Prashantkanojia, Prashantkanojiyaarrest, Supremecourt, Lucknow-City-Common-Man-İssues, Freelance Journalist Prashant Kanojia, Supreme Court Ordered, Indecent Comment On Cm Yogi Adityanath, Up Commonmanıssue, Lucknow, Up News, पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया, गिरफ्तारी, सुप्रीम कोर्ट, उत्तर प्रदेश सरकार

Prashantkanojia, Prashantkanojiyaarrest

पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया की गिरफ्तारी पर सुप्रीम कोर्ट की UP सरकार को फटकार, रिहा करने का आदेश

पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया की गिरफ्तारी पर सुप्रीम कोर्ट की UP सरकार को फटकार, रिहा करने का आदेश... #PrashantKanojia #PrashantKanojiyaArrest #SupremeCourt

11.6.2019

पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया की गिरफ्तारी पर सुप्रीम कोर्ट की UP सरकार को फटकार, रिहा करने का आदेश... PrashantKanojia PrashantKanojiyaArrest SupremeCourt

पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया की पत्नी ने कल सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका पर आज सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को कड़ी फटकार लगा दी।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर किसी की निजी आजादी का हनन हो रहा है तो हम हस्तक्षेप करेंगे। स्वतंत्र पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया की गिरफ्तारी से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को फटकार लगाई है और उसे तत्काल रिहा करने का आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम पत्रकार के ट्वीट की सराहना नहीं करते, लेकिन उसे सलाखों के पीछे कैसे रखा जा सकता है। नागरिक की स्वतंत्रता और गैर-पराक्रम्य है। यह संविधान की ओर से दिया गया अधिकार है और इसका उल्लंघन नहीं किया जा सकता है।

अदालत ने कहा कि अगर किसी के निजी आजादी का हनन हो रहा है तो हम हस्तक्षेप करेंगे। इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार अपनी जांच जारी रख सकती है, लेकिन प्रशांत कन्नौजिया को सलाखों के पीछे नहीं रखा जा सकता है। अदालत में यूपी सरकार का पक्ष रख रहे एएसजी विक्रमजीत बनर्जी ने अदालत को कन्नौजिया की ओर से किए गए ट्वीट्स की कॉपी सौंपी। यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि कन्नौजिया की गिरफ्तारी सिर्फ एक ट्वीट पर नहीं है, वह आदतन अपराधी है। उसने भगवान और धर्म के खिलाफ ट्वीट किया है। यूपी सरकार ने कहा कि मजिस्ट्रेट की ओर से दिए गए रिमांड ऑर्डर को निचली अदालत में चुनौती दी जा सकती है।

और पढो: Dainik jagran

चरित्र हनन करने वाले पत्रकार स्वस्थ पत्रकारिता नहीं . रुपये पैसों में बिककर देशद्रोह तक जाते देखे जा रहे हैं Keya patriarch KO girftar Nahi Kiya Ka Sakta hai मीलार्ड मी टू मे फँसे थे तो कैसे बिलबिलाने लगे थे,इसी सब से इन सबका मन और बढ़ता है। Supreme court of british India...

इंदिरा की 1971 की जीत जैसी है मोदी की 2019 की जीत-Navbharat TimesIndia News: बीजेपी को मिली बंपर जीत ने राजनीतिक पंडितों को अपने 'समीकरणों' पर फिर से विचार करने पर मजबूर कर दिया है। बीजेपी ने भी इस जीत के लिए कई नए कदम उठाए। राजीव गांधी जी की जीत के तरह नहीं है मोदी जी की जीत..? ऐसा लिखो भाई और फिर इंदिरा जी को 315 था but मोदीजी को? yadavakhilesh Indira ji ne Ek Rashtr ka nirman kiya Dushmn ke Asnkhy senik mare Sda ko PAK ko- N ldneyogy bna diya! Modiji ne 2Hrs ke bdle 300Hrs me jwab diya Tb bhi kitne mare Prshn bna! Ye bhi uktt se ho ska sffl! Ek ne wasvikta di jeet li Aaj bhi janchlo!! Dusre ne Maa kssm kha Vichar kro!

सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी पर उठाए सवाल, रिहा करने को कहानौजिया की पत्नी जगीशा अरोड़ा ने अपने पति की गिरफ्तारी को गैरकानूनी बताते हुए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका लगाई थी, जिसमें कोर्ट के समक्ष अपने पति को पेश कराने की मांग की है. प्रशांत कनोजिया का सोशल अकाउंट जातिवादी मानसिकता , समाज विरोधी सोच से भरा हुआ है , ऐसे में यदि समाज में कोई अराजकता फैलती है तो क्या जज जिम्मेदार होंगे ? अब तो खेल खत्म भी हो गया अब इससे पूछना की जज्बातो में बहकना कितना महंगा पड़ता है 😂😂😂😆😃 very good ......नेता सब तो कुछ भी बोल देते है .....सोसल media पर अभद्र बाते करते है.....कोई महिला को मार देता है.....इन्हे तो कुछ भी नही होता.......

योगी सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, प्रशांत कनौजिया को क्यों किया गिरफ्तार, तुरंत करो रिहानई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी पर यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए प्रशांत कनौजिया को तुरंत रिहा करने का आदेश किया। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से यह सवाल भी किया कि ट्वीट के लिए गिरफ्तारी की आवश्यकता क्या थी?

कठुआ रेप केस: कोर्ट द्वारा Zee News की सराहना सहित फैसले की 10 बड़ी बातेंकोर्ट ने ज़ी न्यूज़ (Zee News) की रिपोर्टिंग में दिखाए गए सीसीटीवी फुटेज को आधार बनाते हुए विशाल जंगोत्रा को बरी कर दिया. ZeeNews sudhirchaudhary Congratulations ZeeNews sudhirchaudhary रंडी टीवी के मुंह पर कालिख पुत गयी ZeeNews sudhirchaudhary ऐसी जिम्मेदारी चाहिए तब जाके किसी न्यूज की हवा नहीं बनेगी। आप बधाई के पात्र हैं।

योगी पर कथित आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले पत्रकार की तुरंत रिहाई का आदेशस्वतंत्र पत्रकार प्रशांत ने 6 जून को ट्विटर पर एक महिला का वीडियाे पोस्ट कर योगी पर कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी की थी सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान उप्र सरकार से पूछा कि पत्रकार को किस आधार पर गिरफ्तार किया गया कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी प्रशांत को तुरंत रिहा करने की बात कही | Freelance journalist Prashant Kanojia योगी पर कथित आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले पत्रकार को तुरंत रिहा करने का आदेश, स्वतंत्र पत्रकार प्रशांत ने 6 जून को ट्विटर पर एक महिला का वीडियाे पोस्ट कर योगी पर कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी की थी myogiadityanath कथित नही सही में की है myogiadityanath प्रशांत कनौजिया हैं, कोई कमलेश तिवारी थोड़ी .....वामपंथी हैं, कोई दक्षिणपंथी थोड़ी... छूट तो जाना ही था!!

योगी पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद न्यूज चैनल की एमडी समेत 3 पत्रकार गिरफ्तारस्वतंत्र पत्रकार प्रशांत ने सोशल मीडिया में एक महिला का वीडियो पोस्ट किया था इसी मुद्दे पर महिला के आरोपों पर न्यूज चैनल ने लाइव डिबेट आयोजित की थी | Three Journalist Arrested Including Channels MD On Objectionable Comments Against CM Yogi Adityanath Well done अब ऐंसे राम राज्य लाएंगे महाराज? ये लोकतंत्र की हत्या है ये अभिब्यक्ति की आजादी का गला घोंट रहे हैं! ध्यान रहे भड़ुओं भारत का संविधान भारत के नागरिकों को मौलिक अधिकार वहीं तक प्रदान करता है, जहां तक दूसरे की भावनाओं को ठेस ना पहुंचे। सही है

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

11 जून 2019, मंगलवार समाचार

पिछली खबर

कभी रोज नहीं नहाते थे लालू, लड़कियां कहतीं थीं महात्‍मा; डॉक्‍टर बनते-बनते बन गए नेता

अगली खबर

पोस्‍टर में ममता बनर्जी की गर्दन दबाते दिख रहे कैलाश विजयवर्गीय, तस्वीर वायरल