Noidaauthority, Supremecourt, Corruption, Supreme Court, Corruption, Noida Authority R, Flat İn Noida, सुप्रीम कोर्ट, नोएडा प्राधिकरण

Noidaauthority, Supremecourt

नोएडा प्राधिकरण पर सुप्रीम कोर्ट सख्त : कहा- अंग-अंग से टपकता है भ्रष्टाचार

सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए बुधवार को कहा कि प्राधिकरण के चेहरे ही नहीं, उसके मुंह,

04-08-2021 23:19:00

नोएडा प्राधिकरण पर सुप्रीम कोर्ट सख्त : कहा- अंग-अंग से टपकता है भ्रष्टाचार NoidaAuthority Supremecourt Corruption

सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए बुधवार को कहा कि प्राधिकरण के चेहरे ही नहीं, उसके मुंह,

बुधवार को जस्टिस धनंजय यशवंत चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह की पीठ के समक्ष सुनवाई के दौरान प्राधिकरण के वकील रविंदर कुमार ने अथॉरिटी व अपने अधिकारियों का बचाव करते हुए कहा, इस प्रोजेक्ट में किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया गया है।साथ ही वह खरीदारों की कमियां गिनाने लगे। पीठ ने कहा, यह दुखद है कि आप डेवलपर्स की ओर से बोल रहे हैं। आप निजी अथॉरिटी नहीं, पब्लिक अथॉरिटी हैं।

बंगाल की खाड़ी के 'कॉन्टिनेंटल शेल्फ़' पर भारत के दावे से बांग्लादेश को एतराज - BBC Hindi अंबिका सोनी ने राहुल गांधी से मिलने के बाद पंजाब का सीएम बनने से किया इंकार : सूत्र उत्तराखंड में केजरीवाल का बड़ा चुनावी वादा : 6 महीने में 1 लाख जॉब्स, नौकरी न मिलने तक 5000 रुपये भत्ता

वहीं, सुपरटेक के वकील विकास सिंह ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जिन दो टावरों को गिराने का आदेश दिया है, उनमें नियमों की अनदेखी नहीं की गई है। उन्होंने खरीदारों की नीयत पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब 2009 में उन टावरों का निर्माण शुरू हो गया था, तो उन्होंने तीन वर्ष बाद हाईकोर्ट का दरवाजा क्यों खटखटाया?

लग रहा है आप खरीदारों से लड़ाई लड़ रहेइस पर जस्टिस शाह ने कहा, अथॉरिटी को तटस्थ रुख अपनाना चाहिए। ऐसा लग रहा है कि आप बिल्डर हैं। आप उनकी भाषा बोल रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि आप फ्लैट खरीदारों से लड़ाई लड़ रहे हैं। जवाब में कुमार ने कहा कि वह तो महज अथॉरिटी का पक्ष रख रहे हैं। headtopics.com

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दो टावर गिराने को कहा थादरअसल 2014 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस हाउसिंग सोसायटी में एफएआर के उल्लंघन पर दो टावरों को गिराने का आदेश दिया था। साथ ही इससे जुड़े अथॉरिटी के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने हालांकि सुपरटेक की याचिका पर हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी थी।

विस्तार नाक, आंख सभी से भ्रष्टाचार टपकता है। सुपरटेक के नोएडा एक्सप्रेस स्थित एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट मामले में अथॉरिटी के अपने अधिकारियों के बचाव करने और फ्लैट खरीदारों की खामियां बताने पर शीर्ष अदालत ने यह टिप्पणी करते हुए अपना फैसला सुरक्षित रख लिया।

विज्ञापनबुधवार को जस्टिस धनंजय यशवंत चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह की पीठ के समक्ष सुनवाई के दौरान प्राधिकरण के वकील रविंदर कुमार ने अथॉरिटी व अपने अधिकारियों का बचाव करते हुए कहा, इस प्रोजेक्ट में किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया गया है।साथ ही वह खरीदारों की कमियां गिनाने लगे। पीठ ने कहा, यह दुखद है कि आप डेवलपर्स की ओर से बोल रहे हैं। आप निजी अथॉरिटी नहीं, पब्लिक अथॉरिटी हैं।

वहीं, सुपरटेक के वकील विकास सिंह ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जिन दो टावरों को गिराने का आदेश दिया है, उनमें नियमों की अनदेखी नहीं की गई है। उन्होंने खरीदारों की नीयत पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब 2009 में उन टावरों का निर्माण शुरू हो गया था, तो उन्होंने तीन वर्ष बाद हाईकोर्ट का दरवाजा क्यों खटखटाया? headtopics.com

उम्मीद है कैप्टन कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे, अंतरात्मा की सुनें: अशोक गहलोत उत्तराखंड: केजरीवाल ने की वादों की बौछार, 6 महीने में 1 लाख नौकरी और 5 हजार का भत्ता अंबिका सोनी ने ठुकराया CM पद का ऑफर, कहा-पंजाब का मुख्यमंत्री एक सिख ही हो

