फ्रीडम हाउस रिपोर्ट 'भारत विरोधी एजेंडे का हिस्सा': बीजेपी - BBC News हिंदी

फ्रीडम हाउस रिपोर्ट 'भारत विरोधी एजेंडे का हिस्सा': बीजेपी

04-03-2021 16:44:00

फ्रीडम हाउस रिपोर्ट 'भारत विरोधी एजेंडे का हिस्सा': बीजेपी

भारत का दर्जा पिछले साल के 'फ्री' यानी स्वतंत्र से घटाकर 'पार्टली फ्री' यानी आंशिक रूप से स्वतंत्र कर दिया गया है.

ज़िक्रइस रिपोर्ट में भारत के देशद्रोह के क़ानूनों के कथित तौर पर दुरुपयोग का ज़िक्र किया गया है. इसमें कहा गया है कि सरकार की आलोचना करने वाले पत्रकारों, छात्रों और आम नागरिकों को इन क़ानूनों का निशाना बनाया गया है.प्रो. सिन्हा कहते हैं, "फ्रीडम हाउस को इसके कुछ आंकड़े भी देने चाहिए थे. वे बताएं कि 130 करोड़ लोगों में से कितनों पर देशद्रोह के आरोप लगाए गए हैं?"

अफ़़ग़ानिस्तान में अमेरिका-ब्रिटेन की सेना के 20 साल: आख़िर हासिल क्या हुआ? - BBC News हिंदी दिल्ली में ऑक्सीजन और रेमडेसिविर दवा की कमीः अरविंद केजरीवाल -आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi भाजपा मेरे फ़ोन कॉल की रिकॉर्डिंग करवा रही है: ममता बनर्जी - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi

आकार पटेल कहते हैं, "देशद्रोह के मसले पर सुप्रीम कोर्ट कई दफ़ा कह चुका है कि जब तक किसी स्पीच में हिंसा भड़काने की बात न की जाए उसे देशद्रोह नहीं माना जा सकता. लेकिन, सरकारें और पुलिस इसपर अमल नहीं करती हैं. पिछले पाँच साल में देशद्रोह के केस बढ़े हैं. वर्षों तक केस चलते हैं और उसके बाद लोगों को छोड़ दिया जाता है. ये सरकारी पैसे और वक्त की बर्बादी है."

फ्रीडम हाउस की रिपोर्ट में नागरिकता क़ानून (सीएए) में हुए बदलावों को भेदभाव वाला बताया गया है और कहा गया है कि पिछले साल फ़रवरी में इस क़ानून के चलते हुए विरोध-प्रदर्शनों में हिंसा हुई. इसमें 50 से ज्यादा लोग मारे गए जिनमें से ज्यादातर मुसलमान हैं.रिपोर्ट में भारत में कोरोना वायरस महामारी से निबटने के लिए पिछले साल लगाए गए लॉकडाउन के चलते प्रवासी मज़दूरों को हुई दिक्क़तों का भी ज़िक्र किया गया है. साथ ही कहा गया है कि अक्सर मुसलमानों को वायरस फैलाने के लिए ज़िम्मेदार ठहराया गया था. headtopics.com

इमेज स्रोत,Getty Imagesक्या है भारत का स्कोर?फ्रीडम हाउस की फ्रीडम इन द वर्ल्ड 2021 रिपोर्ट में भारत को आंशिक रूप से स्वतंत्र दर्जा दिया गया है. इसमें 100 के मानक पर भारत का स्कोर 67 तय किया गया है.रिपोर्ट में राजनीतिक अधिकारों के लिए 40 अंकों में से भारत को 34 नंबर दिए गए हैं. जबकि नागरिक अधिकारों में 60 अंकों में से भारत को 33 नंबर ही मिले हैं.

