Employees, Salaries, Employees To Get Higher Salaries Next Fy, As The Supply Of Applicants Lags Demand

Employees, Salaries

नौकरी वालों के लिए अच्छी खबर: अगले साल मिलेगा औसतन 8% तक का इनक्रीमेंट, डिमांड से कम टैलेंट की सप्लाई का फायदा मिलेगा

नौकरी वालों के लिए अच्छी खबर: अगले साल मिलेगा औसतन 8% तक का इनक्रीमेंट, डिमांड से कम टैलेंट की सप्लाई का फायदा मिलेगा #employees #salaries

23-07-2021 17:16:00

नौकरी वालों के लिए अच्छी खबर: अगले साल मिलेगा औसतन 8% तक का इनक्रीमेंट, डिमांड से कम टैलेंट की सप्लाई का फायदा मिलेगा employees salaries

अगर आप नौकरी करते हैं, तो अगला फाइनेंशियल ईयर आपके लिए अच्छा साबित हो सकता है। दिग्गज रिक्रूटमेंट कंपनियों के मुताबिक, आपकी सैलरी में नॉर्मल से ज्यादा बढ़ोतरी हो सकती है। उनका कहना है कि कंपनियां अगले साल लॉकडाउन से उबर चुकी होंगी। इसके अलावा, जॉब मार्केट में टैलेंट की सप्लाई डिमांड से कम रह सकती है। | Employees to get higher salaries next FY, as the supply of applicants lags demand

नौकरी वालों के लिए अच्छी खबर:अगले साल मिलेगा औसतन 8% तक का इनक्रीमेंट, डिमांड से कम टैलेंट की सप्लाई का फायदा मिलेगानई दिल्ली3 घंटे पहलेकॉपी लिंकअगर आप नौकरी करते हैं, तो अगला फाइनेंशियल ईयर आपके लिए अच्छा साबित हो सकता है। दिग्गज रिक्रूटमेंट कंपनियों के मुताबिक, आपकी सैलरी में नॉर्मल से ज्यादा बढ़ोतरी हो सकती है। उनका कहना है कि कंपनियां अगले साल लॉकडाउन से उबर चुकी होंगी। इसके अलावा, जॉब मार्केट में टैलेंट की सप्लाई डिमांड से कम रह सकती है।

गुजरात: कोई 10वीं पास तो कोई सिर्फ़ चौथी, भूपेंद्र पटेल के नए मंत्रियों की शिक्षा पर चर्चा - BBC News हिंदी पाकिस्तान पर अफ़गानिस्तान का असर? अचानक बढ़े तहरीक-ए-तालिबान के हमले - BBC News हिंदी चरणजीत सिंह चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, दलित-सिख चेहरा कांग्रेस का 'मास्टरस्ट्रोक'? - BBC News हिंदी

सैलरी में औसतन लगभग 8% की बढ़ोतरी मुमकिनदिग्गज रिक्रूटमेंट फर्म्स माइकल पेज और एऑन पीएलसी के मुताबिक, अगले वित्त वर्ष कंपनियां सैलरी में औसतन लगभग 8% की बढ़ोतरी कर सकती हैं। लेकिन यह तभी मुमकिन हो पाएगा, अगर सरकारी एजेंसियां कोविड संक्रमण की तीसरी लहर को उठने से रोक पाएंगी। रिक्रूटमेंट फर्म्स में पहले इस साल 6 से 8% सैलरी हाइक होने का अनुमान दिया गया था।

एशियाई देशों में सबसे ज्यादा सैलरी इनक्रीमेंट इंडिया मेंआमतौर पर एशियाई देशों में सबसे ज्यादा सैलरी इनक्रीमेंट इंडिया में होता है। ऐसा कम-से-कम अगले दो साल तक होते रहने की संभावना है। लेकिन, पिछले दशक में दस पर्सेंट और ज्यादा की महंगाई दर में कमी आने के साथ ही हाल के वर्षों में सैलरी हाइक का पर्सेंटेज भी घट रहा है। headtopics.com

कोविड के दौरान फिर बढ़ी खुदरा महंगाई की दरवैसे खुदरा महंगाई कोविड के दौरान फिर से बढ़ी है, लेकिन इसकी वजह सामान और सेवाओं की मांग में बढ़ोतरी नहीं बल्कि कुछ समय के लिए उनकी सप्लाई में आई कमी रही है। सैलरी हाइक के अनुमान खास तौर पर ऑर्गनाइज्ड सेक्टर के हिसाब से निकाले गए हैं, जिनका टोटल वर्कफोर्स में 20% से भी कम हिस्सा है।

सैलरी हाइक की वजह, टैलेंट की सप्लाई-डिमांड में असंतुलनऑर्गनाइज्ड सेक्टर में टैलेंट की डिमांड के हिसाब से क्वॉलिफाइड कैंडिडेट उपलब्ध नहीं होने के चलते भी सैलरी में इजाफा हो सकता है। यह बात रिक्रूटमेंट फर्म एऑन के चीफ कमर्शियल ऑफिसर-ह्यूमन कैपिटल सॉल्यूशन, इंडिया और साउथ एशिया रूपांक चौधरी ने कही है।

सैलरी हाइक में नहीं है महंगाई या GDP ग्रोथ का सीधा हाथचौधरी के मुताबिक, 'यह जरूरी नहीं है कि इंडिया में ज्यादा सैलरी हाइक की वजह महंगाई या जीडीपी ग्रोथ हो। उनमें कोई सीधा संबंध नहीं है। यहां वेतन में बढ़ोतरी की सबसे बड़ी वजह टैलेंट की डिमांड और सप्लाई में कमी रही है।'

