पुलिस चीफ़ की ट्रंप को नसीहत 'आप कोई ढंग की बात नहीं कर सकते तो मुँह बंद रखिए'

पुलिस चीफ़ की ट्रंप को नसीहत 'आप कोई ढंग की बात नहीं कर सकते तो मुँह बंद रखिए'

02-06-2020 15:31:00

पुलिस चीफ़ की ट्रंप को नसीहत 'आप कोई ढंग की बात नहीं कर सकते तो मुँह बंद रखिए'

अमरीका में एक काले नागरिक की पुलिस हिरासत में मौत के बाद कई शहरों में हिंसा भड़की हुई है.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

सचिन पायलट डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त राजस्थान: सचिन पायलट को कांग्रेस ने उपमुख्यमंत्री पद से हटाया 'पायलट के लिए BJP के दरवाजे खुले', ओम माथुर ने और क्या कहा, देखें VIDEO

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

न पार्टी के मुखिया रहे, न सरकार के डिप्टी, बगावत से सचिन पायलट ने क्या-क्या खोया? कोरोना संकट पर राहुल गांधी का ट्वीट- इस हफ्ते दस लाख पार कर जाएगा आंकड़ा कांग्रेस सरकार गिराने की साजिश में शामिल हुए पायलट, देखें क्या बोले सुरजेवाला

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

जानें- कौन हैं गोविंद सिंह जो राजस्थान कांग्रेस में लेंगे सचिन पायलट की जगह राजस्थान के सत्ता संघर्ष पर हार्दिक पटेल बोले- घर का झगड़ा घर में ही सुलझ जाएगा अपने सैनिकों का अंतिम संस्कार नहीं कर रहा चीन, लोगों को दी धमकी - trending clicks AajTak

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

हम स्वतंत्र देश के राजनीतिक गुलाम बन गये| जिसने आवाज ऊठाई उसे जेल नही तो पन्ना कट।भारतीय आँफिसर तो गुलामो के भी गुलाम है। गरीबो को लात मारते‌‌‌‌‌‌‌ है।अमिर के पाव चाचते है। कब गुंजेगी भारत मे विद्रोहो कि आवाजे । This is called separation of powers.Not like India whereas,Supereme Court is afraid of His Master's Voice.

This was a very terrible fake news BBCsarika you reported that this riots look just like MLK protest rallies if we see the riots in black n white we wont be able to tell any difference. This is a blatant mocking lie. Ur saying MLK also murdered n looted n burnt. newslaundry Ye sab FEKU GADHE se dosti karneka natija he

किसी को मेरी भी नसीहत है आप कोई ढंग की बात नहीं कर सकते तो मुँह बंद रखिए' अमेरिका में डेमोक्रेसी है अगर हमारे यहां कोई इस तरह बोलता तो.... 😜 Hamare yahan to chowkidaar ko chor bol de to kuch kutte apne haramipana pe aa jate hain जब टोनी बलेयर ब्रिटिश प्रधानमंत्री थे, तब उनके बेटे को भी गिरफ्तार कर लिया गया था, लेकिन उन्होंने पुलिस का सहयोग ही किया और कोई पी.एम. की धोस न दिखाई ।

BBC वैसे ये नसीहत तो तू भी अपना सकता है.......कुछ ढंग का बोल सके तो चुप रहा कर.......ज़्यादा कहासुनी मत सुनाया कर 🤓🤓🤓🤓🤓🤓🤓🤓🤓 Tana-shahi ka ekdin ant hona hi hai , America me bhi hoga aur India me bhi कास इंडिया में भी ऐसी नसीहत दी जा सकती realDonaldTrump चाचा आप लगे रहो, भले दुनिया आप की विरोधी हो जाये, मोदी जी आपके साथ हैं

Hamare yaha bhi police waale hai jo ki Kaari bahaduri se apna kaam karte hai kis chiz pe wo to aap sab ko pata hoga 😂 सबसे पहले तो ये बीबीसीके बातका ढंग लगता है। काश हमारे देश मे कोई ऐसा कह पाता मन की बात कर मत पकाओ एक हमारे यहाँ सारे चाटुकार भरे है फिर चाहे वो मीडिया में हो या कानून में इसे कहते हैं संविधान ! और एक भारत है जहाँ व्यवस्था सत्ता का गुलाम !!

