Nofakenews, Factcheck, Liquor Distribution Fiercely İn The Farmers' Movement, The Video İs Going Viral, Know The Full Truth Of This Video

Nofakenews, Factcheck

फेक न्यूज एक्सपोज: किसान आंदोलन में जमकर बंटी शराब, वीडियो हो रहा वायरल; जानिए इस वीडियो का पूरा सच

फेक न्यूज एक्सपोज: किसान आंदोलन में जमकर बटी शराब, वीडियो हो रहा वायरल; जानिए इस वीडियो का पूरा सच #NoFakeNews #FactCheck

17-09-2021 17:12:00

फेक न्यूज एक्सपोज: किसान आंदोलन में जमकर बटी शराब, वीडियो हो रहा वायरल; जानिए इस वीडियो का पूरा सच NoFakeNews FactCheck

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन के नाम से दो वीडियो वायरल हो रहे हैं। पहले वीडियो में कुछ लोग नीले रंग की टंकी में शराब की बोतल खाली करते हुए नजर आ रहे हैं। वहीं, दूसरी वीडियो में कुछ लोग भीड़ को शराब बांटते हुए दिख रहे हैं। | Liquor distribution fiercely in the farmers' movement, the video is going viral ; Know the full truth of this video

फेक न्यूज एक्सपोज:किसान आंदोलन में जमकर बंटी शराब, वीडियो हो रहा वायरल; जानिए इस वीडियो का पूरा सच6 मिनट पहलेवीडियोक्या हो रहा है वायरल:सोशल मीडिया पर किसान आंदोलन के नाम से दो वीडियो वायरल हो रहे हैं। पहले वीडियो में कुछ लोग नीले रंग की टंकी में शराब की बोतल खाली करते हुए नजर आ रहे हैं। वहीं, दूसरी वीडियो में कुछ लोग भीड़ को शराब बांटते हुए दिख रहे हैं।

10 तक: हत्यारों ने दी महिला को दर्दनाक मौत, जमवारामगढ़ हत्याकांड को लेकर गेहलोत सरकार घिरी PM उज्जवला योजना पर महंगाई की मार? कबाड़ में बिक रहे हैं सिलेंडर, लोग दोबारा नहीं भरवा रहे गैस किसानों ने बेरीकेड्स पर लिखा 'मोदी सरकार रास्ता खोलो': गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत बोले- बेरीकेडिंग हटाओ, हमें दिल्ली जाना है

दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो किसान आंदोलन का है। ये वीडियो जांच के लिए हमें भास्कर हेल्पलाइन पर भी मिले।एक यूजर ने वीडियो शेयर कर लिखा, किसान को देखो, आप खुद अंदाजा लगाइए कि वे वास्तव में ये किसान हैं या नहीं। इस वीडियो को 12 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं और 45 हजार से ज्यादा लोग शेयर कर चुके हैं।

और सच क्या है?वायरल वीडियो का सच जानने के लिए हमने दोनों वीडियो क्लिप को ध्यान से देखा। वीडियो में हमें किसान आंदोलन का बोर्ड, झंडा या कोई क्लू नहीं मिला।पड़ताल के दौरान वायरल वीडियो के कमेंट सैक्शन में हमें कई लोगों के कमेंट दिखे जिन्होंने लिखा है कि ये वीडियो पंजाब के बाबा रोडू शाह की दरगाह का है। headtopics.com

पड़ताल के अगले चरण में हमने लुधियाना के काउंके में स्थित बाबा रोडू शाह की दरगाह के प्रबंधक प्रदीप सिंह (बिल्लू) से संपर्क कर उन्हें ये वीडियो पुष्टि के लिए भेजा।प्रदीप सिंह ने भास्कर को बताया कि ये वीडियो 6 सितंबर को दरगाह में हुए शराब लंगर का ही है। इस दरगाह में कई सालों से लोग मन्नत पूरी होने पर शराब चढ़ाते हैं और प्रसाद के रूप में पर फिर ये लोगों में बांट दी जाती है।

पड़ताल के दौरान हमें जर्नेल सिंह नाम के सोशल मीडिया अकाउंट पर 6 सितंबर का फेसबुक लाइव मिला। 6 सितंबर का ये फेसबुक लाइव बाबा रोडू शाह की दरगाह का है।इस फेसबुक लाइव में हमें वायरल वीडियो से जुड़े समान दृश्य दिखे।पड़ताल के दौरान हमें फैक्ट चेकवेबसाइटअल्ट न्यूज पर भी वायरल वीडियो से जुड़ी खबर मिली। अल्ट न्यूज ने वायरल वीडियो का फैक्ट चेक कर बताया था कि ये वीडियो किसान आंदोलन का नहीं है।

साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के साथ किया जा रहा दावा गलत है। ये वीडियो किसान आंदोलन का नहीं बल्कि 6 सितंबर को बाबा रोडू शाह दरगाह में हुए शराब लंगर का है। और पढो: Dainik Bhaskar »

India Today Conclave 2021: Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October

India Today Conclave 2021 - Check out the full details and schedule of India Today Conclave event to be held at Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October 2021.

