निसर्ग: मुंबई में 129 साल के बाद आएगा चक्रवाती तूफ़ान

निसर्ग: मुंबई में 129 साल के बाद आएगा चक्रवाती तूफ़ान

02-06-2020 17:16:00

निसर्ग: मुंबई में 129 साल के बाद आएगा चक्रवाती तूफ़ान

मुंबई में 1618 में आए चक्रवाती तूफ़ान से क़रीब दो हज़ार लोग मारे गए थे.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बेतुका बयान, बोले- भारत ने बनाई नकली अयोध्या समर्थकों के साथ सचिन पायलट, सामने आया वीडियो राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच समझिए क्या है दलबदल कानून, जानिए सबकुछ

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

बीजेपी में नहीं जाएंगे सचिन पायलट! सुनिए क्या बोले समर्थक विधायक LIVE: कांग्रेस विधायक दल की दूसरी बैठक कल, न्योते पर सचिन की फिर दो टूक- नहीं जाऊंगा सचिन पायलट ने कड़ी मेहनत से कांग्रेस को दिलाई जीत, फिर क्या हुआ कि बन गए बागी

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

बारिश आते ही गोवंश आश्रय स्थल 'नरक' में तब्दील, अधिकारी ने दिए सुधार के निर्देश फैंस का प्यार देख अमिताभ हुए प्रभावित, लोगों के नाम शेयर की खास कविता UP: कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह की विधानसभा सदस्यता रद्द करने की याचिका खारिज

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

Allah raham kate हे भोले! रहम कर दो। चक्रवाती तूफान निसर्ग कल महाराष्ट्र और गुजरात पहुँच रहा है। इस कठिन समय में, पूरा देश आपके साथ खड़ा है। अपना ख़्याल रखें। सतर्क रहें, सुरक्षित रहें। I think now this cyclone is also created by China. How its possible that after 129 years something is happening like this in Mumbai. One side its Covid 19 at its pick and now this cyclone. China dont want us to get settled. Its their plan to attack us. BAN CHINA BAN CHINESE

मुम्बई पर महाविपदा कोरोना चल ही रहा हे ओर साईक्लोन चक्रवात दो दो मोर्चे पर उद्धव सरकार की अग्नि परीक्षा Gaanja fuk ke rakha hai kya lavde Itne andar jane ko teri gaand hai kya wo Acha hai bhonsdiwalon maron sab ,bahit maa chodi hai tum logo ne mumbai ki aur dharti ki Toofano pe jor kiska hai Zara si karwat badli to Gujarat ka kaam nipta hai

हे भोले pls save maharashtra and gujrat. God save the state of Maharashtra and India. Support the government to deal with all disasters 🙏 भयानक होसक्ता hai yh to यह साल कितनी विनाशकारी लीलाएं दिखाएगा करो ना इसके बाद चक्रवाती तूफान बरसात भयानक त्रासदी का मंजर Be careful all round off 130 2020☠ First rule of 2021 don't talk about 2020 😐

Kuch bhi bc 2020मे क्या क्या देखने मिलेगा Govt बदल गयी है। निर्दोष संतो की हत्या हुई है काम कोई नही करता लाखो मर रहे है बीमारी से कुदरत को क्रोध तोह आना ही है। Kab tak aayega Toofan अब तो आदत सी होती जा रही है तुफानो की! इस साल ने सबको रुला दिया है जल्दी से यह साल जाए ye ho kya raha hai bechare mumbai walo ke sath

😳😳😳🥺🥺🥺🥺🥺🥺

मुंबई और आस-पास के इलाकों में तूफान के साथ बारिशभारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी), मुंबई के मौसम विज्ञान के उप महानिदेशक के एस होसलिकर ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा, “महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में तूफान के साथ ही बारिश भी हुई, खासकर आंतरिक इलाकों में।”

त्रिपुरा में कोरोना के मामलों में रिकॉर्ड इजाफा, एक दिन में सामने आए 102 नए केसमुख्यमंत्री बिप्लब कुमार ने सोमवार को क्वारनटीन सेंटर का दौरा किया. उन्होंने कहा कि चूंकि राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है, इसलिए लोगों से अपील की जाती है कि वे ज्यादा से ज्यादा सतर्क रहें और सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करें. MunishPandeyy बहुत दुखत MunishPandeyy सुशासन की सरकार में नहीं थम रहा हत्या का व्यापार ,कोल्ड स्टोर मालिक की हत्या के लिए उठने लगी मांग,क्या इंशाफ दे पाएगी सरकार justicefor_ramashary singh MunishPandeyy जिस जिस ने अल्लाह को नहीं देखा देख लो आधार कार्ड मिला है बड़ी मुश्किल से अल्लाह