Fearless people are the true strength of a nation. The day it is smoothered the nation herself getting lifeless. माननीय मोदी के जैसा Dost ko daant Lagi काश भारत मे भी कोई चीफ ऐसा कह सकता यंहा तो जज को लोया बना दिया गया गुजरात मॉडल भारत में एसी हिम्मत कोई नहीं कर सकता 😄 काश।।। हमारे देश की पुलिस मे भी इत्नी हिम्मत होती पर हराम का खाने की आदत और सत्ता धारियों के ड़र ने हमारे देश की पुलिस को अत्याचारी और क्रिमिनल बना दिया है। हमारी पुलिस दुनिया की सब से ताक़त वर पुलिस होने के बावजूद डर्पोक बन गई है। जो सिर्फ बे गुनहों को डराने के लिये है बस

मोदीजी के परम मित्र है तो अब क्या कहे हम ? हमारे वाह आइसा कब। hamra koi chief hota aisa pm ko bolta tu godi media bolti aise apshabt modi ji ke liye desh ka gaddar bata ke chief se cheeep ban deti yh hai hamri democracy ka haal 😠😠🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️🤷🏼‍♂️🤷🏼‍♂️ At least he said that, else here no one can speak or say some thing against

भारत में इतना कहने की हिम्मत है। गुलामी में रहते है। Can Sanjay Bhutt say this today Hindustan mei kash kisi ka itna high moral and character hota, भारत मे तो पुलिस एक विधायक के भी तलवे चाँटती रहती है, Judicial system of India should at least say openly. और यहा तो जी हुजुरी करने लगते है काश ऐसा हमारे मुल्क मे भी होता।

Hamare ynha to police officer PM ya president ko to chhodo kisi chavanni chap neta ko kuch bol de to us pr action le liya jata hai Democratic country ki yahi pahchan hoti he ऐसे नसीहत भारतीय मीडिया को भी देनी चाहिए। यहां तो सेना प्रमुख भी दलाली करता है Yaha india me bol de to aatankwadi bana denge media sarkar

यहाँ होता तो suspension के साथ 2,4 कैस भी साथ मे इंडिया में इतना बोल दे तो नौकरी तो जायेगी ही इनकम टैक्स व सीबीआई की रेड अलग से पड़ेगी उसके ऊपर। काश हमारे देश में भी इस प्रकार के प्रशासनिक अधिकारी होते ना कि चापलूसी करने वाले। सरकार द्वारा लिए गये गलत फैसलों को भी अपने फायदे लिए उचित ठहराते हैं। हमारे देश में तो न्यायिक व प्रशासनिक व्यवस्था राजनेताओं के हाथों बिकी हैं। इसलिए मजदूर व मध्यम वर्ग की दुर्दशा हो रही है।

कितना फर्क है भारत और अमेरिका के अधिकारियो मे । Kitna sahi hota agar aisa pulis india me hota यह दुनिया बदल देगा क्योंकि चीन बीमारी से और प्रदर्शन से विद्रोह से बड़ी आसानी से निपट पाए है ,,, अमेरिका में आग लेप्टिस ने लगाई गई ,,, वो खुद को लोकतंत्र और अधिकार का समर्थक बताते है ,,, जबकि यह उनके सिद्धांत के है विरूद्ध है वो लोकतंत्र समर्थक नहीं है

ye baat to hamare kiya honi chaiye thi khair हिंदुस्तान में तो उस आदमी का जज लोया बन जाएगा ! BC अपने यहां तोह सेडिशन लगा देते हैं 🤔🤔🤔 हमारे वाले को भी बोलो रे कोई!! Kaash India mein bhi aisa hota.. unfortunetely Indian Police dont have guts to point PM. Humre yaha bol kr dikhaye himmat he to देश के पुलिस चीफ को उनके दिए गए बयान पर ध्यान देना चाहिए IASassociation

लेकिन भारत मे किसी पुलिस और पुलिस चीफ की इतनी हिम्मत तक नहीं किसी मंत्री से ऐसा बोल सके। पुलिसकर्मी की हरकत की सजा ट्रम्प सरकार भुगत रही हैं और इल्ज़ाम उल्टा उन पर डाल रहे हैं GeorgeFlyod bycottBBC Sab jhut hai aisa kuch nhi bola gya hai. Trump hai koi thela chalane wala admi nhi. America is lucky they've such people there, not like us only Andh bhakts and also their democracy allows them to express honestly without fear of getting arrested for so called disrespect of any leader.

ऐसा हिन्दुस्तान मैं हाेता ताे अब तक पुलिश वाला नहीं हाेता! ट्रंप ने खुद को साबित कर दिया।वह मसखरा बंदर है।कैसे लोगो के संगत में रहता है।ये पूरे विश्व को पता है। ये ताकत अमेरिका पुलिस के चीफ मे ही हो सकती है हमारे तो............ क्या भारत में पुलिस प्रशासन का कोई बड़ा अधिकारी किसी मंत्री , प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से यह बात कह सकता है। पत्रकारिता में काम करने वाले पत्रकारों और दलालों को यह सवाल पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से पूछना चाहिए।

It's a real democracy ✌️ Abhi India mai koi police neta ko nasihat dede uske ghr mai jake uski lynching krwa degi present govt phle modi ke piche pd gaya tha ye bbc ab trump ke piche pada hai yh britain drohi hai britain pm should sack many reporters of bbc. Namaste Trump🙏 That's good for him to keep quite 😊

Yes it matters to loot on street. इसे बोलते हैं आजादी, अगर भारत में किसी ने अगर प्रधानमंत्री से ये बात कही होती तो अब तक सस्पेंड हो गया होता, When you don't have news stop spreading fake news.

