पूर्वांचल के दो बड़े राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों को हुआ क्या है?: नज़रिया

पूर्वांचल के दो बड़े राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों को हुआ क्या है?: नज़रिया

16.9.2019

पूर्वांचल के दो बड़े राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों को हुआ क्या है?: नज़रिया

बीएचयू के मौजूदा विवाद के बहाने भारत के यूनिवर्सिटी के हाल पर एक टिप्पणी.

ये एक्सटर्नल लिंक हैं जो एक नए विंडो में खुलेंगे शेयर पैनल को बंद करें इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA /BBC यह सिर्फ़ संयोग नहीं है कि जब देश में टाइम्स हायर एजुकेशन (लन्दन) की ओर से जारी दुनिया के श्रेष्ठ विश्वविद्यालयों की सूची में पहले तीन सौ विश्वविद्यालयों में भारत के एक भी विश्वविद्यालय/संस्थान के न होने और उनकी रैंकिंग में गिरावट की ख़बर सुर्ख़ियों और सम्पादकीय चिंताओं में है, उसी समय देश के दो सबसे पुराने और जानेमाने विश्वविद्यालय- बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बी.एच.यू) और इलाहाबाद विश्वविद्यालय ग़ैर-अकादमिक कारणों से सुर्ख़ियों में हैं. बीएचयू में यौन उत्पीड़न के अभियुक्त एक प्रोफ़ेसर की बहाली के ख़िलाफ़ छात्राओं को एक बार फिर सड़कों पर उतरना पड़ा है, वहीं इलाहाबाद विश्वविद्यालय में मध्यकालीन इतिहास के एक दलित शिक्षक को अपने तीखे विचारों के कारण जान के लाले पड़े हुए हैं और वे छुपते फिर रहे हैं. बीएचयू में छात्राओं के तीखे विरोध के कारण विश्वविद्यालय प्रशासन को मजबूरी में अभियुक्त प्रोफ़ेसर को छुट्टी पर भेजना पड़ा है लेकिन सवाल यह है कि आंतरिक जाँच समिति की रिपोर्ट में यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोपों में दोषी पाए जाने के बावजूद अभियुक्त प्रोफ़ेसर को विश्वविद्यालय की सर्वोच्च नीति निर्णायक (गवर्निंग बोर्ड) समिति- कार्यकारी परिषद ने दिखावटी 'सज़ा' देकर बहाल करने का फ़ैसला कैसे और क्यों किया था? वैसे देश के अन्दर लगातार वैचारिक रूप से एक-दूसरे को सहन न करने और भारतीय समाज को पीछे धकेलने की बढ़ रही कोशिशों के कारण बने ज़हरीले माहौल के बीच अधिकांश भारतीय विश्वविद्यालयों/संस्थानों की मौजूदा बदहाली और लगातार गिरावट बहुत हैरान नहीं करती है. लेकिन देश के दो सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों से आ रही ये ख़बरें और ये घटनाएं निराश और चिंतित ज़रूर करती हैं. ये बताती हैं कि अधिकांश विश्वविद्यालयों की तरह इन दोनों विश्वविद्यालयों में भी वैचारिक, सामाजिक, लैंगिक आज़ादी और खुलेपन की जगह कितनी कम होती जा रही है और लैंगिक अधिकारों को लेकर प्रशासन का नज़रिया कितना चलताऊ हो गया है. ये मामूली घटनाएं नहीं हैं. इनसे पता चलता है कि 21वीं सदी के दूसरे दशक में भी उत्तर प्रदेश और पूर्वांचल के दो बड़े विश्वविद्यालय और एक मामले में पूरे हिंदी