Mamatabanerjee, Bengalviolence, Funeral Of Democracy İn Bengal, Bengal Violence Should Not Be Repeated, Other State To Be Affected, Need To Take Strict Steps, Mamata Banerjee Government

Mamatabanerjee, Bengalviolence

बंगाल में लोकतंत्र का जनाजा: बंगाल जैसी घटनाओं की किसी अन्य प्रदेश में न हो पुनरावृत्ति, सख्त कदम उठाने की आवश्यकता

बंगाल में लोकतंत्र का जनाजा: बंगाल जैसी घटनाओं की किसी अन्य प्रदेश में न हो पुनरावृत्ति, सख्त कदम उठाने की आवश्यकता #MamataBanerjee #BengalViolence

31-07-2021 05:23:00

बंगाल में लोकतंत्र का जनाजा: बंगाल जैसी घटनाओं की किसी अन्य प्रदेश में न हो पुनरावृत्ति, सख्त कदम उठाने की आवश्यकता MamataBanerjee BengalViolence

गाल की ममता बनर्जी सरकार भले ही एनएचआरसी की रिपोर्ट को खारिज करे परंतु इस संवैधानिक संस्था की रिपोर्ट को नकारा नहीं जा सकता। उसकी जांच टीम ने लिखा है कि बंगाल में विधि का शासन के बजाय शासक का विधान है।

यह बड़ी विडंबना है कि रवींद्रनाथ टैगोर के प्रदेश में, जहां प्रख्यात कवि ने यह कल्पना की थी कि मस्तक हमेशा ऊंचा रहेगा, मस्तिष्क भयमुक्त होगा और जहां समाज टुकड़ों में नहीं विभक्त होगा, उसी राज्य में हजारों लोगों के साथ हत्या, दुष्कर्म, पलायन और धमकी इत्यादि की घटनाएं पिछले कुछ महीने में हुई हों।’ इन शब्दों में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग यानी एनएचआरसी ने बंगाल में चुनाव बाद की हिंसक घटनाओं की जांच का निष्कर्ष निकाला है। विडंबना यह है कि ममता सरकार इस निष्कर्ष को सिरे से खारिज कर रही है। अभी दिल्ली आईं ममता बनर्जी ने चुनाव बाद हिंसा की घटनाओं को भाजपा का ड्रामा करार दिया। ज्ञात हो कि कलकत्ता हाई कोर्ट के आदेशानुसार एनएचआरसी ने बंगाल में चुनाव पश्चात हिंसा की घटनाओं की जांच के लिए एक समिति गठित की थी। समिति की सात टीमोंं ने बंगाल के सभी जनपदों का दौरा कर मामलों की गहराई से पड़ताल की। समिति को कुल 1,979 शिकायतें मिली थीं, जिनमें करीब 15,000 व्यक्ति प्रभावित हुए थे। जांच से जो तथ्य आए हैं, उन्हें किसी भी चश्मे से देखा जाए, वे अत्यंत भयावह हैं। देश में चुनावों के दौरान अनियमितताओं की शिकायत तो हम हमेशा से सुनते आए हैं, परंतु चुनाव परिणाम प्राप्त होने के बार्द ंहसा के लिए कुख्यात प्रदेशों में भी शांति हो जाती थी और लोग नई सत्ता को स्वीकार कर लेते थे। किसी ने पक्ष में वोट डाला हो या विपक्ष में, बाद में कोई मारपीट नहीं होती थी। इसके उलट बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों ने छांट-छांटकर उन लोगों के विरुद्ध हिंसात्मक कार्रवाई की, जिन्होंने अन्य पार्टी को वोट दिया।

राजस्व में कमी की भरपाई के लिए दूसरी छमाही में 5.03 लाख करोड़ रुपये का कर्ज लेगी सरकार यूपी : CM योगी ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग, जानें- किसको क्या मिला? नए राजपथ पर होगी अगले साल गंणतंत्र दिवस की परेड, तैयारियां जोरों पर

