Punjab, Hinducm, Chandigarh News, Bjp Punjab, Assembly Election 2022, Punjab Politics, चंडीगढ़ समाचार, Chandigarh News İn Hindi, Latest Chandigarh News İn Hindi, Chandigarh Hindi Samachar

Punjab, Hinducm

पंजाब की सियासत : मुख्यमंत्री पद के लिए भाजपा ने शुरू की हिंदू चेहरे की तलाश, चुनाव अगले साल

पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए भाजपा ने भी संभावनाएं तलाशनी शुरू कर दी हैं।

01-08-2021 02:52:00

पंजाब की सियासत : मुख्यमंत्री पद के लिए भाजपा ने शुरू की हिंदू चेहरे की तलाश, चुनाव अगले साल Punjab BJP HinduCM BJP4India

पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए भाजपा ने भी संभावनाएं तलाशनी शुरू कर दी हैं।

पंजाब के हिंदुवादी संगठनों की ओर से पंजाब में सिख के बजाय हिंदू चेहरे को मुख्यमंत्री प्रत्याशी के रूप में घोषित करने की मांग उठने लगी है। इस मामले में हिंदूवादी संगठन का एक शिष्टमंडल भाजपा सांसद और पंजाब मामलों के प्रभारी दुष्यंत गौतम से मुलाकात कर चुका है। इस दौरान हिंदू संगठनों की ओर से हिंदू मुख्यमंत्री बनाए जाने की मांग की गई। पंजाब में जातिगत समीकरण के अनुसार भी हिंदुओं की जनसंख्या दूसरे नंबर पर आती है।

सोनू सूद ने 20 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी की: आयकर विभाग - BBC News हिंदी कैप्टन अमरिंदर सिंह क्या पंजाब कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन सकते हैं - BBC News हिंदी कानूनी ढांचे पर छलका CJI का दर्द: चीफ जस्टिस रमना बोले- देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था, यह भारत के हिसाब से ठीक नहीं

वोट प्रतिशत के अनुसार पंजाब में सिख जनसंख्या 58 प्रतिशत है और दूसरे नंबर पर 40 प्रतिशत हिंदू आबादी है। इसके बाद भी मुख्यमंत्री पद पर हमेशा सिख चेहरे को ही वरीयता दी जाती रही है। संगठनों की इस मांग को और जातिगत समीकरण को देखते हुए भाजपा नेताओं ने भी हिंदू चेहरे को लेकर संभावनाएं तलाशनी शुरू कर दी हैं। कुछ नेताओं ने बताया कि दलित चेहरा भी हिंदू से ही आता है। अन्य कुछ राजनीतिक दल पंजाब में हिंदुओं को बांटने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन अब राज्य के हिंदू उनकी इस चाल को समझ चुके हैं। उन्होंने बताया कि हालांकि इस मामले में अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व के द्वारा ही लिया जाएगा।

1966 से नहीं मिला हिंदु मुख्यमंत्रीपंजाब के हिंदू नेता जय भगवान गोयल ने बताया कि पंजाब में हिंदुओं की जनसंख्या 40 प्रतिशत है। इसके बाद भी 1966 के बाद से आज तक पंजाब में हिंदू मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया। भाजपा यदि इस पर सकारात्मक निर्णय करती है तो पंजाब के हिंदु इसका स्वागत करेंगे। headtopics.com

हिंदुओं का अभी तक पंजाब में सभी राजनीतिक दलों ने उपयोग ही किया है। कांग्रेस सहित भाजपा-अकाली सरकार में भी हिंदू हमेशा उपेक्षित रहा है। इस बार चुनाव में हिंदू सभी राजनीतिक दलों को इसका जवाब जरूर देगा। हां, यह जरूर है कि हिंदू मुख्यमंत्री बनने से अलगाववादी तत्वों पर अंकुश लगेगा और अलगाववाद के विरुद्ध आवाज बुलंद करने वाले हिंदुओं का उत्पीड़न बंद होगा।

