बालाकोट एयरस्ट्राइक की राजनीति पर क्या सोचता है ‘फ़ौजियों का गांव’?

लोकसभा चुनाव 2019: बालाकोट एयरस्ट्राइक की राजनीति पर क्या सोचता है ‘फौजियों का गांव’?

16.5.2019

लोकसभा चुनाव 2019: बालाकोट एयरस्ट्राइक की राजनीति पर क्या सोचता है ‘फौजियों का गांव’?

ग़ाज़ीपुर के गहमर गांव में लगभग हर परिवार से लोग सुरक्षाबलों में हैं या पहले रहे हैं. सेना के राजनीतिकरण के आरोपों पर यहां के पूर्व सैनिक क्या सोचते हैं?

"पहला वोट आपका जो आपके जीवन की ऐतिहासिक घड़ी है. क्या आपका पहला वोट पाकिस्तान के बालाकोट में एयरस्ट्राइक करने वाले वीर जवानों के नाम समर्पित हो सकता है क्या? मैं मेरे फर्स्ट टाइम वोटर से कहना चाहता हूं कि आपका पहला वोट पुलवामा के वीर शहीदों के नाम समर्पित हो सकता है क्या." - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, 8 अप्रैल को महाराष्ट्र के लातूर में

लेकिन इस बारे में भारत के पूर्व सैनिक क्या सोचते हैं? क्या उन्हें लगता है कि सेना को राजनीतिक प्रक्रिया का हिस्सा बनाने की कोशिश हुई है?

गहमर की गिनती एशिया की सबसे बड़ी आबादी वाले गांवों में होती है. स्थानीय लोग यहां की आबादी एक लाख से अधिक बताते हैं.

यहां एक पूर्व सैनिक सेवा समिति का दफ़्तर है, जिसके भवन निर्माण में भाजपा सांसद मनोज सिन्हा और मौजूदा बसपा प्रत्याशी अफ़ज़ाल अंसारी दोनों ने आर्थिक मदद की थी.

14 मई की शाम यहां कई पूर्व सैनिकों और सैनिकों के परिवार के लोगों से बात हुई. यहां सेवानिवृत्त जीवन में भी सेना के कुछ बुनियादी नियमों का पालन किया जाता है. मसलन, पूर्व सिपाही ख़ुद से वरिष्ठ पद पर रहे सैन्यकर्मियों को 'साहब' कहकर संबोधित करते हैं.

महेंद्र प्रताप सिंह मानते हैं कि यूपीए सरकार में हुए मुंबई हमलों के समय भी ऐसे हालात थे लेकिन उस वक़्त की सरकार ने कार्रवाई के आदेश नहीं दिए थे.

लेकिन 1978 से 1995 तक आर्मी मेडिकल कॉर्प्स में रहे शिवानंद सिंह की राय अलग है.

यह पूछने पर वो कहते हैं,"हर शासनकाल में सेना को जो मिशन मिलता है, सेना पूरा करती है. ऐसा नहीं है कि भाजपा का शासन है, तभी एक्शन हो रहा है. ये एक्शन सबके समय में हुआ है. सेना को इस राजनीतिक प्रक्रिया में लाना ग़लत है."

रिटायर हो चुके वीरबहादुर सिंह भी सेना में रहे हैं. वह एक क़दम आगे बढ़कर कहते हैं,"शहीदों के नाम पर वोट मांगने की परंपरा नई है और मैं कहूंगा कि ये सराहनीय परंपरा है."

लेकिन विमलेश सिंह कहते हैं कि सेना के राजनीतिकरण से वो आहत महसूस करते हैं.

हरियाणा: मोदी से क्यों इतने नाराज़ हैं पूर्व फ़ौजी?

चुनावी बैनरों पर शहीदों की तस्वीरों या ज़िक्र के इस्तेमाल पर वह कहते हैं,"शहीदों को नमन तो कोई भी कर सकता है."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कर्नाटक की अपनी रैलियों में इस बयान के हवाले से कुमारस्वामी पर हमला कर चुके हैं. हालांकि बाद में कुमारस्वामी ने अपनी सफ़ाई में कहा था कि वह सिर्फ़ ऐसे परिवारों की आर्थिक स्थिति की ओर इशारा कर रहे थे और वो किसी का अपमान नहीं करना चाहते थे.

आदित्य सिंह मानते हैं कि विपक्ष ने कोई एयरस्ट्राइक की गई- इसे ही मानने से इनकार कर दिया गया.

क्या ऐसा माहौल बनाया गया कि एयरस्ट्राइक के बाद प्रधानमंत्री की प्रशंसा न करने वाले देशद्रोही हैं?