आपराधिक तत्वों ने सुनियोजित ढंंग से हिंसात्मक घटनाओं को दिया अंजाम: एनएचआरसी रिपोर्टएनएचआरसी की रिपोर्ट के अनुसार बहुत बड़ी संख्या में आपराधिक तत्वों, जिन्हें राज्य का संरक्षण प्राप्त था, ने सुनियोजित और व्यापक पैमाने पर हिंसात्मक घटनाओं को अंजाम दिया।’ प्रतिशोध की भावना से हिंसा हुई, जिसमें सत्तारूढ़ दल द्वारा मुख्य प्रतिस्पर्धी दल को निशाना बनाया गया, जिससे हजारों लोगों का जनजीवन प्रभावित हुआ और उन्हें भयंकर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ा। रिपोर्ट में यह भी लिखा है कि सदस्यों को यह देखकर दुख हुआ कि इन घटनाओं की स्थानीय नेताओं द्वारा निंदा करना तो छोड़िए, बल्कि मौके पर भी नहीं गए और ऐसे कोई कदम नहीं उठाए, जिससे लोगों का कष्ट कम हो सके। लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया। पुलिस के बारे में लिखा है कि वह या तो लापरवाह थी या इन सब कृत्यों में उसकी मिलीभगत थी।

यह भी पढ़ेंतृणमूल कांग्रेस के अराजक तत्वों के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहींफलस्वरूप तृणमूल कांग्रेस के अराजक तत्वों के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं की गई। संपूर्ण प्रदेश से जो शिकायतें प्राप्त हुई थीं, उनमें अधिकतम कूचबिहार (322) से मिलीं। दूसरे स्थान पर बीरभूम (314) रहा। इन शिकायतों का अगर वर्गीकरण किया जाए तो हत्या की 29 घटनाएं थीं, दुष्कर्म की 12, गंभीर चोट की 391, आगजनी की 940 और धमकी की 562। जांच कमेटी ने पाया कि पुलिस ने बहुत सी शिकायतों को दर्ज नहीं किया और जो शिकायतें दर्ज हुईं, उनमें घटनाओं की गंभीरता को देखते हुए गिरफ्तारियां बहुत कम हुईं। बहुत से मामलों में सही धाराएं नहीं लगाई गईं और ऐसा प्रतीत हुआ कि अपराध को कम करके दर्ज किया गया। सभी एफआइआर में 9,304 व्यक्तियों के विरुद्ध आरोप लगाए गए। इनमें केवल 1,354 (14 प्रतिशत) की गिरफ्तारी की गई। इन गिरफ्तारियों में 1,086 (80 प्रतिशत) को जमानत मिल गई। कुल मिलाकर आरोपित व्यक्तियों में केवल तीन प्रतिशत जेल में पाए गए, शेष 97 प्रतिशत खुले घूम रहे। समिति ने लिखा है कि यह तंत्र का मखौल उड़ाने जैसा था। प्रख्यात दार्शनिक लॉक के अनुसार जब कानून का राज समाप्त होता है तो अत्याचार की शुरुआत होती है। कुछ ऐसा ही नजारा समिति को बंगाल में दिखा। headtopics.com

देश में हो रही पुलिस की दुर्दशादेश में पुलिस की आज जो दुर्दशा हो रही है, वह सर्वविदित है। हम अंग्रेजों को औपनिवेशिक पुलिस बनाने का दोष देते हैं, पर हमारे नेताओं ने तो उसका राजनीतिकरण और कुछ हद तक आपराधीकरण भी कर दिया है। हाल में हमने देखा कि महाराष्ट्र में वहां का शासकीय तंत्र कैसे पुलिस से व्यापक पैमाने पर धन की उगाही करा रहा था। अब बंगाल का नमूना हमारे सामने है, जहां सत्ताधारी दल ने मतदाताओं के उस वर्ग पर, जिसने उसके विरुद्ध मत दिया था, कहर ढाया।