पट्टी के अधिकांश विश्वविद्यालय न सिर्फ़ सामंती-पितृसत्तात्मक (फ्यूडल-पैट्रीआर्कल) सोच में जकड़े हुए हैं बल्कि इन परिसरों में बौद्धिक-सामाजिक जड़ता और वैचारिक तंगनज़री बढ़ी है. ऐसा क्यों है? इसके कई कारण हैं. एक तो देश भर में पिछले कुछ वर्षों से जिस तरह का कट्टर, बुद्धि-विरोधी और समाज को पीछे लौटा ले जानेवाला (प्रतिगामी) माहौल बना है, उसका केन्द्रक (न्यूक्लियस) यही इलाक़ा है. ज़ाहिर है कि ये विश्वविद्यालय भी उससे अछूते नहीं हैं. दूसरे, इन विश्वविद्यालयों की सामाजिक संरचना शुरुआत से मोटे तौर पर सामंती-पितृसत्तात्मक सोच और ढाँचे में बंधी रही है. इस इलाक़े के ज़्यादातर परिसरों की तरह इन दोनों परिसरों में भी हमेशा से इस इलाक़े की दबंग उच्च जातियों का दबदबा रहा है. 60 के दशक के बाद इन परिसरों में दबंग जातिवादी गिरोहों और उनसे जुड़े ठेकेदार-अफ़सरों-छात्र नेताओं और अपराधियों का बोलबाला बढ़ता गया. विश्वविद्यालयों में छात्रों की मौजूदगी यही दौर है जब इन विश्वविद्यालयों का राष्ट्रीय चरित्र छीजने लगा और उनका स्थानीयकरण बढ़ने लगा. विडम्बना देखिए कि ये"विश्वविद्यालय" कहने को विश्वविद्यालय रह गए जिनमें 'विश्व' तो पहले भी नहीं था, देश के अलग-अलग राज्यों से आनेवाले छात्र-छात्राओं की संख्या भी तेज़ी से गिरने लगी. इस तरह ये विश्वविद्यालय सही मायनों में 'राष्ट्रीय' भी नहीं रह गए. इन परिसरों में आसपास के कुछ ज़िलों के छात्रों ख़ासकर उच्च जाति और पुरुष छात्रों की संख्या बढ़ने लगी. 70 के दशक के उत्तरार्ध में संजय गाँधी के उभार और राजनीति के अपराधीकरण ने रही-सही कसर पूरी कर दी. इसके बाद इन परिसरों का अपराधीकरण और तेज़ी से बढ़ा जिसके पीछे भी दबंग जातिवादी-सामंती गिरोहों की मुख्य भूमिका थी. इन्हें खुला राजनीतिक संरक्षण हासिल था. इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA इन परिसरों में इन सामंती-जातिवादी अपराधी गिरोहों का दख़ल इस हद तक बढ़ता गया कि वे शिक्षकों की नियुक्ति से लेकर छात्रों के दाख़िले तक में हस्तक्षेप करने लगे. छात्रावासों में अवैध क़ब्जे होने लगे और छात्रावासों को दबंग उच्च जातियों के क़ब्जे के आधार पर पहचाना जाने लगा. इसी दौर में इन दोनों विश्वविद्यालयों के संकायों में भी धीरे-धीरे आसपास के ज़िलों और हिंदी पट्टी से आनेवाले शिक्षकों की संख्या बढ़ने लगी. नियुक्तियों में प्रतिभा और गुणवत्ता की अनदेखी की गई और जातिवाद, भाई-भतीजावाद और क्षेत्रवाद निर्णायक हो गए. शिक्षण और शोध बेमानी से हो गए. आश्चर्य नहीं कि आज़ादी के 72 वर्षों बाद भी इन विश्वविद्यालयों के शिक्षकों में सामाजिक-लैंगिक विविधता बहुत कम है. दलित-पिछड़े-अल्पसंख्यक और महिला शिक्षकों की संख्या आनुपातिक रूप से बहुत कम है. यही नहीं, इक्का-दुक्का अपवादों को छोड़कर इन विश्वविद्यालयों के संचालन का प्रशासनिक ढांचा और उसकी सोच भी सामंती-पितृसत्तात्मक जकड़बंदी में