लग रहा है आप खरीदारों से लड़ाई लड़ रहेइस पर जस्टिस शाह ने कहा, अथॉरिटी को तटस्थ रुख अपनाना चाहिए। ऐसा लग रहा है कि आप बिल्डर हैं। आप उनकी भाषा बोल रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि आप फ्लैट खरीदारों से लड़ाई लड़ रहे हैं। जवाब में कुमार ने कहा कि वह तो महज अथॉरिटी का पक्ष रख रहे हैं।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दो टावर गिराने को कहा थादरअसल 2014 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस हाउसिंग सोसायटी में एफएआर के उल्लंघन पर दो टावरों को गिराने का आदेश दिया था। साथ ही इससे जुड़े अथॉरिटी के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने हालांकि सुपरटेक की याचिका पर हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी थी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Delhi में बड़े Terror Module का पर्दाफाश, जांच एजेंसियों ने 6 को दबोचा, देखें स्पेशल रिपोर्ट

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी. जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

Right कोर्ट में पेशगार हर तारीख पर जज साहब के बिलकुल नजदीक बैठकर पता नही किस बात का सुविधा शुल्क लेता है, जबकि तारीख भी जज साहब देते हैं।

नोएडा अथारिटी के आंख, नाक, कान और चेहरे तक से टपकता है भ्रष्टाचार: सुप्रीम कोर्टजस्टिस चंद्रचूड़ ने मामले में नोएडा अथारिटी की भूमिका पर सवाल उठाते हुए कहा कि आप सुपरटेक की मदद ही नहीं कर रहे आपकी उसके साथ मिलीभगत है। नोएडा एक भ्रष्ट निकाय है इसकी आंख नाक कान और यहां तक कि चेहरे तक से भ्रष्टाचार टपकता है। बिलकुल सही बात है.....👍🏻👍🏻 RIGHT Absolutely right.👍

सुप्रीम कोर्ट: फालतू याचिकाओं की बाढ़ से अदालत नाराज, कहा- हर मामले में अपील का चलन रोकना होगा सुप्रीम कोर्ट : फालतू याचिकाओं की बाढ़ से अदालत नाराज, कहा- हर मामले में अपील का चलन रोकना होगा Supremecourt PIL Cases Only Yakub memen type cases are required Judicial reform is necessary to save democracy in India🇮🇳🇮🇳 Describe faltu yachika? Te-rr-o-rist ki petition raat k 3 bje aaana kon si yachika h. Justice for KGBV UP plz

पेगासम मामले की जाँच के लिए ए़़डिटर्स गिल्ड भी सुप्रीम कोर्ट पहुँचा - BBC Hindiइसराइली स्पाईवेयर पेगासस के ज़रिये सरकार के कथित तौर पर पत्रकारों की जासूसी के मामले कीजाँच के लिए एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया ने भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. अब ये देखने में आ रहा है कि आपकी प्रायः हर एक खबर के ट्वीट / लिंक में ढेर सारी खबरें भी जुड़ी होती हैं। जैसे कि इस शीर्षक वाली खबर को कई खबरों बाद पढ़ पाए। यह काफी असहज करने वाला और झुंझलाहट से भर देता है। पाठकों पर छोड़ा जाना चाहिए कि वे अपनी पसंद से कौन सी खबर पढ़ना चाहते हैं। ऑनलाइन गेम्स भारत में अब औसतन हर कस्बाई ,शहरी परिवारों,घरों में एक भयानक डरावनी और भयावह तस्वीर है। इंटरनेट क्या आया / सहज उपलब्ध हुआ! हर बात ,जगह ,निजी जिंदगी में हर एप्प,साइटें,विज्ञापन, दखलंदाजी , निगरानी , ताँक झाँक... गेम्स की आदी होती युवा पीढ़ी बहुत ही हॉरर लगता है ये दखल Exactly right

प्रधानमंत्री मोदी ने महिला हॉकी टीम से कहा- हमें इस टीम पर नाज़ है - BBC Hindiटोक्यो ओलंपिक में भारत महिला हॉकी के सेमीफ़ाइनल में अर्जेंटीना से 2-1 से हार के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि हमें इस टीम पर नाज़ है. यार......

पेगासस मामले की नौ याचिकाओं पर गुरुवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्टपेगासस मामले की स्वतंत्र जांच कराने का अनुरोध करने वाली विभिन्न याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट गुरुवार को सुनवाई करेगा। इनमें एडिटर्स गिल्ड आफ इंडिया और वरिष्ठ पत्रकारों एन.राम व शशि कुमार द्वारा दी गई अर्जियां भी शामिल हैं। Iska Jin b bahar nikalo

सुप्रीम कोर्ट: कृष्णा जल विवाद की सुनवाई से मुख्य न्यायाधीश ने खुद को किया अलग, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के बीच चल रही समस्या सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एन वी रमण ने आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के बीच कृष्णा जल विवाद की सुनवाई से खुद को अलग Ye kya ho raha tarikh pe tarikh Nyay kab milega ? ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra zeerajasthan_ 1stIndiaNews DainikBhaskar TheUpenYadav REET reet2018_नियुक्ति_दो REET2018_धरनाप्रदर्शन_बीकानेर REET2018_JOINING_DO