Internet, Freedom, India, Democracy, इंटरनेट, फ्रीडम, लोकतंत्र

Internet, Freedom

फ्रीडम हाउस रिपोर्ट में इंटरनेट पाबंदी, नए आईटी नियमों को लेकर भारत सरकार पर निशाना साधा

फ्रीडम हाउस रिपोर्ट में इंटरनेट पाबंदी, नए आईटी नियमों को लेकर भारत सरकार पर निशाना साधा #Internet #Freedom #India #Democracy #इंटरनेट #फ्रीडम #भारत #लोकतंत्र

26-09-2021 21:30:00

फ्रीडम हाउस रिपोर्ट में इंटरनेट पाबंदी, नए आईटी नियमों को लेकर भारत सरकार पर निशाना साधा Internet Freedom India Democracy इंटरनेट फ्रीडम भारत लोकतंत्र

फ्रीडम ऑफ द नेट रिपोर्ट डिजिटल प्लेटफॉर्म मानवाधिकारों की स्थिति का वार्षिक विश्लेषण करती है. इस रिपोर्ट के 11वें संस्करण के तहत जून 2020 से मई 2021 के बीच 70 देशों में 88 फीसदी वैश्विक इंटरनेट यूज़र्स को शामिल किया गया है. रिपोर्ट कहती है कि लगातार ग्यारहवें वर्ष वैश्विक स्तर पर इंटरनेट स्वतंत्रता कम हुई है.

का ताजा संस्करण जारी किया गया है, जिसमें दुनियाभर के कई देशों में इंटरनेट की स्वतंत्रता का उल्लेख किया गया है.रिपोर्ट में बीते साल ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के साथ भारत सरकार के टकराव का भी उल्लेख है.रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना से निपटने को लेकर

चीन के नए सीमा क़ानून पर भारत ने कहा- ये हमारे लिए चिंता की बात है - BBC Hindi म्यांमार में कई बम धमाके, सैन्य सत्ता के खिलाफ़ बढ़ता जा रहा है विरोध - BBC Hindi आगरा: पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के आरोप में तीन कश्मीरी छात्र गिरफ़्तार - BBC Hindi

भारत सरकार की आलोचनासंबंधी ट्वीट्स को प्लेटफॉर्म से हटाने के लिए सरकार ने ट्विटर पर दबाव डाला था. सरकार ने सत्तारूढ़ पार्टी और इसके नेताओं द्वारा शेयर किए जा रहे ट्वीट को मैनिपुलेटेड मीडिया टैग लगाने से ट्विटर को रोका और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के साथ टकराव बढ़ने पर ट्विटर के विकल्प के तौर पर बेंगलुरू स्थित माइक्रोब्लॉगिंग साइट ‘कू’ का रुख किया.

बता दें कि फ्रीडम ऑफ द नेट रिपोर्ट डिजिटल प्लेटफॉर्म पर मानवाधिकारों के स्टेटस का वार्षिक विश्लेषण करती है.इस रिपोर्ट के 11वें संस्करण के तहत जून 2020 से मई 2021 के बीच 70 देशों में 88 फीसदी वैश्विक इंटरनेट यूजर्स को शामिल किया गया है.फ्रीडम हाउस की रिपाेर्ट के अनुसार, लगातार 11वें वर्ष वैश्विक स्तर पर इंटरनेट स्वतंत्रता कम हुई है. रिपोर्ट में नए आईटी नियमों और मनमाने ढंग से इंटरनेट पर पाबंदी सहित डिजिटल रेगुलेशन को लेकर मोदी सरकार की आलोचना की है. headtopics.com

डिजिटल बाजार का ‘सरकारी नियमन’रिपोर्ट में विस्तृत रूप से वैश्विक रूझान का उल्लेख किया गया है, जिसके तहत सरकारें यूजर्स के लिए अधिक व्यापक अधिकार हासिल करने और उत्पीड़न, चरमपंथ और धोखाधड़ी जैसे हानिकारक ऑनलाइन प्रभावों को कम करने के नाम पर टेक कंपनियों पर सरकारी और राजनीतिक जिम्मेदारियां थोपती हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक, बीते साल भारत सरकार का ट्विटर के साथ लगातार टकराव बना रहा. भारत सरकार की आलोचना करने वाले ट्वीट को प्लेटफॉर्म से हटाने और ट्विटर को सत्तारूढ़ भाजपा पार्टी या इसके नेताओं द्वारा पोस्ट किए गए ट्वीट को मैनिपुलेटेड टैग के रूप में चिह्नित करने से रोकने को लेकर लगातार सोशल मीडिया कंपनी पर दबाव बनाया.

