पंजाब में दलित 32 प्रतिशत, फिर वो राजनीतिक शक्ति क्यों नहीं बन पाए? - BBC News हिंदी

पंजाब में दलित 32 प्रतिशत, फिर वो राजनीतिक शक्ति क्यों नहीं बन पाए?

21-09-2021 05:51:00

पंजाब में दलित 32 प्रतिशत, फिर वो राजनीतिक शक्ति क्यों नहीं बन पाए?

चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब में सत्ता के शिखर पर पहुँचने वाले पहले दलित नेता हैं. मगर पंजाब में अच्छा ख़ासा मत रखने वाले दलित एक बड़ी राजनीतिक ताक़त क्यों नहीं बन पाए हैं?

समाप्तइस पर मोहाली में मौजूद वरिष्ठ पत्रकार विपिन पब्बी ने बीबीसी से बात करते हुए कहा कि ऐसा इसलिए है क्योंकि अनुसूचित जाति की आबादी भी बँटी हुई है. उनका कहना है कि जहाँ आबादी सिख दलित और हिंदू दलितों के बीच बंटी हुई है वहां सिख हिंदू दलितों के बीच भी कई समाज हैं जो अपनी अलग अलग विचारधारा रखते हैं.

RAIL ROKO Andolan Today : किसानों का रेल रोको आंदोलन आज, 6 घंटे तक ट्रेनें रोकने का ऐलान Petrol, Diesel Price : रिकॉर्ड हाई दामों पर बिक रहे पेट्रोल-डीजल; आज के दाम जारी, यहां चेक करें युजवेंद्र चहल पर जातिगत टिप्पणी मामले में पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह गिरफ्तार, जमानत पर किए गए रिहा

पब्बी कहते हैं, "शायद यही वजह है कि इतनी मेहनत के बावजूद कांशी राम पंजाब में दलितों को एकजुट नहीं कर पाए और उन्होंने पंजाब से बहार निकलकर उत्तर प्रदेश और देश के अन्य इलाकों में दलितों के बीच काम करना शुरू किया."इमेज स्रोत,Hindustan Times/gettyimages

पंजाब विश्वविद्यालय के प्रोफेसर रोंकी राम के अनुसार कांशी राम ने पंजाब के विभिन्न दलित समाज के लोगों के बीच सामंजस्य और गठजोड़ बनाने की कोशिश ज़रूर की मगर वह कामयाब नहीं हो सके जबकि उत्तर प्रदेश में उनकी उत्तराधिकारी मायावती को इसमें अभूतपूर्व कामियाबी मिली. headtopics.com

उन्होंने कहा, "बहुजन समाज पार्टी का सबसे बेहतर प्रदर्शन वर्ष 1992 में रहा जब उसे 16 प्रतिशत मत मिले. लेकिन समय के साथ पार्टी का प्रभाव कम होता चला गया और वो सिमटकर पंजाब के दोआबा क्षेत्र के कुछ इलाकों में रह गयी."बीबीसी पंजाबी सेवा के संपादक अतुल संगर कहते हैं कि तमाम प्रयासों के बावजूद कांशी राम पंजाब में बहुजन समाज पार्टी को दलितों की पार्टी के रूप में स्थापित नहीं कर पाए क्योंकि 'मज़हबी सिख' यानी वो सिख जो अनुसूचित जाति से आते हैं और वाल्मीकि - इन दोनों समाज के लोगों ने हमेशा ख़ुद को इस पार्टी से अलग रखा.

आँकड़ों की अगर बात की जाए तो पंजाब की अनुसूचित जातियों में सबसे बड़ा 26.33 प्रतिशत मज़हबी सिखों का है. वहीं रामदासिया समाज की आबादी 20.73 प्रतिशत है जबकि आधी धर्मियों की आबादी 10.17 और वाल्मीकियों की आबादी 8.66 है.चन्नी को मुख्यमंत्री बनाना "मास्टरस्ट्रोक"?