इसके बाद वो मुस्कुराकर कहने लगे,"यहां भाजपाइयों के बीच ये बात कहकर मैं अपनी जान का जोखिम ले रहा हूं. ज़्यादा मत बुलवाइए. जान से मार देगा सब."

और पढो: BBC News Hindi

ANI dna YearOfRat TajinderBagga I think BBC is here in India to cover ONLY NEWS.. But when ever we read they are always out of their boundaries. Who will check them and show them there limits? PMOIndia क्या भारत की 'सत्ता' फिर से नरेंद्र मोदी अमित शाह ब्राह्मण वादियों भगवाधारी माफियाओं के हाथों में जा रही है

congress ke paltu ho tm log.

हरियाणा के गांव भाकली के लोग मतदान नहीं करने पर अड़े, जानिये वजह दिल्ली से सटे हरियाणा के गांव भाकली के ग्रामीणों लोकसभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार किया है। उनकी मांग नहीं मानने पर ग्रामीणों ने मतदान के बहिष्कार का अपना फैसला कायम रखा है। ElectionsWithJagran MeraPowerVote LokSabhaElections2019 Phase6 narendramodi_in.amitshah. आज लोगो को अपना गुस्सा वोट न देने में नहीं निकालना चाहिए।शत प्रतिशत वोट करने से सरकारी कर्मचारी व नेता जनता से डरेंगे। जो सरकारी कर्मचारी व नेता जो जनता की समस्याओं को नजर अंदाज करते है । जिस दिन से जनता 90 प्रतिशत से अधिक वोट करेगी।परिणाम सुखद होंगे।

दलित की बारात रोकने के लिए ऊंची जाति के लोगों ने किया रोड जाम, सड़क पर करने लगे भजन और यज्ञ वहीं एक अन्य घटना के मुताबिक गुजरात के साबरकांठा जिले के एक गांव में एक दलित दूल्हे की बारात को रविवार को उस वक्त पुलिस सुरक्षा मुहैया करानी पड़ी, जब ठाकोर समुदाय के सदस्यों ने उसके एक स्थानीय मंदिर में पूजा करने पर आपत्ति जताई. हालांकि, पुलिस ने कहा कि बारात शांतिपूर्ण तरीके से गुजर गई. ग्रामीण भीखाभाई वानिया ने कहा कि अनिल राठौड़ के परिवार ने उस वक्त पुलिस सुरक्षा की मांग की, जब सितवडा गांव के ठाकोर समुदाय के सदस्यों ने शनिवार को बारात के गांव से गुजरने और दूल्हे के मंदिर में पूजा करने की योजना पर आपत्ति जताई. सबका साथ सबका विकास ये हे गुजरात मॉडल Suruaat to ho gye hay par ant bda byanak hoga डिवाइडर इन चीफ का हिसाब-किताब ।

300 सीटों के दावे पर बोले शत्रुघ्न सिन्हा- कुछ सीटें चोर बाजार से भी खरीद लें PM पटना साहिब अरसे से बीजेपी की परंपरागत सीट रही है, इसलिए बीजेपी को भरोसा है कि 'शत्रु' के हाथ जीत नहीं लगने वाली. बिहार की पटना साहिब लोकसभा सीट पर इस बार राज्य की ही नहीं बल्कि पूरे देश की नजर है. EVM है न 🙂 जैसे कांग्रेस वालों ने तेरे जैसा कबाड़ खरीदा आप भी अपने लिए वोट चोर बाजार से ही खरीदेंगे चारा चोर आपकी मदद करेगा

श्रीलंका हमले के आरोपी पर बड़ा खुलासा, रह चुका है भारतीय एजेंसियों के रडार पर श्रीलंका में ईस्टर पर हुए सिलसिलेवार धमाके का मुख्य आरोपी आदिल अमीज को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. आदिल भारतीय खुफिया एजेंसियों के रडार पर रह चुका है. सारी दुनिया में आतंकवाद का धर्म पता चल चुका है पर भारत में कुछ हिंदुओं की मती क्यों मारी हुई है ।

3 साल की बच्ची के रेप में आरोपी के परिवार को गांव छोड़ने को कहा पड़ोसियों ने कश्मीर में 3 साल की बच्चे से रेप के लिए आरोपी और उसके परिवार वालों को जिम्मेदार ठहराया। साथ ही, उन्हें गांव छोड़कर जाने के लिए कहा है।

झारखंड के इस गांव से भारतीय हॉकी के लिए ख़ुशख़बरी है... झारखंड के सुदूर गांव से राष्ट्रीय खेल के लिए ख़ुशख़बरी है... झारखंड सिमडेगा हॉकी Jharkhand Simdega Hockey

