प्रशांत किशोर, ममता बनर्जी, बिहार न्यूज, पटना न्यूज, केसी त्यागी, नीतीश कुमार, Bihar News, Prashant Kishor, Nitish Kumar, Kc Tyagi, Jdu, Mamta Bannerjee, Tmc

प्रशांत किशोर, ममता बनर्जी

बिहार: BJP से अलग होने के बहाने ढूंढ रहे हैं नीतीश कुमार!– News18 हिंदी

बिहार: BJP से अलग होने के बहाने ढूंढ रहे हैं नीतीश कुमार!

6/8/2019

बिहार: BJP से अलग होने के बहाने ढूंढ रहे हैं नीतीश कुमार !

जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर की कम्पनी I-PAC अब पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी के लिए सेवा देने जा रहे हैं. यह भी एक तथ्य है कि ये फैसला लेने से पहले प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार से दो बार मुलाकात की थी. जिस तरह से जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने प्रशांत किशोर के फैसले के समर्थन दिया है, इससे जाहिर है कि नीतीश कुमार ने ही इसके लिए परमिशन दी है. यह भी साफ है कि पश्चिम बंगाल में पीके बीजेपी के खिलाफ रणनीति बनाएंगे. अब सवाल उठ रहा है कि आखिर जेडीयू अपने ही पार्टी के नेता को बीजेपी के खिलाफ रणनीति बनाने के लिए क्यों आगे कर रहे हैं?

केसी त्यागी ने प्रशांत किशोर के फैसले का समर्थन किया

वरिष्ठ पत्रकार अरुण अशेष कहते हैं कि फिलहाल नीतीश कुमार 'वेट एंड वॉच' की नीति पर चल रहे हैं, लेकिन उन्हें पता है कि आने वाले समय में बिहार विधानसभा चुनाव में उनकी राजनीतिक ताकत अधिक कारगर साबित हो सकती है.

दरअसल, नीतीश कुमार को मालूम है कि वर्तमान केंद्र सरकार कश्मीर में अनुच्छेद-370, 35 ए और राम मंदिर निर्माण जैसे मुद्दों से पीछे नहीं हटने वाली है. ऐसे में केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं होने की नीति यही बताती है कि मोदी सरकार अगर इस ओर आगे बढ़ती है तो वह अलग राह पकड़ सकते हैं.

बोले केसी त्यागी- ममता के लिए काम करने में कोई बुराई नहीं, BSNL की तरह काम करती है PK की कम्पनी

वहीं, बीजेपी यह जानती है कि जेडीयू भी अब पहले जैसी विश्वसनीय घटक नहीं रह गई है. बावजूद इसके पार्टी जेडीयू के लिए हर फ्रंट नहीं खोलना चाहती है. हालांकि, नीतीश कुमार ने भी मांझी से नजदीकियां बढ़ाकर और बिहार मंत्रिपरिषद विस्तार में 75 प्रतिशत अति-पिछड़े, पिछड़े और दलितों को हिस्सेदारी देकर अपनी नीति स्पष्ट कर दी है.

और पढो: News18 India

बीजेपी से अलग होने के लिए बहाना ढूंढने की क्या जरूरत है इच्छा है तो अलग हो जाए बीजेपी बीजेपी के सेहत पर क्या असर पढ़ने को है इसमे बहाना ढूढ़ने की क्या जरूरत है ? राज्यपाल से मिलकर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे और बिधानसभा भंग कर दुबारा चुनाव करवा लें ! भ्रम टूट जाएगा और दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा |

लालू जैसा हाल हो जाएगा Prashant Kishore will miserably fail in WB . विनाशकाले विपरीत बुद्धि।। Your bad day is coming Nitish Kumar . Mai abhi kahta bihar me nitish k alave koi nahi .alag ho ya sath. Evm choro ki kya aukat bihar ki sociel engineering ki samajh unhe nahi hai. Pahle alag ladkar 54 seat paye the isbar usse bhi kam payenge .agar imandari se lade beiman log .

पलटू राम Nitish, the time pass CM. He has no interest in development. He has only interest in saving his chief ministerial post. PaltuRam अब सुशासन बाबू को बहाने ढूंढते ढूंढते कहीं देर न हो जाए । BJP4India gave 1 ministerial Berth as indicative to all its coalition partner , 2mp coalition partner get 1 berth ,16-17mp coalition also get 1 ministerial berth!!! It’s strongly a big brother approach.. NitishKumar must and definitely protect Bihar interest..

