बिहार: नि:शुल्क शिविर में कर दिए मोतियाबिंद के ऑपरेशन, कई लोगों की गई आंख की रोशनी, एफआईआर दर्ज

बिहार के मुजफ्फरपुर में 22 नवंबर को चैरिटेबल अस्पताल में एक नि:शुल्क शिविर आयोजित हुआ था। यहां कुछ लोगों का मोतियाबिंद

Bihar, Operation

03-12-2021 01:30:00

बिहार : नि:शुल्क शिविर में कर दिए मोतियाबिंद के ऑपरेशन, कई लोगों की गई आंख की रोशनी, एफआईआर दर्ज bihar operation cataract eyesight

बिहार के मुजफ्फरपुर में 22 नवंबर को चैरिटेबल अस्पताल में एक नि:शुल्क शिविर आयोजित हुआ था। यहां कुछ लोगों का मोतियाबिंद

मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन विनय कुमार शर्मा ने कहा कि ब्रह्मपुरा पुलिस स्टेशन में दर्ज प्राथमिकी में जिन लोगों के नाम हैं, उनमें सर्जरी करने वाले डॉक्टर, आयोजित शिविर में उनकी सहायता करने वाले पैरामेडिक्स और मुजफ्फरपुर नेत्र अस्पताल के प्रबंधन में शामिल लोग शामिल हैं।

Yashraj Mukhate की क्रिएटिविटी को मिला Shehnaaz Gill का साथ, 'Boring Day' पर मचाया धमाल

65 लोगों का हुआ था मोतियाबिंद का ऑपरेशनमुजफ्फरपुर के कस्बे के जुरान छपरा मोहल्ले में स्थित चैरिटेबल अस्पताल में आयोजित शिविर में कुल 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था। कुछ ही दिनों में उनमें से कई लोगों ने दर्द और अन्य समस्याओं की शिकायत की।चार मरीजों की आंखें अस्पताल में ही निकलनी पड़ी

चिकित्सा प्रतिष्ठान की प्रबंध समिति के एक सदस्य ने कहा कि ऐसे चार मरीजों की आंखें अस्पताल में ही निकलनी पड़ी, ताकि शरीर के अन्य हिस्सों में संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। बाद में, 11 अन्य लोगों को एसकेएमसीएच रेफरल अस्पताल में भर्ती किए गए जहां उनकी आंख निकालनी पड़ी। headtopics.com

जिलाधिकारी प्रणव कुमार ने कहा, नेत्र अस्पताल को अगले आदेश तक किसी भी तरह की सर्जरी करने से रोक दिया गया है। हमने उन सभी का विवरण प्राप्त किया है जिनका शिविर में ऑपरेशन किया गया था। उनका पता लगाया जा रहा है और जांच के लिए ले जाया जा रहा है।शीतकालीन सत्र में उठा मुद्दा

नेस्ले ने भगवान जगन्नाथ की तस्वीर वाले किटकैट वापस लिए, जताया अफ़सोस - BBC Hindi

इस बीच, जिस मुद्दे के परिणामस्वरूप राज्य सरकार पर एनएचआरसी का नोटिस थमा दिया गया, उस मुद्दे को विपक्ष ने विधायिका के अंदर भी उठाया जहां शीतकालीन सत्र चल रहा है। कांग्रेस एमएलसी प्रेम चंद्र मिश्रा द्वारा एक स्थगन प्रस्ताव पेश किया गया था, जिन्होंने दुखद प्रकरण पर सदन के पटल पर विस्तृत चर्चा की मांग की थी।

विस्तार किया गया था। इसके बाद करीब 20 लोगों की आंखों की रोशनी पूरी तरह चली गई। इस मामले में 14 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।विज्ञापनमुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन विनय कुमार शर्मा ने कहा कि ब्रह्मपुरा पुलिस स्टेशन में दर्ज प्राथमिकी में जिन लोगों के नाम हैं, उनमें सर्जरी करने वाले डॉक्टर, आयोजित शिविर में उनकी सहायता करने वाले पैरामेडिक्स और मुजफ्फरपुर नेत्र अस्पताल के प्रबंधन में शामिल लोग शामिल हैं।

65 लोगों का हुआ था मोतियाबिंद का ऑपरेशनमुजफ्फरपुर के कस्बे के जुरान छपरा मोहल्ले में स्थित चैरिटेबल अस्पताल में आयोजित शिविर में कुल 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था। कुछ ही दिनों में उनमें से कई लोगों ने दर्द और अन्य समस्याओं की शिकायत की।चार मरीजों की आंखें अस्पताल में ही निकलनी पड़ी headtopics.com

सर्वे : देश में बीजेपी का जादू बरकरार, अभी लोकसभा चुनाव हुए तो एनडीए को पूर्ण बहुमत, देखें किसे कितनी सीटें