पिछले साल भारत का स्कोर 70 था और इसका दर्जा फ्री यानी स्वतंत्र का था.इसी तरह से इंटरनेट की आज़ादी को लेकर भारत का स्कोर 51 रहा और इसमें भी भारत को आंशिक रूप से स्वतंत्र का दर्जा दिया गया है.कश्मीर पर फ्रीडम हाउस की रिपोर्ट में "भारतीय कश्मीर" पर एक अलग रिपोर्ट जारी की गई है. इस रिपोर्ट में कश्मीर का दर्जा पिछले साल के जैसे ही "स्वतंत्र नहीं" रखा गया है. पिछले साल यह स्कोर 28 था जो कि अब घटकर 27 रह गया है.

2013 से 2019 के बीच भारतीय प्रशासित कश्मीर को आंशिक स्वतंत्र का दर्जा दिया गया था.इस साल की रिपोर्ट में कश्मीर में राजनीतिक अधिकारों को 40 में से 7 नंबर दिए गए हैं, जबकि नागरिक अधिकारों में 60 में से 20 अंक मिले हैं.वीडियो कैप्शन,कश्मीर में जनमत संग्रह के पेंच

प्रेस की आज़ादीइस विषय पर भारत का स्कोर 4 में से 2 है. फ्रीडम हाउस ने कहा है कि मोदी सरकार के तहत हालिया वर्षों में प्रेस की आज़ादी पर हमले नाटकीय रूप से बढ़े हैं.प्रो. सिन्हा कहते हैं, "उन्हें बताना चाहिए कि किस अख़बार के संपादक को गिरफ्तार किया गया है, किस अख़बार पर सेंसरशिप लागू किया गया है. क्या किसी अख़बार के संपादकीय को प्रतिबंधित किया गया है?" headtopics.com

अस्पताल में नहीं मिली व्हील चेयर और स्ट्रेचर, मां को पीठ पर लेकर डॉक्टर के पास पहुंचा बेटा हार्वर्ड स्टडी ने नहीं की यूपी सरकार के प्रवासी संकट प्रबंधन की तारीफ़, मीडिया का दावा ग़लत दिल्ली में कोरोना के 24000 नए केस आए, ऑक्सीजन और बेड की कमी : अरविंद केजरीवाल

रिपोर्ट में कहा गया है कि मीडिया में विरोधी स्वरों को दबाने के लिए अधिकारियों ने सुरक्षा, मानहानि, देशद्रोह और हेट स्पीच और अदालत की अवमानना के क़ानूनों का इस्तेमाल किया है.प्रेस की आज़ादी के मसले पर पटेल कहते हैं, "नए आईटी एक्ट में सरकारी अफ़सरों को मीडिया को क़ाबू करने की ताक़त दे दी गई है. दूसरा, भारत में सरकार और सरकारी कंपनियों का मीडिया को विज्ञापन देने का ख़र्च इतना बड़ा है कि मीडिया सरकारी दबाव में रहता है. भारत में मीडिया को स्वतंत्र कहना बहुत मुश्किल है."

इसमें ये भी कहा गया है कि राजनेताओं, कारोबारियों और लॉबीइस्ट्स और प्रमुख मीडिया शख्सियतों और मीडिया आउटलेट्स के मालिकों के बीच के गठजोड़ के ख़ुलासे ने लोगों का प्रेस पर भरोसे को कम किया है.धार्मिकआज़ादीफ्रीडम हाउस ने लोगों को अपनी धार्मिक आस्था को व्यक्त करने में मिलने वाली आज़ादी के आधार पर भारत को 4 में से 2 नंबर दिए हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि, भारत आधिकारिक तौर पर सेक्युलर राज्य है, लेकिन हिंदू राष्ट्रवादी संगठन और कुछ मीडिया आटलेट्स मुस्लिम-विरोधी विचारों को प्रमोट करते हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि इस गतिविधि को बढ़ावा देने का आरोप नरेंद्र मोदी की सरकार पर भी लगता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि गायों के साथ दुर्व्यवहार या गोहत्या के लिए मुसलमानों पर हमले किए जाते हैं.रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कोरोना वायरस महामारी के दौर में देश के मुसलमानों पर बड़े पैमाने पर वायरस को फैलाने के आरोप लगाए गए. इन आरोपों को लगाने वालों में सत्ताधारी पार्टी के अधिकारी भी शामिल रहे हैं. headtopics.com