क़ैद नौकरशाही के हाथों में ही रही है. उसमें आधुनिक जनतांत्रिक मूल्यों और सोच का न सिर्फ़ अभाव रहा बल्कि उसके प्रति एक खुला तिरस्कार का भाव भी रहा है. छात्राओं की मांग के आगे क्यों झुक गया बीएचयू प्रशासन नतीजा यह कि विश्वविद्यालय को चलाने में छात्र-छात्राओं और शिक्षकों को एक महत्वपूर्ण भागीदार मानने और संवाद और सहमति के ज़रिये उसे चलाने के बजाय लम्बे समय से यह हो रहा है कि कुलपति के इर्द-गिर्द इकट्ठा शिक्षकों/अधिकारियों-कर्मचारियों का एक छोटा सा जातिवादी-सामन्ती गुट विश्वविद्यालय चलाता है. अनुशासन के नामपर परिसरों को एक अघोषित जेल में बदल दिया गया है जहाँ प्राक्टओरियल बोर्ड को न सिर्फ फ़ौज-फांटे से लैस अनाधिकारिक पुलिस में बदल दिया गया है बल्कि उसे असीमित ताक़त दे दी गई है. यह सही है कि यह सब एक दिन, महीने या साल में नहीं हुआ है. इन विश्वविद्यालयों में नौकरशाही हावी है और ख़ुद कुलपति नौकरशाहों की तरह व्यवहार करते हैं. वह परिसर को सामंती दबंगई और पितृसत्तात्मक अनुशासन के डंडे से हांकता रहा है. ज़ाहिर है कि उसमें छात्र-छात्राओं और उनकी मांगों, ज़रूरतों और आकांक्षाओं के प्रति तनिक भी संवेदनशीलता नहीं है. इमेज कॉपीरइट PTI क्या यह हैरान करनेवाली बात नहीं है कि इन दोनों विश्वविद्यालयों के सौ साल से ज्यादा के इतिहास में आज तक कोई महिला कुलपति नहीं हुई है. क्या कारण है कि मौजूदा कुलपतियों को छोड़कर ख़ासकर बीएचयू में पिछले डेढ़-दो दशक में जितने कुलपति नियुक्त हुए, वे दो दबंग सामंती जातियों के थे? यही नहीं, बीएचयू के गवर्निंग बोर्ड- कार्य परिषद में कोई महिला प्रोफ़ेसर नहीं हैं? यह भी कि जिन विश्वविद्यालयों में 32 से 44 फ़ीसदी छात्राएं हैं, उसके कुल शिक्षकों में महिलाओं की संख्या बहुत कम है. इसके साथ ही उसके शिक्षकों और अधिकारियों में समाज के कमज़ोर वर्गों से आनेवाले ख़ासकर दलितों, पिछड़ों और आदिवासियों का प्रतिनिधित्व न के बराबर है. कहने की ज़रूरत नहीं है कि विश्वविद्यालयों के इस प्रशासनिक ढाँचे में छात्र-छात्राओं और शिक्षकों से संवाद की कोई गुंजाइश बहुत कम है. वह किसी भी तरह से समावेशी नहीं है- न सामाजिक रूप से और न लैंगिक रूप से और न वैचारिक रूप से. लेकिन हाल के वर्षों में दाख़िले में आरक्षण के कारण परिसरों में दलित और पिछड़े छात्रों की संख्या बढ़ी है और छात्राओं की संख्या में भी आश्चर्यजनक रूप से उछाल आया है. इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्राओं की संख्या कुल छात्रों का 32 फ़ीसदी तक पहुँच गई है जबकि बीएचयू में छात्राएं कुल छात्रों की 44 फ़ीसदी हो गई हैं. पिछले दस सालों में इस विश्वविद्यालय में लड़कियों के दाख़िले में 131 फ़ीसदी का इज़ाफ़ा हुआ है. उनके दाख़िले में वृद्धि की दर 8 फ़ीसदी थी जो लड़कों की तुलना में ज़्यादा है. आज़ादी चाहती है लड़कियां इमेज कॉपीरइट Vikas Singh अगर बीएचयू में लड़कियों के