पुतिन ने भारत को बताया ‘बड़ी ताकत', हथियारों पर बड़े समझौते | DW | 07.12.2021

रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन ने भारत को ‘बड़ी ताकत’ बताया है. अपनी भारत यात्रा के दौरान सोमवार को दोनों देशों के बीच सैन्य और ऊर्जा क्षेत्र में कई अहम समझौते हुए.

Indiarussia, Ak 203

07-12-2021 06:57:00

रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन ने भारत को ‘बड़ी ताकत’ बताया है. अपनी भारत यात्रा के दौरान सोमवार को दोनों देशों के बीच सैन्य और ऊर्जा क्षेत्र में कई अहम समझौते हुए. IndiaRussia AK203 S400

रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन ने भारत को ‘बड़ी ताकत’ बताया है. अपनी भारत यात्रा के दौरान सोमवार को दोनों देशों के बीच सैन्य और ऊर्जा क्षेत्र में कई अहम समझौते हुए.

पुतिन के दौरे पर दोनों देशों ने रक्षा तकनीक में सहयोग के लिए दस साल लंबा एक समझौता किया और तेल के लिए एक साल लंबा समझौता हुआ है. 2020 के आरंभ में पूरी दुनिया में कोरोनावायरस महामारी के फैलने के बाद व्लादीमीर पुतिन की यह दूसरी विदेश यात्रा थी. पुतिन जी-20 की बैठक और ग्लासगो के जलवायु सम्मेलन तक में नहीं गए थे. उन्होंने इसी साल जून में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से स्विट्जरलैंड में मुलाकात की थी.

तस्वीरेंः अमेरिका है हथियारों की सबसे बड़ी दुकानहथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकासंयुक्त राज्य अमेरिकाहथियारों के सौदागर के रूप में सबसे आगे चलने वाले अमेरिका ने अपनी बढ़त और ज्यादा कर ली है. बीते पांच सालों में दुनिया में बेचे गए कुल हथियारों का करीब एक तिहाई हिस्सा यानी करीब 34 फीसदी अकेले अमेरिका ने बेचे. अमेरिकी हथियार कम से कम 98 देशों को बेचे जाते हैं. इनमें बड़ा हिस्सा युद्धक और परिवहन विमानों का है.

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकासऊदी अरबअमेरिका अपने हथियारों का करीब आधा हिस्सा मध्यपूर्व के देशों को बेचता है और करीब एक तिहाई एशिया के देशों को. सऊदी अरब मध्य पूर्व में हथियारों का सबसे बड़ा खरीदार है. दुनिया में बेचे जाने वाले कुल हथियार का करीब दसवां हिस्सा सऊदी अरब को जाता है. सऊदी अरब हथियारों की दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा खरीदार देश है. अमेरिका के 18 फीसदी हथियार सऊदी अरब खरीदता है. headtopics.com

BJP युवा मोर्चा के कार्यक्रम में नड्डा बोले- PM मोदी ने साकार किया नेताजी के न्यू इंडिया का सपना

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकारूसअमेरिका के बाद हथियार बेचने वालों में दूसरे नंबर पर है रूस. बेचे गए कुल हथियारों में 20 फीसदी रूस से निकलते हैं. रूस दुनिया के 47 देशों को अपने हथियार बेचता है साथ ही यूक्रेन के विद्रोहियों को भी. रूस के आधे से ज्यादा हथियार भारत, चीन और विएतनाम को जातें हैं. रूस के हथियार की बिक्री में 7.1 फीसदी की कमी आई है.

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकाफ्रांसहथियारों बेचने वाले देशों में तीसरे नंबर पर है फ्रांस. कुल हथियारों की बिक्री में उसकी हिस्सेदारी 6.7 फीसदी की है. फ्रांस ने हथियारों की बिक्री में करीब 27 फीसदी का इजाफा किया है और वह दुनिया की तीसरा सबसे बड़ा हथियार निर्यातक देश बन गया है.

