Lipulekh, Nepal, India Nepal, Para-Military Force Sashastra Seema Bal, India Nepal Border, India-Nepal Border Row, India Nepal Border İssue - उत्तरप्रदेश न्यूज़, उत्तरप्रदेश समाचार

Lipulekh, Nepal

पूर्व मंत्री इश्तियाक बोले- वक्त बताएगा लॉकडाउन कितना कारगर, जनता के दबाव में उठा लिपुलेख मुद्दा, यहां भारत से आए 99% कोरोना संक्रमित

नेपाल से रिपोर्ट / पूर्व मंत्री इश्तियाक बोले- वक्त बताएगा लॉकडाउन कितना कारगर, जनता के दबाव में उठा लिपुलेख मुद्दा, यहां भारत से आए 99% कोरोना संक्रमित #lipulekh #Nepal @kunwarjourno @MEAIndia @DrSJaishankar @PMOIndia

02-06-2020 06:51:00

नेपाल से रिपोर्ट / पूर्व मंत्री इश्तियाक बोले- वक्त बताएगा लॉकडाउन कितना कारगर, जनता के दबाव में उठा लिपुलेख मुद्दा, यहां भारत से आए 99% कोरोना संक्रमित lipulekh Nepal kunwarjourno MEAIndia DrSJaishankar PMOIndia

नेपाल में अब तक 6 फेज में लागू हुआ लॉकडाउनपालिकाओं ने उठाई फूड चेन की जिम्मेदारी, कोरोना से अब तक सिर्फ 4 मौत | India Nepal Border Dispute Update | Former Minister Mohammad Ishtiaq Rai Speaks To Dainik Bhaskar as Coronavirus Lockdown Extended Till June 14:पूर्व मंत्री मोहम्मद इश्तियाक राई बोले- लॉकडाउन कितना कारगर, यह समय बताएगा, जनता के दबाव में उठा लिपुलेख मुद्दा, यहां भारत से आए 99 फीसदी कोरोना संक्रमित

Xये तस्वीर नेपाल के पूर्व मंत्री मोहम्मद इश्तियाक राई की है। 19 माह 15 दिन नेपाल सरकार में जनता समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि के तौर पर रहे। सरकार में वह शहरी विकास मंत्री थे, साथ ही उनकी पार्टी के दो अन्य सदस्य भी अलग-अलग विभागों के मंत्री रहे। बीते तीन महीने पहले ही उनकी पार्टी सरकार से अलग हुई है।

WHO ने कहा- कोरोना अभी बद से बदतर होगा, वैक्सीन और इम्युनिटी से भी निराशा नेपाल के पीएम ओली अयोध्या और राम पर अपने ही देश में घिरे ईरान ने भारत को दिया झटका, चार साल पहले मोदी ने किया था करार

नेपाल में अब तक 6 फेज में लागू हुआ लॉकडाउनपालिकाओं ने उठाई फूड चेन की जिम्मेदारी, कोरोना से अब तक सिर्फ 4 मौतरवि श्रीवास्तवJun 02, 2020, 05:51 AM ISTलखनऊ.लिपुलेख, कालापानी व लिम्पियाधुरा पर भारत-नेपाल के बीच ठनी है। वहीं, कोरोनावायरस के प्रसार के लिए नेपाल भारत को जिम्मेदार ठहरा रहा है। इन दोनों मुद्दों पर दैनिक भास्कर ने नेपाल के पूर्व मंत्री मोहम्मद इश्तियाक राई से बातचीत की। इश्तियाक राई 19 माह 15 दिन नेपाल सरकार में जनता समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि के तौर पर रहे। सरकार में वह शहरी विकास मंत्री थे, साथ ही उनकी पार्टी के दो अन्य सदस्य भी अलग-अलग विभागों के मंत्री रहे। बीते तीन महीने पहले ही उनकी पार्टी सरकार से अलग हुई है।

