Pakistan, Journalists

पाकिस्तान में दहशत में पत्रकार: सरकार की आलोचना करने पर अपहरण; 5 साल में 11 पत्रकार मारे गए, इनमें से 7 मौत...

Kidnapping for criticizing the government; 11 journalists were killed in 5 years, 7 of them died during Imran's tenure.

04-08-2020 10:09:00

पाकिस्तान में दहशत में पत्रकार: सरकार की आलोचना करने पर अपहरण; 5 साल में 11 पत्रकार मारे गए, इनमें से 7 मौतें इमरान के कार्यकाल में Pakistan journalists ImranKhanPTI amnesty UNHumanRights

Kidnapping for criticizing the government; 11 journalists were killed in 5 years, 7 of them died during Imran's tenure.

पाकिस्तान में दहशत में पत्रकार:सरकार की आलोचना करने पर अपहरण; 5 साल में 11 पत्रकार मारे गए, इनमें से 7 मौतें इमरान के कार्यकाल मेंइस्लामाबाद6 घंटे पहलेकॉपी लिंकसालभर पहले पीएम इमरान ने कहा था कि पाकिस्तान की प्रेस दुनिया में सबसे आजाद प्रेस में से है। -फाइल फोटो

सिनेमा में कदम रखने से पहले इंजीनियर थे एसपी बालासुब्रमण्यम, यूं बदली किस्मत कृषि बिल के ख़िलाफ़ देशभर में किसानों का प्रदर्शन - BBC News हिंदी बिहार : BJP कार्यकर्ताओं ने पप्पू यादव के समर्थकों को लाठी-डंडे से पीटा, मोदी जिंदाबाद के लगे नारे; देखिए VIDEO

विवादास्पद विषयों पर चर्चा से अब बचने लगे हैं पत्रकार और टीवी एंकरस्थानीय पत्रकारों का दावा है कि देश में मीडिया से जुड़े और मानव अधिकार की आवाज उठाने वाले लोगों को दबाया जाता हैAdvertisementAdvertisementमारिया अबि-हबीबजुलाई के अंत में पाकिस्तान के इस्लामाबाद में पत्रकार मतीउल्लाह जान पत्नी को उनके स्कूल पहुंचाकर निकले ही थे कि कुछ लोग उन्हें उनकी कार से खींचकर अपनी गाड़ी में बैठाकर दूर ले गए। कुछ सादी वर्दी में थे, बाकी ने एंटी टेरर स्क्वॉड पुलिस की ड्रेस पहनी थी।

दो घंटे बाद स्कूल के गार्ड ने पत्नी को बताया कि जान की गाड़ी स्कूल के बाहर ही खड़ी है। चाबियां और फोन गाड़ी में ही थे। पत्नी ने तुरंत पुलिस को बुलवा लिया। सीसीटीवी फुटेज चेक कराने पर पता चला कि जान के अपहरण में पुलिस भी शामिल है। 12 घंटे बाद उन्हें रिहा कर दिया गया। यह तो एक वाकया है।

पिछले साल नवंबर में ही सेना ने एक एक्टिविस्ट को हिरासत में लिया थापाकिस्तान में 11 पत्रकारों ने पिछले 5 साल में संदिग्ध स्थिति में जान गंवाई है। इनमें से 7 तो इमरान खान के कार्यकाल में ही मारे गए। पिछले साल नवंबर में ही सेना ने एक एक्टिविस्ट को हिरासत में लिया था। जून में बताया गया उस पर एक गुप्त अदालत में केस चलाने की तैयारी है।

सालभर पहले पीएम इमरान ने कहा था कि पाकिस्तान की प्रेस दुनिया में सबसे आजाद प्रेस में से है। स्थानीय पत्रकारों का दावा है कि देश में मीडिया से जुड़े और मानव अधिकार की आवाज उठाने वाले लोगों को दबाया जाता है।संपादकों पर दबाव डाला जाता हैसंपादकों पर रिपोर्टरों को नियंत्रण में रखने के लिए दबाव बनाया जाता है। इसके अलावा सरकार उनके लाखों रुपए के विज्ञापन बिल भी अटका कर रखती है। एमनेस्टी इंटरनेशनल के दक्षिण एशिया के प्रमुख उमर वारिच के मुताबिक, किसी को गायब करना एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। वह भी पीड़ित को चुप कराने के लिए नहीं बल्कि बाकी लोगों को डराने के लिए।