दाख़िले में वृद्धि की यह दर बनी रही तो वह दिन दूर नहीं है जब इस परिसर में लड़कियों की संख्या कुल विद्यार्थियों के 50 फ़ीसदी या उससे अधिक हो जायेगी. इन छात्राओं में अच्छा-खासा हिस्सा शहरी-औद्योगिक पृष्ठभूमि यानी रांची, धनबाद, बोकारो, जमशेदपुर, दुर्गापुर, कोलकाता, पटना आदि शहरों से आ रहा है. ये छात्राएं परिसर में सुरक्षा चाहती हैं लेकिन"सुरक्षा" के नामपर ख़ुद को जेल में बंद रखने के लिए तैयार नहीं हैं. वे बेख़ौफ़ आज़ादी चाहती हैं. वे परिसर में बिना डर और शर्म के सिर उठाकर चलना चाहती हैं. ये छात्राएं चाहती हैं कि लड़कों की तरह उन्हें भी परिसर में कभी भी बिना किसी डर और चिंता के अपनी कक्षा, लाइब्रेरी, कैंटीन, स्पोर्ट्स ग्राउंड, छात्रावास और बाज़ार आदि सार्वजनिक स्थानों पर आने-जाने से लेकर दोस्तों से मिलने-जुलने, घूमने-फिरने, अपनी पसंद का खाने-पीने और पहने-ओढ़ने की आज़ादी हो. वे अब परिसर में दोयम दर्जे की नागरिक बनकर नहीं रहना चाहती हैं और न ही लैंगिक भेदभावपूर्ण नियमों को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं. वे परिसर में और उससे बाहर भी सुरक्षा, सम्मान, बराबरी और अपने जीवन से जुड़े फ़ैसले ख़ुद करने का हक़ चाहती हैं. लेकिन 'गहन अंध-कारा' के प्रतीक बन गए इन परिसरों में उम्मीद की किरण भी यही छात्राएं और धीरे-धीरे बढ़ती दलित-पिछड़े छात्रों की संख्या है. दरअसल, बीएचयू की छात्राओं ने एक बार फिर सड़क पर उतरकर उस मध्ययुगीन सामंती-पितृसत्तात्मक सोच को चुनौती दी है जो उन्हें 'विश्वविद्यालय' के खुले और आज़ाद स्पेस में भी"भारतीय संस्कृति और परम्परा" के नाम पर यौन उत्पीड़न और लैंगिक भेदभाव के मामलों पर चुप रखना चाहता है. वे ये मांगें आज से नहीं बल्कि पिछले कई सालों से उठा रही हैं. इससे पहले भी परिसर में यौन दुर्व्यवहार की घटनाओं के ख़िलाफ़ वे विरोध जता चुकी हैं. याद रहे 2013 में भी छात्राओं के एक बड़े समूह ने विरोध प्रदर्शन किया था. इधर पिछले डेढ़-दो सालों से वे महिला छात्रावास के बेतुके, दकियानूसी और भेदभावपूर्ण नियमों के ख़िलाफ़ लगातार मुखर रही हैं. उन्हें आपत्ति है कि जिस घर की चहारदीवारी से निकलकर वे जिस विश्वविद्यालय के खुले और आज़ाद स्पेस में अपना स्वतंत्र व्यक्तित्व और पहचान बनाने आईं हैं, वहीं विश्वविद्यालय उन्हें फिर से उसी दकियानूसी सामंती-पितृसत्ता की नई चहारदीवारी में क़ैद करने की कोशिश कर रहा है. बदलाव के अंतर्विरोध साफ़ है कि 21वीं सदी के दूसरे दशक में बीएचयू और इलाहाबाद विश्वविद्यालय को 16वीं या 17वीं या उससे पहले की सोच और मानसिकता के साथ नहीं चलाया जा सकता है. इस बीच गंगा में बहुत पानी बह चुका है. समय बदल रहा है, समाज और देश बदल रहा है और इसके साथ ये विश्वविद्यालय भी सामाजिक सतह के नीचे चल रहे सामाजिक उथल-पुथल (सोशल चर्निंग) से गुजर रहे हैं. यह तथ्य है कि बीएचयू के विद्यार्थियों के सामाजिक