यहाँ ये सवाल उठता है कि क्या चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाना, कांग्रेस का कोई मास्टर स्ट्रोक था? इस पर राय बँटी हुई है.वरिष्ठ पत्रकार विपिन पब्बी मानते हैं कि अब भी पंजाब में दलित पहचान कोई बड़ा मुद्दा नहीं है जबकि बड़े दलित आन्दोलन यहाँ से शुरू हुए हैं.

वह कहते हैं कि अभी समाज में सिख और हिंदू के रूप में पहचान की जाती है. चाहे वो दलित सिख हों या दलित हिंदू.पब्बी के अनुसार कांग्रेस द्वारा किसी सिख दलित को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाना राजनीतिक रूप से उसे कितना फ़ायदा पहुंचाएगा यह अभी कहना जल्दबाज़ी ही होगी क्योंकि अभी कई पेंच फंसे हुए हैं. headtopics.com

लखीमपुर हिंसा केस में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ने यूपी पुलिस को घेरा, कहा- अधिकारियों ने लापरवाही की इन देशों में ले छुट्टियों का मजा, जेब पर नहीं चलेगी कैंची, क्योंकि यहां की करेंसी पर अपना रुपया है भारी घाटी में बढ़े हमले: भारतीय सेना को शक- पाकिस्तानी फौज के कमांडो दे रहे हैं आतंकियों को ट्रेनिंग

इमेज स्रोत,इमेज कैप्शन,चरणजीत सिंह चन्नीबीबीसी की पंजाबी सेवा के संपादक अतुल संगर को लगता है कि कांग्रेस ने ऐसा कर एक 'बोल्ड' फ़ैसला ज़रूर लिया है क्योंकि ये आज़ादी के बाद पहली बार हुआ है. सिर्फ़ ज्ञानी ज़ैल सिंह ही ऐसे थे जो ओबीसी वर्ग से थे और वह पंजाब के मुख्यमंत्री बने थे. साथ ही वो ये भी कहते हैं कि चन्नी के मुख्यमंत्री बनाए जाने का मतलब ये नहीं है कि अब सारे दलित कांग्रेस का झंडा ही थाम लेंगे.

संगर कहते हैं, "दलित हिंदू और दलित सिख अकाली दल और कांग्रेस को समर्थन देते आये हैं. लेकिन ऐसे में जब विधानसभा के चुनावों से ठीक पहले अकाली दल ने ये कहा कि जीत हासिल होने पर वो दलित को उप मुख्यमंत्री बनायेंगे और आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी ने भी ऐसी ही घोषणा की, कांग्रेस के इस क़दम को फिलहाल तो ज़रूर एक मास्टर स्ट्रोक के तौर पर देखा जा रहा है."

पंजाब विधानसभा के कुल 117 सीटों में से 30 सीटें अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं मगर बीबीसी पंजाबी के वरिष्ठ पत्रकार खुशहाल लाली कहते हैं कि कुल 50 सीटें ऐसी हैं जिनपर दलितों का मत मायने रखता है. मगर इसके बावजूद इन सीटों पर अकाली दल, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का भी प्रभाव है.

कुछ राजनीतिक विश्लेषकों का ये भी मानना है कि चन्नी को मुख्यमंत्री बनाने का ये भी परिणाम हो सकता है कि जाट सिख और हिंदू उच्च जाति के लोगों के वोट कांग्रेस से खिसक भी सकते हैं.राजनीतिक विश्लेषक हरतोष सिंह बल ने अपने ट्वीट में इसकी चर्चा करते हुए कहा कि और राज्यों की तरह पंजाब में भी दलित वोटों का बँटवारा दूसरी जातियों के बीच होता रहा है. उनका मानना है कि रामदासिया जाति के नेता को मुख्यमंत्री बनाना कांग्रेस के लिए परेशानी भी बन सकती है क्योंकि फिर कांग्रेस को मज़हबी सिख जाति और हिंदू वाल्मीकि जाति के बीच अपनी पैठ बनाने में मुश्किल का सामना भी करना पड़ सकता है. headtopics.com

वह लिखते हैं, "एक दलित का पंजाब का मुख्यमंत्री बनना बहुत समय से लंबित था. ज़ाहिर है चन्नी ऐसा कार्यकाल बिलकुल नहीं चाहते होंगे जहां वो खुद को शक्तिविहीन महसूस कर रहे हों. जबकि उनके इर्द गिर्द सिद्धू बनाम रंधावा बनाम अमरिंदर बनाम जाखड़ संघर्ष चल रहा हो."