रिपोर्ट में अब तक के सबसे खराब स्थिति का विवरण देते हुए कहा गया है, ‘अगर सरकार के पास सेंसर करने, सर्विलांस, लोगों को नियंत्रित करने की क्षमता है तो इससे व्यापक स्तर पर राजनीतिक भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिल सकता है, लोकतांत्रिक प्रक्रिया को नुकसान पहुंच सकता है और राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी और हाशिए पर मौजूद आबादी का दमन हो सकता है.’

नए आईटी नियमों से समस्याएंरिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के नए सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम, 2021 रिपोर्ट की कवरेज अवधि के दौरान सबसे व्यापक पहल में से एक है.रिपोर्ट में कहा गया कि इन नए नियमों के तहत शिकायत निवारण तंत्र, एआई-आधारित मॉडरेशन टूल्स की तैनाती, मुख्य अनुपालन अधिकारी सहित तीन स्थानीय अधिकारियों की नियुक्ति का प्रावधान है. headtopics.com

पेगासस का प्रेत और लोकतंत्र की आत्मा Prime Time With Ravish Kumar: Supreme Court पता लगाएगा, कौन है ये Big Brother? Toyota की इस कार ने फुल टैंक में 1360 किलोमीटर की माइलेज देकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

रिपोर्ट के मुताबिक, नए आईटी नियमों में देश की संप्रभुता और अखंडता के लिए खतरनाक कंटेंट पर प्रतिबंध लगाने की बात कही गई है कि लेकिन इसे स्पष्ट तरीके से परिभाषित नहीं किया गया है.रिपोर्ट में किसान आंदोलन के दौरान ट्विटर और केंद्र सरकार के बीच के टकराव का भी उल्लेख है. इस दौरान भारत सरकार के खिलाफ पत्रकारों और राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के पोस्ट को हटाए जाने के बारे कहने पर ट्विटर ने नए आईटी नियमों का पालन करने को लेकर अपने मूल फैसले को पलट दिया.

परिणामस्वरूप ट्विटर को पुलिस जांच, कर्मचारियों पर आरोप जैसे उत्पीड़न का सामना करना पड़ा.इंटरनेट पाबंदीरिपोर्ट में ‘फ्री एक्सप्रेशन इन डेंजर’ शीर्षक के तहत कहा गया है कि भारत उन लगभग 20 देशों में शामिल है, जहां इस साल समाज के एक निश्चित वर्ग के लिए इंटरनेट सेवा पर प्रतिबंध लगा दिया गया था.

केंद्र सरकार के तीन विवादित कृषि कानूनों के विरोध में इस साल जनवरी और फरवरी में किसान आंदोलन के दौरान दिल्ली में कई बार इंटरनेट सेवा बाधित की गई.रिपोर्ट में कहा गया, दिल्ली में एक बार में इंटरनेट पाबंदी से पांच करोड़ से ज्यादा मोबाइल सब्सक्राइबर प्रभावित हुए.

रिपोर्ट में 2020 में भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनाव के दौरान बड़ी संख्या मेंचीनी मोबाइल ऐप्स पर पाबंदीका जिक्र किया गया है.रिपोर्ट में कहा गया कि इससे पता चलता है कि किस तरह भूराजनीतिक तनाव अभिव्यक्ति की आजादी और सूचना तक पहुंच को नष्ट कर सकता है. headtopics.com

फ्रीडम हाउस की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन इंटरनेट पाबंदी के मामले में सबसे बुरी स्थिति में है. चीन में ऑनलाइन असहमति के लिए जेल की सजा का प्रावधान है. अमेरिका में लगातार पांचवें साल इंटरनेट स्वतंत्रता में गिरावट आई है.रिपोर्ट कहती है कि इन 70 में से 45 देशों में

, सेलेब्राइट, सर्किल्स और फिन फिशर जैसे स्पाईवेयर के इस्तेमाल का संदेह है. और पढो: द वायर हिंदी »

रैगांव में शिवराज-विष्णु का अंतिम प्रयास: CM बोले- कमलनाथ ट्विटर की चिड़िया की तरह, ट्वीट कर उड़ जाते हैं, मंच पर रोईं प्रतिमा

