Supreme Court, Pegasus Case, Central Government, सुप्रीम कोर्ट, पेगासस केस, कांग्रेस, केंद्र सरकार

Supreme Court, Pegasus Case

पेगासस का प्रेत और लोकतंत्र की आत्मा

BLOG: पेगासस का प्रेत और लोकतंत्र की आत्मा

27-10-2021 20:50:00

BLOG: पेगासस का प्रेत और लोकतंत्र की आत्मा

पेगासस भारतीय लोकतंत्र के साथ किसी खिलवाड़ से कम नहीं है. यह संदेह बेजा नहीं है कि इस खिलवाड़ में सरकार भी शामिल है. पेगासस मामले में पूरे भारतीय लोकतंत्र के साथ उसका जो अवहेलना भरा अहंकारी रुख़ रहा है, वह भी इस संदेह की पुष्टि करता है. सरकार लोगों के किसी भी सवाल का जवाब देने को तैयार नहीं है.

पेगासस जासूसी के आरोपों की जांच के लिए एक स्वतंत्र कमेटी बनाने का जो फ़ैसला सुप्रीम कोर्ट ने किया है, उसके निहितार्थ काफ़ी बड़े हैं. क्योंकि मामला अब बस यह जानने का नहीं रह गया है कि सरकार ने इज़राइल की एक कंपनी से पेगासस जैसा जासूसी का उपकरण खरीदा था या नहीं, या उससे उसने भारतीय नागरिकों की जासूसी करवाई या नहीं, अब मामला भारतीय लोकतंत्र में बोलने की आज़ादी और निजता के उस अधिकार को बचाए रखने का हो गया है जिसके बिना कोई भी लोकतंत्र बेमानी हो जाया करता है.

BJP सांसद गौतम गंभीर को पिछले छह दिन में तीसरी बार मिली जान से मारने की धमकी मन की बात LIVE: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद मत दीजिए, मैं हमेशा सेवा में जुटा रहना चाहता हूं Rs 75 में BSNL दे रहा 50 दिन की वैलिडिटी के साथ डाटा और कॉलिंग बेनेफिट्स

यह भी पढ़ें वह यह नहीं बता रही कि उसने पेगासस ख़रीदा है या नहीं. वह यह भी नहीं बता रही कि उसे पेगासस के ज़रिए भारतीय नागरिकों की जासूसी की कोई जानकारी है या नहीं. वह इसकी भी जांच करने को तैयार नहीं है कि यह ख़बर कितनी सही है कि भारत के कई महत्वपूर्ण नेताओं और पत्रकारों के फोन किसी ने पेगासस के ज़रिए हैक किए हैं. जबकि इस सूची में उसके कुछमंत्रियों के नाम भी हैं. अगर यह काम ख़ुद सरकार का नहीं है तो उसे चिंतित होना चाहिए कि आख़िर उसके नागरिकों के साथ यह ख़तरनाक खेल कौन कर रहा है. क्या कोई विदेशी एजेंसी यह काम कर रही है?

लेकिन सरकार बिल्कुल बेपरवाह है. उसे जैसे पेगासस का नाम ही नहीं सुनना है. यह स्थिति तभी संभव है जब उसे ठीक-ठीक पता हो कि पेगासस का इस्तेमाल कौन कर रहा है और किसके ख़िलाफ़ कर रहा है. यही नहीं, पेगासस की जासूसी सूची के जो नाम सामने आए हैं, उनमें नेताओं और पत्रकारों के अलावा कुछ ऐसे मामूली लोग भी हैं जिनका वास्ता सरकार और उनके साथ जुड़े लोगों से है. ऐसे लोगों की जासूसी में कम से कम किसी विदेशी एजेंसी की दिलचस्पी कतई नहीं हो सकती. headtopics.com

पेगासस पर जांच कमेटी बनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने जॉर्ज ऑरवेल के मशहूर उपन्यास ‘नाइन्टीन एटी फोर' का भी ज़िक्र करते हुए उसका यह वाक्य दुहराया कि अगर आप कुछ गोपनीय रखते हैं तो उसे अपने-आप से भी गोपनीय रखना होगा. लेकिन सुप्रीम कोर्ट के किसी जज को जॉर्ज ऑर्वेल और ‘1984' की याद ही क्यों आई? कहीं इसलिए तो नहीं कि मौजूदा सत्ता-प्रतिष्ठान के फ़ैसलों का बेतुकापन इसे ‘नाइन्टीन एटी फोर' के हालात के क़रीब ले आता है. इस उपन्यास का एक काल्पनिक तानाशाह अपने नागरिकों पर निगरानी रखता है. इसका मशहूर वाक्य है- 'बिग ब्रदर इज़ वॉचिंग यू.'