जॉर्ज फ्लायड की मौत से अमेरिका में श्वेत और अश्वेत की राजनीति ट्रंप के हक में?कोरोना वायरस की महामारी में अश्वेतों के सबसे ज्यादा चपेट में आने और जॉर्ज फ्लायड घटना के बाद अमेरिकी राजनीति में एक बार फिर श्वेत बनाम अश्वेत की लड़ाई तेज हो सकती है. अगर अमेरिकी श्वेत गोलबंद हो जाते हैं तो कोरोना महामारी में लाखों अमेरिकियों की मौत की वजह से लोकप्रियता खोते जा रहे ट्रंप की चुनावी राह आसान हो सकती है. Zee news ka sting operation ..dekhe jarur aur apni rai de Watch it.... zee_agendebaaz_h जो मोदी जी भारत में करते हैं अब उनका मित्र अमेरिका में कर रहे। कोई नई बात नही है संभव ही नही है ।इसका विरोध गोरे लोग ही कर रहे है ।

अमेरिका की तर्ज पर अब लंदन में विरोध प्रदर्शन, हजारों की संख्या में लोग निकले बाहरअमेरिका की तर्ज पर अब लंदन में विरोध प्रदर्शन, हजारों की संख्या में लोग निकले बाहर GeorgeFloydProtests GeorgeFloydMurder ProtestInLondon China is playing

जासूसी मामले में बड़ा खुलासा, सैनिकों के आवागमन की जानकारी लेने की कोशिश में था पाकपाकिस्तानी जासूस आबिद हुसैन ट्रेन से सेना की टुकड़ी के आवागमन के बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश में था। पाकिस्‍तानी जासूसों के बारे में बड़ा खुलासा... MC हैं , जिहादी हैं । बंद करो इनलोंगो का आना जाना ।। कोई राजदूत की जरूरत नही ।। अलग करो ।। तभी अंदर के जिहादियों को एक एक कर सेटल कर पाएंगे ।। राष्ट्रीय स्तर पर खेल करना होगा तभी ये जिहादी हटेंगे ।। पता करके क्या उखाड़ लेता जब तक घर का भेदी लंका न ढाये 😐

Ground Report : Unlock ‘इंडिया’ में ‘भारत’ में रहने वाला प्रवासी मजदूर झेल रहा लॉकडाउन की विभीषिकाकोरोना संकट काल में चार चरणों के लॉकडाउन के बाद आज से देश में अनलॉक -1 की शुरुआत हो गई है। कोरोना के चलते बर्बाद हुई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए आज से कंटेनमेंट इलाके ही केवल लॉक रहेंगे और सब कुछ अनलॉक।

पश्चिम बंगाल: सात दुकानों में लगी आग, बुझाने की कोशिश में जुटे दमकलकर्मीपश्चिम बंगाल के सिलिगुड़ी पुलिस स्टेशन के पास डीआई फंड मार्केट में सात दुकानों में आग लग गई है। Mamta g Dekho kya kya kareaye क्या आग दिल से भी 'लीक' होती हैकभी अस्पताल,कभी दुकान,कभी सवाल और तो कभी कार्टुन कोलकाता में अलग ही आग दिखा देती है।

असम: भूस्खलन की वजह से कछार जिले में हुई सात लोगों की मौतअसम के कछार जिले के लखिपुर इलाके में मंगलवार को हुए भूस्खलन में सात लोगों की मौत हो गई है।

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बेतुका बयान, बोले- भारत ने बनाई नकली अयोध्या सचिन पायलट BJP के संपर्क में, 30 MLA भी छोड़ सकते हैं कांग्रेस का दामन कांग्रेस के सचिन अब क्या बीजेपी के लिए 'बल्लेबाज़ी' करेंगे? WHO ने कहा- कोरोना अभी बद से बदतर होगा, वैक्सीन और इम्युनिटी से भी निराशा LIVE: खतरे में गहलोत सरकार, पायलट खेमे के विधायक आज देर रात दे सकते हैं इस्तीफा सचिन पायलट बोले- 25 MLA मेरे साथ बैठे हैं, 102 का गलत दावा कर रहे हैं अशोक गहलोत नेपाल के पीएम ओली अयोध्या और राम पर अपने ही देश में घिरे पायलट की बगावत पर संजय निरूपम बोले- सभी चले जाएंगे तो बचेगा कौन? सचिन पायलट थाम सकते हैं BJP का हाथ, 30 विधायकों के भी कांग्रेस छोड़ने के कयास ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर पायलट! 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें सचिन के पिता राजेश पायलट ने भी की थी बगावत, लेकिन नहीं छोड़ी थी कांग्रेस