सतना के रैगांव में चुनाव प्रचार के अंतिम दिन सीएम शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा ने चुनावी सभा को संबोधित किया। मंच पर जातीय समीकरण भी साधे गए। सत्ता-संगठन से जुड़े तमाम चेहरों की मौजूदगी के जरिए भाजपा ने यह संदेश देने का प्रयास किया कि सब कुछ ठीक है। वहीं, भाजपा प्रत्याशी प्रतिमा बागरी मंच पर रो पड़ीं। उन्होंने कहा कि यह खुशी के आंसू हैं। | BJP candidate cried on stage, VD Sharma said – 15 months an industrialist had sat forming the government

जातिगत जनगणना: हमलावर विपक्ष दलों को भाजपा का जवाब, कहा- हमारा नारा ‘सबका साथ सबका विकास’जातिगत जनगणना: हमलावर विपक्ष दलों को भाजपा का जवाब, कहा- हमारा नारा ‘सबका साथ सबका विकास’ Caste Census Attack Opposition BJP4 India BJP4India बिना किसी डेटा के सबका साथ सबका विकास कैसे? OBC के लिए जो बजट जारी किया जाता है । वो किस आधार पर जारी होगा । मनुवादी सोच ।

नई मुसीबत: सामने आया कोरोना का एक और बेहद संक्रामक वैरिएंट R.1, जानिए इसके बारे में विस्तार सेनई मुसीबत: सामने आया कोरोना का एक और बेहद संक्रामक वैरिएंट R.1, जानिए इसके बारे में विस्तार से Coronavirus CoronavirusUpdates coronavariant JusticeForSaharaIndiaInvestors सहारा_भुगतान_करो_हमारा सहाराप्रताड़ितएजेंटM9649586858 सहारा_FC-नादौती जि.करौली राज. आदरणीय चैनल आपसे हाथजोङकर प्रार्थना है कि तिल-तिल कर मरने वाले अभिकर्ताओं को बचा लिजिए अन्यथा मरनातयहै क्योंकि गांव वालों का दबाव बढ़ रहा है सहाराप्रताड़ितएजेंट🙏

Quad Summit: पीएम मोदी बोले- हम 'फोर्स फॉर ग्लोबल गुड', हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एकसाथ काम करेंगेQuad Summit: पीएम मोदी बोले- हम 'फोर्स फॉर ग्लोबल गुड', हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एकसाथ काम करेंगे QuadSummit ForceForGlobalGood PMModiUSVisit KamlaHarris PMO India POTUS PMOIndia POTUS

यूएन में भारत पर बरसे इमरान, भारत ने कहा- ओसामा को शहीद बताने वाले क्या बोलेंगे - BBC Hindiपाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र की 76वीं आम सभा को संबोधित करते हुए भारत को जमकर निशाने पर लिया. लेकिन भारत ने भी यूएन में तत्काल आक्रामक जवाब दिया. Chalo Gotiya khelte hai Rakesh Tikait has asked Joe Biden to help him and request PM Modi to repeal farm laws. FarmersProtest ओसामा को शहीद बताने वाले भारत मे भी है और उन्होंने ही भारत का धर्म के आधार पर बटवारा किया पाकिस्तान को भारत की ज़मीन दी चीन को ज़मीन दी जबकि सेना जीती कश्मीर में 370 लागू किया हमारे मातृभूमि के वीरो पूज्यनीय और पूर्वजों को हमेशा नीचा दिखाया और 70 साल राज़ किया पर अब नही चल हट

ओडिशा और आंध्र प्रदेश में साइक्लोन अलर्ट, एनडीआरएफ़ की 18 टीमें तैनात - BBC Hindiबंगाल की खाड़ी में चक्रवातीय तूफ़ान को लेकर मौसम विभाग के अनुमान को ध्यान में रखते हुए तटवर्ती राज्य ओडिशा ने सात ज़िलों को हाई अलर्ट पर रखा है.

'आईए, भारत में कोरोना वैक्सीन बनाइए' : UN में पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातेंप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 76वें सत्र को संबोधित किया. पिछले वर्ष महासभा का सत्र कोविड-19 महामारी के कारण डिजिटल तरीके से आयोजित किया गया था. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में जहां पाकिस्तान पर निशाना साधा, वहीं कोरोना महामारी को लेकर भी भारत और विश्व के प्रयासों का जिक्र किया. इसके साथ ही उन्होंने कोरोना वैक्सीन निर्माताओं को भारत में आकर वैक्सीन निर्माण के लिए आमंत्रित किया. Lol Adar punawala bhag gya Britain ayega kon Excellent Jaichand got some words to show our Jaichandi keep going.