प्रशांत किशोर अब आगे क्या करेंगे?

प्रशांत किशोर अब आगे क्या करेंगे?

18.2.2020

प्रशांत किशोर अब आगे क्या करेंगे?

नीतीश कुमार की पार्टी से निकाले जाने के बाद प्रशांत किशोर पहली बार पटना पहुंचे और पत्रकारों से बातचीत की.

ये एक्सटर्नल लिंक हैं जो एक नए विंडो में खुलेंगे शेयर पैनल को बंद करें इमेज कॉपीरइट Sanjay Das एनआरसी और नागरिकता संशोधन क़ानून (CAA) के मुद्दे पर केंद्र सरकार का लगातार विरोध करने और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को झूठा तक कह देने के बाद बिहार में सत्ताधारी नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल-यू से बाहर का रास्ता दिखाने के बाद पहली बार प्रशांत किशोर मंगलवार को पटना पहुंचे. पटना में उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में अपनी आगे की रणनीति का थोड़ा बहुत ख़ुलासा किया. ऐसे में अब बिहार में ये सवाल उठने लगा है कि क्या वो अपनी पार्टी बनाकर आने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में जद-यू के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ेंगे? या फिर वे जदयू-भाजपा-लोजपा की गठबंधन वाली एनडीए सरकार को हराने के लिए किसी विपक्षी पार्टी के साथ जुड़ जाएंगे? इसके पहले प्रशांत किशोर पटना आते थे तब पत्रकारों या अपने समर्थकों को मिलने के लिए मुख्यमंत्री आवास में बुलाते थे. लेकिन, मंगलवार को उन्होंने अपनी कंपनी आई-पैक के दफ्तर में प्रेस वार्ता की. आई-पैक दफ्तर के एक छोटे से हॉल में जब प्रशांत किशोर मीडिया को संबोधित कर रहे थे तब वहां खचाखच भीड़ थी. लोकल मीडिया से लेकर नेशनल और इंटरनेशनल मीडिया तक के कैमरे लगे थे. प्रेस वार्ता में"बात बिहार की" नाम की अपनी एक प्रस्तावित यात्रा के बारे में चर्चा करने के बाद वे जैसे ही रुके, पत्रकारों ने धड़ाधड़ सवाल पूछने शुरू कर दिए. इतनी सारी आवाज़ें थीं कि किसी एक सवाल को पूरा सुन पाना भी मुश्किल था. लेकिन, इतना ज़रूर समझ में आया कि सारे सवाल सिर्फ़ इस बात से जुड़े थे कि प्रशांत किशोर का अगला राजनीतिक क़दम क्या होगा? सबको शांत कराने के बाद किशोर जवाब देते हैं,"मैं एक बात स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि फ़िलहाल न तो मैं कोई राजनीतिक पार्टी बनाने जा रहा हूं और न ही किसी पार्टी के साथ जुड़ने जा रहा हूं." इमेज कॉपीरइट Getty Images पत्रकारों ने सवाल किया कि फिर आगे राजनीति कैसे करेंगे? वे जवाब देते हैं,"जिस तरह पिछले डेढ़ सालों से (जब से जद-यू ज्वाइन किया था) एक पॉलिटिकल एक्टिविस्ट के तौर पर काम कर रहा हूं, वैसे ही आगे भी काम करता रहूंगा." सवाल फिर से वैसा ही था,"बिना पार्टी के पॉलिटिक्स कैसे होगी? आख़िर किस तरह का पॉलिटिकल एक्टिविज्म करना चाहते हैं?" प्रशांत कहते हैं,"वैसी ही होगी जैसी जद-यू से निकाले जाने के बाद हो रही है. हम बिहार के ऐसे नए युवाओं का एक संगठन तैयार कर रहे हैं जिनका सपना है कि बिहार आने वाले 10 सालों में हर सूचकांक पर देश के टॉप टेन राज्यों में शामिल हो जाए." वे आगे बताते हैं,"अभी तक ऐसे दो लाख 93 हज़ार युवाओं को अपने साथ जोड़ा भी है. अगले तीन महीनों में हमारा लक्ष्य एक करोड़ युवाओं को अपने साथ जोड़ना है. और ये काम मैं आज से नहीं कर रहा हूं, तभी से कर रहा जब जद-यू में था. दरअसल, पार्टी में मुझे यही काम ही दिया गया था. उसी दौरान क़रीब डेढ़ लाख युवा हमारे साथ जुड़ चुके थे. लेकिन आप ये मत सोच लीजिएगा कि वे पार्टी में