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकाजर्मनीफ्रांस के बाद जर्मनी का नंबर आता है. बीते पांच सालों में जर्मनी की हथियार बिक्री में कमी आई है बावजूद इसके वह चौथे नंबर पर काबिज है. जर्मनी ने मध्य पूर्व के देशों को बेचे जाने वाले हथियारों में करीब 109 फीसदी का इजाफा किया है.

लीडरशिप की मिसाल: न्यूजीलैंड की PM जेसिंडा अर्डर्न ने शादी कैंसिल की, कहा- महामारी का वक्त मुश्किल, मैं अपने देश के लोगों के साथ

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकाचीनअमेरिका और यूरोप के बाद हथियार नियातकों में नंबर आता है चीन का. बीते पांच सालों में उसके हथियारों की बिक्री करीब 38 फीसदी बढ़ी है. चीन के हथियारों का मुख्य खरीदार पाकिस्तान है. हालांकि इसी दौर में अल्जीरिया और बांग्लादेश भी चीन के हथियारों के बड़े खरीदार बन कर उभरे हैं. चीन ने म्यांमार को भी भारी मात्रा में हथियार बेचे हैं. headtopics.com

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकाइस्राएलहथियारों की एक बड़ी दुकान इस्राएल में है. बीचे पांच सालों में उसने अपने हथियारों की बिक्री करीब 55 फीसदी बढ़ाई है. इस्राएल भारत को बड़ी मात्रा में हथियार बेच रहा है.हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकादक्षिण कोरिया

हथियारों के कारोबार में अब दक्षिण कोरिया का भी नाम लिया जाने लगा है. उसने अपने हथियारों की बिक्री बीते पांच सालों में करीब 65 फीसदी बढ़ाई है.हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकातुर्कीइस दौर में जिन देशों के हथियारों की बिक्री ज्यादा बढ़ी है उनमें तुर्की भी शामिल है. उसने हथियारों का निर्यात 2013-17 के बीच करीब 165 फीसदी तक बढ़ा दिया है.

ओडिशा: दो सरकारी अफ़सरों की आपबीती- 'केंद्रीय मंत्री हमें कुर्सी से पीटने लगे' - BBC News हिंदी

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकाभारतहथियारों के खरीदार देश में भारत इस वक्त सबसे ऊपर है. दुनिया में बेच जाने वाले कुल हथियारों का 12 फीसदी भारत ने खरीदे हैं. इनमें करीब आधे हथियार रूस से खरीदे गए हैं. भारत ने अमेरिका से हथियारों की खरीदारी भी बढ़ा दी है इसके अलवा फ्रांस और इस्राएल से भी भारी मात्रा में हथियार खरीदे जा रहे हैं.

हथियारों की सबसे बड़ी दुकान है अमेरिकापाकिस्तानपाकिस्तान के हथियारों की खरीदारी में कमी आई है. फिलहाल दुनिया में बेचे जाने वाले कुल हथियारों का 2.8 फीसदी पाकिस्तान में जाता है. पाकिस्तान ने अमेरिका से हथियारों की खरीदारी काफी कम कर दी है.उसके बाद वह भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ही व्यक्तिगत रूप से मिले हैं. नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद पुतिन ने कहा,"हम भारत को एक बड़ी ताकत मानते हैं, एक मित्र देश और वक्त पर आजमाया हुआ एक दोस्त.” headtopics.com

हथियारों पर समझौतेरूस लंबे समय से भारत को हथियारों की सप्लाई करता रहा है. एस-400 मिसाइलों की सप्लाई को भारतीय सेना को आधुनिक बनाने की दिशा में एक अहम कदम माना जा रहा है. भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने दोनों पक्षों की बैठक के बाद कहा,"सप्लाई इस महीने शुरू हो गई है और जारी रहेगी.”

2018 में हुआ यह समझौता पांच अरब डॉलर से भी ज्यादा का है लेकिन इस पर अमेरिका की नाराजगी की तलवार लटक रही है. अमेरिका ने ‘काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शंस एक्ट' (CAATSA) नामक कानून के तहत इस समझौते को आपत्तिजनक माना है. हालांकि पिछले हफ्ते अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा था कि भारत पर प्रतिबंध लगाने के बारे में अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है.