प्रो. सिन्हा कहते हैं, "भारत की राष्ट्रवादी ताक़तें ऐसी रिपोर्टों की न चिंता करती हैं, न परवाह करती हैं. नरेंद्र मोदी ने संसद में कहा है कि भारत लोकतंत्र की जननी है. इसलिए हम सदैव लोकतंत्र को मज़बूत करने का काम करेंगे." और पढो: BBC News Hindi »

किन्नर के कत्ल की अजीब कहानी, 55 लाख की सुपारी! देखें वारदात

आखिरकार दिल्ली में बीते साल किन्नर एकता जोशी के मर्डर की गुत्थी सुलझ गई. पुलिस ने कातिल को धर दबोचा है. दरअसल ये लड़ाई प्रतिस्पर्धा की थी. असल में उत्तर पूर्वी दिल्ली के जीटीबी एनक्लेव की रहनेवाली एकता और अनिता जोशी किन्नरों की दुनिया की वो हस्ती थी, पूरी दिल्ली और आस-पास के इलाके में जिनके नाम का सिक्का चलता था. दोनों खुद अपनी बीसियों चेलों के साथ जीटीबी एनक्लेव की एक ऐसी आलीशान कोठी में रहती थीं, जिसकी कीमत करीब 10 करोड़ रुपये की होगी. वैसे तो इस कोठी की मालकिन अनिता जोशी ही बाकी किन्नरों की गुरु थीं, लेकिन अनिता अब अपनी ये तख्त-ओ-ताज़ अपनी बेटी एकता के हवाले करनेवाली थी. फिर किसने रची कत्ल की साजिश, क्यों हुआ एकता का कत्ल, किसने सुलझाई मर्डर मिस्ट्री, देखें वारदात, शम्स ताहिर खान के साथ.

Government ko vichaar krna chahye, ye desh ke lye shameful hai. या बीबीसी का सरकार विरोधी अजेंडा, इंडिया बोल जैसे कार्यक्रम मे ये विषय शामिल करें और निर्बाध टेलीफोन लाइन रखें, ये नहीं की वही गिनती के दस नाम वालों के ही फ़ोन सुनाये, भेड़ की खाल में छुपा भेड़िया नरेन्दर अब सारी दुनिया को दिखने लगा है लेकिन मूढ़ मति अंड-भक्तों को अभी दिखाई नहीं दे रहा।

गद्दार तब भी थे आज भी है, तब कोई टोपी में आज टाई में। ban BBC from india . they have always indulge in anti india activity. पहले ऐसी ही रिपोर्ट्स भाजपा को सच्ची नजर आती थी । दुनिया जितना चाहें सच बताए दिखाए.. सुर बस एक ही निकलेगा..देश विरोधी है भारत के खिलाफ एजेंडा है..सच न स्वीकार करना भी नपुंसकता के दायरे में आता है..कि तुम डरपोक हो.

कमीने, हरामी, भ्रष्ट जजों वकीलों का खात्मा करना है। मेरे केस में इन वकीलों और जजों की दलाली बिलकुल सपष्ट है, मेरा Pinned Tweet देखो, दोनों बार सुप्रीम कोर्ट के फैसलों को बदल दिया है। अब तीसरी बार हाई कोर्ट में याचिका, ऐसा केस फिर नहीं मिलेगा, सभी तरह के संगठनों से सहायता की अपील narendramodi Ye sazish nahi sach hai Hame khamosh PM agar 2014 se pahle nahi chahiye tha to hame chhupi sadh jane aur jhoot failane wala PM v nahi chahiye.