रहने के कारण मुझसे जुड़े थे, क्योंकि उनके अलावा भी हमारे साथ क़रीब 30 फीसदी ऐसे युवा जुड़े हैं जो भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता रह चुके हैं." लेकिन ये युवा प्रशांत किशोर से जुड़कर करेंगे क्या? बिना पार्टी और झंडे के इनका नेता कौन होगा? ये हमारा सवाल था. प्रशांत इसका जवाब कुछ यूं देते हैं,"सब नेता बनेंगे. इसकी शुरुआत हम पंचायत स्तर से कर रहे हैं. ये युवा पहले मुखिया, सरपंच और ज़िला पार्षद बनेंगे फिर अपने आप सांसद, विधायक मंत्री बन जाएंगे. अगर बिहार के सभी पंचायतों से चुन के कम से कम 10 हज़ार मुखिया हम बना दें तो हमारा मक़सद पूरा हो जाएगा." हमें ख़याल आ गया प्रशांत किशोर की पुरानी बातों का जब वे चुनावी रणनीतिकार की हैसियत से हर बात में कहा करते थे,"हम ही तो सांसद और विधायक बनाते हैं." लेकिन अब प्रशांत किशोर युवाओं को मुखिया बनाएंगे. इससे एक बात स्पष्ट है कि आने वाले दिनों में किशोर की राजनीतिक भूमिका बदलने वाली है. ऐसा लगता है कि वे अब चुनावी रणनीतिकार के पेशे को छोड़ कर ज़मीन की राजनीति करना चाहते हैं. तो क्या प्रशांत किशोर आने वाले दिनों में चुनावी रणनीतिकार की भूमिका में नहीं दिखेंगे? किसी पार्टी के लिए पॉलिटिकल कैंपेनिंग का काम नहीं करेंगे? ख़ुद को आंकने की कोशिश उन्होंने कहा,"बिल्कुल नहीं. अगले तीन महीने तक हमारा सारा फ़ोकस इसी बात पर रहेगा कि कम से कम एक करोड़ युवाओं को अपने साथ जोड़ लें. पूरे बिहार में यात्रा करनी है. और फिर तीन महीने के बाद हम ख़ुद आकर इसकी घोषणा करेंगे कि कहां तक सफल हुए." तो क्या इन तीन महीनों में वे ख़ुद को आंकना चाहते हैं कि कितने लोगों का साथ मिल पाता है और फिर उसके बाद पार्टी बनाने या नहीं बनाने की घोषणा करेंगे! पत्रकारों ने ऐसे सवाल भी किए. प्रशांत कहते हैं,"आपको जो कहना है कह लीजिए. लेकिन हम इसपर अब जो भी कहेंगे तीन महीने के बाद ही कहेंगे." प्रशांत किशोर से नीतीश कुमार को लेकर भी बहुत तरह के सवाल पूछे गए. मसलन, जद-यू में आने की वजह क्या वही थी जैसा नीतीश ने कहा था, क्या अब वे नीतीश को हराने के लिए काम करेंगे? सबका स्वागत है प्रशांत किशोर नीतीश को लेकर हमलावर तो हुए मगर जब भी बोले तो उन्हें भाजपा के साथ जोड़कर बोले. नीतीश कुमार की बात आयी तो प्रशांत किशोर कहते हैं,"उन्होंने हमें छोड़ा. हमनें उन्हें नहीं छोड़ा. इसलिए उनसे जाकर पूछिए कि क्यों छोड़ा. हम तो कह रहे हैं कि"बिहार की बात" के ज़रिए जैसा बिहार हम बनाना चाहते हैं, अगर वैसा बिहार वो भी बनाना चाहते हैं तो आएं हमारे साथ. हमें लीड करें. अगर सुशील मोदी भी चाहें तो वो भी आएं. उनका भी स्वागत होगा." ऐसे में सवाल होने लगा कि अगर विपक्ष की तरफ़ से तेजस्वी यादव भी उनके साथ आएं तो क्या वे उनको लीड करने देंगे? इमेज कॉपीरइट Getty Images प्रशांत किशोर कहते हैं,"मैं ऐसे लोगों को लेकर कोई टिप्पणी नहीं करता जिनसे आजतक मिला भी नहीं, जिनके साथ काम नहीं किया. तेजस्वी यादव के साथ ऐसा ही है. इसलिए उनके बारे में मेरी कोई राय नहीं है." पत्रकारों ने प्रशांत किशोर से कन्हैया कुमार और कांग्रेस का साथ देने को लेकर भी सवाल किए. लेकिन उन्होंने बार-बार वही जवाब दिया."