Duniya Mere Aage, Sahitya, Negative Energy, Positive Energy

Duniya Mere Aage, Sahitya

निंदक नियरे के समांतर

निंदक नियरे के समांतर in a new tab)

17-09-2021 01:01:00

निंदक नियरे के समांतर in a new tab)

कुछ संदर्भ कई बार अपने साथ व्यापक दायरे की जटिलताओं की व्याख्या का अवसर मुहैया कराते हैं।

दरअसल, इस प्रतीकात्मक कथा में मनुष्य की वह प्रवृत्ति छिपी दिखाई देती है, जब अतिरिक्त नकारात्मकता और दुर्भावनाओं से भरे व्यक्ति की उपस्थिति मात्र से भले लोग इधर-उधर छिटकने लगते हैं। हमारे जीवन में अक्सर हमारा सामना ऐसे कई लोगों से होता रहता है, जो नकारात्मक ऊर्जा का बोझ लिए आमतौर पर यहां-वहां कहानी के पिशाच की तरह विचरते रहते हैं। इनके साथ कुछ देर बैठ कर बात करने से ही हमारा मनोबल, आत्मबल धीरे-धीरे कम होने लगता है। अधिक प्रभाव में आने पर हम अवसाद में भी डूब सकते हैं।

चीन का अंतरिक्ष से हाइपरसोनिक मिसाइल परीक्षण, अमेरिकी ख़ुफ़िया एजेंसियाँ हैरान - BBC Hindi 20 साल तक चली चंदन तस्कर वीरप्पन की तलाश 20 मिनट में ख़त्म - BBC News हिंदी युवराज सिंह जातिगत टिप्पणी के लिए गिरफ़्तार, फिर अंतरिम ज़मानत पर छूटे - BBC Hindi

ऐसा नहीं है कि ऐसे लोग झूठ बोल रहे होते हैं। अक्सर वे कड़वा सच बोलते हैं, जिससे उबरने के लिए सामने वाला व्यक्ति या तो प्रयासरत होता है या फिर असहाय। जीवन में संपूर्णता केवल कमजोरियों को खत्म करने से ही नहीं आती हैं। कमियों, कमजोरियों को जान-समझ कर, उनसे जूझते, संघर्ष करते हुए हौसले से आगे बढ़ते रहने से भी व्यक्तित्व निखरता है। जीवन का कैनवास बहुत विशाल और बहुआयामी है। वह सभी को अवसर देता है अलग-अलग रंगों को बिखेरने का। सच यह है जीवन-चित्र का वास्तविक सौंदर्य उसकी पूर्णता और समग्रता में ही नजर आता है और यही मायने भी रखता है।

कहा जाता है कि निंदक को हमेशा अपने करीब रखना चाहिए। यकीनन जब हमें अपनी कमजोरियों की जानकारी होगी, तभी हम बेहतर कर सकेंगे। लेकिन ऐसी निंदा जो हमें केवल हतोत्साहित कर रही हो, हमारे आत्मविश्वास को कम कर रही हो, हमारी सकारात्मक ऊर्जा को सोख कर हमें दुर्बल बना रही हो, जरूरी नहीं कि वह सबके लिए लाभदायक हो। ईमानदार निंदक बनना एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी का काम है। जो व्यक्ति दूसरों को उनकी कमजोरियों से अवगत कराता है, उसके भीतर उस कमजोरी से उबरने का रास्ता और सामने वाले को कमजोरी पर फतह हासिल करने का उत्साह देने का हुनर भी उसमें होना आवश्यक है। यह सामर्थ्य नहीं होने पर वह व्यक्ति बीमार कुंठाग्रस्त व्यक्ति कहा जाएगा, जिसे हमारी सकारात्मक रोशनी से कोई तकलीफ हो सकती है। headtopics.com

इसके समांतर अक्सर देखा गया है किसी के कटु वचन कहने पर हम उदास हो जाते हैं। उन शब्दों को अपने मन में गहरे उतार उस तकलीफ का बोझ हमेशा ढोते रहते हैं। शब्दों की विशेषता ही यह है कि वह सहृदय व्यक्ति में गहरे उतरते हैं और लंबे समय तक उनका प्रभाव मन पर बना रहता है। काश कि हम इतने निपुण बन सकें कि निरर्थक शब्दों, विचारों को मन के भीतर पहुंचने से पहले ही अमान्य घोषित कर सकें। पर होता अक्सर यह है कि हमें हमारे लिए कहे गए कटु वचन ज्यादा ईमानदार लगते हैं। फिर हमारे जीवन का सारा उजाला हमें धोखे-सा प्रतीत होने लगता है। दूसरों के द्वारा दिए गए नकारात्मक विचार ही हमें परिभाषित करने लगते हैं। फिर नकारात्मकता प्रभावशाली हो जाती है और उसके सामने हम मानसिक रूप से इतने दुर्बल हो जाते हैं कि हमारी सारी उपलब्धियां, खुशियां दूसरों के कुछ शब्दों, मापदंडों से प्रभावित होने लगती हैं।

अपने आप को नकारात्मक ऊर्जा से बचाने के लिए हमें ढूंढ़ना होगा वह जरिया, जिसके द्वारा हम खुद को सकारात्मक और संतुलित बनाए रख सकें। इस क्रम में डायरी लेखन खुद को समझने का एक बेहतर रास्ता है। जब हम खुद से बात करते हैं तो हमें किसी और की नकारात्मकता से खासा फर्क नहीं पड़ता है। जीवन में उद्देश्य, स्पष्ट लक्ष्य होना हमें अवसाद से दूर रखता है। हमारे पास हताश होने का समय और ऊर्जा नहीं होती कि रुक कर उन बातों पर विचार करें जो हमारे वर्तमान और भविष्य के लिए निरर्थक है।