और पढो: BBC News Hindi »

दैनिक भास्कर से बोलीं कश्मीर की बेटी श्रद्धा बिंद्रू: मैं दुनिया को बताना चाहती हूं कि कश्मीर हमारा है, कोई डरा-धमकाकर हमारे हौसले को पस्त नहीं कर सकता

‘तुम सिर्फ शरीर को मार सकते हो, मेरे पिता की आत्मा को नहीं। अगर हिम्मत है तो सामने आओ, तुम लोग केवल पत्थर फेंक सकते हो या पीछे से गोली चला सकते हो। मैंने हिंदू होते हुए भी कुरान पढ़ी है। कुरान कहती है कि शरीर का जो चोला है, यह तो बदल जाएगा, लेकिन इंसान का जो जज्बा है, वह कहीं नहीं जाएगा। माखनलाल बिंद्रू इसी जज्बे में हमेशा जिंदा रहेंगे।’ यह कहना है आतंकियों को सरेआम ललकारने वालीं श्रीनगर में कश्मीर... | वुमन भास्कर ने श्रद्धा बिंद्रू से बात की। उन्होंने कश्मीर और कश्मीरियत का हवाला देते हुए कहा-हम इसी मिट्‌टी में पैदा हुए हैं, हमें इससे प्यार है। हमारे पिता ने भी इसी के लिए जान दी।

Lack of confidence and lack of unity क्योंकि चंगाई जैसी ईसाइयत फ्राड से ये ईसाई बनाये जा रहे हैं। असली बात मैं बताता हूं , वे भूमिहीन हैं । सब खेल संसाधनों का है और कुछ नहीं जिनका दिन शाम की रोटी के जुगाड में निकल जाता है वे बेचारे कैसे सीएम बनेंगे । अंग्रेजों के गुलाम जमीन बचा गए और आज राज कर रहे हैं Because in punjab everyone lives with respect and no one show he is cast by beating or killing each other like in bihar UP Or other place stop divding punjab now by saying again and again samen shit

सिख सिख होता है दलित का हतियापा मत शुरू करो Wahi bhai bbc wahh .. BB-Chindhi अब दलित हिंदू मुसलमान की राजनीती का वक्त नहीं राहा ये मीडिया वालोंकी सोच हे ...दलित और हिंदू एक ही हे..... मुस्लिम मे शिया,सुन्नी,अहमदी, बागवान,पिंजारी,असे बहुत जाती हे..कभी मीडिया वालोने बताया? Because they are Patriots .... Kyon ki jyadatar convert ho Kar Christian ban Gaye.

पंजाब में हिन्दू 28%, फिर वो राजनीतिक शक्ति क्यों नहीं बन पाए?

पंजाब में दलित सीएम: बहन जी तिलमिलाईं, बोलीं- ये कांग्रेस का चुनावी हथकंडाबसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस द्वारा पंजाब में दलित मुख्यमंत्री बनाए जाने पर इसे कांग्रेस का चुनावी हथकंडा करार Mayawati INCIndia Ye to hona hi tha😂😂😂😅😅😅 Mayawati INCIndia बहिन जी के गठबंधन के धागे खोल दिए काँग्रेस ने 😂 Mayawati INCIndia तिलमिलाई क्या है? मायावती ने पंजाब में दलित मुख्यमंत्री बनने और आगामी चुनाव में दूसरा चेहरा होने पर प्रतिक्रिया व्यक्त की हैं। इसमें तिलमिलाना क्या? अमर उजाला कभी मोदी शाह,योगी,राहुल,अखिलेश को तिलमिलाते हुए नहीं देखा। थू ऐसी पत्रकारिता पर।