सरकार को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता ये तो आवाम के लिए मूक धारण किये बेठी है Waise sahi kahe to itni press freedom mujhe nhi lagtaki kisi aur desh me hai jahan ati adhunik tareeke se vad-vivad kia ja sakta hai. Samajh hi nahi ata sahi kaun hai galat kaun🤔🤔 देश मे इतने बड़बोले है अब ना जाने और किस बात की आजादी चाहिए विरोध की सीमा भी लांग दी है सेना,डॉक्टर, वकील,शिक्षा ओर विदेश नीति हो हर कार्य मे टीका टिप्पणी करते है आजादी मांगने वालों को कोरिया दर्शन के लिए भेजना चाहिए ताकि इनको देश मे मिल रही आजादी की कीमत पता चले

They are given 83 marks to USA being a total funding by USA govt.... Full Gossip. No meaning of this report. Total Gossip...... How they can give a certificate of India whereas 140 crore population. Ye report Pakistan ke liye pahle se hi negative tha , tab tak ye report pefact tha , apni baari aayee to ye report bhi bharat virodhi hogya, lagta hai bharat Pakistan ko ek saat western taqat se ladne ka time aagya hai

अबकी बार,,,, हैरिस-बाईडेन सरकार फ्रीडम है कहां? खाली अंधभक्तों को ही दिखती है। बॉयकॉट बीबीसी ही कर सकते है। या फिर हिंदू मुस्लिम खेलते रह सकते है। भाजपा का एक ही एजेंडा है। अगर विदेशी, सरकार की तारीफ करे तो बहुत खुशी होती है अगर वो सरकार की निंदा करे तो भारत विरोधी एजेंडा बताने लगती है। लगता है मोदीजी ने भारत का नाम कुछ ज्यादा ही ऊंचा कर दिया है? इसलिए दुनिया मोदी मोदी मोदी के नारे लगा रही है और भारत का लोहा मानती हैं? 😜🤣

अब भारत, दुनियां का रिपोर्ट बनाएगा। Who cares freedom house. It's not acceptable to ask freedom of expression to rise slogan to divide the country.. The only reasonable protests is on farm bill. 6-7 साल पहले तक चाहे देश के अंदर हो या देश के बाहर सब भारत के समर्थन में होते थे..आज ऐसा क्या हो गया जो देश अंदर और बाहर हर जगह भारत विरोधी ही नजर आने लगे..समर्थन वाले कम और विरोधी ही ज्यादा दिख रहे हैं..

Agar yahi report favour mein hoti to modi ji ki jai..agar against aa gae to report aur report wali agency anti india...waah ji waah kya soch hh.isse byaan baaji ke karan ye reault aee hh india ka भारत को वो फ्रीडम की क्या जरूरत जहां भारत की टुकड़े टुकडे होने के नारे लगाने की आजादी जो गजवा ए हिंद और जिहाद के नाम पर हिन्दुओं के कत्ल ए आम उनके नर मुण्ड के मीनार बनाने की आजादी हो हमने हजार साल अपने देश मे हिन्दू बने रहने के लिए संघर्ष किया और जिजीया कर दिया तब ये भारत मिला I

जिस तरीक़े से freedomhouse ने भारतमाता की फ़ोटो को दर्शाया है उससे तो यही लगता है कि freedomhouse की भी गोदी मिडिया की तरह भाजपा से सेटिंग है। 😂😂😂haan sabkuchh aajkal Bharatvirodhi hi ho gya hai .sala pta hi nhi chal rha hai ki kaun pagla gya hai bjp ya Puri duniya😬😬😬. Kisi ko pta ho to btana jra.

फेक रिपोर्ट है फ्रीडम हाउस फेक है फिर उसको कोई कुत्ता भी नहीं पूछता वर्ल्ड में ऐसा रिपोर्ट आप फैला रही है भारत में क्या बीबीसी ने कांग्रेस से बहुत बड़ा कुछ पैसा लेकर बैठी है प्रधानमंत्री की मां को सरेआम गाली देते हैं और आपके रिपोर्टर देखते हैं इंटरनेशनल लेवल पर बीबीसी फेल हुई है FIR कब ला रहे हो इनके against ?

Kitni kameeni party he ye😠😠😠😠 George Floyed— I can’t breath America— Because we are a free country 😂😂 बीजेपी को सब भारत विरोधी ही लगता है अबे भाई तुम्हारी हरकत ही ऐसी है पूरे दुनिया में भारत का नाम बदनाम कर के रख दिया बीबीसी भारत विरोधियों की ऐजेंसी बहिष्कार जरुरी