दंगल: कश्मीर में मजहब की आड़ में आतंकराष्ट्रवाद के नाम पर चुन कर आई नई सरकार के लिए कश्मीर कितनी बड़ी चुनौती है, आज इसकी एक तस्वीर सामने आई. तस्वीर कल की है, ईद के दिन की जब कुलगाम की एक मस्जिद में तीन आतंकियों ने पिस्तौल लहरायी और वहां मौजूद लोगों के सामने तकरीर की. ये तीनों आतंकी लश्कर-ए-तैयबा के साथ जुड़े बताए गए हैं, इन आतंकियों ने वहां पहुंचकर लोगों को धमकाया. एक-एक कर मारे जा रहे आतंकियों को लेकर लोगों पर मुखबिरी का शक जताया और इसके बाद वहां पैसे इकट्ठे किए. वैसे तो पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है, लेकिन ईद के दिन आतंक फैलाने के लिए मस्जिद का इस्तेमाल करना - अपने आप में बेहद खतरनाक संकेत देता है. कश्मीर में मजहब के नाम पर आतंक फैलाने की कोशिशें पहले भी सामने आई हैं. हाल ही में मारे गए जाकिर मूसा के पिता ने उसकी मौत के बाद कहा कि ये लड़ाई अल्लाह के नाम पर हो रही है. साफ है कश्मीरियत की आड़ में कश्मीर में आतंकवाद का जो खेल शुरू हुआ था उसका असली चेहरा अब सामने आ गया. सवाल ये है कि अमित शाह की अगुवाई वाला गृह मंत्रालय क्या इस हालात से निपटने के लिए क्या करेगा? sardanarohit 100 करोड़ की स्कॉलरशिप देकर 800 करोड़ की हज सब्सिडी बन्द कर दी खैर तुम लोग मोदी को क्या समझोगे....😂 sardanarohit तो कराइए ना हिन्दू मुस्लिम क्या दिक्कत आ रही है TRP चली गई क्या ? sardanarohit रोहित भाई जी आजतक में इतनी रात को बैठ के ट्वीट को करता है?🤔🤔🤔

वापस जाकर बिहार के पप्पू तेजस्वी को सुतिया बनायेगा या अपने दम पर विधानसभा चुनाव लडेंगें To nitin ki bhais gayi pani main kick him out...he is as hopeless as chander Babu Naidu नीतिश ना तो पलायन रोक सके।ना हि शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार उपल्वद्ध करा सके। बिहार मे नीतीन गडकरी जैसा व्यक्ति मुख्यमंत्री बने,जिन्होने नागपुर का कायाकल्प कर दिया।

मौकापरस्ती अभी भी बची है खून में चचा पलटू कुछ भी कर सकता है भजपा बस धोखे के लिए तैयार रहे! Nitish Ji, BJP se alag hona hi ek maatrr vikalup नीतीशजी पहले लोककल्याणकारी कार्यो पर ध्यान दे।बिहार में 32 वर्षो पुरानी समंजन की चतुर्थ चरण के अंगीभूत कालेज की समस्या का समाधान करे।12 वर्षो से सैकड़ो का भुगतान रोक दिया गया है।जबकि न्यायदेश भी उनके पक्ष में है। शिक्षा विभाग में ऐसी अनेक समस्या है।

इस बात पर तो उसी दिन शक हो गया.था.जब उन्होंने धारा ३७० का समर्थन न करने का ऐलान कर दिया था। VivekKu900 Vagao inko.

भारत-पाकिस्तान के रिश्ते फिर से हो रहे सामान्य, जानें कैसे– News18 हिंदीदेश में फिर से नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद भारत-पाकिस्तान के रिश्ते सामान्य होने शुरू हो गए हैं. इसी कड़ी में ईद के मौके पर बीएसएफ एवं पाक रेंजर्स के बीच मिठाई का आदान- प्रदान किया गया. पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान में जंग जैसे हालात हो गए थे. बॉर्डर पर कई जगहों पर जंग के लिए दोनों की ओर से सेना तैनात की गई थी. जिस तरीके से भारत ने पाकिस्तान को पुलवामा हमले का करारा जवाब दिया था उसके बाद एक तरीके से पाकिस्तान के साथ रिश्तों में ठहराव सा आ गया था. पाकिस्तान के कई बार भारत से बातचीत करने की कोशिश की लेकिन भारत की ओर से पाकिस्तान को साफ संदेश दिया गया कि जब तक आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान कड़े कदम नहीं उठाएगा तब तक बातचीत नहीं होगी. Ab toh ye hoga he , Bharat me LS Election Jo ho gye . सामान्य तो होना ही है क्योंकि अभी चुनाव नहीं है । दुश्मन पर भरोसा करना खुद को धोखा देने जैसा है

बीजेपी का काटा पानी भी नहीं मांगता ☝️😂 हां हां एक बार जोर आजमाइश को ही जाए इस बार नीतीश को अपनी औकात पता चल जाएगा । Jogaram20473208 चुनावों में हर जीत व हर हार पर अपने राजनीति के समीकरण बदलते रहते है नीतीश कुमार, अपनी राजनीति महत्वकांशा पाने लियें....परदे के पिछे बडा़ पद पाने का इरादा अपने मन में छिपाये है ....