इधर रूस के प्रवक्ता दिमित्री पेश्कोव ने सोमवार को मीडिया को बताया,"हमारे भारतीय दोस्तों ने स्पष्ट कहा है कि वे एक संप्रभु देश हैं और किससे हथियार खरीदने हैं व कौन भारत का साझीदार होगा, इसका फैसला वे खुद करेंगे.”पुतिन के इस दौरे पर बातचीत ऊर्जा और हथियारों तक ही सीमित रही. एक समझौते के तहत रूसी कंपनी रोसनेफ्ट भारत को 20 लाख टन तेल सप्लआई करेगी. इसके अलावा दस साल लंबे रक्षा समझौते के तहत दोनों देशों ने मिलकर एके-203 राइफल बनाने का फैसला किया है.

आकार के अनुसार सबसे बड़े देशआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश16. सूडान18,61,484 वर्गकिलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश15. इंडोनेशिया19,10,931 वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश14. मेक्सिको19,64,375 वर्ग किलोमीटर

आकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश13. सऊदी अरब21,49,690 वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश12. ग्रीनलैंड21.66 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश11. डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो23,44,858 वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश

10. अल्जीरियाक्षेत्रफल: 23.8 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश09. कजाकस्तानक्षेत्रफल: 27.2 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश08. अर्जेंटीनाक्षेत्रफल: 27.8 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश

07. भारतक्षेत्रफल: 32.9 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश06. ऑस्ट्रेलियाक्षेत्रफल: 76.9 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश05. ब्राजीलक्षेत्रफल: 85.1 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश

04. चीनक्षेत्रफल: 96 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश03. अमेरिकाक्षेत्रफल: 96.3 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश02. कनाडाक्षेत्रफल: 99.8 लाख वर्ग किलोमीटरआकार के हिसाब से दुनिया के सबसे बड़े देश01. रूस

क्षेत्रफल: 1.71 करोड़ वर्ग किलोमीटरक्लाशनिकोव बनाने वाली कंपनी ने कहा कि भारत में बनाई जा रही छह लाख एके-203 राइफल भारतीय सेना को दी जाएंगी. कंपनी के जनरल डायरेक्टर व्लादीमीर लेपिन ने कहा,"हम आधुनिक एके-203 राइफलों के उत्पादन के लिए अगले कुछ महीनों में ही तैयार होंगे.”

रूस और अमेरिका के बीच भारतशीत युद्ध के दौरान भारत को सोवियत संघ का करीबी माना जाता था. उस ऐतिहासिक करीबियों की आंच अब भी बची हुई है. हालांकि सोवियत संघ के विघटन के बाद भारत की अमेरिका के साथ नजदीकियां बढ़ी हैं. इस लिहाज से विशेषज्ञ मानते हैं कि पुतिन का भारत दौरा प्रतीकात्मक रूप से काफी अहम है.

नई दिल्ली स्थित थिंक टैंक ऑबजर्वर रिसर्च फाउंडेशन के नंदन उन्नीकृष्णन कहते हैं,"भारत-रूस संबंधों को लेकर बहुत सारी अटकलें लगाई जाती रही हैं. इस बारे में बहुत संदेह रहे हैं कि रूस की चीन के साथ और भारत की अमेरिका के साथ नजदीकियों का इन संबंधों पर क्या असर पड़ेगा. इस दौरे ने उन सारी अटकलों को शांत कर दिया है.”

रूसी एस-400 मिसाइल क्यों है खासरूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?बेहतर होते रिश्तेरूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ साझा बयान जारी कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दोनों देश बहुत तेजी से एक दूसरे के करीब आए हैं. उन्होंने कहा,"वक्त के साथ हमारे देशों के संबंध लगातार मजबूत होते गए हैं."

रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?क्या है एस-400रूस में तैयार एस-400 एक ऐसा सिस्टम है जो बैलेस्टिक मिसाइलों से बचाव करता है. यह ना सिर्फ दुश्मन की तरफ से दागी जाने वाली मिसाइलों का पता लगाता है बल्कि उन्हें हवा में ही मार गिराने की क्षमता भी रखता है.

रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?सिर्फ पांच मिनटएस-400 एक मोबाइल एयर डिफेंस सिस्टम है जिसे पांच मिनट के भीतर तैनात किया जा सकता है. इसमें कई तरह के रडार, ऑटोनोमस डिटेक्शन और टारगेटिंग सिस्टम और एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल सिस्टम लगे हैं.रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?

100 टारगेटयह सिस्टम 400 किलोमीटर की दूरी से और 30 किलोमीटर तक की ऊंचाई पर उड़ने वाले सभी तरह के विमानों और बैलेस्टिक और क्रूज मिसाइलों का पता लगा सकता है. यह एक साथ 100 हवाई टारगेट्स को भांप सकता है.रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?अमेरिका की चिंता नहीं

भारत इस सिस्टम के लिए 5 अरब डॉलर तक खर्च करने को तैयार है. हालांकि अमेरिका ने साफ कहा है कि रूस से रक्षा समझौता करने पर भारत को प्रतिबंध झेलने पड़ सकते हैं. लेकिन भारत इससे बेपरवाह दिख रहा है.रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?भारत की जरूरतपाकिस्तान और चीन जैसे पड़ोसियों के साथ तनावपूर्ण संबंधों के मद्देनजर भारत इसे अपनी सुरक्षा के लिए अहम मानता है. पाकिस्तान भारत का पुराना प्रतिद्वंद्वी है तो चीन से साथ हजारों किलोमीटर लंबा सीमा विवाद अनसुलझा है.

रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?और किसके पास?चीन ने भी रूस से एस-400 सिस्टम की छह बटालियन खरीदने के लिए 2015 में एक समझौता किया था, जिसकी डिलीवरी जनवरी 2018 में शुरू हो गई. तुर्की और सऊदी अरब जैसे देश भी रूस से एस-400 सिस्टम खरीदना चाहते हैं.रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?

अमेरिकी सिस्टम से बेहतरअमेरिका निर्मित एफ-35 जैसे लड़ाकू विमान भी इसकी पहुंच से बाहर नहीं हैं. एस-400 एक साथ ऐसे छह लड़ाकू विमानों से निपट सकता है. एस-400 को अमेरिका के टर्मिनल हाई एल्टीट्यूड एरिया डिफेंस सिस्टम से ज्यादा प्रभावी माना जाता है.रूसी एस-400 सिस्टम में क्या खास है?

जांचा परखायह डिफेंस सिस्टम 2007 से काम कर रहा है और मॉस्को की सुरक्षा में तैनात है. लड़ाई के कई मोर्चों पर इसे परखा जा चुका है. 2015 में रूस ने इसे सीरिया में तैनात किया था. क्रीमिया प्रायद्वीप में भी इसे तैनात किया गया.भारत और चीन के बीच संबंध पिछले समय से लगातार खराब हो रहे हैं. अमेरिका भी चीन के जवाब में भारत का साथ लेना चाहता है. इसलिए चार देशों के संगठन क्वॉड सिक्यॉरिटी डायलॉग को भी मजबूत किया जा रहा है, जिसमें भारत और अमेरिका के अलावा जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं.

उधर चीन और रूस की करीबियों से भारतीय पक्ष में हलचल रहती है. लेकिन ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी में पढाने वालीं टाटियाना बेलूसोवा कहती हैं कि इस क्षेत्र में रूस का प्रभाव सीमित है. वह कहती हैं,"चीन के साथ उसके मजबूत संबंधों और चीन के क्षेत्रीय हितों के खिलाफ कोई कार्रवाई ना करने की मंशा के चलते रूस का इस क्षेत्र में ज्यादा प्रभाव नहीं है.”