चिकित्सा प्रतिष्ठान की प्रबंध समिति के एक सदस्य ने कहा कि ऐसे चार मरीजों की आंखें अस्पताल में ही निकलनी पड़ी, ताकि शरीर के अन्य हिस्सों में संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। बाद में, 11 अन्य लोगों को एसकेएमसीएच रेफरल अस्पताल में भर्ती किए गए जहां उनकी आंख निकालनी पड़ी।

जिलाधिकारी प्रणव कुमार ने कहा, नेत्र अस्पताल को अगले आदेश तक किसी भी तरह की सर्जरी करने से रोक दिया गया है। हमने उन सभी का विवरण प्राप्त किया है जिनका शिविर में ऑपरेशन किया गया था। उनका पता लगाया जा रहा है और जांच के लिए ले जाया जा रहा है।शीतकालीन सत्र में उठा मुद्दा

इस बीच, जिस मुद्दे के परिणामस्वरूप राज्य सरकार पर एनएचआरसी का नोटिस थमा दिया गया, उस मुद्दे को विपक्ष ने विधायिका के अंदर भी उठाया जहां शीतकालीन सत्र चल रहा है। कांग्रेस एमएलसी प्रेम चंद्र मिश्रा द्वारा एक स्थगन प्रस्ताव पेश किया गया था, जिन्होंने दुखद प्रकरण पर सदन के पटल पर विस्तृत चर्चा की मांग की थी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

सिद्धू से कितना नुक़सान ? चरणजीत सिंह चन्नी EXCLUSIVE, देखिए #DNAWeekendEdition LIVE Sudhir Chaudhary के साथ

India knows what is happening to Hindus in Kashmir, Bengal, Assam, Tripura & Kerala. Don't allow them to convert into 'Hindu Mukt Bharat'

Bihar Vidhan Sabha : 'विधायकों की पिटाई हो गई, मंत्रियों की बाकी', बिहार विधानसभा में भारी बवाल बिहार सरकार में बीजेपी कोटे से मंत्री जीवेश मिश्रा ने सदन के अंदर अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। विधानसभा में मंत्री जीवेश मिश्रा ने पटना के डीएम और एसएसपी पर उनका अपमान करने का आरोप लगाया। मंत्री ने सदन में खड़े होकर कहा है कि पटना के एसपी और डीएम की वजह से उनकी गाड़ी को विधानसभा में आने से रोका गया।

मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में गड़बड़ी, 65 में से 15 लोगों की निकालनी पड़ी आंखजानकारी के लिए बता दें कि बीते 22 नवंबर को मुजफ्फरपुर के आई हॉस्पिटल में 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. जिसमें ज्यादातर लोगों की आंखों में इंफेक्शन हो गया.

गाजियाबाद : इंदिरापुरम की सोसायटी की एक बिल्डिंग में 5वें माले पर आग, दिखा भयानक मंजरवहां मौजूद लोगों ने तत्काल इस घटना की जानकारी दमकल विभाग को दी. सूचना पर दमकल की टीम मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का प्रयास कर रही है

Covid-19: देशभर में पिछले 24 घंटों में 9,765 नए केस, 477 की मौतदेश में फिलहाल रिकवरी रेट 98.35 फीसदी दर्ज की गई है जो मार्च 2020 के बाद से सबसे ज्यादा है. पिछले 24 घंटों में देशभर में कुल 8,548 मरीज कोविड महामारी से स्वस्थ हुए हैं. अब तक देशभर में कुल 3 करोड़, 40 लाख, 37 हजार, 054 लोग इस महामारी को मात दे चुके हैं. pikaso_me screen shot this Lagta hai ki ab '0' nhi hone denge...kbhi

असम में बढ़ रही है पुलिस हिरासत में मौतों की तादाद | DW | 02.12.2021असम में एक छात्र नेता की पीट-पीट कर हत्या के मामले का मुख्य अभियुक्त सड़क हादसे में मारा गया है. इसे लेकर बीती मई से अब तक कुल 28 लोगों की पुलिस हिरासत में मौत हो चुकी है. PoliceBrutality CustodialDeaths Assam HumanRights

Omicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामलेOmicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामले OmicronVarient Covid19 Karnataka mansukhmandviya MoHFW_INDIA mansukhmandviya MoHFW_INDIA कर्नाटक सरकार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था बहाल करना चाहिए ताकि वायरस को तेजी से वायरल होनें से रोका जाए। इसें मज़ाक में कतई न लें , नहीं तो बहुत जल्दी विकराल रूप धारण कर लेगा. सज़ग रहे , सतर्क रहें mansukhmandviya MoHFW_INDIA