हम किसी पार्टी के लिए काम नहीं करंगे. किसी के साथ भी नहीं होंगे. अगर लोग हमारे साथ आएं तो सबका स्वागत रहेगा." प्रशांत किशोर की प्रेस वार्ता क़रीब दो घंटे तक चली. लेकिन पत्रकारों की संख्या और उनके सवाल इतने ज्यादा थे कि फिर भी जब प्रशांत किशोर थैंक्यू बोलकर उठे तो पत्रकारों ने उन्हें घेर लिया, जवाब ना देने की शिकायत करने लगे. आई-पैक के दफ्तर में ही उपरी तल्ले पर एक कमरे में ले जाकर वे अलग से पत्रकारों से बात करने लगे. क़रीब डेढ़ दर्जन पत्रकारों ने बातचीत करने के लिए लाइन लगा दिया. सब लोग अपने-अपने चैनल, संस्थान के लिए अलग से इंटरव्यू करना चाहते थे. इमेज कॉपीरइट Getty Images अलग कमरे में भी क़रीब दो घंटे तक किशोर का पत्रकारों से बातचीत का सिलसिला चलता रहा. सैकडों समर्थक और कार्यकर्ता भी इस मौक़े पर आई-पैक के दफ्तर में मौजूद थे. पत्रकारों से बातचीत के दौरान ही सूचना आयी कि समर्थकों और कार्यकर्ताओं को संबोधित करने का समय आ गया है. नीचे हॉल में वे सब इंतज़ार कर रहे हैं. पत्रकारों की नाराज़गी प्रशांत किशोर बातचीत को वहीं ख़त्म कर जाने लगे. कई टीवी चैनलों के पत्रकार जो अब तक इंटरव्यू नहीं कर पाए थे, उनसे थोड़ी देर रुकने का आग्रह करने लगे. लेकिन उन्होंने किसी की नहीं सुनी. अपने कार्यकर्ताओं और समर्थकों के बीच चले गए. इसी बात पर कुछ पत्रकार नाराज़ हो गए. आई-पैक के लोगों पर भड़क गए. एक पत्रकार ने धमकी भरे अंदाज़ में आई-पैक की टीम के एक सदस्य से कहा,"अपने सर को बोल दीजिएगा, उन्होंने जो किया अच्छा नहीं किया. अगर यही करना था तो बुलाया ही क्यों था. जब कोई ख़बर प्लांट करानी होती है, कोई जानकारी चाहते हैं तो आपके सर हमको ही दिन भर में दस बार फ़ोन और मैसेज करते हैं. और आज हम बोलते रह गए तो वो देह झाड़ कर चल दिए. बोल दीजिएगा, उन्होंने अच्छा नहीं किया." हम वहां थोड़ी देर ठहरे. आई-पैक के सदस्यों से ये जानने की कोशिश करने लगे कि मुखिया बनाने का कार्यक्रम क्या है? उन्होंने बताया,"कुछ नहीं करना है. जो लोग चाहते हैं मुखिया बनना या प्रशांत किशोर सर से जुड़ना, वे बस हमारी वेबसाइट पर एक फॉर्म भरकर रजिस्ट्रेशन कर दें. फिर हम उन्हें ख़ुद कॉल करके बुला लेंगे. उनका टेस्ट होगा. जैसी जिसकी क्षमता होगी या रुचि होगी, उसको वैसा बनाने के लिए ट्रेनिंग दी जाएगी." कितना पड़ेगा प्रभाव प्रेस वार्ता से लौटकर हमनें वरिष्ठ पत्रकार मणिकांत ठाकुर से बात की. पूछा कि प्रशांत किशोर की घोषणा को वे किस तरह देखते हैं? उन्होंने बताया,"दो तरह की बातें हैं. अगर आप ये समझते हैं कि प्रशांत किशोर की वजह से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा तो आप ग़लत हैं. और अगर ये समझते हैं कि प्रशांत किशोर कुछ अद्भुत कर देंगे या बिहार की राजनीति में क्रांति जैसा कुछ ला देंगे, तो यह भी ग़लत है." मणिकांत ठाकुर आगे कहते हैं,"वे आजकल आदर्श की बात कर रहे हैं. लेकिन वे इन्हीं आदर्शों की बात तब नहीं किया करते थे जब नीतीश कुमार के साथ थे. इससे एक बात तो साफ़ है कि वे दूसरों से अलग नहीं हैं और वक़्त की नज़ाकत को समझ रहे हैं. वो ये देख रहे हैं कि बिहार के लोग नीतीश कुमार को टक्कर देने वाला चेहरा तलाश रहे हैं." लेकिन क्या मुखिया बनाने से बिहार की राजनीति बदलेगी? मणिकांत ठाकुर जवाब देते हुए मुस्कुराने लगते हैं. कहते हैं,"राजनीति बदले न बदले लेकिन इससे ज़मीनी स्तर तक पहुंच ज़रूर बनायी जा सकती है. सगंठन ज़रूर खड़ा किया जा सकता है. नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर को यही काम दिया था. इसलिए वो जानते हैं कि इसकी अहमियत क्या है और नीतीश कुमार के पास यही नहीं है." (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां और पढो: BBC News Hindi