तो बिग ब्रदर इज़ वाचिंग यू. लेकिन किसी सरकार को यह हिम्मत कहां से होती है कि वह एक देश की लोकतांत्रिक प्रतिज्ञाओं का मखौल बनाते हुए सबकी जासूसी कराए और फिर सवाल पूछे जाने पर राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए अपने होंठ सी ले? इस सवाल का जवाब उस संकट की ओर इशारा करता है जो हमारे लोकतंत्र में पिछले कुछ वर्षों में ब़डा होता गया है. हिंदूवादी राजनीति के आक्रामक उभार के इन दिनों में एक बहुत बड़ी बहुसंख्यक आबादी के लिए चीज़ों के सही-ग़लत होने की कसौटी बस एक है- वह मौजूदा सरकार के हक़ में जा रही है या उसके ख़िलाफ़? जिन मुद्दों पर दस साल पहले जनता उबल पड़ती थी, उन पर आज बहुत सारे लोग सरकार का बचाव करते नज़र आते हैं. पेट्रोल के दाम में बढ़ोतरी हो, महंगाई हो, यहां तक कि लखीमपुर खीरी में किसानों के कुचले जाने का मामला हो, लोग अपनी राय इस बात से तय करते हैं कि वह मोदी के पक्ष में जाएगी या विरोध में. किसी एक नेता के चारों ओर सत्ता का यह संकुचन लोकतंत्र के लिए कभी भी शुभ संकेत नहीं होता- खास कर तब, जब इस सत्ता-संकुचन के पीछे एक डरावनी सांप्रदायिक दृष्टि काम कर रही हो.

दुर्भाग्य से पेगासस के मामले में भी यही हो रहा है. इस पर क़ायदे से देश को उबल पड़ना चाहिए था. लेकिन लोग चुप हैं. उन्हें अंदेशा है कि इस मामले में उनका अत्यंत प्रिय नेता संकट में फंस सकता है. उन्हें एहसास है कि पेगासस जासूसी मामले में जो कुछ भी हो रहा है, वह सरकार की जानकारी में हो रहा है. उन्हें शायद यह भी भरोसा है कि सरकार जो कुछ भी कर रही है, वह राष्ट्र के हित में कर रही है- यह अलग बात है कि लगातार होता जा रहा राष्ट्र का अहित उन्हें नज़र नहीं आ रहा.

दरअसल यह वह चीज़ है जो मौजूदा सरकार को किसी भी जांच से महफ़ूज़ रखती है. सुप्रीम कोर्ट ने जो कमेटी बनाई है, उसे आठ हफ़्ते का वक़्त दिया है. लेकिन आठ हफ़्ते में यह कमेटी क्या कर लेगी? अगर सरकार तय कर ले कि वह सुप्रीम कोर्ट की बनाई इस कमेटी के साथ आसानी से सहयोग नहीं करेगी तो वह कौन सी सूचनाएं जुटाएगी और कहां से पता लगाएगी कि पेगासस की खरीद हुई है या नहीं और उसका इस्तेमाल हुआ है या नहीं. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट और कौन से नए दिशा-निर्देश जारी करेगा? भारत में जांच कमेटियों का इतिहास वैसे भी बहुत आश्वस्तिदायी नहीं है. अक्सर जांच कमेटियों का इस्तेमाल किसी मुद्दे को ठंडे बस्ते में डालने के लिए होता रहा है. headtopics.com

'विवादित चेहरा', बेंगलुरु पुलिस बोली रद्द करो मुनव्वर फारुकी का शो, जानें- क्यों? संसद सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक में नहीं पहुंचे PM मोदी, AAP नेता ने भी किया बहिष्कार एप्पल का पेगासस के ख़िलाफ़ अदालत जाना भारत सरकार के लिए शर्मिंदगी का सबब बन सकता है

लेकिन इसके बावजूद पेगासस पर बनी जांच कमेटी का अपना महत्व है. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार का यह प्रस्ताव ख़ारिज कर दिया कि वह अपनी ओर से समिति बनाएगी. उसने बहुत साफ़ और सख़्त शब्दों में कहा कि सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर फ्री पास नहीं ले सकती. अदालत ने ये भी कहा कि नागरिकों की निजता का अधिकार महत्वपूर्ण है. तीसरी बात अदालत ने यह कही कि बोलने की आज़ादी- जो दरअसल प्रेस की आज़ादी है- को कुचला नहीं जा सकता. पेगासस प्रकरण में ये तीनों काम हो रहे थे.