बंगाल में ठोस कदम उठाए जाएं जिससे घटनाओं की पुनरावृत्ति न होबंगाल की जो भी आलोचना हो रही है, वह सही है। आवश्यकता अब इसकी है कि कुछ ऐसे ठोस कदम उठाए जाएं, जिनसे वहां जैसी घटनाओं की किसी अन्य प्रदेश में पुनरावृत्ति न हो। सबसे पहले तो संविधान की सातवीं अनुसूची में संशोधन कर पुलिस को समवर्ती सूची में लाया जाए। इससे प्रदेश स्तर पर पुलिस का जो दुरुपयोग हो रहा है, उसे रोकने में सहायता मिलेगी। पुलिस को और आधुनिक बनाने की दिशा में भी केंद्र सरकार ठोस कदम उठा सकेगी। प्रधानमंत्री ने देश को ‘स्मार्ट पुलिस’ यानी एक ऐसी पुलिस जो संवेदनशील, गतिशील, जवाबदेह, त्वरित कार्रवाई में दक्ष और तकनीकी दृष्टि से सक्षम हो, का सपना दिखाया था। आवश्यकता है इस सपने को साकार करने के लिए प्रभावी कदम उठाने की। सुप्रीम कोर्ट को भी सोचना पड़ेगा कि उसने 2006 में पुलिस सुधार संबंधी जो निर्देश दिए थे, उन्हें धरातल पर लागू करने के लिए और क्या कदम उठाए जाने चाहिए। यह खेद का विषय है उसके निर्देशों की प्रदेश सरकारें खुल्लमखुल्ला उल्लंघन कर रही हैं।

ममता सरकार भले ही एनएचआरसी रिपोर्ट को खारिज करे, परंतु नकारा नहीं जा सकताबंगाल की ममता बनर्जी सरकार भले ही एनएचआरसी की रिपोर्ट को खारिज करे, परंतु इस संवैधानिक संस्था की रिपोर्ट को नकारा नहीं जा सकता। उसकी जांच टीम ने लिखा है कि बंगाल में विधि का शासन के बजाय शासक का विधान है। उसने चेतावनी के रूप में यह भी कहा कि यदि इस चिंताजनक रुझान को रोका नहीं गया तो शायद यह बीमारी, जिसमें सरकारी तंत्र की पूरी ताकत सत्तारूढ़ दल के राजनीतिक लक्ष्य की पूर्ति में लगा दी जाती है, अन्य प्रदेशों में भी फैल जाए। यदि ऐसा हुआ तो बंगाल की तरह अन्यत्र भी लोकतंत्र का जनाजा निकल जाएगा। सच्चाई तो यह है कि यह बीमारी कमोबेश कई राज्यों में फैल चुकी है और पानी सिर से ऊपर गुजरने की स्थिति में है।

( लेखक उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक रहे हैं ) और पढो: Dainik jagran »

Mahant Narendra Giri की रहस्यमयी मौत- सुसाइड या मर्डर? देखें दस्तक

जब राष्ट्रीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु की खबर आई और इस खबर के साथ ही सवाल ने जन्म लिया कि सुसाइड किया या हत्या हुई? क्योंकि यूपी पुलिस जब महंत नरेंद्र गिरि की मौत को शुरुआती जांच में सुसाइड कह रही है. तब सुसाइड नोट में जिस शिष्य का नाम है वो साजिश के तहत हत्या बता रहा है. अलग-अलग आरोप लगाए जा रहे हैं. जो नाम चल रहे हैं वो हैं आनंद गिरि, अजय सिंह, मनीष शुक्ला, अभिषेक मिश्रा और इसके अलावा दो और नाम जोड़े जा रहे हैं. सबसे बड़ा नाम आरोपी के तौर पर शिष्य आनंद गिरि का है जिसे उत्तराखंड में हिरासत में ले लिया गया है. देखें 10 तक का ये एपिसोड.

ममता बनर्जी तो कह रही हैं कि देश का लोकतंत्र ख़तरे में है और आप बता रहे हैं कि बंगाल में लोकतंत्र का जनाजा।असल में लोकतंत्र कहां है? 🤣🤣up में राम राज्य है... नसेड़ी हो या ईमान बेच दिए बंगाल जैसे शान्ति प्रदेश कोई भी णहि है, बंगाली भी खुश हैं, मोदी जी के द्वारा चुनाव मे खरबों खर्च करने के वावजूद भी ममता को 200+ सीटे मिली। लेकिन हमेशा ना जाने क्यों भाजपा और गोदी मीडिया बंगाल को बदनाम करने मे जुटी रहती है?