अलग हो जाए । नारा लगाने हम भी आएंगे की DNA में फिर से वायरस घुस गया है । 😀😀 Mamla Ulta hai. Bihar me Kisi se baat Kar leejeeye Vote Modi ko meela hai. AKELE Nitish ab 10-15 % ke neta reh Gaye Hain. Apne dum par 2 bhee Lana mushkil thaa ees Baar. Unhe is baat Ka aabhas hai ki BJP barabar seats par ladegi aur jyada seats jitegi to agle CM ki demand karegi

मोदीजी की वजह से औकात से अधिक सीटों पर आ गए हैं, इसलिए यह शोर मचा रहे हैं BJP se Alag hone se Nitishji khatma Ho jayenge... BJP +JDU+Paswan =100% Isme BJP=65% JDU=25% Paswan=10% Himmat he to Sab Party Alag Alag ladh k dekh le dudh ka dudh pani ka Pani hojayega हम मोदीसरकार के बचाव में कोई कोर-कसर नही छोडेंगे पिछले ५ सालों की तरह ही क्योकि हमने पतरकारिता की नही पक्षकारिता की शपथ खारक्खी है मुकेश अंबानी की -- न्यूज १८ चैनल के भोपू रिपोर्टर

नीतीश कुमार का भाजपा से अलग होने का विचार राजनीतिक आत्मदाह करने जैसा होगा

भारत में खाना यानी मौत का निवाला...हर साल 15 लाख लोगों की जाती है जानभारत में हर साल करीब 15.73 लाख लोग खराब खाने (फूड पॉयजनिंग) से मारे जाते हैं. खराब खाने से मौत के मामले में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 2008 से 2017 के बीच फूड पॉयजनिंग एक नए प्रकोप की तरह फैला है. यह अब भी फैल रहा है. 2008 से 2017 के बीच फूड पॉयजनिंग के 2867 मामले आए जो डायरिया के 4361 मामलों से अलग हैं. Quality of food products sold in India needs lot of improvement & checking for quality,most urgent for the health of millions. Tum Media wale ko dalali karne see fursat mile tab na desh k bare me sonchoge If from 2008 to 2017 there are less than 3000 cases how can someone come to conclusion 15 lac per annum are dying

बहाने तो 1 धुन्ड़ो 1000 मिलेंगे । अब देश में सिर्फ राष्ट्रवाद ही चलेगा। कुछ लोग बस देश के लिए नहीं अपना पेट भरने की सोचते हैं। अरे आपको तो मोदी जी के नेतृत्व का समर्थन करना चाहिए अब वो जरूरी नहीं की मंत्री पद मिले तभी करेंगें।

मानसून अपडेट : केरल के तटीय इलाकों में मानसून की दस्तक, भारी बारिश की चेतावनीमानसून ने 8 दिन की देरी के बाद आज केरल के तटीय इलाकों में दस्तक दे दी है। आमतौर पर यह 1 जून को केरल से टकराता है। मानसून श्रीलंका को कवर करने के बाद भारत की तरफ मुड़ गया है। मानसून अगले 24 घंटे में पूर्वोत्तर के त्रिपुरा में दस्तक दे सकता है। इस साल 96 प्रतिशत बारिश की संभावना जाहिर की गई है। केरल सरकार ने 4 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है।

महंगी हो सकती है प्याज, गर्मी और सूखे की वजह से दाम बढ़ने की संभावनाOnion prices may rise due to rising heat and drought: बढ़ता तापमान और सूखा पड़ने की आशंका के बीच प्याज के दाम आसमान छू सकते हैं। महाराष्ट्र और दक्षिण भारत में अत्यधिक गर्मी पड़ रही है और पिछले साल की ही तरह यहां सूखे जैसे हालात हो गए हैं। इन क्षेत्रों से देश के कुल प्याज उत्पादन का 60 फीसदी आता है। इन क्षेत्रों में गर्मी के प्रकोप के चलते प्याज की पैदावार प्रभावित होने की आशंका है, जिससे प्याज के दाम बढ़ सकते हैं।

बिहार: RJD में गहरी हुई लीडरशिप क्राइसिस! लालू यादव से मिलेंगे तीन बड़े नेता– News18 हिंदीलोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद आरजेडी सदमे से उबर नहीं पाई है. वहीं पार्टी के नेता तेजस्वी यादव की गैर मौजूदगी से पार्टी के भीतर खलबली है. हार के बाद जिस तरह से तेजस्वी यादव ने हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर नहीं ली और जिस तरह से आरजेडी अब नेतृत्वहीनता की शिकार बनती जा रही है, इसलिए तीन बड़े नेता शनिवार को रांची लालू प्रसाद यादव से मिलने रांची जा रहे हैं. Lalu era is on the verge of extinction. laluprasadrjd No one can stop this.

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

08 जून 2019, शनिवार समाचार

पिछली खबर

ICC World Cup : ये महान खिलाड़ी बोला-भारत के इस हथियार से बचकर रहे ऑस्ट्रेलिया– News18 हिंदी

अगली खबर

केरल: आतंकी संगठन IS की ओर बढ़ रहा झुकाव? इंजिनियर दंपती ने किया जॉइन-Navbharat Times
ICC World Cup : ये महान खिलाड़ी बोला-भारत के इस हथियार से बचकर रहे ऑस्ट्रेलिया– News18 हिंदी केरल: आतंकी संगठन IS की ओर बढ़ रहा झुकाव? इंजिनियर दंपती ने किया जॉइन-Navbharat Times