कोरोना वायरस: इटली में 10 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi



कोरोना वायरस: दुनिया भर में 30 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को सता रहा कोरोना का डर, अमर उजाला से साझा किया दर्द



फैंस पूछ रहे 688 करोड़ नेटवर्थ वाले भारतीय कप्तान कोहली कोरोना के खिलाफ जंग में कहां हैं?

शाह ने कहा- मोदी सरकार प्रवासी मजदूरों की सहायता के लिए वचनबद्ध, हाइवे पर लगेंगे कैंप



आनंद विहार पर भयानक मंजर, बदइंतजामी के बीच घर जाने को हजारों लोग उमड़े

कोरोना वायरस से निपटने के लिए भारत को 29 लाख डॉलर की मदद देगा अमेरिका



कहेंगे लिट्टी-चोखा मत खाओ ...😄 कहीं कोई अच्छी सी नौकरी ढूंढ लें प्रशांत कुमार लोगोंकी सोच भी बदल सकते है क्यों न अच्छी सोच तयार करे तब सच्चे देशभक्त कयों न बनते आप तो गुंडोको सपोर्ट करना बंद करे रणनीति का हिस्सा है, चुनाव बाद फिर जदयू में ! एक कदम आगे जाकर सब फ्री बांट देगा। एक इलेक्शन लड़ेगे , हार जयगे जोश ठंडा हो जयगा, राजा होना और king maker होने में बहुत अंतर होता है भाई , strategy’s banana अलग बात है और rule करना अलग बात है