जैसा उन्होंने बताया वैसा ही लिखा गया है...भारत हो या नेपाल लॉकडाउन की एक जैसी स्थितिपूर्व मंत्री मोहम्मद इश्तियाक राई बताते हैं- "भारत हो या अन्य देश लॉकडाउन की एक जैसी स्थिति है। नेपाल में छह फेज में लॉकडाउन लग चुका है। यह कितना कारगर होगा, यह भविष्य की बताएगा। यहां जरूरी सेवाएं चल रही हैं। मास्क कम्पलसरी किया गया है। बिना मास्क के सार्वजनिक स्थानों पर नहीं जाने दिया जाता है। हालांकि, कोई जुर्माना नहीं है। लेकिन पुलिस नियम तोड़ने वालों को अपनी तरीके से सजा देती है। लॉकडाउन के दौरान जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को पास की कोई आवश्यकता नहीं है। बाकी अन्य लोगों को पास की जरूरत होती थी। उसके लिए सिस्टम बनाया गया था।"

काठमांडू शहर का एरियल दृश्य।मनरेगा की तरह यहां भी गांवों में दिया जा रहा काम"भारत में जैसे ग्राम सभाएं हैं, वैसे ही नेपाल में पालिकाएं हैं। यहां फूड चेन का जिम्मा पालिकाओं ने उठा रखा है। कहीं-कहीं दिक्कत है, लेकिन वह भी जल्द ही ठीक होगा। 5 लोगों के परिवार तक 15-15 किलो चावल व गेहूं व बाकी जरूरी सामान दिया जा रहा है। जिस तरह से भारत में मनरेगा है, उसी तरह से यहां भी पालिकाओं द्वारा ग्रामीणों को काम दिया जा रहा है। लेबर मिनिस्ट्री द्वारा बहुत पहले ही कानून बनाया गया था कि ग्रामीणों के लिए गांव में ही काम दिया जाए। वही अभी भी चला आ रहा है। पाकिस्तान और भारत से अभी नेपाल की स्थिति बेहतर है। फ्रंट लाइन वॉरियर्स को 25 लाख का बीमा कवर दिया गया है। उनकी सुरक्षा को लेकर सरकार संवेदनशील है।"

अर्थव्यवस्था चौपट, सरकार ने नहीं की फाइनेंशियल मदद"अर्थव्यवस्था की बात करें तो नेपाल में पर्यटन एकदम खत्म है। नेपाल की अर्थव्यवस्था देखी जाए तो जो लोग यहां से खाड़ी देशों में काम करने जाते हैं। साथ ही जो भारत या अन्य देशों में हैं। उन पर देश की अर्थव्यवस्था टिकी हुई है। ऐसे तकरीबन 40 से 50 लाख लोग हैं। इनमें से 20 से 25 लाख लोग लॉकडाउन के बाद वापस हो जाएंगे, ऐसी संभावना है। ऐसे में अन्य देशों की तरह नेपाल की अर्थव्यवस्था भी खराब हो गयी है। जिसका असर आम पब्लिक पर भी है।

लेकिन अभी कोई फाइनेंशियल सपोर्ट सरकार की तरफ से नही किया गया है। तराई से लेकर पहाड़ तक पर रहने वाले लोग परेशान हैं। शहरों से पलायन हुआ है। शहर के शहर खाली हो गए हैं। शुरुआती 15 से 20 दिन तो ऐसे ही निकल गए। फिर सरकार हरकत में आयी। उसने अपील की जो लोग निकलना चाहते हैं वह अपना रजिस्ट्रेशन करवाएं। उसके बाद प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए बसें वगैरह लगाई गई।"

नेपाल में मास्क लगाना अनिवार्य है।प्रवासियों के लिए भी फूड सिक्योरिटी"इंडिया में फूल सिक्योरिटी है, लेकिन जो परमानेंट है उनके लिए यह व्यवस्था है। नेपाल में परमानेंट के साथ साथ जो प्रवासी हैं, उनके लिए भी फूड सिक्योरिटी है। बैंक ने ब्याज में 2% की छूट दी है। आगे और भी बढ़ाने की योजना है। ईएमआई में 4 महीने की छूट दी गई है। जहां तक मेरी बात है मैं 24 मार्च जबसे लॉकडाउन शुरू हुआ तब से 3 से 4 बार राहत सामग्री बांटने के लिए निकला। हमने एक हेल्पलाइन जारी किया था। जिस पर कॉल करने वाले लोगों को मदद टीम कर रही है।"