पाक सेना के जनरल सीधे तानाशाही के बजाय सरकार में मौजूद अपने नुमाइंदों से अपनी इच्छाएं पूरी करवाते हैं। पिछले सालभर में प्रमुख समाचार संस्थानों के पैसे रोककर उन्हें तबाह कर दिया गया। दर्जनों पत्रकारों को नौकरी से हटवाया गया।भारी दबाव और नौकरी जाने के डर के कारण पत्रकार अब विवादास्पद विषयों से बचते लगे हैं। मतीउल्लाह जान की नौकरी भी इसलिए गई। अब वे यू-ट्यूब चैनल चलाते हैं। जिओ टीवी के पूर्व एंकर तलत हुसैन हों या जंग समूह के मीर शकील उर रहमान ऐसे ही दौर से गुजर रहे हैं।

- न्यूयॉर्क टाइम्स से विशेष अनुबंध के तहत और पढो: Dainik Bhaskar »

कंगना के दफ्तर पर क्या बदनीयती के चलते की गई कार्रवाई? देखें हल्ला बोल

कंगना रनौत और महाराष्ट्र सरकार के बीच शुरू हुआ युद्ध अपने शबाब पर है. एक तरफ कंगना हर-हर महादेव का उद्घोष करके इस लड़ाई को और आगे ले जाने का तेवर दिखा रही हैं तो दूसरी ओर शिवसेना और महाराष्ट्र सरकार ने भी मानों ठान लिया है कि कंगना को हर हाल में सबक सिखाना है. दोनों की लड़ाई में कंगना का दफ्तर तो टूटा ही है, लेक‍िन भाषा का संस्कार भी टूटा है.

ImranKhanPTI amnesty UNHumanRights वहॉ के पत्रकार मुर्ख है , भारत वालो से सीखो , सरकार के आगे लेट जावो । ImranKhanPTI amnesty UNHumanRights Messiah of radical Islam terrorist organizations like L ET, jamat I'd dawa ,khalistan terrorist

पांच अगस्त से पहले जम्मू-कश्मीर में फिदायीन हमले की फिराक में पाकिस्तानपांच अगस्त को जैसा कि जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बने एक वर्ष पूरा हो रहा है। अनुच्छेद 370, 35ए टूटने की पहली वर्षगांठ मनाई जाएगी। prodefencejammu JammuAndKashmir fidayeenattack Terrorism Article370

पाँच अगस्त से पहले श्रीनगर में कर्फ़्यू, पाकिस्तान ने कहा- अंतिम लक्ष्य श्रीनगरपाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने कहा कि वो दिन दूर नहीं है जब कश्मीरी श्रीनगर की जामिया मस्जिद में नमाज़ अदा करेंगे. भूलो मत होम मिनिस्टर सबका बाप है। 🤣 Itni goli lage gi pichhade me ke abba yaad agye ga

नेपाल से छोड़े गए पानी से बहराइच में तबाही, 5 दर्जन से ज्यादा गांवों में बाढ़नेपाल से छोड़े गए लाखों क्यूसेक पानी के कारण बहराइच के अनेक गांव बाढ़ की चपेट में nepal

कोरोना में मांसाहार से डरे लोग, बर्गर-पिज्जा में चिकन-मटन की जगह ले रहा कटहलकोरोना में मांसाहार से डरे लोग, बर्गर-पिज्जा में चिकन-मटन की जगह ले रहा कटहल WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice CoronavirusIndia COVID19updates CoronaVirusUpdates JackFruit WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice कटहल बहुत ही वादी होता है प्राप्त जानकारी के अनुसार WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice Eat protein boost immunity defeat crona WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice Ranit_Haldar

सुशांत केस में पटना और मुंबई पुलिस में टकराव, कितना चुनावी है ये दांव?सुशांत सुसाइड केस को लेकर बिहार में सियासत गर्म है. बिहार की पुलिस और मुंबई की पुलिस आमने-सामने है. सीबीआई जांच की मांग तेज हो रही है और मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है. बिहार में तमाम दल इस मुद्दे को उछाल रहे हैं. जानिए क्या है कारण Itna do kaudi ka kabadaa Content, aur bhrasht buddhi laate kaha se ho bey tum? Thakerey sarkar apne bete ko bachane kai liye hai sab.. बिहार में चुनाव है। सुशांत सिंह राजपूत बिहार से है। और अप्पर कास्ट से है। बीजेपी गोदी मीडिया इस मामले को इतना दिखा रही है और बुना रही है सिर्फ बिहार चुनाव के लिए। चुनाव के बाद मुद्दा भी गायब। मै ने कहा था राजनीतिक हो रही है इसपर सब से पहले। HanifJainan फॉलो

तीन लाख सीसीटीवी कैमरों से निगरानी के मामले में दुनियाभर में हैदराबाद का 16वां स्थानसुरक्षा को चाक चौबंद करने के लिए हैदराबाद में तीन लाख कैमरे लगाए गए हैं, इसके साथ ही वह दुनिया के शीर्ष 20 शहरों की सूची अभी सब ठीक रहेगा, जब दंगे होंगे तो सब खराब हो जायेगें ।