प्रोफ़ाइल में पिछले डेढ़-दो दशकों में काफ़ी बदलाव आया है. यह बदलाव 80 के दशक के उत्तरार्ध में शुरू हुआ था लेकिन पिछले एक दशक में काफ़ी तेज़ हुआ है. इमेज कॉपीरइट ANURAG/BBC इन दोनों विश्वविद्यालयों ख़ासकर बीएचयू में पूर्वी और मध्य उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार के आसपास के ज़िलों की ग्रामीण और सामंती पृष्ठभूमि से आनेवाले छात्रों की संख्या में कमी आई है. इस बीच, एक बड़ा बदलाव यह भी आया है कि परिसर में हमेशा हाशिये पर रहे और सामाजिक/शारीरिक प्रताड़ना के शिकार दलित और पिछड़े वर्गों से आनेवाले छात्र-छात्राओं की संख्या में भी उल्लेखनीय वृद्धि हुई है. कहने की ज़रूरत नहीं है कि परिसर के जनसांख्यकीय प्रोफ़ाइल में आ रहा यह बदलाव किसी ख़ामोश क्रांति से कम नहीं है. लेकिन परिसर में आ रहे इस बदलाव के साथ कई नए अंतर्विरोध और तनाव भी पैदा हो रहे हैं. ऐसा लगता है कि दबंग सामन्ती-पितृसत्तात्मक तत्व और उनकी दकियानूसी सोच इसे बर्दाश्त नहीं कर पा रही हैं. वे इसे रोकने और अपना दबदबा बनाए रखने की पुरज़ोर कोशिश कर रहे हैं. इसके लिए वे 'भारतीय संस्कृति' और राष्ट्रवाद की आड़ ले रहे हैं. इससे परिसरों में नए तनाव और सामाजिक-लैंगिक टकराव पैदा हो रहे हैं. इसे दबाने के लिए अनुशासन की दुहाई दी जा रही है और 'भारतीय संस्कृति' के डंडे का इस्तेमाल किया जा रहा है. लेकिन ये परिसर और ख़ासकर छात्राएं लोकतान्त्रिक खुलेपन, व्यक्तिगत आज़ादी, समान व्यवहार और सम्मान के साथ अपनी सुरक्षा और अपराधियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग कर रही हैं. नए और युवा अध्यापक ख़ासकर दलित-पिछड़े-अल्पसंख्यक समुदायों और दूसरे राज्यों से आनेवाले शिक्षक भी ऐसा माहौल चाहते हैं जिसमें उन्हें अपने क्रिटिकल और यहाँ तक कि विवादास्पद विचारों के कारण निशाना नहीं बनाया जाए. उन्हें कक्षाओं में खुली चर्चा, बहस और सवाल उठाने-सुनने की आज़ादी हो. मौजूदा घटनाओं से साफ़ है कि इन परिसरों को अब डंडे से नहीं हांका जा सकता है और न ही उसे जेल बनाने से समाधान होनेवाला है. इन परिसरों में अगर बेहतर लिखने-पढने-शोध का माहौल बनाना है और उन्हें सचमुच, विश्वविद्यालय बनाना है तो उन्हें सामंती-पितृसत्तात्मक सोच और जकड़न और जातिवादी अपराधी गिरोहों से आज़ाद करवाना ही पड़ेगा. आज उन्हें 21वीं सदी के नए दौर और सरोकारों के अनुकूल एक संवेदनशील और समावेशी प्रशासन की ज़रूरत है. इमेज कॉपीरइट ANURAG/BBC यह इन विश्वविद्यालयों का एक आत्मसंघर्ष भी है जिसमें नीचे से उठती नए, आधुनिक और जनतांत्रिक मूल्यों की मांग और ऊपर आक्टोपसी जकड़ जमाए बैठे दकियानूसी मध्ययुगीन सामन्ती-पितृसत्तात्मक सोच के बीच पैदा हुए इस निर्णायक टकराव से ही भविष्य की दिशा तय होगी. (लेखक बीएचयू के छात्र यूनियन के अध्यक्ष रह चुके हैं.) (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप और पढो: BBC News Hindi

