री रहे. 2005 तक उनकी पत्नी राबड़ी देवी सीएम रहीं. देखें वीडियो.

सभी राज्यों में विपक्ष होता है भाई। फिर कहोगे सविंधान की हत्या। अरे भाई NDTV तुझे मालूम है जितने भी प्रदर्शन चल रहे है उसमे एक भी किसान नहीं है, सारे बामपंथी और कांग्रेसी है क्योंकि किसान खेत मे धान काट रहा है, उसके खेत मे धान पका है, उसके पास समय नहीं है. आपके जैसे बैले नहीं है जो कही भी दंगा फैलाने पहुँच जाते है

Jo vipaksh par unhei bahkaanei ka ilzaam lagaa rahei hain.. bataayen ki wahaan kisaano ko koun bahkaa rahaa hai ? किसान नही कांग्रेसी और कम्युनिस्ट हैं जो किसान बनकर सब जगह पिछले 5 साल से धरना प्रदर्शन करने पहुंच जाते हैं जंतर मंतर पर जो चूहे लेकर प्रदर्शन कर रहे थे उनका भाँडा फूट गया था, साले वामपंथी थे। INCIndia

जब जियो आया था तब फ्री दिया गया था , फिर 149 से 199 रु हुआ , और अब 399 से 599 रु हो गया है आगे 799 हो जाएगा यही है निजीकरण....🤔🤫 chuna lagaane wali sarkaar Karnatak sarkar to jor jabardasti se chuni sarkar ko tod k banayi huyi h, heraferi ki sarkar se Nyay ki ummid kaise kr sakte h मोदी सरकार कोई ऐसा भी बिल लेकर आए, जिसके वजह से पूंजीपति और बड़े बड़े ब्यापारी भी किसानों के जैसे सड़कों पर विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर हो जाए।

Misaan nahi congressi ऎसी पूजीपतियों की सरकार को अब जाना होगा l जनता अब जाग चुकी है l कृष्णलला हम आएंगे🚩

किसान बिल के विरोध में दिल्ली के इंडिया गेट पर फूंका ट्रैक्टरइसी बीच, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह सोमवार को शहीद भगत सिंह नगर स्थित खटकर कलां में तीन किसान बिलों के खिलाफ धरना प्रदर्शन करेंगे।

रिपोर्ट में खुलासा: उइगरों के सफाये के लिए चीन में 8,500 मस्जिदें ध्वस्त या बंदचीन ने अपने देश में उइगर जातीय समुदाय को खत्म करने का अभियान छेड़ते हुए हाल के वर्षों में कई प्रमुख धर्मस्थल और मस्जिदों जो हिटलर की राह चलेगा वो कुत्ते की मौत मरेगा फारूक अब्दुल्ला को चीन बहुत अच्छा लग रहा है इसको भेजो उधर वैसे भी ये सिर्फ आतंक ही फैलाते है10 में से 7 तो उसी काम लगे रहता है ।यदि मुसलमानों को अपनी और अपने कोम कि इज्जत प्यारी है तो इनको अपने सोच में बदलाव करना होगा ।धर्म के आधार पर सोचना बंद करना होगा ।अपने कि साबित करना होगा कि वो कहीं भी रहे वो मानवता के साथ है ना कि नरसंहार के साथ

Kshitij Prasad के आरोपों के बाद जांच एजेंसी भी सवालों के घेरे में, देखें रिपोर्टकरण जौहर के पूर्व कर्मचारी क्षितिज के वकील के सनसनीखेज बयान से एनसीबी भी घिर गई. बडे वकील सतीश मानशिंदे ने कहा कि - क्षितिज को करण जौहर का नाम लेने के लिए टॉर्चर किया गया. एनसीबी ने मानशिंदे के आरोप को गलत बता दिया. लेकिन अब जांच एजेंसी भी सवालों के घेरे में जरूर आ गई. रविवार को कोर्ट में पेशी के दौरान क्षितिज प्रसाद ने मजिस्ट्रेट के सामने सनसनीखेज आरोप लगाकर करण जौहर का मामला फिर से गर्मा दिया. क्षितिज प्रसाद के वकील सतीश मानेशिंदे ने आरोप लगाया कि NCB क्षितिज पर करण जौहर का नाम लेने का दबाव बना रही है. उनको परेशान किया गया, थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया गया, ब्लैकमेल भी किया गया. देखें वीडियो. ये माल शब्द भी कमाल हैं. हम गांव वाले माल अपने पालतू पशुओं को कहते हैं. अमली लोग नशे को माल कहते हैं. परन्तु ये दीपिका जी पता नहीं किस समाज से आई हैं जो सिगरेट को माल, पतली सिगरेट को हेश कहती हैं पर गांजा, और कोकीन के अर्थ भी बता देगी. 😂😂😂 WHO SAVE TO WHOM & WHY DELHI POLICE BEHIND HIWARKAR WHY !

किसान बिल के विरोध में इंडिया गेट पर ट्रैक्टर को लगाई गई आग किसान बिल के विरोध में सोमवार की सुबह कुछ लोगों ने इंडिया गेट के सामने एक ट्रैक्टर को आग के हवाले कर दिया. आग को बुझा लिया गया है. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है. प्राप्त जानकारी के अनुसार सुबह 7.15 से 7.30 के बीच करीब 15 से 20 संख्या में कुछ लोग किसान बिल के विरोध में इंडिया गेट के पास एकत्रित हुए. वो अपने साथ एक पुराना ट्रैक्टर लेकर आए थे. Jo apne tractor ko hi aag laga de wo kishan hi ho nhi sakta kyonki kishan ugana janta h jalana nhi. Tractor ko aag kisaan to lga nhi sakta🤔🤔🤔 इस तरह की हरकत कोई कांग्रेसी ही कर सकता है

NDA से अलग हुआ अकाली दल, किसान ब‍िल के विरोध में तोड़ा 22 साल का नातामोदी सरकार के जरिए लाए गए कृषि बिल का देश में विरोध देखा जा रहा है. किसान ों के साथ विपक्ष की ओर से भी मोदी सरकार के कृषि बिल का विरोध किया जा रहा है. इस बीच मोदी सरकार को उसके सहयोगी दल शिरोमणि अकाली दल ने एक और झटका दे दिया है. कृषि बिल के विरोध में शिरोमणि अकाली दल ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का साथ छोड़ दिया है. देखें नाचो। आप लोगों को बता दूं की अकाली डाल की लोकसभा में 2 और राज्य सभा में 3 सीट हैं Thank god...good for India,Punjab and BJP...Akalis are finished..👌😄

कोरोना के भारत में 24 घंटे में 88,000 से अधिक मामले - BBC News हिंदीस्वास्थ्य मंत्रालय के दिए आंकड़ों के मुताबिक़ पिछले 24 घंटे में कोरोना से 1,124 मौतें हुई हैं. दलाल कारपोरेट मीडिया और मोदी की यारी 90 हजार कोरोना मौतों पर एक सुशांत सिंह की मौत भारी 'अबकी बार दलाल मीडिया का अंतिम संस्कार' कोरोना संकट से निकलने मे दुनिया की मदद करेगा भारत = पीएम मोदी मोदी जी = जब दस्त हो रहें हो तो शंख नहीं बजाया करतें Thanks to an early lockdown imposed by narendramodi ji, there is no trace yet of the community transmission of virus in India. सनातन धर्म की इस पावन भूमि में, जिसके कण-कण में दिव्यता व्याप्त है, यहां कोई वायरस क्षण भर भी टिक नहीं सकता। जय हिंदुत्व।