कालेधन को राजनीति औऱ चुनाव मे खपाता है दलाली करता है वही करता आ रहा है औऱ आगे भी करता रहेगा Jo abhi Desh me RahulGandhi kar rahe hai; NitishKumar BAKCHODI Cc: PrashantKishor जो अभी दिल्ली भाजपा कर रही है, पंचायत स्तर के चुनाव अपनी व्यक्तिगत छवि और धन-बल के आधार पे जीते जाते हैं. कोई तुमसे क्यों जुड़ेगा...? बुड़बक आदमी 😄

Begari kaega aur kya

डेढ़ साल में चुनावी रणनीतिकार से कैस विशुद्ध राजनेता बन गए प्रशांत किशोर2014 में भाजपा का साथ छोड़ने के बाद प्रशांत किशोर ने 2015 में बिहार विधानसभा चुनाव के लिए नीतीश कुमार-लालू यादव के महागठबंधन PrashantKishor NitishKumar और अब इन्हें अपनी असलियत भी पता चल जाएगी। 😊😊

नर्स भी अपना खुद का हॉस्पिटल खोलने की महत्वाकांक्षा रखने लगती है। प्रशांतकिशोर, बिहार बहुत नोट कमा लिया है अब नोट छापेगा कांग्रेस या लालू की तरह तेरी म... चो... गे Bihar aur bengal main secular 'nautanki' वही करेंगें जो करते आ रहे है। नेताओं की दलाली और कर भी क्या सकता है। घंटा बजायेगा तेरी तरह PrashantKishor

जो पैसा देगा उधर डांस करेंगे सोसाइट न करें बस.. प्रशांत किशोर युवा को बुरबक बना रहे हैं ऐसे लोगो को मीडिया वाले को हाई लाइट ही नहीं करना चाहिए, कभी कोई चल गया तो चल गया, कोई चाणक्य नहीं बन सकता, हा, प्रशांत को कहीं नौकरी तो मिल जाएगी, कम से कम वो बेरोजगार नहीं रहेगा

प्रशांत किशोर आज पटना में करेंगे बड़ा एलान, आगे की रणनीति का करेंगे खुलासाप्रशांत किशोर आज पटना में सुबह 11 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे और आगे की रणनीति का खुलासा करेंगे। Bihar PrashantKishore PrashantKishor

Jyada nhi bolna chahiye Bihar k cm bnenge बढिय़ा रणनीति कार हैं 💐 प्रशांत किशोर अब बंगाल में ममता जी के पास घंटा बजाएंगे। Hindi Ab jhadu marega जिस तरह से सभी नेता लोगों को उल्लु बनाकर देश पर राज कर रहें हैं उसी तरह से प्रशांत किशोर भी करेगा और क्या? करना क्या है... धंधा जोरदार चल रहा है हिलाएंगें झा_ उखाड़ेंगा

घुईयाँ छिलेगा बेवकूफ़ आदमी

प्रशांत किशोर को मिलेगी 'जेड' श्रेणी की सुरक्षा, ममता सरकार ने दी हरी झंडीपिछले साल मई में लोकसभा चुनाव के एक महीने बाद ममता बनर्जी ने टीएमसी को पटरी पर लाने के लिए प्रशांत किशोर को अपने राजनीतिक रणनीतिकार के रूप में चुना था। इन पर भी खर्च हो रहा होगा कुछ ममता जी के पिता कमाई थोड़े है । जनता पैसा खूब उडाओ