-अशोक तिवारी, राष्ट्रीय प्रवक्ता, हिंदू तख्त।विस्तार आबादी का प्रतिशत अधिक होने के बाद भी 55 साल से हिंदू मुख्यमंत्री न बनने के कारण हिंदूवादी संगठनों की मांग को देखते हुए भाजपा ने हिंदू चेहरे की तलाश शुरू की है। हालांकि इस फैसले पर जातिगत समीकरण को देखते हुए जो भी फैसला होगा वह केंद्रीय नेतृत्व के द्वारा ही लिया जाएगा।

विज्ञापनपंजाब के हिंदुवादी संगठनों की ओर से पंजाब में सिख के बजाय हिंदू चेहरे को मुख्यमंत्री प्रत्याशी के रूप में घोषित करने की मांग उठने लगी है। इस मामले में हिंदूवादी संगठन का एक शिष्टमंडल भाजपा सांसद और पंजाब मामलों के प्रभारी दुष्यंत गौतम से मुलाकात कर चुका है। इस दौरान हिंदू संगठनों की ओर से हिंदू मुख्यमंत्री बनाए जाने की मांग की गई। पंजाब में जातिगत समीकरण के अनुसार भी हिंदुओं की जनसंख्या दूसरे नंबर पर आती है।

वोट प्रतिशत के अनुसार पंजाब में सिख जनसंख्या 58 प्रतिशत है और दूसरे नंबर पर 40 प्रतिशत हिंदू आबादी है। इसके बाद भी मुख्यमंत्री पद पर हमेशा सिख चेहरे को ही वरीयता दी जाती रही है। संगठनों की इस मांग को और जातिगत समीकरण को देखते हुए भाजपा नेताओं ने भी हिंदू चेहरे को लेकर संभावनाएं तलाशनी शुरू कर दी हैं। कुछ नेताओं ने बताया कि दलित चेहरा भी हिंदू से ही आता है। अन्य कुछ राजनीतिक दल पंजाब में हिंदुओं को बांटने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन अब राज्य के हिंदू उनकी इस चाल को समझ चुके हैं। उन्होंने बताया कि हालांकि इस मामले में अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व के द्वारा ही लिया जाएगा। headtopics.com

नोटबंदी का नहीं हुआ असर: NCRB की रिपोर्ट में खुलासा, महाराष्ट्र में एक साल में 83.61 करोड़ रुपए के फर्जी नोट बरामद हुए, देश में नकली करेंसी बरामदगी 190 प्रतिशत बढ़ी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने NDTV से कहा- सिद्धू पाकिस्तान समर्थक, उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता पंजाब के बाद CG का नंबर!: मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाए जाने के सख्त फैसले के बाद सबकी निगाहें छत्तीसगढ़ पर; यहां भी CM बदले जाने की है चर्चा

1966 से नहीं मिला हिंदु मुख्यमंत्रीपंजाब के हिंदू नेता जय भगवान गोयल ने बताया कि पंजाब में हिंदुओं की जनसंख्या 40 प्रतिशत है। इसके बाद भी 1966 के बाद से आज तक पंजाब में हिंदू मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया। भाजपा यदि इस पर सकारात्मक निर्णय करती है तो पंजाब के हिंदु इसका स्वागत करेंगे।

हिंदुओं का अभी तक पंजाब में सभी राजनीतिक दलों ने उपयोग ही किया है। कांग्रेस सहित भाजपा-अकाली सरकार में भी हिंदू हमेशा उपेक्षित रहा है। इस बार चुनाव में हिंदू सभी राजनीतिक दलों को इसका जवाब जरूर देगा। हां, यह जरूर है कि हिंदू मुख्यमंत्री बनने से अलगाववादी तत्वों पर अंकुश लगेगा और अलगाववाद के विरुद्ध आवाज बुलंद करने वाले हिंदुओं का उत्पीड़न बंद होगा।

-अशोक तिवारी, राष्ट्रीय प्रवक्ता, हिंदू तख्त।आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?

हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

BJP4India Shri Varun Gandhi ji can also be a Hindu face. BJP4India ज्यादा मेहनत न करे पंजाब में तो ही सही है ।

मिजोरम विस्फोटक मामले में एनआइए ने शुरू की जांच, गृह मंत्रालय ने सौंपी केस की जिम्मेदारीअसम राइफल्स की ओर से 26 जून को चलाए गए चेकिंग अभियान के दौरान 3000 स्पेशल डेटोनेटर 925 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर 40 बॉक्स वायर समेत एक टन से अधिक विस्फोटक पदार्थ मिले थे। इस मामले की जांच एनआइए को सौंपी गई है।

असम: प्रदेश कांग्रेस को झटका, विधायक सुशांत बोरगोहेन ने पार्टी छोड़ी, भाजपा में जाने की अटकलेंअसम: प्रदेश कांग्रेस को झटका, विधायक सुशांत बोरगोहेन ने पार्टी छोड़ी, भाजपा में जाने की अटकलें Assam INCIndia SushantaBorgohain INCIndia बधाई हो

दिल्ली विधानसभा मानसून सत्रः नए कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग, भाजपा ने किया विरोधआम आदमी पार्टी (आप) के विधायक जरनैल सिंह ने सदन में प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल से ज्यादा समय से किसान इन कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं। छह सौ से ज्यादा किसानों की जान चली गई है अरविंद केजरीवाल पूरी दिल्ली विधानसभा को कचरा घर बना दिया है सरकार को कृषि कानून निरस्त करदेना चाहिए, सरकार ने इसे अपनी साख पर चोट समझ लिया है Yeh vidhansabha hai ki nirastrikaran ke thekedaar kabhi kehte hai police commissioner ko nirast karo kabhi l g to kabhi farm bills Delhi walo kaha murkho ko sarkaar de di

Monsoon Session: Lok Sabha की कार्यवाही शुरू होते ही हंगामा, विपक्ष ने की नारेबाजीमॉनसून सत्र की कार्यवाही का आज 10वां दिन है. संसद की शुरुआत हंगामे के साथ हुई है. आज लोकसभा में कोरोना के मुद्दे पर चर्चा होनी है. वहीं, पेगासस जासूसी कांड को लेकर कांग्रेस ने स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है. वहीं, हंगामे के बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने टोक्यो ओलंपिक में मेडल पक्का करने वाली बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन को बधाई दी है. उन्होंने कहा कि पूरा देश आपकी इस सफलता से गौरवान्वित है. राष्ट्र अब आपकी स्वर्णिम सफलता के लिए कामना कर रहा है. राज्यसभा की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो. मतलब साफ है। भाजपा अपने करतूत स्वीकार नहीं करता,जानबूझ कर और कार्यवाही को बढ़ावा नहीं मिलता। मॉनसून सत्र के समय खराब करने में विपक्ष से ज्यादा मौजूदा सरकार का नाकाम इरादा स्पश्ट हो चुका है। क्यों नहीं बयान करता पेगासिस और कृषि बिल का मामला........?

रॉनी स्क्रूवाला ने रखा वेब सीरीज की दुनिया में कदम, जासूसी थ्रिलर 'पैंथर्स' की घोषणा

उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे संबंधी याचिका ख़ारिज कर क्या कोर्ट ने पर्यावरण चिंताओं की उपेक्षा की?बीते फ़रवरी माह में हुए उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे के बाद प्रलयंकारी बाढ़ लाने वाली ऋषिगंगा नदी पर बन रही एनटीपीसी की दो जलविद्युत परियोजना को मिली वन एवं पर्यावरण मंज़ूरी रद्द करने के लिए एक याचिका दायर की गई थी. हालांकि कुछ दिन पहले हाईकोर्ट ने चमोली ज़िले के पांच याचिकाकर्ताओं की प्रमाणिकता पर ही सवाल उठाते हुए इस याचिका को ख़ारिज कर दिया और प्रत्येक पर 10-10 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया है.