इस ढंग से अदालत ने एक लकीर खींच दी है. राष्ट्रीय सुरक्षा के पद का पिछले दिनों सरकारों ने बहुत दुरुपयोग किया है. यह काम दुनिया भर की सरकारें करती हैं, लेकिन भारत में पिछले कुछ वर्षों में जैसे यह प्रवृत्ति हो गई है. अदालत की टिप्पणी के बाद इस प्रवृत्ति पर रोक लगेगी, यह आशावाद भले कुछ अतिरेकी लगे, लेकिन इसमें संदेह नहीं कि इस प्रवृत्ति को मिल रहा क़ानूनी संरक्षण शायद कुछ कम होगा.

दूसरी बात यह कि अगर वाकई सुप्रीम कोर्ट की बनाई कमेटी पेगासस से जुड़ा कोई सच खोज निकालने में कामयाब रही तो वह इस देश के लोकतांत्रिक अधिकारों की एक बड़ी सेवा होगी. नागरिक अधिकारों के लगातार हनन के इस दौर में लोगों का यह विश्वास मज़बूत होगा कि प्रजातंत्र सिर्फ़ सरकारों के ज़िम्मे नहीं है, उसको बचाने वाली दूसरी व्यवस्थाएं भी हैं.

लेकिन अंततः यह एक राजनीतिक लड़ाई है जिसे लड़े बिना पेगासस के प्रेत और उसके पीछे खड़ी ताकतों से मुक्ति नहीं है. इस मोड़ पर कांग्रेस की मौजूदा ज़िद एक आकर्षक उम्मीद बनाती है. दरअसल संसद से सड़क तक पेगासस की जासूसी का सच उजागर करने की जो लड़ाई होगी, वही इस देश के लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई होगी. बेशक, उसे कुछ पिछली या साथ चल रही लड़ाइयों की मदद मिल सकती है, लेकिन समझने की बात यह है कि यह अंततः जनता की ल़ड़ाई है और जनता को यह समझाना होगा कि राष्ट्रहित और जनहित की बात करते-करते यह सरकार किस हद तक राष्ट्रविरोधी और जनविरोधी हो सकती है. पेगासस का प्रेत ख़त्म होगा तो लोकतंत्र की आत्मा स्वस्थ होगी. headtopics.com

प्रियदर्शन NDTV इंडिया में एक्ज़ीक्यूटिव एडिटर हैं...Listen to the latest songs, only on JioSaavn.comडिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है. Supreme CourtPegasus CasecongressCentral Governmentटिप्पणियां पढ़ें देश-विदेश की ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | कोरोनावायरस के लाइव अपडेट के लिए हमें फॉलो करें |

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

Purvanchal Expressway से BJP की चुनावी गाड़ी पकड़ेगी रफ्तार? Sultanpur से देखें बुलेट रिपोर्टर

सुल्तानपुर के आसमान में भारतीय वायुसेना के गरजते विमानों की दहाड़ बहुत दूर तक सुनाई दे रही है. पूर्वांचल की धरती का बहुत खास सियासी पड़ाव है सुल्तानपुर. यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना के हरक्यूलिस विमान से उतरे और पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया. समझने वाले समझ ही गए होंगे कि कहां निगाहें हैं, कहां निशाना है. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के इस लोकार्पण से बीजेपी भी उम्मीद कर रही है कि उसकी चुनावी गाड़ी भी इस बहाने रफ्तार पकड़ेगी. तो जनता की नब्ज पकड़ने के लिए हमारी संवाददाता चित्रा त्रिपाठी की बुलेट भी यहां की ओर दौड़ पड़ी. देखिए बुलेट रिपोर्टर का ये एपिसोड.

