नरेंद्र मोदी भारत के नाराज़ किसानों का मूड कैसे नहीं पढ़ पाए? - BBC News हिंदी

मोदी भारत के नाराज़ किसानों का मूड कैसे नहीं पढ़ पाए?

13-01-2021 17:22:00

मोदी भारत के नाराज़ किसानों का मूड कैसे नहीं पढ़ पाए?

पीएम मोदी से ऐसी क्या ग़लती हुई जिसने कृषि क़ानूनों के मुद्दे पर किसानों के प्रदर्शनों को 'दुनिया के सबसे बड़े विरोध प्रदर्शन' में बदल दिया.

किसान आंदोलन: बारिश ने बढ़ाईं किसानों की मुसीबतकिसानों का विरोध प्रदर्शनदूसरा ये कि किसानों का यह आंदोलन भारत के इतिहास में इसी तरह के अन्य आंदोलनों की तुलना में काफ़ी अलग है.इतिहास के जानकारों के मुताबिक़, औपनिवेशिक भारत में शोषणकारी शासकों के ख़िलाफ़ भारतीय किसानों के विरोध प्रदर्शन अक्सर हिंसक हुआ करते थे.

मैं डरा हुआ नहीं हूं, वो मुझे छू नहीं सकते हैं, मुझे गोली मार सकते हैं: राहुल गांधी - BBC News हिंदी इंदौर के प्याज से सजेगा दक्षिण भारत का डोसा, हो रही बंपर कमाई, किसानों ने नए कृषि कानून पर जताया भरोसा एक मैच जो भारतीय क्रिकेट के सुनहरे इतिहास में दर्ज हो चुका है - BBC News हिंदी

1947 में आज़ादी के बाद से, किसानों ने अपनी फ़सल की क़ीमत को लेकर बहुत बार प्रदर्शन किये हैं.इनके ज़रिये किसानों ने अपने कर्ज़ों और कृषि क्षेत्र के संकटों की ओर सरकारों का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की. लेकिन कभी किसी प्रदर्शन में इस स्तर का सामंजस्य और लामबंदी देखने को नहीं मिली.

इस आंदोलन में क़रीब चालीस किसान यूनियनें शामिल हैं. प्रदर्शन स्थलों पर पाँच लाख से ज़्यादा किसान जमा हैं और समाज के कई अन्य बड़े समूह भी इनके समर्थन में हैं.किसान आंदोलन: 'ठंड, बारिश से ज़्यादा सरकार की बेरुख़ी से दुख'वीडियो कैप्शन,किसान आंदोलनः साल बदलने वाली रात, आंदोलनकारी किसानों के साथ headtopics.com

भारत की कृषि नीतियांकिसानों के इस प्रदर्शन की शुरुआत पंजाब से हुई जो भारत में अपेक्षाकृत एक 'समृद्ध कृषि क्षेत्र' है.भारत की कृषि नीतियों से अब तक सबसे ज़्यादा फ़ायदा हालांकि पंजाब और पड़ोसी राज्य हरियाणा के किसानों को ही हुआ है.मगर ये किसान भी अब स्थिर हो चुकी या गिर रही खेती की आय से निराश हैं और इन्हें डर है कि कृषि क्षेत्र को प्राइवेट सेक्टर के लिए खोल देने से उनकी मुश्किलें और बढ़ेंगी.

न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी की माँग को लेकर इस आंदोलन की शुरुआत हुई थी. और पढो: BBC News Hindi »

सस्ती एसयूवी: 10 लाख से कम है बजट! तो जल्द आ रही हैं रेनो किगर से लेकर सिट्रोएन C3 तक ये पांच छोटी एसयूवी, देखें लिस्ट

मैग्नाइट की तरह किगर भी CMF-A+ मॉड्यूलर प्लेटफॉर्म पर बेस्ड होगी,टाटा HBX को कंपनी पिछले साल ऑटो एक्सपो 2020 में शोकेस कर चुकी है | 10 लाख से कम है बजट! तो जल्द आ रही हैं रेनो किगर से लेकर सिट्रोएन C3 तक ये पांच छोटी एसयूवी, देखें लिस्ट, From Renault Kiger To Citroen C3, 5 Upcoming SUVs Under Rs 10 Lakh In India, Check list

मोदी की ट्रम्प से भी ज्यादा खराब हालत होगी बस समय का प्रतीक्षा करो और असत्य का विरोध करते रहो, सत्य के साथ रहो। मोदी को सब पता है,वे देश का मूड देख रहे हैं ।एक झटके में सब लाईन पर आ जाएंगे। Yah Kisan nahin hai khalistani aatankwadi hai मोदी जी असली से किसानों न तो मुखातिब होते हैं और न ही उनका मूड पढ़ने की उनके अन्दर ताकत है ।असली किसान दिल्ली बॉर्डर पर हैं और ये लाखों रुपये खर्च कर नकली किसानों को कृषि बिल के फायदे गिनाने में मशगूल हैं ।

मालक का मुड़ ख़राब नहीं करना चाहते Only farmers from punjab are against the new law , Rest are in support , Dont spread the rumours, . Who the hell is bbc to representing this news JAI JAWAN JAI KISHAN Over confidentiality बीबीसी एक शोध करके देखें आखिरकार केवल पंजाब के किसान क्यों इतनी ज्यादा तकलीफ मे है इस किसान कानून बिल से क्या केवल भारत में अकेले पंजाब के किसानों ही परेशानी हैं बाकी राज्यों के नहीं?

माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जो भी कठोरतम फैसले लिए गए जो देश मे व्याप्त भ्रष्टाचार पर चोट तथा बिचौलियों के खात्मे के लिए थे उन पर सदैव विपक्षी दलों ने टीका टिप्पणी और लोकतंत्र खतरे में है कहकर मजाक उड़ाया लेकिन क्या आज लोकतंत्र खतरे में है शायद नहीं। जनता समझदार है बीबीसी एक सम्मानित प्रतिष्ठित समाचार एजेंसी है मेरा बीबीसीसी से एक सीधा सा प्रश्न है कि भारत में किसान क्या केवल पंजाब तथा हरियाणा में ही बसते हैं अथवा अन्य राज्यों में भी किसान बसते हैं?यदि यह आंदोलन किसानों का है तो इसमें समूचे राज्यों के किसानों के चेहरे क्यों नहीं दिखाई पड़ते

Kyunki ego bahut zada hai.. flying high दलालों का नही पढ़ सकते अगर सिर्फ किसान होते तो जरूर समझ लेते लेकिन इसमें खालिस्तान माओ भी शामिल हो गयें हैं बात सोचने की एच क्या भ्रमित किया एक्सपर्ट्स टीम और I a s lobby be Jo योजनाएं और implemlimentaibn के काम मे लगी होती ह जानकारी लोगो के बीच की रखती ह क्यो नही बताया सरकार को हा कृषि मंत्री पूरी तरह फ्लॉप एच उनकी capability ab smj ले

Padna nahi aata to kyse padhy gy Only Ego , Kyuki wo anpad hai... 🤣 बीबीसी भी हिन्दूओं का मन पढ़ने की भरसक कोशिश करे कोई भी किसान नाराज नहीं है हमारे महाराष्ट्र के किसान बहुत बहुत खुश है और मोदी जी को यह किसान कानून जल्द से जल्द लागू करने की आशा करते हैं जय जवान जय किसान Kisaan nahi khalistani terrorists h ye.

मोदी मूर्ख हैं Modi is anti farmer बकचोदी बाबा देश बेच रहा हैं बहुरूपिया गुजराती देश विक्रेता से आसाराम के चेला तक। All About Mind Of Others.. Has he ever been able to read the mood of anyone apart from bigoted right wing cowbelt upper caste hatemongers of sangh फर्जी किसान असली किसानों की सेवा में लगे हुए हैं खुब पैसा खर्च किया जा रहा है। सात साल पुरानी Income Tax Return open होगी।

These farmers not repsent to all india. These are two states rich farmers of Punjab & haryana. Bbc ...ek british channel h...jisko dunia ke har desh mein galiya milti h Bakwasbroadcasting corprn Wo sab bogus bekar co ke sadashye te usliye chehar nhi padpaye.. Kyuki ab kisan kam.... Or khalistani jada ghuse bethe h unme... Ye sayd nahi dikhta hoga... Par smjhte sab h

क्योंकि नरेंद्र मोदी पढ़ना नहीं जानते मोदी जी इंडिया को इंग्लैंड बना रहे है इसलिए अब बिकने जा रही सेल की 10% हिस्सेदारी बाकी 5% रिजर्व है जय हो सरकार राज ।।। जो केवल अपने मन की फेंकता हो वो किसी का मूड नही पढ़ सकता। Tere ko data pata hai... अब उठने से कोई फायदा नहीं है, जनसंख्या नियंत्रण कानून आने वाली है, फिर बैठना परेगा इसलिए अभी मत उठने की परेशानी करें।।।

मोदी किसानों का मूड कैसे पढ़ पाते अंग्रेज आतंकवादियों का साथ देता है आतंकवादी किसानों का साथ देता है तो कैसे पता चलेगा भारत के किसान या पंजाब के कुछ किसान 🙄🙄🙄🙄 Who said they are Indian farmers ? PM मोदी जी किसान का मूड़ तो पड़ सकते हैं पर बहरूपियों का मूड नही पड़ सकते मोदी जी केवल उन दो किसानों का मूड पढ़ते हैं जिन्होंने उनके चुनाव में हजारों करोड़ रुपए काला धन लगाया था और उन्हीं के लिए वह 3 किसान बिल लेकर आए हैं।