देश भर के दलितों को वोटों के लिए लुभावने को मगर इससे कोई फायदा कांग्रेस को होने वाला नही बल्कि नुकसान इतना होगा कि भरपाई भी नही हो पाएगी। जैसे यू पी में पिछड़ा वर्ग के नहीं बन पाये Excellent reporting 2 छत से क्या होता? शर्माजी हुएतब, पिता की हैसियत से बड़ी सरकारी छत नीचे! जमींन 25 30 करोड़ की, पर? आज भी बड़ी छत पर पत्नि की! वे तो हुऐ भिखारी बड़े होने बाद कनून का राज नही और मोदी तक इसमे जुड़े! बाप ईलाज तक, हड़पे!! गरीबी आमपन - मासिक आय से तय होना चाहिऐ!🙏

सभी आरक्षण राजनितिक उठापटक और पूर्वाग्रह से पीड़ित! नियमित आय मांग चाहे कम मे छुपा सबसुख! 2 KYUN MAHILAYEN SAR PER MAILA UTHANE KE LIYE HI HAIN . _ KYA YE DESH KA GAURAV NAHIN BAN SAKTIN ? _ GANDHI JI NE INKO ' HARIJAN ' KAHA YANI ISHWARIYA VYAKTI PER MAYAWATI KO IS SHABD SE CHID HAI . _ DALITON NE BAHUT ADHIK SANGHARSH KIYA HAI , UNKO DESH MAIN PURA SAMMAN CHAHIYE ?

आखिर हिन्दुओ को अलग अलग क्यो बटा गया गुरुकुल क्यो खत्म किया गया दो हजार करोड़ की लागत से पंजाब में एक गिरजाघर बन रहा है। अब वहां से राजनीति शक्ति का निर्माण हो सकता है। थोड़ा बहुत तुम लोग नकली एनजीओ बनाकर फंडिंग का इंतजाम करवा दो। दिल्ली का एक गिरगिट भी इसी काम में लगा हुआ है। According to congress Punjab is state of jaatt and sikh.

पंजाब राज्य में ही नहीं, सभी राज्यों में दलितों की जनसंख्या अन्यों से कहीं ज्यादा प्रतिशत है, लेकिन संगठित ना होने की वजह से सत्ता में नहीं है, जबकि 8 प्रतिशत जनसंख्या वाले सत्ता पर कब्जा किए बैठे हैं । दलित ठेकेदार भी यही चाहते हैं ताकि उनकी पैंट बनी रहे ।

कुरुक्षेत्र: पहले दलित मुख्यमंत्री का दांव अगर चला तो बदल सकता है पंजाब का चुनावकुरुक्षेत्र: पहले दलित मुख्यमंत्री का दांव अगर चला तो बदल सकता है पंजाब का चुनाव PunjabCM PunjabCongress assemblyelections2022 CharanjitSinghChanni INCIndia INCIndia VinodAgnihotri7 INCIndia VinodAgnihotri7 पंजाब में महिलाओं की सुरक्षा की खातिर ऐसे आदमी की गिरफ्तारी जरूरी है , अगर ये CM बना तो हालात कैसे होंगे ❓ ArrestCharanjitChanni INCIndia VinodAgnihotri7 एक दलित राष्ट्रपति भी हैं!!

वैसे तो सवाल करना मीडिया का काम है पर आज के हालात ऐसे है की हम जैसे मजबूर किसान के बेटे को आप जेसे बड़े चैनलो से सवाल करना पड़ रहा है।क्या इतने दिनो से जो पानी किसानों की फसल पर पड़ रहा है क्या ये किसी स्टेडियम में मैच चलते समय गिरता तो ब्रेकिंग न्यूज़ नही बनती । संवैधानिक व्यवस्था लागू होने के बाद भी मौका नही दिया गया है। कुछ चन्द चाटुकारों के चंगुल में फंसा देश धीरे धीरे बाहर निकल रहा है। वक्त का तकाजा है कि एक दिन फिर से भारत के मूल निवासी अपना परचम लहरायेंगे।