तभी तो भाष्कर है । प्रकाश डालते रहिए । To kya Kisan sarab nahi piyenge kebal taripar piyega . Ak garib ko 50 hajar ka loan sahia to 100 sakar katne ke bad bhi loan nai milta lekin raj neta voto ke lia sab free me de dete he jay hindustan 🙏🙏 Help me sir

भारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में लगभग 12.5 प्रतिशत की बढ़ोतरीभारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में लगभग 12.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी CoronavirusUpdates TheSatyaShow : Beta Gaana Laga De.

Afghanistan में Taliban राज का कैसा कटा एक महीना, खबरदार में देखें विश्लेषण15 अगस्त से आज 15 सितंबर तक तालिबान के राज में अफगानिस्तान का ये एक महीना चिंताओं, आशंकाओं और तकलीफों के बीच गुज़रा है. तालिबान शब्द ही अफगानिस्तानियों के लिए अत्याचार का पर्यायवाची बना हुआ है. लेकिन इस एक महीने में तालिबानियों का भी बजट बिगड़ गया है. क्योंकि आतंकवादी संगठन चलाना एक बात है और एक देश को चलाना एकदम दूसरी बात है. तालिबानी लड़ाके चाहे कितने ही वफादार हों लेकिन भूखे पेट अपने आतंकी संगठन को कब तक सेवा देते रहेंगे. वहां आम लोगों की हालत बुरी है तो आतंकवादियों को भी आटे दाल का भाव समझ में आ रहा है. देखिए खबरदार के इस एपिसोड में पूरा विश्लेषण. SwetaSinghAT वोट के लिये धर्मनिरपेक्षता की टोपी पहनकर जो भी कथित राजनेता भारत की संस्कृति भारत की आन बान शान भारत की धरोहर भारत की सभ्यता भारत के धर्म का सौदा कर रहे है या करने की कोशिश कर रहे. आने वाली पीढ़ियां उनको क्षमा नही करेगी भारत का भाग्य विधाता हिन्दूत्व है जिसकी रक्षा होगी PMOIndia

Bihar: हाजीपुर में किनारों को काट रही उफनाई गंगा, भरभराकर नदी में ऐसे समा रहे घरगंगा को जीवनदायिनी कहा जाता है, लेकिन गंगा की ये लहरें कयामत भी ला सकती हैं. इसकी बानगी मिली बिहार के हाजीपुर में. यहां भीषण बाढ़ के बाद अब गंगा की लहरें किनारों को काट रही हैं. किनारों की जमीन गंगा में समा ही रही है. किनारे पर बने घर भरभराकर गंगा में समा रहे हैं. किनारों पर खड़े मजबूत पेड़ों को भी गंगा अपनी आगोश में ले रही हैं. गंगा की लहरों की आफत सिर्फ पेड़ों पर ही नहीं आई है, बल्कि किनारे बने मकान की दीवारों में दरार नजर आ रही हैं. ये दरार धीरे धीरे बड़ी हो रही हैं तो क्या ये मकान भी गंगा में समा जाएंगे. गंगी के खौफनाक कटाव में दर्जनों मकान और पेड़ समा गए. देखें ये वीडियो.

Gujarat में बारिश की मार, जामनगर, राजकोट और जूनागढ़ के 22 गांवों में बिजली ठपगुजरात के जामनगर, जूनागढ़ और राजकोट में कुदरत का कोप बरस रहा है. चार दिन की मूसलाधार बारिश और नदियों के उफान ने जामनगर और जूनागढ़ की हालत खस्ता कर दी है. बारिश थम गई है, लेकिन यहां गांव के गांव डूबे हैं. शहर में भी कई मुहल्लों के घरों का पहला मंजिला जलमग्न है. सैलाब ने यहां की जिंदगी को जहन्नुम बना दिया है. गांव के गांव डूबे हुए हैं, खेत खलिहान डूबे हुए हैं और फसलें पानी में समा गई हैं. जूनागढ़ में ओजत, भादर और उबेन नदियों के भीषण सैलाब में आसपास के इलाके जलमग्न हो गए हैं. बारिश की मार से जामनगर, राजकोट और जूनागढ़ के 22 गांवों में बिजली ठप पड़ी है. देखें ये वीडियो. Mai

NCRB 2020: लॉकडाउन के दौरान क्राइम ग्राफ में गिरावट, कोरोना नियमों के उल्लंघन में वृद्धिफेक करेंसी के मामलों पर अगर नजर डाली जाए तो साल 2020 के दौरान नकली भारतीय मुद्रा नोटों (FICN) के तहत 92,17,80,480 मूल्य के कुल 8,34,947 नोट जब्त किए गए, जबकि वर्ष 2019 में ₹ 25,39,09,130 ​​मूल्य के 2,87,404 नोट जब्त किए गए थे.

व्हाट्सएप बिजनेस एप में आ रहा नया फीचर, दुकान-सर्विस के बारे में कर सकेंगे सर्चफेसबुक अपने व्हाट्सएप एप को पूरी तरह से एक ई-कॉमर्स एप में बदलने की तैयारी कर रहा है और अपकमिंग फीचर भी उसी का एक हिस्सा