ई-कॉमर्स, फार्मा और IT फर्मों में ज्यादा सैलरी हाइकअब यह सवाल उठता है कि किस सेक्टर की कंपनियों में औसत से ज्यादा बढ़ोतरी हो सकती है। ई-कॉमर्स, फार्मा, IT और फाइनेंशियल सर्विसेज सेक्टर की कंपनियां अगले वित्त वर्ष ज्यादा सैलरी हाइक दे सकती हैं। रिटेल, एयरोस्पेस, होटल और हॉस्पिटैलिटी सेक्टर की कंपनियों में वेतन बढ़ोतरी औसत से कम रह सकती है। headtopics.com

चरणजीत सिंह चन्नी कल सुबह 11 बजे लेंगे पंजाब के मुख्यमंत्री पद की शपथ - BBC Hindi CSK vs MI: दुसरे चरण में चेन्नई का शानदार आगाज, गायकवाड़ के दम पर मुंबई को 20 रन से हराया पंजाब: नए मुख्यमंत्री की घोषणा में देरी, सोशल मीडिया पर चुटकुले और मीम्स - BBC Hindi और पढो: Dainik Bhaskar »

अमेठी में स्मृति ने पकौड़ी संग चाय पर की चर्चा: दुकानदार से पूछा- क्या हाल है, बोला- बेटे के दिल में छेद है, बोलीं- दिल्ली लेकर आइए, इलाज की चिंता मत करिए

स्मृति ईरानी अमेठी में हैं। केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। वहां उन्होंने पकौड़ी खाई और चाय पी। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान हैं। उनके बच्चे के दिल में छेद है, जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है। | Discussion on Smriti Irani's tea in Amethi, After drinking tea at the shop, ate dumplings, asked - how are you; After hearing the problem of Ram Naresh called to Delhi, amethi news, political news, यूपी चुनाव से पहले गांधी परिवार अमेठी से दूर है, इसका फायदा स्मृति ईरानी बखूबी उठा रही हैं। बुधवार की रात अमेठी पहुंची केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। यहां उन्होंने चाय पीकर और पकौड़ी खाकर चर्चा की। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान है। उसने बताया कि उसके बच्चे के दिल में छेद है। जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है।

हट बिकाऊ मीडिया

VIDEO: मैच से पहले बवंडर का बवाल, 'उड़ने' से बाल-बाल बचे खिलाड़ीबारिश या खराब मौसम के चलते अक्सर खेल के मैदान में खलल पड़ते हुए देखा गया है पर ऐसा ही कम देखने को मिला है कि किसी बवंडर के चलते फुटबॉल मैच को रोकना पड़ा हो. ऐसा ही एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें बवंडर के बवाल के बीच खिलाड़ी अपने आपको बचाते हुए नजर आए. Oho

Twitter Update: जल्द मिलेगा डिसलाइक का बटन, हो रही टेस्टिंगTwitter के प्रोडक्ट प्रमुख Kavyon Beykpour ने पिछले साल ही कहा था कि ट्विटर जल्द ही डिसलाइक बटन पेश करेगा। ट्विटर ने भी इस फीचर के Eagerly waiting 👀 New channel wale account 😄😄😄🤔🤔 बेचारे मोदी जी का क्या होगा 😊😊

हरियाणा: आज से खुलेंगे छठवीं से आठवीं कक्षा के स्कूल, साइकिल से आने और घर से पानी लाने का निर्देशहरियाणा: आज से खुलेंगे छठवीं से आठवीं कक्षा के स्कूल, साइकिल से आने और घर से पानी लाने का निर्देश Hariyana SchoolReopen mlkhattar mlkhattar आरएसएस इनकम टैक्स नही देती। RSS देश,विदेश से उसे मिलनेवाले चंदे की जानकारी सार्वजनिक नही करती। राष्ट्रीय_स्वयंसेवक_संघ को मोदी सरकार ने देशभर में कितनी जमीन मुफ्त दी है? RSSorg से संलग्न 800 सेवाभावी संस्थाओं को सरकारी योजनाओं के तहत कितना पैसा दिया?

नाकामी: देश के पास नहीं है ऑक्सीजन की कमी से मौतों का पता लगाने वाली प्रणालीऑक्सीजन या फिर स्वास्थ्य सेवाओं की कमी से एक भी मौत न होने के बाद हर कोई अलग अलग तर्क दे रहा है जबकि स्वास्थ्य विशेषज्ञ

आक्सीजन संकट: राज्यों की रिपोर्ट-केंद्र का आंकड़ा, सियासी घमासान से अलग है जमीनी हकीकतIMA के एक पूर्व अध्यक्ष और पूर्वी दिल्ली में एक निजी अस्पताल के मालिक कहते हैं कि जब रोगी की मौत कार्डिक अरेस्ट से हुई है तो इसे ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत कैसे लिखा जा सकता है. हालांकि वे यह भी कहते हैं कि ये सच्चाई है कि अगर ऑक्सीजन सप्लाई का मैनेजमेंट बेहतर होता तो 15-20 फीसदी मौतें टाली जा सकती थी.

ICICI बैंक का ग्राहकों को झटका, 1 अगस्त से होंगे 3 बड़े बदलावनई दिल्ली। ICICI बैंक ने 1 अगस्त से अपने नियमों में बड़ा बदलाव करने का फैसला किया है। इसके तहत बैंक के एटीएम से कैश निकालने से लेकर चेकबुक के नियम भी बदल जाएंगे।