बांग्लादेश में मंदिरों पर हमले के बाद डर के साए में जीते हिंदू - BBC News हिंदी

बांग्लादेश में मंदिरों पर हमले के बाद डर के साए में जीते हिंदू

26-10-2021 15:33:00

बांग्लादेश में मंदिरों पर हमले के बाद डर के साए में जीते हिंदू

बांग्लादेश में सिलसिलेवार तरीक़े से अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के ख़िलाफ़ शुरू हुई हिंसा अब थम गई है लेकिन वहां पर हिंदू अभी भी डर के साए में जी रहे हैं.

धार्मिक हिंसा का इतिहाससाल 1947 में ब्रिटिश इंडिया का जब भारत और पाकिस्तान के रूप में बंटवारा हुआ तो तब से इस उप-महाद्वीप में धार्मिक हिंसा का एक लंबा इतिहास रहा है.1971 में बांग्लादेश जो कि पूर्वी पाकिस्तान के नाम से जाना जाता था उसको एक ख़ूनी युद्ध के बाद पाकिस्तान से स्वतंत्रता मिली. भारत ने स्वतंत्रता के लिए बांग्लादेश युद्ध में अपना समर्थन देने के लिए अपने सुरक्षाबल वहां भेजे. दक्षिण एशिया पर आज भी बंटवारों की परछाईं मौजूद है.

मन की बात LIVE: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद मत दीजिए, मैं हमेशा सेवा में जुटा रहना चाहता हूं त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi Delimitation : परिसीमन का प्रारूप तैयार, जम्मू संभाग की सात और सीटें बढ़ेंगी

बांग्लादेश के हिंदू, बुद्धिस्ट एंड क्रिस्चियन यूनिटी काउंसिल के महासचिव राणा दासगुप्ता कहते हैं, "बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के ख़िलाफ़ हमले दशकों में व्यवस्थित तरीक़े से होने लगे हैं.""बांग्लादेश में हिंदू घरों और ज़मीनों को साज़िश के तहत छीनने की और उन्हें जबरन देश छुड़वाने की कोशिशें हो रही हैं."

हिंदू समुदाय के नेताओं का कहना है कि 1947 में उनकी तादाद 30% थी जो अब 9% ही रह गई है. अधिकतर लोग भागकर भारत चले गए थे.मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि बांग्लादेश की सरकारें धार्मिक अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ लगातार हमलों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने में नाकाम रही हैं. headtopics.com

इमेज स्रोत,Getty Imagesइमेज कैप्शन,हिंसा के बाद हथियारबंद पुलिस हिंदू मंदिरों की रक्षा कर रही है.एमनेस्टी इंटरनेशनल के साउथ एशिया कैंपेनर साथ हम्मादी कहते हैं, "उचित जांच की कमी न केवल एक तरह की प्रक्रिया को दिखाता है बल्कि अल्पसंख्यकों के सुरक्षा की जब बात आती है तो यह लापरवाही को भी उजागर करता है."

"लगातार होती सांप्रदायिक हिंसा के लिए सज़ा न मिलना और प्रभावी उपायों को न उठाना अहम वजह है."बांग्लादेश के क़ानून मंत्री अनीसुल हक़ इस बात को ख़ारिज करते हैं कि अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ हमलों की जांच में कोई प्रगति नहीं हो रही है.हक़ बीबीसी से कहते हैं, "सभी घटनाओं की जांच की जा रही है. इन जैसे मामलों में थोड़ा वक़्त लगता है. जितना संभव हो सकता है हम उतनी तेज़ी से जांच की रफ़्तार बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं."

उन्होंने इन आलोचनाओं को भी ख़ारिज किया कि सरकार इस्लामी कट्टरपंथियों को शह दे रही है."इस तरह की कोई भी धारणा सही नहीं है. हम सभी धर्मों के सदस्यों के साथ सौहार्दपूर्ण ढंग से रहना चाहते हैं."वीडियो कैप्शन,हिंदू पूजा स्थलों पर सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए, लेकिन लोग डरे हुए हैं.