कैन्हिया, कांग्रेस और आजेडी के साथ मिलकर एक मजबुत गठबंधन बना कर बीजेपी और जेडीयू से लडना चाहिए अन्यथा बिहार भूल जायें..१००% सत्य🤭 priyankagandhi PrashantKishor yadavtejashwi kanhaiyakumar हवन करेंगे, हवन करेंगे,🔥🔥 PrashantKishor bbchindi Bhayiya game changer hai थूक चाटेंगे कहि ओर जाकर PrashantKishor बहुत जल्द नया पार्टी बनाने वाले है काफी पसंद करते हैं बिहार के जनता प्रशांत किशोर को 🤔

क्या करेगा बेरोजगार थोड़ी है ऐश करेगा पहले गोडसे के विचारधारा वाली सरकार बनाई अब गांधी के तरफ लौटा है आगे आगे देखते जाओ क्या क्या होता है किसी पार्टी को सपोर्ट करेंगे या कोई नई पार्टी बनायेंगे। प्रशान्त किशोर अपनी अलग राह तलाशेंगे.!! एक सूअर पालेगा और तुम लोगों को खिलाएगा।

पटना से प्रशांत किशोर Live: नीतीश किसी के पिछलग्गू बनें, ये नहीं चाहतादिल्ली में केजरीवाल सरकार को प्रचंड बहुमत से सत्ता में वापसी कराकर अपनी रणनीति का लोहा मनवा चुके प्रशांत किशोर मंगलवार PrashantKishor प्रशांत किशोर जी आपके अनुसार BJP गोडसे के विचारधारा हैं तो उस विचार धारा को आगे बढ़ाने में आप का योगदान रहा है ।आपने 2014 के लोकसभा चुनाव में आप BJP के लिये काम लिए थे । PrashantKishor Isko koun puchhta hai PrashantKishor आप चाहते हैं कि आठवीं नवीं फेल और भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों के साथ मिलकर सत्ता चलायें ?

अब सारथी नहीं खुद कमान संभालेंगे प्रशांत किशोर, पटना में मंगलवार को करेंगे बड़ा एलानअब सारथी नहीं खुद कमान संभालेंगे प्रशांत किशोर, पटना में मंगलवार को करेंगे बड़ा एलान PrashantKishor NitishKumar AamAadmiParty BJP4India VinodAgnihotri7 PrashantKishor NitishKumar AamAadmiParty BJP4India VinodAgnihotri7 अच्छी शुरुआत PrashantKishor NitishKumar AamAadmiParty BJP4India VinodAgnihotri7 अपने मन से तो बिहार में 75 मुख्यमंत्री उम्मीदवार पहले से हैं अब देखिये जनता ने तो NDA के पक्ष में अभी तक सोचा है PrashantKishor NitishKumar AamAadmiParty BJP4India VinodAgnihotri7 पंचायत का चुनाव जीत के दिखा दें पहले।

Prashant Kishor Press Conference: पिछलग्गू न बनें नीतीश कुमार, बस इसको लेकर ही मतभेदः प्रशांत किशोरपटना न्यूज़: प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार को पितातुल्य बताया। उन्होंने कहा कि वह नीतीश के फैसले को सहृदय स्वीकार करते हैं। उस पर कोई टीका-टिप्पणी नहीं करेंगे। इस दौरान प्रशांत किशोर ने नीतीश से कहां और क्यों विवाद हुआ, उस पर भी विस्तार से बताया।



कोरोना वायरस: ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन संक्रमित- LIVE - BBC Hindi

मरीजों और हेल्थ वर्कर्स के लिए टाटा ट्रस्ट और समूह कुल 1500 करोड़ खर्च करेगा, देश के किसी भी कॉर्पोरेट की ओर से कोरोना पर सबसे बड़ी मदद

अब तक 724 मामले: शिरडी के श्री साईबाबा संस्थान ट्रस्ट ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 करोड़ रुपए दान किए

कोरोना से निपटने के लिए पीएम-केयर फंड बना; अक्षय कुमार पहले सेलेब जिन्होंने मोदी की अपील पर 25 करोड़ दान किए

कोरोना से जंग: धोनी का योगदान 1 लाख, फैंस भड़के- ये कैसा दान?