Delhi Violence: विवादित बयान देने वाले कपिल मिश्रा बोले, 'जान से मारने की दी जा रही है धमकी'



दिल्ली हिंसा: कॉन्स्टेबल की मौत पर गृह मंत्री अमित शाह ने पत्नी को लिखा पत्र, कही ये बात

Delhi Violence LIVE: हिंसा प्रभावित नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश



Delhi Violence: अब तक 13 लोगों की मौत, कमान संभालने मैदान में उतरे अजीत डोभाल

बारूद के ढेर पर बैठी दिख रही है दिल्ली: ग्राउंड रिपोर्ट



सेब नहीं रख पाई, वो व्रत पर थे: दिल्ली हिंसा के शिकार जवान रतनलाल के घर का हाल

Delhi Violence LIVE: हिंसा के बीच सीलमपुर पहुंचे NSA डोभाल, हालात का लिया जायजा



शिक्षा जगत में BHU में यह सब होना बहुत अच्छी बात नहीं है Mackley education system ke side effects.

गांजे के 10 सबसे बड़े बाजार में भारत के दो बड़े शहर, दुनिया में सबसे कम कीमत है यहांगांजे के 10 सबसे बड़े बाजार में भारत के दो बड़े शहर, दुनिया में सबसे कम कीमत है यहां CannabisPriceIndex2018 DelhiThirdLargestCannabisConsumer MumbaiSixthLargestCannabisConsumer WorldTop10BiggestCannabisMarket DelhiNews Hahahaha सारे नशे बैन हो जाए भारत मे तो अच्छा है । देश के नौजवानों को खोखला करने पर लगे हुए हैं

छेड़छाड़ के आरोपी प्रोफेसर के दोबारा यूनिवर्सिटी में लौटने के बाद BHU में हंगामाबनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) की कुछ छात्राओं ने शनिवार को परिसर के सिंह द्वार को जाम कर दिया. गेट जाम कर बीएचयू प्रशासन के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया और विरोध दर्ज कराया. छात्राओं की मांग है कि जंतु विज्ञान के उस प्रोफ़ेसर के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाए जिस पर छात्राओं ने छेड़ख़ानी का आरोप लगाया है. 😠 मुझे उक्त प्रकरण की सच्चाई तो बिल्कुल ही नहीं पता है लेकिन अक्सर महिला सम्बन्धी कानून का दुरुपयोग किया जाता है।

तेजस्वी ने कार्यकर्ताओं के बहाने बड़े भाई तेजप्रताप को दिया अल्टीमेटमRJD के युवराज यानी Tejashwi Yadav के तेवर कुछ बदले-बदले से हैं. पहले पार्टी गतिविधियों से भागने वाले तेजस्वी अब दल के लोगों को गुरुमंत्र भी दे रहे हैं और Tej Pratap Yadav को अल्टीमेटम भी. | bihar News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी yadavtejashwi कोन किसके आगे पीछे वो तो वक्त तय करेगा तेजस्वी ? yadavtejashwi चोर और चोर की पीढ़ी को ही अधिकार है चेहरे चमकाने का तुम दरी बिछाओ 😀👌 yadavtejashwi Ukhad loge kya ?

सऊदी के सबसे बड़े तेल ठिकानों पर हमले से अमेरिका-ईरान में ठनी, तनाव गहरायाAre kuch nahi gehraya. Chill maaro रोज़ का ड्रामा है चलो आगे बढ़ो 'तनाव' अच्छा है !! 'तनाव' है तो मजा है नहीतो फिर 'सजा' है 😂😂😁😁😀😀😁😂😁

श्रीनगर में छिपे हैं दो दर्जन आतंकी, दहशत फैलाने के लिए खुलेआम कर रहे ये कामजम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के श्रीनगर (Srinagar) और इसके आसपास के क्षेत्रों में करीब दो दर्जन आतंकवादी (Terrorists) मौजूद हैं और कुछ इलाकों में वे दुकानदारों को खुलेआम धमकी दे रहे हैं जिसको लेकर सुरक्षा बलों (Security Forces) में काफी चिंता है. | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी सभी घुसपैठियों को चुन चुन कर बीच चौराहे पर लटका के गोली मार देना है इन चूहों को इनके बिल से निकाल के मारेगी हमारी सेना SundayThoughts ७ लाख फौज के होते हुए घुसे कैसे ? अगर घुस भी गये तो जीवित कैसे ?