पुरुलिया: फिर आया चुनाव, अजीब डर के साथ रातभर पहरेदारी करते हैं इस गांव के लोग-Navbharat Times लोकसभा चुनाव 2019 न्यूज़: लोकसभा चुनाव के छठे चरण के तहत 12 मई को पुरुलिया में होने वाले मतदान से पहले त्रिलोचन के भाई विवेकानंद ने कहा, 'त्रिलोचन की हत्या के साल भर बाद भी कुछ नहीं बदला है...। एक बार फिर से चुनाव हैं, हम डरे सहमे हुए हैं।'

दिग्विजय के समर्थन में कंप्यूटर बाबा के धूनी रमाने पर जांच के आदेश– News18 हिंदी मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के समर्थन में धूनी रमाने वाले कंप्यूटर बाबा मुश्किल में पड़ते नजर आ रहे हैं. दरअसल, बीजेपी की शिकायत पर निर्वाचन आयोग ने कंप्यूटर बाबा के खिलाफ हठ योग और धूनी रमाने के मामले की जांच शुरू कर दी है INCIndia aise karegi desh kaa Vikas? कम्प्युटर बाबा..😃😃 cpu बाबा..monitor बाबा..keybordबाबा.. Alu बाबा..😀😀😀 धर्म हो या अधर्म ही चुनाव धर्म सर्वोपरी अब कांग्रेस को कोई नही बचा सकता इतिहास गवाह है कांग्रेस हिन्दू विरोधी है थे और रहेंगे ।

गांव का नाम है चोरपुरा : शादी में दिक्कत, पढ़ाई में परेशानी; नाम न बदलने पर वोट न देने की धमकी राजस्थान में धौलपुर जिले के चोरपुरा गांव के लोग अपने गांव का नाम बदलना चाहते है। गांव के नाम की वजह से कहीं बाहर जाते है तो बड़ी शर्मिंदगी महसूस होती है। जनता की ताकत ही नेता की ताकत होती है…

अमित शाह के कोलकाता रोड शो में हिंसा: TMC ने मांगा EC से समय तो BJP बोली- ममता के प्रचार पर लगे बैन, 10 बड़ी बातें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के मंगलवार को कोलकाता में हुए विशाल रोड शो के दौरान भाजपा और तृणमूल कांग्रेस (TMC) समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुईं. हालांकि शाह को किसी तरह की चोट नहीं आई और पुलिस उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले गई. अधिकारियों ने बताया कि शहर के कुछ हिस्सों में हिंसा भड़क उठी जब विद्यासागर कॉलेज के भीतर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने शाह के काफिले पर पथराव किया, जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई. गुस्साए भाजपा (BJP) समर्थकों ने भी उसी तरह प्रतिक्रिया दी और कॉलेज के प्रवेशद्वार के बाहर टीएमसी प्रतिद्वंद्वियों के साथ मारपीट करते नजर आए. बाहर खड़ी कई मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया गया. ईश्वर चंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा भी झड़प के दौरान तोड़ दी गई. पुलिसकर्मी पानी भरी बाल्टियों से आग बुझाने की कोशिश करते देखे गए. रोडशो के लिए तैनात किए गए कोलकाता पुलिस (Kolkata Police) के दस्ते ने तुरंत हरकत में आते हुए इन समूहों का पीछा किया. ये सच है कि एसी तस्वीर किसी और राज्य की होती तो देश असुरक्षित क़रार दे दिया जाता। भारत छोड़ने की इच्छा प्रकट करने वालों की क़तारें लग गई होती। लोकतंत्र चूर चूर हो गया होता। भला लोकतंत्र की दो परिभाषा कैसे हो सकती है? BAN MAMTA FROM CAMPAIGN IMMEDIATELY पिक्चर में साफ़ साफ़ दीख रहा है कि भगवा कलर की कमीज़ पहने भाजपा के गुंडे पत्थरों से लाठी/डंडों से हमला कर रहे हैं...

दिल्ली के साथ यूपी के नोएडा के लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी, जेवर तक चलेगी मेट्रो कमाई के लिहाज से घाटे का सौदा होने के बावजूद दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन ने जेवर एयरपोर्ट मेट्रो के लिए संस्तुति की है। Very good 👍

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

16 मई 2019, गुरुवार समाचार

पिछली खबर

सबसे गरीब उम्मीदवारों में शामिल है यह अभिनेता, पास है सिर्फ 1000, इस तरह लड़ रहा है चुनाव

अगली खबर

आईएसआई ने करीब 40 घंटे तक विंग कमांडर अभिनंदन को किया था टॉर्चर-Navbharat Times
सबसे गरीब उम्मीदवारों में शामिल है यह अभिनेता, पास है सिर्फ 1000, इस तरह लड़ रहा है चुनाव आईएसआई ने करीब 40 घंटे तक विंग कमांडर अभिनंदन को किया था टॉर्चर-Navbharat Times