वीके/एए (रॉयटर्स, एएफपी)

और पढो: DW Hindi »

Webdunia News - Apps on Google Play

100% Bharat app for daily updates on news, astrology, religion, cinema, health! और पढो >>

राष्ट्रपति पुतिन के दौरे से पहले भारत और रूस के बीच हुआ रक्षा समझौता - BBC Hindiरूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू और भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों देशों के बीच रक्षा समझौतों पर हस्ताक्षर किए. आप लोग के लिए तो ये न्यूज़ अच्छी नही है। दिल पे पत्थर रख कर न्यूज़ लिखी होगी। असल मुद्दा तो 'सौदा' ही हैं..! बाकी तो विज्ञापन बाजी होगी,फोटोशूट के साथ..!! क्या यह समझौता इदिरा युग जैसी विश्वास बहाली व सहयोग कायम रखेगा या सिर्फ ब्यौहारिक ब्यवसायिक ही रह जायेगा।

धवन से शमी तक भारत के ऐसे क्रिकेटर्स जिन्होंने तलाकशुदा महिलाओं को बनाया अपना जीवनसाथीशिखर धवन से मोहम्मद शमी तक इन क्रिकेटर्स ने की थी तलाकशुदा महिलाओं से शादी, एक ने साथी खिलाड़ी को ही दिया था धोखा ShikharDhawan AyeshaMukherjee DhawanBirthday HBDDhawan MohammadShami HasinJahan AnilKumble Divorce Wives IndianCricketers

टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में भारत की सबसे बड़ी जीत, न्यूजीलैंड को विशाल अंतर से हरायाभारतीय क्रिकेट टीम ने टेस्ट क्रिकेट में इतिहास रच दिया है। भारत ने अपने टेस्ट इतिहास की सबसे बड़ी जीत दर्ज की है। भारत की टीम ने न्यूजीलैंड की टीम को 372 रनों के अंतर से हराया है। Very good

Omicron भारत के लिए कितना बड़ा खतरा, इन 5 राज्यों के हालात से समझिएकोरोना वायरस का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन साउथ अफ्रिका से निकल भारत समेत 40 देशों तक पहुंच गया है. ओमिक्रॉन के दस्तक से दुनियाभर के लोग डरे हुए हैं. देश में भी 5 राज्यों तक ओमिक्रॉन पहुंच गया है. ओमिक्रॉन को देखते हुए नए सिरे से गाइडलाइंस जारी किए जा रहे हैं. केंद्र-राज्य सरकार अलर्ट मोड में है. एक्सपर्ट लोगों से कोविड-19 के नियम पालन करने की सलाह दे रहे हैं. एक्सपर्ट का कहना है कि ओमिक्रॉन को लेकर एकदम बेफ्रिक हो जाना महंगा पड़ सकता है. देखें वीडियो.

Live पुतिन का भारत दौरा: रूसी रक्षा मंत्री के साथ मुलाकात के दौरान बोले राजनाथ, रक्षा सहयोग दोनों देशों के बीच साझेदारी का अहम स्तंभModi Putin Meeting Live Updates रूस और भारत के बीच रक्षा व्यापार और तकनीक के अहम क्षेत्रों में सहयोग मजबूत करने को लेकर कई समझौते होंगे। शिखर वार्ता के साथ ही दोनों देशों के बीच पहली रक्षा और विदेश मंत्री स्तरीय वार्ता होगी।

Putin India Visit: पुतिन की भारत यात्रा के बड़े मायने, शीत युद्ध के बाद दोनों देशों के बीच चीन-अमेरिका बने बड़े फैक्‍टर- एक्‍सपर्ट व्‍यूभारत और रूस के रिश्‍तोंं को दो खंडों में बांट सकते हैं। एक काल शीत युद्ध के समय का है और दूसरा शीत युद्ध के बाद का है। शीत युद्ध के पूर्व और उसके बाद भारत का दोनों देशों के साथ संबंधों में बड़ा बदलाव आया है।