Punjab Congress, Navjot Singh Siddhu, Captain Amrinder Singh, Punjab Next Cm, Punjab Congress

Punjab Congress, Navjot Singh Siddhu

पंजाबः कैप्टन के अपने ही सिपाहियों की बगावत में खेल कर गए सिद्धू

कांग्रेस की कलहः

19-09-2021 05:24:00

कांग्रेस की कलहः

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के पीछे उनके ही कुछ सिपाहियों के नाम हैं जिनको कैप्टन ने अपनी सरकार में मंत्री के लिए चुना था। लेकिन उनकी बगावत की आग में पंजाब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिद्धू ने कुछ ऐसी हवा दी कि कैप्टन ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)। Source – Indian Expressपंजाब कांग्रेस में चल रहे विवाद के बीच मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शनिवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले ही सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे पीछे उनके ही सिपाहियों का अहम रोल माना जा रहा है। जिसमें उनकी ही सरकार के मंत्रियों की तिकड़ी, जिनमें तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, सुखजिंदर सिंह रंधावा और सुखबिंदर सिंह सरकारिया शामिल हैं। कैप्टन का विरोध करने वाली इस टीम में चरणजीत सिंह चन्नी को छोड़ दें तो बाकी तीनों को कैप्टन ने ही अपने मंत्रिमंडल के लिए चुना था। इनकी बगावत की आग में नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा दी गई हवा, इस कदर काम कर गई, कि शनिवार को कैप्टन अमरिंदर सिंह को इस्तीफा देना पड़ा।

Petrol, Diesel Price Today : आज फिर तेल में 35-35 पैसों की बढ़ोतरी, दिल्ली में 106 के पार हुआ पेट्रोल गुड़गाँव में खुले में नमाज़ पढ़ने का मुद्दा नहीं सुलझ पा रहा - BBC News हिंदी आर्यन खान के सपोर्ट में आए जावेद अख्तर, कहा- 'फिल्म इंडस्ट्री हाई प्रोफाइल होने की सजा भुगत रही'

बता दें कि कैप्टन सरकार से नाराज चल रहे इन चार बागी मंत्रियों ने 25 अगस्त को देहरादून में पार्टी प्रभारी हरीश रावत से मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने अमरिंदर सिंह को लेकर आरोप लगाया था कि वो विपक्षी दल शिरोमणि अकाली दल के साथ कोई गुप्त योजना बना रहे हैं। बागी मंत्रियों ने अमरिंदर सिंह पर आरोप लगाया था कि वे गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी करने वालों और इसको लेकर विरोध करने वाले दो लोगों की मौत के दोषियों को गिरफ्तार करने में विफल रहे। उन्होंने कहा कि 2017 के चुनाव से पहले पंजाब से नशीली दवाओं के खात्मे को लेकर कैप्टन ने जो वादा किया था वो पूरा नहीं हो सका। कांग्रेस के बागी नेताओं ने कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले इस हाल में मतदाताओं के पास जाना मुश्किल है, क्योंकि कांग्रेस सरकार जनता से किए गए अपने प्रमुख वादों को पूरा नहीं कर सकी है।

कैप्टन के खिलाफ विद्रोह करने वाले इन नेताओं के बारे में एक नजर:सुखजिंदर सिंह रंधावा:पूर्व राज्य कांग्रेस प्रमुख संतोख सिंह रंधावा के बेटे और गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक विधानसभा क्षेत्र से तीन बार के विधायक रहे सुखजिंदर सिंह रंधावा कैप्टन के खिलाफ बगावत करने वाले मंत्री दल में शामिल रहे। पंजाब में कांग्रेस सरकार के गठन के एक साल बाद 2018 में रंधावा को कैप्टन सरकार में जेल और सहकारिता मंत्री का पद दिया गया था। रंधावा, हाल के दिनों में, अमरिंदर के खिलाफ यह कहते हुए बहुत मुखर रहे कि चुनाव से पहले किए गए वादों के पूरा न होने के चलते 2022 का चुनाव लड़ना मुश्किल होगा। उन्होंने यह भी कहा था कि बेअदबी के मामलों में न्याय में देरी होने को लेकर कांग्रेस सरकार खुद जिम्मेदार है। headtopics.com

तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा:बाजवा गुरदासपुर जिले के फतेहगढ़ चुरियन विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। उन्हें कैप्टन सरकार में ग्रामीण विकास और पंचायत, पशुपालन और मत्स्य पालन, डेयरी विकास और उच्च शिक्षा का प्रभार दिया गया था। चार बार विधायक रहे बाजवा ने PPCC महासचिव परगट सिंह के साथ कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान का नेतृत्व किया था और पार्टी आलाकमान से मांग की थी कि कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक की हो। इस मांग को लेकर 40 से अधिक विधायकों ने हस्ताक्षर किए थे। ऐसे में शनिवार को पार्टी आलाकमान ने सीएलपी की बैठक बुलाई थी। हालांकि बैठक से पहले ही अमरिंदर सिंह ने अपना इस्तीफा दे दिया।

सुखबिंदर सिंह सरकारिया:विधानसभा चुनावों में अपनी लगातार तीसरी जीत हासिल करने वाले सरकारिया को अप्रैल 2018 में कैप्टन सरकार के विस्तार के दौरान पंजाब मंत्रिमंडल में शामिल कर जल संसाधन, खान और भूविज्ञान, आवास और शहरी विकास प्रभार दिया गया था। सरकारिया उन कांग्रेस नेताओं में शामिल थे जो पिछले महीने