मोदी के 24 मार्च के लॉकडाउन भाषण को 19.7 करोड़ लोगों ने टीवी पर देखा और सुना, यह पिछले आईपीएल फाइनल मैच से भी 6.4 करोड़ ज्यादा

कोरोना को ग़रीबों ने नहीं, अमीरों ने फैलाया

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

18 फरवरी 2020, मंगलवार समाचार

पिछली खबर

अर्दोआन ने कश्मीर की रट क्यों लगा रखी है

अगली खबर

कोरोना वायरस: बुज़ुर्ग और बीमार को सबसे ज़्यादा ख़तरा
कोरोना वायरस: इटली में 10 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi कोरोना वायरस: दुनिया भर में 30 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को सता रहा कोरोना का डर, अमर उजाला से साझा किया दर्द फैंस पूछ रहे 688 करोड़ नेटवर्थ वाले भारतीय कप्तान कोहली कोरोना के खिलाफ जंग में कहां हैं? शाह ने कहा- मोदी सरकार प्रवासी मजदूरों की सहायता के लिए वचनबद्ध, हाइवे पर लगेंगे कैंप आनंद विहार पर भयानक मंजर, बदइंतजामी के बीच घर जाने को हजारों लोग उमड़े कोरोना वायरस से निपटने के लिए भारत को 29 लाख डॉलर की मदद देगा अमेरिका अब तक 1009 मामले: आज सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 30, जम्मू कश्मीर में 13 केस आए; कर्नाटक-यूपी में 12-12 मामले सामने आए कोरोना से जंग के लिए पीएम ने बनाया फंड, देशवासियों से की अंशदान की अपील आनंद विहार बस टर्मिनल पर हजारों की भीड़ जुटने से अफरातफरी, घर वापसी के लिए बसों का इंतजाम होने की खबर सुन लोग उमड़े संक्रमण से हुई मौतों पर ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो बोले- सॉरी, कुछ लोग मरेंगे; यही जीवन है LIVE: पलायन करने वालों से CM केजरीवाल की अपील- सारा इंतजाम है, जहां हैं, वहीं रहें
कोरोना वायरस: ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन संक्रमित- LIVE - BBC Hindi मरीजों और हेल्थ वर्कर्स के लिए टाटा ट्रस्ट और समूह कुल 1500 करोड़ खर्च करेगा, देश के किसी भी कॉर्पोरेट की ओर से कोरोना पर सबसे बड़ी मदद अब तक 724 मामले: शिरडी के श्री साईबाबा संस्थान ट्रस्ट ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 करोड़ रुपए दान किए कोरोना से निपटने के लिए पीएम-केयर फंड बना; अक्षय कुमार पहले सेलेब जिन्होंने मोदी की अपील पर 25 करोड़ दान किए कोरोना से जंग: धोनी का योगदान 1 लाख, फैंस भड़के- ये कैसा दान? मोदी के 24 मार्च के लॉकडाउन भाषण को 19.7 करोड़ लोगों ने टीवी पर देखा और सुना, यह पिछले आईपीएल फाइनल मैच से भी 6.4 करोड़ ज्यादा कोरोना को ग़रीबों ने नहीं, अमीरों ने फैलाया कोरोना वायरस: मोदी सरकार की घोषणाएं ऊंट के मुंह में ज़ीरे समान- नज़रिया कोरोना वायरस: दक्षिण कोरिया ने जो किया वो दुनिया के लिए मिसाल लॉकडाउन में फैंस को बड़ा तोहफा, फिर टेलीकास्ट होगी रामायण, जानें कब-कहां देख पाएंगे? कोरोना: अमरीका में एक लाख से ज़्यादा मामले- LIVE - BBC Hindi 12 साल के बच्चे के लिए भारत-पाक ने प्रोटोकॉल तोड़े, पाक से आया बच्चा हार्ट सर्जरी के बाद लौटा; पिता बोले- भारत ने दिल जीत लिया