संबित पात्रा ने पोस्ट की देहरादून स्टेशन के संस्कृत साइनबोर्ड की तस्वीर, रेलवे ने कहा- नहीं हुआ बदलाव संजय दत्त-सुनील शेट्टी ने बढ़ाया मदद का हाथ, मुंबई के डब्बावालों को पहुंचाई राशन क‍िट प्रियंका गांधी ने कहा, मुझसे जुड़ी यह फ़र्ज़ी ख़बर है, मैंने ऐसा नहीं किया

भारत से आए 99 फीसदी संक्रमित मिले"नेपाल में जो कोरोना संक्रमित हैं, उनमें 99% भारत से आए लोग हैं। जबकि, तीन लोग सिर्फ चीन, इटली जैसे देशों से आए और संक्रमित पाए गए हैं। नेपाल के तराई एरिया में संक्रमण सबसे ज्यादा फैला है। वह भी जो इलाके भारत की सीमा से जुड़े हुए हैं। भारत से जो लोग आए हैं, ज्यादातर उन्ही लोगों में संक्रमण मिलेगा। चीन से जुड़े इलाकों में संक्रमण न के बराबर है। नेपाल में अभी तक 4 डेथ संक्रमण से हुई है। जिसमें एक डेथ भारत के श्रावस्ती जिले से लगी नेपाल सीमा में बांके जिला में भगवानपुर में हुई है।"

लॉकडाउन के बीच रोड पर निकलने वालों से पुलिस को रोककर घर से निकलने की वजह पूछती है।जनता के दबाव में सरकार ने लिपुलेख मुद्दा उठाया"नेपाल में अभी भी संसद चल रही है। लेकिन, इस बार कायदे बदले हुए हैं। 2 मीटर की दूरी पर हम लोग बैठ रहे हैं। रोज हमारा तापमान मापा जा रहा है। 8 से 10 सांसद इस वक्त अलग अलग दिक्कतों की वजह से नही आ पा रहे हैं जबकि बाकी सांसद रोज आ रहे हैं। लिपुलेख विवाद भारत की तरह ही नेपाल में भी सुर्खियों में बना हुआ है। आपको बता दूं कि लिपुलेख से नेपालियों का जुड़ाव है। इसको लेकर कई जगह लॉक डाउन के बीच आम जनता ने प्रदर्शन वगैरह भी किया गया। इसका समाधान भी यही है की आपस मे बातचीत की जाए। आपको बता दूं कि जनता के दबाव के बाद ही सरकार ने इस पर कदम उठाए।"

और पढो: Dainik Bhaskar »

kunwarjourno MEAIndia DrSJaishankar PMOIndia ईस्तियाक कहीं गोवंडी, चेंबूर, मुंबई से तो नहीं है? जांच होनी चाहिए।

कोरोना वायरस से जंग में क्या कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में पिछड़ रहा है भारत?डेटा से पता चलता है कि भारत कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में बहुत पीछे है, हालांकि वायरस के प्रसार को काबू में रखने के लिए कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग सबसे अहम रास्ते के तौर पर उभरा है. उत्तर प्रदेश में नहीं हुई कई साल से भर्ती माननीय मुख्यमंत्री जी से अपील है कि जल्द से जल्द भर्ती निकाली जाए।

दिल्ली में फिर टूटा कोरोना का रिकॉर्ड, 24 घंटे में 1295 नए पॉजिटिव केसदिल्ली में एक तरफ मरीजों की संख्या बढ़ रही है तो दूसरी ओर इस बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की तादाद में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है. पिछले 24 घंटे का रिकॉर्ड देखें तो 416 कोरोना मरीज ठीक हुए हैं. PankajJainClick Lock down ka sakti se palan karna chaiye PankajJainClick कोई बात नही केजरीवाल जी पहले ही बोल चुके है घबराने की बिल्कुल भी जरुरत नही है अस्पताल भी आने की जरुरत नहीं है, घर पर ही खुद इलाज करे!!!! PankajJainClick Nhi bhai kejariwal NE kha he unhone 1700 se safar suru kiya he, 0 Se nhi or delhi ke jis aspatal me ilaj Ho rha he woh Central me aata he, mungerilal ko sirf loko 60 din tak Ghar me ked rakhna tha, khol dijiye delhi ko kyu Red zon ME rakha, Bhai tv me aane pursat Mile tab