कुछ लोगों का यह भी कहना है कि सीमा पार भारत में बीजेपी के शासन के बाद मुस्लिम विरोधी भावनाओं के बढ़ने की वजह से बांग्लादेश के कट्टरपंथी मुस्लिमों में ग़ुस्सा है.बीजेपी ने बांग्लादेश के घुसपैठियों के ख़तरे का मुद्दा भी उठाया था जिसके कारण ढाका में ग़ुस्सा है और भारत के हिंदू कट्टरपंथियों का कहना है कि प्रवासियों को बांग्लादेश निर्वासित कर दिया जाना चाहिए. headtopics.com

सऊदी अरब पाकिस्तान की करेगा मदद, उसके बैंक में रखेगा अरबों डॉलर और देगा तेल - BBC News हिंदी कोरोना के इलाज के नाम पर भारत के लोग कितना क़र्ज़ में डूबे? - BBC News हिंदी LIVE: मन की बात में बोले पीएम मोदी- प्रकृति का संरक्षण करो वो हमें मां की तरह संरक्षण देगी

अर्थशास्त्री भट्टाचार्य कहते हैं, "भारत में धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ जिस तरह का व्यव्हार हो रहा है वो दुर्भाग्यपूर्ण है. बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ अत्याचार करने के लिए भी इस बहाने का भी इस्तेमाल किया जा रहा है."वो कहते हैं, "लेकिन यह हर सरकार की ज़िम्मेदारी है कि वो अपने सभी नागरिकों के साथ सही तरह से व्यवहार करे और उनके अधिकारों की और उनकी रक्षा करे."

ढाका से इस रिपोर्ट में सलमान सईद ने योगदान दिया. और पढो: BBC News Hindi »

Purvanchal Expressway से BJP की चुनावी गाड़ी पकड़ेगी रफ्तार? Sultanpur से देखें बुलेट रिपोर्टर

सुल्तानपुर के आसमान में भारतीय वायुसेना के गरजते विमानों की दहाड़ बहुत दूर तक सुनाई दे रही है. पूर्वांचल की धरती का बहुत खास सियासी पड़ाव है सुल्तानपुर. यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना के हरक्यूलिस विमान से उतरे और पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया. समझने वाले समझ ही गए होंगे कि कहां निगाहें हैं, कहां निशाना है. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के इस लोकार्पण से बीजेपी भी उम्मीद कर रही है कि उसकी चुनावी गाड़ी भी इस बहाने रफ्तार पकड़ेगी. तो जनता की नब्ज पकड़ने के लिए हमारी संवाददाता चित्रा त्रिपाठी की बुलेट भी यहां की ओर दौड़ पड़ी. देखिए बुलेट रिपोर्टर का ये एपिसोड.

बांग्लादेश पर बहुत हल्ला चिल्ला कर रहे थे मंदिर पर अभी तो त्रिपुरा इंडिया में हो रहा है मस्जिद पर हमला तो अब क्यों खामोश🤔 बजरंग दल, हिंदू सेना, करणी सेना को भेजो। वही है हिंदू हितों के ठेकेदार। क्योंकि आम हिंदू को तो इस महंगाई के दौर में कड़की से जिंदगी की गाड़ी चलाने का सर्कस जो करना है। यह सब चरखासुर की करतूत है। चरखासुर और उसके तीन बंदरों के कारण आज हिंदू समाज भुगत रहा है। ऐसे ही गोडसे की पूजा नहीं की जाती है।

बांग्लादेश सुनोयोजित तरीके से हिंदुओ की हत्या कर रहा है और सब चुप है।😡 पाकिस्तान की जीत की खुशी मनाने वाले निसंदेह देशद्रोही है पाक के साथ मैच करवाने वाले क्या है देशद्रोहीयों_के_बाप बांग्लादेश पाकिस्तान अफगानिस्तान जब चाहे हिंदुओं पर हमला होते रहते हैं इस मामले में कोई कुछ नहीं बोलता भारत में कुछ भी हो अल्पसंख्यक पहाड़ टूट पड़ता है