मुंबई में सड़कों पर लंबा जाम लगा; राज्य में 24 घंटे में कोरोना के 2487 नए केस, मई में मरीजों की संख्या 488% बढ़ीराज्य में रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा; 3 जून‌, 5 जून और 8 जून अनलॉक का दायरा बढ़ेगाजिन उद्योगों को खोला जा रहा है, उसके लिए अलग से परमिशन की जरूरत नहीं होगी | Mumbai Pune (Maharashtra) Coronavirus Cases Today | Maharashtra unlock 1 Update | Maharashtra Active Corona Cases District Wise Situation Latest News Mumbai Pune Thane Nashik Solapur Aurangabad Nagpur

मुंबई: निसर्ग और कोरोना की दोहरी चुनौती, वर्ली में शिफ्ट किए गए कोविड के मरीजकोरोना संकट के बीच महाराष्ट्र के सामने चक्रवात निसर्ग की चुनौती आई है. इस बीच अस्पतालों में कई तरह की सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं, ताकि पानी भरने और बारिश की स्थिति से निपटा जा सके.

12 राज्यों में एक दिन में 221 लोगों की मौत, महाराष्ट्र में 89, दिल्ली में 57 और गुजरात में 31 संक्रमितों ने दम तोड़ाशनिवार को देश में 205 लोगों की मौत हुई थी, महाराष्ट्र में मरने वालों का आंकड़ा 2286 पहुंचादिल्ली में अब तक 473 संक्रमितों की हो चुकी है मौत, गुजरात में कुल 1038 मौतें हो चुकी हैं | coronavirus death toll in india. coronavirus in india. death in maharashtra, uttar pradesh, madhya pradesh, rajasthan, Gujrat and other states

coronavirus outbreak live updates of 1st june 2020 and unlock1 in india - मुंबई में आज कोरोना के 1413 नए केस सामने आए हैं। आज 40 लोगों की इस वायरस की वजह से मौत। मुंबई में कोरोना के कुल मामले 40,877 हैंः म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ऑफ ग्रेटर मुंबई | Navbharat Timesदुनियाभर में अब भी कोरोना वायरस (Coronavirus) के केसों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। भारत (Coronavirus in india) में भी अब 5-6 हजार औसतन केस रोजाना सामने आ रहे हैं। रविवार को 8 हजार से भी ज्यादा केस आए। हालांकि, अच्छी बात यह है कि हमारा रिकवरी रेट काफी अच्छा है। भारत में अब तक 1,90,535 केस सामने आ चुके हैं। इनमें से 91,818 लोग ठीक भी हो चुके हैं। अब तक कोरोना ने देश में 5,394 लोगों की जान ली है। आज से लॉकडाउन 4 खत्म हो गया है। कोरोना के हर लाइव अपडेट्स (Coronavirus Live Updates) के लिए जुड़े रहें हमारे साथ... 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs 1Ministry1RRs saveTA AmendRRs cbic_india demand_ta

राहुल गांधी का हमला, कहा- PM मोदी के रहते भारत की जमीन को चीन ने कैसे छीन लिया सचिन पायलट BJP के संपर्क में, 30 MLA भी छोड़ सकते हैं कांग्रेस का दामन LIVE: खतरे में गहलोत सरकार, पायलट खेमे के विधायक आज देर रात दे सकते हैं इस्तीफा सचिन पायलट बोले- 25 MLA मेरे साथ बैठे हैं, 102 का गलत दावा कर रहे हैं अशोक गहलोत सचिन पायलट थाम सकते हैं BJP का हाथ, 30 विधायकों के भी कांग्रेस छोड़ने के कयास पायलट की बगावत पर संजय निरूपम बोले- सभी चले जाएंगे तो बचेगा कौन? ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर पायलट! 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें कांग्रेस के सचिन अब क्या बीजेपी के लिए 'बल्लेबाज़ी' करेंगे? सचिन के पिता राजेश पायलट ने भी की थी बगावत, लेकिन नहीं छोड़ी थी कांग्रेस अनुपम खेर के परिवार को भी कोरोना, मां और भाई समेत 4 लोग पॉजिटिव सच‍िन पायलट का दावा- अल्पमत में गहलोत सरकार, मेरे साथ 30 से ज्यादा MLA