सबसे बड़ा प्रश्न तो नीजता के हनन का है । इसी से जुड़ा है वैचारिक स्वतंत्रता और जीवन का अधिकार । भय का ऐसा माहौल बनाया जा रहा है कि खुद की परछाईं से भी डर लगे । केवल A ही 60 = 60 रandi tv हर वक़्त खांग्रेस के जूठे प्रचार में सामिल हो के कूद पड़ती हे क्यू की मोदी जी से नफ़रत करनी हे वाह दलाल Gujrat riots to judge loya.. To Rafael deal to Pegasus... NDTV is spreading fake news against BJP

इन्हे बांग्लादेश के हिंदुओं की चिंता है लेकिन अपने देश के नागरिकों त्रिपुरा के मुस्लिमों की चिंता नहीं है। ये है इनकी दोगली देशभक्ति SaveTripuraMuslims क्या ? सर् जाँच की आंच आप (नवाब मालिक ) तक नही आवे इसलिए समीर वानखेड़े को टारगेट किया जा रहा है?

प्रेस की स्वतंत्रता महत्वपूर्ण, जो लोकतंत्र का महत्वपूर्ण स्तंभ है : पेगासस जासूसी मामले में SCप्रेस की स्वतंत्रता महत्वपूर्ण, जो लोकतंत्र का महत्वपूर्ण स्तंभ है : पेगासस जासूसी मामले में सुप्रीम कोर्ट Pegasus पेगासस मामले मामले में केंद्र को सुप्रीम कोर्ट से झटका, जांच के लिए एक्सपर्ट कमेटी गठित Pegasus पूरी ख़बरः किस प्रेस की स्वतंत्रता की बात कर रहे हैं जो सिर्फ आज देश में नफरत और झूठ फैला रही है। एक्सपर्ट कमिटी में सदस्य पर निर्भर करेगा कि जांच कैसा होगा. खानापूर्ति होगा या सही मे कुछ होगा.

पेगासस मामले पर राहुल गांधी का मोदी-शाह पर हमला, पात्रा का पलटवार - BBC Hindi कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को पेगासस मामले की जाँच के लिए तीन साइबर विशेषज्ञों की एक समिति नियुक्त करने के सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को एक बड़ा क़दम बताया है और आशा जताई है कि सच सामने आ जाएगा. खा भारत के रहे-गा पाकिस्तान की रहे ! बढ़िया हुआ👍 Good myogiadityanath ji 🙏🙏

पेगासस जासूसी कांड में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, 3 सदस्यीय कमेटी करेंगी मामले की जांचनई दिल्ली। पेगासस जासूसी कांड में बुधवार को सुप्रीम कोर्ट एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में 3 सदस्यीय कमेटी का गठन किया। इसमें रिटायर्ड जज के साथ ही 2 साइबर एक्सपर्ट्स को शामिल किया गया है।

नीट-यूजी का रिजल्ट बनकर है तैयार, इसी हफ्ते हो सकता है जारीमेडिकल में दाखिले से जुड़ी नीट (राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा) अंडर ग्रेजुएट (यूजी) के रिजल्ट का इंतजार कर रहे छात्रों को अब ज्यादा इंतजार करने की जरूरत नहीं है। एनटीए के मुताबिक रिजल्ट तैयार हो चुका है। सुप्रीम कोर्ट से इस संबंध में मार्गदर्शन मांगा गया है। महाराष्ट्र ने छिछोरा मंत्री खुले सांड की तरह छोड दिया मंत्रालय मे आजकल कामकाज कुछ है नही बस संस्थाओ मे कर रहे अधिकारियों को जबरन धोस धमक दिखाने के लिए महाराष्ट्र सरकार लगी है नही शरद पंवार नही उधव कुछ बोल पारहे जैसे नवाब सबका बाप है और पुरी सरकार गुलाम केवल अकल नवाब मेही हैबेशर्म

पेगासस जासूसी मामले में सुप्रीम कोर्ट की बेंच कल सुनाएगी फैसलापेगासस जासूसी केस में सुप्रीम कोर्ट बुधवार को फैसला सुनाएगा.माना जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट पेगासस केस की जांच के लिए एक्सपर्ट कमेटी गठित कर सकता है. केंद्र सरकार ने जनहित और राष्ट्र की सुरक्षा का हवाला देते हुए इस केस में विस्तृत हलफनामा दाखिल करने से इनकार किया था.

पेगासस जांच के लिए बनी कमेटी, जानिए पूरा घटनाक्रम...नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने भारतीय नागरिकों की निगरानी के लिए इसराइली स्पाइवेयर पेगासस के इस्तेमाल के मामले में बुधवार को 3 सदस्यीय समिति का गठन किया है। इस मामले से संबंधित घटनाक्रम इस प्रकार है :