Ye dar ke saye me hi...jiyenge बीबीसी सिर्फ हिन्दू मुस्लिम की खबर चला रहा है यहा खुद भारत में डर बना हुआ है. Kasmir और अन्य हिस्सों में वहा से भी हालात खराब है Bangladesh ke pradnmantri se hum apeel karte hai jistrha hindustan mein muslim ke sath bjp government insaf kar rahi hai bilkul ushi trha Bangladesh ke Hindu family ko insaf milna chahiye.. 🤷🤷🤷🤷🤷

और भारत में केया है

यूपी में आज भी बारिश के संकेत, दिल्ली में पारा गिरने से ठंड बढ़ने के आसारDelhi Cold Weather : यूपी के पहासू, डिबाई, नरौरा, गभाना, अतरौली, अलीगढ़ में भी अगले कुछ घंटों में बारिश का अनुमान मौसम विभाग ने जताया था.  वहीं दिल्ली में बरसात के कारण सर्दी ने दस्तक दे दी है. अभी तो यूपी में मौसम बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा है बारीस का कोई आसार नहीं दिख रहा है कड़वा चौथ वाले दिन ऐसा 70 साल में पहली बार हुआ है हर दुकानदार छोटे मोटे व्यापारी का नुकसान Acha humko toh pata he nahi tha

Call the great man who having 56 inches Anti-Muslim violence across Tripura, a northeast Indian state following Bangladesh violence Series of violent attacks by large Hindutva groups continue to target different mosques, houses and shops of Muslims in Tripura. Here is what we know so far Why it is happening in Bangladesh and Pakistan, is there no human rights and other laws made for this. Only Hindustan have the regressed law to punish Hindus. Why not the same ther kaum.

What about tripura

दो दिन के अंदर इन दो IPO में निवेश का मौका, जानें- कंपनियों के बारे मेंइस महीने के आखिरी हफ्ते में दो आईपीओ ओपन होने जा रहे हैं. पहला आईपीओ FSN ई-कॉमर्स वेंचर्स लिमिटेड के मालिकाना हक वाली कंपनी Nykaa का 28 अक्टूबर को खुलेगा, जबकि 29 अक्टूबर फिनो पेमेंट बैंक (Fino Payment Bank) का IPO ओपन होगा.

बंगाल में चुनाव-बाद हिंसा, बांग्लादेश में हुई सांप्रदायिक हिंसा का कारण: आरएसएसबांग्लादेश में दुर्गा पूजा समारोह के दौरान कुछ अज्ञात कट्टरपंथियों द्वारा पूजा पंडालों और एक दर्जन से ज्यादा हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ की गई थी और मूर्तियों को भी तोड़ा गया था। कुछ लोगों की हत्या भी कर दी गई थी। और मुखपत्र को ये बात सही लगी ?

सुप्रीम कोर्ट ने हत्या के एक मामले में 'गैरजरूरी' अपील के लिए उत्तराखंड सरकार को फटकाराशीर्ष अदालत ने उत्तराखंड सरकार द्वारा दाखिल याचिका को खारिज करते हुए चेतावनी दी कि गैरजरूरी याचिका दायर करने की कोशिश पर जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई। सर्वोच्च न्यायालय उत्तराखंड द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रहा था।

शाहीन शाह अफ़रीदी ऐसे बने भारत के ख़िलाफ़ मैच में पाकिस्तान के 'शहंशाह' - BBC News हिंदीभारत के ख़िलाफ़ मैच में पाकिस्तान के शाहीन अफ़रीदी ने टॉप ऑर्डर को काफ़ी परेशान किया और पाकिस्तान की जीत की आधारशिला रखी. 2014 के बाद सचमुच का विकास हुआ है पहले भारत के हारने पर टीवी टूटते थे और अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचता था अब शमी को गाली दो और विकास चालू सब चंगा सी Ab Bas Bhi Kar Dijiye Itna To Pak media bhi nahi dikha raha honga Jitna aap Dikhaye Jaa Rahe Hai. IndvsPak ghamand ki haar howee hai

152 रनों के लक्ष्य के जवाब में पाकिस्तान की सधी शुरुआत - BBC News हिंदीपाकिस्तान के टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाज़ी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही लेकिन कप्तान कोहली ने ज़िम्मेदारी वाली पारी खेली और टीम का कुल स्कोर 20 ओवर में 151/7 रहा.