जो बात RoflGandhi_ ने मात्र एक ट्वीट में कह दी उसी का विस्तृत रूप BBC ने आर्टिकल लिख डाला। भाव वही शब्द बहुत। क्योंकि सीखो मे दलित सवर्ण नहीं होता। कांग्रेस ने पॉलीटिकल माइलेज के लिए इस बंटवारा किया। क्यूंकि जाट (क्षत्रिय) सिक्खों के खिलाफ बोलने की हिम्मत किसी मिडिया में नहीं है. इस्लामिक और वामपंथी मिडिया सिक्खों को हिन्दुओं को गाली खिलवाने के लिए उपयोग करता है, इसलिए मीडिया उन्हें कुछ भी करने का खुला हाथ देता है 🙂

क्योकि वहाँ हिन्दू मजबूत नही है पंजाब में पंजाबी रहते हैं, फिर ये दलित दलित क्या लगा रखा है? वो सभी सिख समुदाय से हैं और सिख धर्म में तो कोई भेदभाव ही नहीं है तो फिर दलित ,ओ बी सी और जनरल कहाँ से आ गए? Punjabi are very humble people they didn't see he is muslim,hindu Christian or dalit they treat them equally And about political opinion congress will form govt again 🔥

Kyo ki jati pat h hr jha gaa हर_किसान_मोदी_से_परेशान

चरणजीत सिंह चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, राज्य को मिलेगा पहला दलित सीएमचरणजीत सिंह चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री होंगे। हरिश रावत ने ट्वीट कर बताया कि चरणजीत सिंह चन्नी को विधायक दल का नेता चुना गया है और वह पंजाब के नए मुख्यमंत्री होंगे।

चरणजीत सिंह चन्नी: पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री को कितना जानते हैं आप - BBC News हिंदीराजनीतिक हलको में हर तरफ़ यही कहा जा रहा है कि कांग्रेस ने पंजाब विधानसभा के चार महीने पहले दलित कार्ड खेलने की कोशिश की है लेकिन इससे इस बात की अहमियत कम नहीं हो जाती कि पंजाब की राजनीति में ये एक ऐतिहासिक घटना है. हमने नाम ही पहली बार सुना है ये एक कनवर्टेड दलित है सायद और एक सरकारी महिला अधिकारी को अश्लील संदेश भेजने के कारण मुकदमें का सामना कर रहा है। Ham to pura jante h ki ye ek chichora h jo ab cm bnne ja ra h .

चरणजीत सिंह चन्नी ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, पंजाब को मिला पहला दलित CMचरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले अनुसूचित जाति के मुख्यमंत्री होंगे. चन्नी सोमवार को सुबह 11 बजे राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे. चन्नी के शपथ ग्रहण में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, राज्य कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धू समेत अन्य लोग मौजूद रहेंगे. Congratulations 💐💐💐💐💐 अगर दलित से ईसाई तो आरक्षण क्यूँ Charanjitchinn Congratulations

पंजाब के नए CM का शपथ ग्रहण LIVE: सुबह 11 बजे पद की शपथ लेंगे पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री चरणजीत, आज सबसे पहले रूपनगर गुरुद्वारे में मत्था टेकापंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को राज्यपाल बीएल पुरोहित आज सुबह 11 बजे शपथ दिलाएंगे। चन्नी के साथ दो डिप्टी CM भी शपथ ले सकते हैं। ब्रह्ममोहिंदरा और CM बनते-बनते रह गए सुखजिंदर रंधावा का नाम है। ब्रह्ममोहिंदरा हिंदू नेता हैं तो रंधावा जट्‌ट सिख कम्युनिटी से हैं। अब तक पंजाब में जट्‌ट सिख कम्युनिटी से ही मुख्यमंत्री बनते रहे हैं। | पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी सोमवार यानी आज 11 बजे शपथ लेंगे। चन्नी के साथ दो डिप्टी CM भी शपथ ग्रहण कर सकते हैं।