यह मोहतरमा तो देश का लोकतंत्र बचाने निकली है इसे बंगाल में हो रही हिंसा से लहूलुहान होता लोकतंत्र नहीं दिखता है यदि देश के किसी राज्य में लोकतंत्र खतरे में है तो वह बंगाल है। Up no 1 crime Up no 1 kuposhan Up no 1 prachar Up no 1 from bottom niti ayog

US: अलास्का में 8.2 की तीव्रता का भीषण भूकंप, सुनामी की चेतावनीयूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने झटकों की तीव्रता 8.2 बताई. भूकंप का केंद्र अलास्का (Alaska) में पेरीविल से 91 किमी पूर्व-दक्षिण पूर्व में बताया जा रहा है. भूकंप का केंद्र समुद्र तल से 29 मील नीचे थे.

सफलता: गुजरात एटीएस की गिरफ्त में 2500 करोड़ की ड्रग्स के मामलों में वांछित आरोपीसफलता: गुजरात एटीएस की गिरफ्त में 2500 करोड़ की ड्रग्स के मामलों में वांछित आरोपी Gujarat ATS =CrimeNews Drugs

केरल में कोरोना का कहर, वोट बैंक की राजनीति पड़ रही भारी, तीसरी लहर का अंदेशाबेहतर हो कि केंद्र और राज्य सरकारें यही मानकर चलें कि तीसरी लहर सिर उठाने ही वाली है और उसे रोकने के लिए हरसंभव जतन करें। निसंदेह केंद्र और राज्य सरकारों के प्रयास तभी प्रभावी साबित होंगे जब आम जनता भी अपने हिस्से की जिम्मेदारी का निर्वाह करेगी। BJP4India Bjp4Kerala INCIndia देश में 4 लाख से ज्यादा केस प्रतिदिन आ रहे थे तब किसकी कमी थी

कपिल का शो छोड़ सलमान खान के शो में आने की तैयारी में सुनील ग्रोवर?सलमान खान का सुपरहिट शो बिग बॉस का सीजन 15 का दर्शक बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। आए दिन इस शो के नए सीजन को लेकर अटकलें लगती हैं कि इस बार कौन कौन से सेलेब्स बिग बॉस में नजर आ सकते हैं। KHAMOSH........................................Kerala aur Maharashtra ka COVID Sequler hai KHABARDAAR kisi ne us par sawal uthaya nahi to IMRAAN aur XI-PIN uska HUKKA-PAANI band kar denge

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के इलाक़े में फ़्लैश फ़्लड, बड़ी संख्या में लोगों की मौत - BBC Hindiअफ़ग़ानिस्तान के पूर्वोत्तर में स्थित नूरिस्तान प्रांत में बुधवार रात भारी बारिश के बाद अचानक आई बाढ़ से बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं. Reham Farma Allah RealEstateSA_PK

दूसरे ओलिंपिक मेडल की दहलीज पर सिंधु: टोक्यो में सेमीफाइनल में पहुंचीं सिंधु; माता-पिता वॉलीबॉल प्लेयर, 9 साल की उम्र से गोपीचंद की एकेडमी में ट्रेनिंग शुरू कीरियो ओलिंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु टोक्यो में भी मेडल जीतने से एक कदम दूर हैं। उन्होंने क्वार्टर फाइनल में जापान की अकाने यामागूची को हराकर सेमीफाइनल में एंट्री की है। अब उनकी नजर सिल्वर या गोल्ड मेडल पर होगी। अगर सेमीफाइनल में वे हार भी जाती हैं, तो उन्हें ब्रॉन्ज मेडल के लिए खेलना होगा। | Tokyo olympic 2020\r\nP. V. Sindhu Profile Tokyo Updates Rio medalist Sindhu steps away from medal in Tokyo; Can equal Wrestler Sushil Kumar record by winning a medal in Tokyo ✌️ आपको तो शर्म आना चाहिए देश की बेटियों पर कार्टून बनाकर कटाक्ष करते हो,😠ये बेटियां ही ओलंपिक में कमाल कर रही हैं, देश को गर्व है चानू जी,लवलीना जी और सिन्धु जी पर,🙏🙏🇮🇳🇮🇳 Congratulations