अमरिंदरके मुख्यमंत्री के काम पर नाराजगी जताने के लिए प्रदेश प्रभारी हरीश रावत से मिलने पहुंचे थे। सकारिया अमृतसर के राजा सांसी निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं।चरणजीत सिंह चन्नी:तीसरी बार विधायक बने चन्नी पंजाब की पिछली SAD-BJP सरकार के दौरान विधानसभा में विपक्ष के नेता थे। चमकौर साहिब से विधायक चन्नी को कैबिनेट में तकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण, रोजगार सृजन और प्रशिक्षण, और पर्यटन और संस्कृति मामलों के विभागों को सौंपा गया था। उन्होंने कैप्टन पर आरोप लगाया था कि वे पार्टी नेताओं द्वारा उठाए गए मुद्दों पर ध्यान नहीं देते। चन्नी भी पिछले महीने देहरादून में रावत से मिलने गए लोगों में शामिल थे।

और पढो: Jansatta »

इंदौर की 6 साल की जियाना ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड: 12 मिनट का टारगेट था, 9 मिनट में 195 देशों की 7 खास बातें बताकर सबको चौंकाया; सेशन से एक दिन पहले आया था बुखार

इंदौर की 6 साल की जियाना शाह ने 9 मिनट 31 सेकंड में 195 देशों के बारे में जानकारी देकर रिकॉर्ड अपने नाम किया है। जियाना से ऑनलाइन सेशन में सवाल-जवाब किए गए। इसके लिए उसे 12 मिनट दिए गए थे। उसने OMG बुक ऑफ रिकॉर्ड, इंटरनेशनल टैलेंट बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में नाम दर्ज कराया है। वहीं, गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मैनेजमेंट से भी बात हुई है। फिलहाल गिनीज बुक की तरफ से सर्टिफिकेट नहीं दिया गया है। | Information given about 7 special things of 195 countries in 9 minutes, despite fever, names were registered in 3 record books

कैप्टन के इस्तीफे के बाद Punjab में कितनी बढ़ गईं Congress की मुश्किलें, समझिएकैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज अपने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया. कैप्टन ने शाम को राज्यपाल के आवास पर जाकर अपना इस्तीफा थमा दिया. पंजाब की सियासत में सुबह से ही खलबली मची हुई थी. आज पंजाब में विधायक दल की एक बैठक होने वाली थी जिससे कैप्टन नाराज थे और इसके लिए उन्होंने सोनिया गांधी से भी बात की थी. इस्तीफा देने के बाद मीडिया से बात करते हुए कैप्टन ने कहा कि सोनिया गांधी जिसे चाहें उसे सीएम पद की कुर्सी सौंपे. अब तरह तरह के कयास लगाए जा रहे हैं कि पंजाब का अगला मुख्यमंत्री कौन बनेगा. लेकिन एक बात तो तय है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद पंजाब में कांग्रेस के लिए मुश्किलें बढ़ जाएंगी. RPGAUTAMBSP कैप्टन साहब बोरी बिस्तर बांध लो बसपा आने वाली है

पार्टी में कलह के बाद पंजाब के 'कैप्टन' अमरिंदर सिंह ने दिया इस्तीफापंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। दिन भर चली बैठकों के बाद उन्होंने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित को इस्तीफा सौंपा।

प्रधानमंत्री मोदी के तोहफों की नीलामी, नीरज चोपड़ा के भाले की 1.5 करोड़ रुपये की बोलीप्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन के मौके पर उनको मिले उपहारों की नीलामी की गई। नीरज चोपड़ा के भाले की बोली 1.5 करोड़ की लगी तो वहीं लवलीना के बॉक्सिंग ग्लव्स की नीलामी 1.9 करोड़ में हुई। उनको तो आदत है नीलाम करने की आ गया भटकाव का एक और तरीक़ा

कैप्टन के इस्तीफे के बाद खट्टर के मंत्री का सिद्धू पर तंजइस्तीफा देने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि मेरा फैसला आज सुबह हो गया था, मैं बातचीत के लहजे से अपमानित महसूस करता था। बार बार विधायकों की बैठक होती थी। ऐसा माना गया कि मैं सरकार नहीं चला पा रहा हूं।

बिहार के पूर्व विधायक के खिलाफ ED की बड़ी कार्रवाई, 68 लाख की संपत्ति जब्तजानकारी के लिए बता दें कि ददन सिंह पर भी कई अपराधिक मामले दर्ज किए जा चुके हैं. यूपी और बिहार में अलग-अलग मामलों में उनके खिलाफ कई केस दर्ज हैं. इस बार ईडी ने अपनी कार्रवाई उन पांच FIR के आधार पर की है जो यूपी और बिहार में दर्ज की गई थीं.

'मुझे अपमान महसूस हुआ, भविष्य के विकल्प खुले हैं' : इस्तीफे के बाद बोले कैप्टन अमरिंदर सिंहमुझे अपमान महसूस हुआ, भविष्य के विकल्प खुले हैं : इस्तीफे के बाद बोले कैप्टन अमरिंदर सिंह मोदी - हैलो, बाबुल तुम कहाँ जा रहे हो ? बाबुल - TMC मे 😀😜😀😜😀 These politicians are like diapers which need be changed if there is bad smell in the working atmosphere खेल शुरू हो चुका है मित्रों