जब भी हमारा सामना ऐसे लोगों से हो जो हमारी सकारात्मक ऊर्जा या हमारी खुशियों को अपने विचारों से कम करने के लिए आतुर हों, तब हमें वह बने रहना चाहिए, जो हम असल में हैं। हमें अपने व्यवहार, भाषा, अपनी सकारात्मक ऊर्जा को उस विपरीत समय में भी बरकरार रखना चाहिए। खुद को कमजोर, दोषी महसूस नहीं करते हुए प्रयास करना चाहिए कि हम और मजबूत बन सकें। यह पूरी तरह हम पर पर निर्भर करता है कि हम डर से खुद को डरा कर उसे और बड़ा करते जाएं या फिर अपने व्यक्तित्व को साहस, परिपक्वता, सकारात्मक ऊर्जा से बड़ा कर डर को काफूर कर दें।

और पढो: Jansatta »

खबरदार: गैर-कश्मीरियों की 'टारगेट किलिंग', क्या है आतंकियों का 'ऑपरेशन 200'?

कश्मीर में आतंकवादियों की कायराना हरकतें जारी हैं, जो लगातार गैर कश्मीरियों की टारगेट किलिंग को अंजाम दे रहे हैं. शनिवार को दो निर्दोष नागरिकों की जान लेने के बाद आज एक बार फिर दो गैर कश्मीरी नागरिकों को आतंकवादियों ने अपना शिकार बना लिया. आज आतंकियों ने कुलगाम में बिहार के 3 लोगों को गोली मार दी, इनमें से 2 लोगों की मौत हो गई. जबकि एक घायल है. जिन्हें गोली मारी गई, वो सभी मजदूर थे. मारे गए 2 नागरिकों की पहचान राजा ऋषि देव और जोगिंदर ऋषि देव के तौर पर हुई है. इस टारगेट किलिंग को दो आतंकवादियों ने घर में घुसकर अंजाम दिया और अंधाधुंध फायरिंग करके तीन लोगों की जान ले ली. देखिए खबरदार का ये एपिसोड.

रिपोर्ट: क्या चीन के खिलाफ युद्ध छेड़ने के मूड में थे ट्रंप? अमेरिकी सैन्य प्रमुख के फोन कॉल से हुआ बड़ा खुलासारिपोर्ट: क्या चीन के खिलाफ युद्ध छेड़ने के मूड में थे ट्रंप? अमेरिकी सैन्य प्रमुख के फोन कॉल से हुआ बड़ा खुलासा USA China DonaldTrump

NSE BSE 15 September 2021: बढ़त पर खुला बाजार, 17400 के करीब निफ्टीसेंसेक्स 49.76 अंकों (0.09 फीसदी) की बढ़त के साथ 58296.85 के स्तर पर खुला। निफ्टी 13.80 अंकों (0.08 फीसदी) की तेजी के साथ 17393.80 के स्तर पर खुला।

राजपथ के पास PM निवास बनाने के लिए रक्षा मंत्रालय ने खाली किए 700 दफ्तरमंत्रालय के करीब 7,000 अधिकारियों के नए कार्यालय अब मध्य दिल्ली के कस्तूरबा गांधी मार्ग और चाणक्यपुरी के पास अफ्रीका एवेन्यू में स्थित होंगे. बड़े बड़े महल और किले बनाने वाले चले गए। कइयों को आज भी लोग कोसते हैं। लोकतंत्र में गरीब जनता के पैसे से महल बनाने वाले ये अकेले हैं। थू थू! FAKIRI HAI SAB MAIN ये वो सब करेंगे जिससे जमींदारी युग लौट आए,,,जिसके खत्म किए जाने पर इन्हें सबसे ज्यादा ऐतराज था,, KaleAngrejBhajpai 17सितंबर_बेरोजगार_दिवस_है KisanMajdoorEktaZindabaad

गुजरात: नए मंत्रिमंडल को लेकर बैचेनी बढ़ी, दो दिन में होगा शपथ ग्रहणगुजरात: मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के नए मंत्रिमंडल का दो दिन बाद होगा शपथ ग्रहण, दावेदारों की बैचेनी बढ़ी Gujarat BhupendraPatel BJP4India Cabinet

Covid Drugs: CDRI ने खोजी कोविड की दवा, पांच दिन में वायरल लोड खत्म करने का दावाअब तक 132 कोरोना मरीजों पर तीसरे फेज के सफल ट्रायल के बाद उमिफेनोविर कोरोना के बिना लक्षण वाले और उदार लक्षण वाले मरीजों के इलाज में कारगर है।

बढ़ी मुश्किलें: चचेरे भाई को बचाने में फंसे चिराग पासवान, एफआईआर में आया नाम तो बोले- मैं पहले से कह रहा था मुकदमा दर्ज होचचेरे भाई को बचाने में फंसे चिराग पासवान, एफआईआर में आया नाम तो बोले- मैं पहले से कह रहा था मुकदमा दर्ज हो Bihar ChiragPaswan चिराग़ पासवान अभी तक भी भाजपा और संघ को समझ नहीं पाया है । इसको ऐसा मारेंगे की ये पानी भी नहीं माँगेगा