तेलंगाना: मुख्यमंत्री केसीआर के कुत्ते की मौत, दो डॉक्टरों पर एफआईआरजानकारी के अनुसार पुलिस ने एनिमल केयर क्लिनिक के डॉक्टर लक्ष्मी और डॉक्टर रंजीत पर भारतीय दंड संहिता की धारा 429 और 11 यहाँ आदमी की मौत पर कुछ नही करते ये कुत्ते की मौत पर डॉक्टर पर एफआईआर कर दी Neta ke kutte ki maut par fir Aam aadmi ki maut par jashn



गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई की मांग की

डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे

सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak

ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा

दिल्ली हिंसाः पुलिस पर गोली तानने वाला शख़्स CAA समर्थक प्रदर्शन का हिस्सा था?- फ़ैक्ट चेक

कपिल मिश्रा का पुलिस को अल्टीमेटम, तीन दिन में सड़क खाली कराएं वरना हम आपकी भी नहीं सुनेंगे

दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

16 सितम्बर 2019, सोमवार समाचार

पिछली खबर

तमिलनाडु : 'हिंदी' पर डीएमके हुई लाल, केंद्र के खिलाफ पूरे राज्य में प्रदर्शन का एलान

अगली खबर

बीबीसी के नाम पर वायरल होती फ़र्ज़ी स्विस बैंक खाताधारकों की सूची
Delhi Violence: विवादित बयान देने वाले कपिल मिश्रा बोले, 'जान से मारने की दी जा रही है धमकी' दिल्ली हिंसा: कॉन्स्टेबल की मौत पर गृह मंत्री अमित शाह ने पत्नी को लिखा पत्र, कही ये बात Delhi Violence LIVE: हिंसा प्रभावित नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश Delhi Violence: अब तक 13 लोगों की मौत, कमान संभालने मैदान में उतरे अजीत डोभाल बारूद के ढेर पर बैठी दिख रही है दिल्ली: ग्राउंड रिपोर्ट सेब नहीं रख पाई, वो व्रत पर थे: दिल्ली हिंसा के शिकार जवान रतनलाल के घर का हाल Delhi Violence LIVE: हिंसा के बीच सीलमपुर पहुंचे NSA डोभाल, हालात का लिया जायजा हैदराबाद में शाहीन बाग क्यों नहीं वाली टिप्पणी पर फंसे इमरान प्रतापगढ़ी, एफआईआर हल्ला बोल: रेडिकल इस्लामिक आतंक पर ट्रंप की पाक को चेतावनी! ट्रंप और मेलानिया का प्रेसिडेंट हाउस में डिनर, राष्ट्रपति कोविंद ने परंपरा तोड़कर किया मेहमानों का स्वागत देखिए, राष्ट्रपति भवन में डोनाल्ड ट्रंप और मेलानिया का डिनर धुएं और आग में लिपट गई दिल्ली, 3 दिन में 10 की मौत, 2 IPS; 56 पुलिस समेत 186 लोग जख्मी
गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई की मांग की डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा दिल्ली हिंसाः पुलिस पर गोली तानने वाला शख़्स CAA समर्थक प्रदर्शन का हिस्सा था?- फ़ैक्ट चेक कपिल मिश्रा का पुलिस को अल्टीमेटम, तीन दिन में सड़क खाली कराएं वरना हम आपकी भी नहीं सुनेंगे दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था शांति बहाली के लिए केजरीवाल ने राजघाट पर की प्रार्थना, बोले- हिंसा पर पूरा देश चिंतित गुजरात के खंभात में सांप्रदायिक हिंसा, 13 लोग घायल, घर और दुकानें जलाई गईं Delhi Violence: BJP सांसद गौतम गंभीर बोले- कपिल मिश्रा हो या कोई और, जो भड़काए वह नपे दिल्ली हिंसा की चिदंबरम ने की निंदा, CAA को वापस लेने की मांग दिल्ली में हिंसा फैलने की पूरी कहानी