झारखंड में कोरोना का कहर, एक दिन में आए सबसे ज्यादा 72 मामलेरांची न्यूज़: झारखंड में एक दिन में कोरोना वायरस (Coronavirus Latest Update) के 72 नए केस सामने आए हैं। जिसमें जमशेदपुर के 43, धनबाद के 13, हजारीबाग के 4, सिमडेगा के 4, खूंटी के 2, गढ़वा के 2 और गुमला-पलामू- साहेबगंज-पाकुड़ में एक-एक पॉजिटिव (Jharkhand me Corona ke Mamle) मिले हैं।

विशेषज्ञों की राय: बारिश में बढ़ सकता है कोरोना संक्रमण, नमी में तीव्र होते हैं वायरसWHO MoHFW_INDIA nytimes WHO MoHFW_INDIA nytimes बात तो क़तई सही कही। WHO MoHFW_INDIA nytimes कौन विशेषज्ञ, कौनसा WHO पहले आप तो एकमत हो जाईये कि ये कैसे-क्या बढता/फैलता है ! पहले भी आप जैसे नाकारा लोगों ने कहा था कि 25 °C से ऊपर तापमान होने पर दम तोड़ने लगेगा, जबकि अब वो तापमान 40-45° पहुँच गया और अब कहते हो कि भारत में जून-जुलाई में बहुत तेजी से पैर पसारेगा ये !!

कोरोना वायरस: एक हफ्ते में 50 हजार बढ़े मामले, दुनिया में सातवें स्थान पर पहुंचा भारतवहीं अब भारत में मरीजों के ठीक होने की दर 42 प्रतिशत से बढ़कर 47 प्रतिशत हो गई है। Coronavirus CoronaUpdatesInIndia और मरने की ये भी तो बता दो bring death rate under 1 % , that is important, see russia लोनी में आई बाढ़,,, कॉलोनियों में भरा गंदा पानी,,, दुकानों में घरों में भी गया गंदा पानी,,,

कोरोना का कहर: मई में भी देश की मैन्युफैक्चरिंग गिरी, अप्रैल में हुई थी रिकॉर्ड गिरावटआईएचएस मार्किट परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) के अनुसार मई महीने में भी देश की मैन्युफैक्चरिंग में गिरावट आई है. PMI सर्वे के अनुसार मई महीने में मैन्युफैक्चरिंग का पीएमआई 30.8 रहा जो गिरावट को दर्शाता है. इसके पहले अप्रैल महीने में मैन्युफैक्चरिंग में रिकॉर्ड गिरावट आई थी. मतलब इतना झूठ इतने बड़े पद पर बैठकर कैसे बोल लेते और कमाल तो अंजना ओम कश्यप कर रही है हर बात पर हां हां हां हूम उम उम्म्म्म्म्म्म् StepDownModi

सचिन पायलट के साथ माने जा रहे तीन विधायकों का U-टर्न, कहा- 'हम कांग्रेस के सच्चे सिपाही' कांग्रेस के सचिन अब क्या बीजेपी के लिए 'बल्लेबाज़ी' करेंगे? राहुल गांधी का हमला, कहा- PM मोदी के रहते भारत की जमीन को चीन ने कैसे छीन लिया सचिन पायलट BJP के संपर्क में, 30 MLA भी छोड़ सकते हैं कांग्रेस का दामन नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बेतुका बयान, बोले- भारत ने बनाई नकली अयोध्या Coronavirus Vaccine News: कोरोना वैक्‍सीन पर रूस ने मारी बाजी, सेचेनोव विश्वविद्यालय का दावा सभी परीक्षण रहे सफल सचिन पायलट के साथ दिल्ली गए राजस्थान के विधायकों ने कहा, 'हम कांग्रेस के साथ हैं, कोई विवाद नहीं है' योगी सरकार की 'ठोंको नीति' से इंसाफ़ मिलेगा या अपराध बढ़ेगा? कोरोना वायरस: रूस का दावा, उसने कोरोना की वैक्सीन का सफल परीक्षण किया - BBC Hindi सेना में इंजीनियरिंग के 9000 से अधिक पद समाप्त, युवाओं में उत्साह कोरोना वायरस: 12 से 26 जुलाई के बीच भारत के पाँच शहरों से UAE की विशेष उड़ानें - BBC Hindi