Apni had dharmi ki wajah se, पंजाब ही भारत है ? तानाशाही कार्यो वाले किसी को समझने वाले नही होते ... भिखारी जो ठहरा पढ़ा लिखा है नहीं अंबानी की कृपा हो गई जो प्रधानमंत्री बन गया बाकी किसी काम का नहीं है कोर्ट पर भ्रष्टाचारियों का भरोसा बढ़ता ही जा रहा है। जज पूरी तरह इनके साथ हैं। मेरा Pinned Tweet देखो। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को हाई कोर्ट ने बदला, दूसरी बार सुप्रीम कोर्ट में हुए फैसले को भी बदल दिया। किसानों को इनके भ्रष्ट आचरण का पहले से ही पता है। जो लाचार होकर आंदोलन पर हैं

कोर्ट पर भ्रष्टाचारियों का भरोसा बढ़ता ही जा रहा है। जज पूरी तरह इनके साथ हैं। मेरा Pinned Tweet देखो। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को हाई कोर्ट ने बदला, दूसरी बार सुप्रीम कोर्ट में हुए फैसले को भी बदल दिया। किसानों को इनके भ्रष्ट आचरण का पहले से ही पता है। जो लाचार होकर आंदोलन पर हैं Ya sayad opposition ki petre baji nahi pakad paye

प्रधानमंत्री अहंकार में चूर है रावण वाले पथ पर चल रहे हैं Ye bharat ke kisan nahi sirf panjab ke rajniti kisan he संवेदनशीलता को कमजोरी न समझे जितना विगत 6 वर्षों मे किसानो के लिए किया गया वह एक मिसाल है यहाँ तक की पिछ्ला एक बजट किसानो को समर्पित था अब कुछ बगुला भगत नेता किसानो को भड़ककर अपनी दम तोडती राजनीति में जान फूक्ने की कोशिश कर रहे है किसानो को ढाल बना पीछे से हमले कर रहे है

नाराज किसान या वामपंथी! घमण्ड में हर इंसान को सामने वाला छोटा ही दिखता हैं पूरे देश मे नौ करोड़ किसान है, पंजाब मे बीस हज़ार बिचौलिये है, आंदोलन मे बिचौलिये है, किसान नही ।उनकी संख्या बीस हज़ार है, किसान खेत पर है नौ_करोड_किसान_खेत_पर_है मोदी जी दुखी हैं,,friend जो हार गया है 😄😉😄 Her step me kuchh log khush aur kuchh naraz hote hain ..Afsos hai ki andolan karne wale Janta dwara chuni gayi sarkar ka pass Kiya Gaya bill ka virodh kar rahe hain

Modi ji ko Kissano ke Modd se kuch lena dena he nhi tha , unhe Sirf Adani Ambani etc dekhaye dete hai . Sarkar ko Farm Bills vaps lene chahiye . Jeet Anndata ke hoge . Jai Hind . पढ़ना जाने तब तो पढ़ेगे ना..…बुरा न मानो लोहड़ी है Pdhega bhai tension mt lo प्रश्न ये है कि ये कैसे साबित हो कि देश के किसान नाराज ? चंद मुट्ठी भर किसान संगठनों के नेता और उनके भाड़े पर लाये चमचो से ये सिद्ध नही होता कि देश के 99% गैर सिक्ख किसान नाराज है।

उन्हें केवल अपने मूडसे मतलब हैवह इस देशके सबसे आत्ममुग्ध व्यक्ति हैं जिन्हें लगता है कि वह देश कीहर समस्याके बारे में जानते हैं और उसका इलाज भी जानते हैं इतना घमंड देशके हित मेंनहीं है यही कारण है कि वे आम जनता क्या चाहतीहै उसको नहीं समझपाते और हर विरोध को देशद्रोह कानाम देते हैं सिर्फ पंजाब के.... भारत के किसान नहीं नाराज...

Modi ki education bhut jyada ji than vo nahi samj pa rahy kisano ko 😂😂 किसानों का मूड पढ़ सकते हैं पर देश विरोधी लोगों का नहीं। किसान सिर्फ हरियाणा और पंजाब में नहीं बल्कि पूरे देश में हैं। सड़कों पर अपना नाम खराब कर रहे हैं। अनपढ़ जो ठहरे 🙄 उद्घाटन करने से समय नहीं मिला! और सुनते हैं नहीं सुनते नहीं सुनाते PM !

🇮🇳 जय जवान जय किसान 🇮🇳 🙏🙏🙏 मूड सबका देख रहा है सरकार किसान को समझा रही है यदि किसी बे वेकुफ को समझ नही आए तो उसका क्या जैसे राहुल गांधी मोदी सरकार ने किसानों के मूड को सही पहचान लिया है और जो धरने पर बैठे हैं वो किसान नहीं दलाल है। Adani aur ambani ko kush karne jo busy the Bbc khalistani ko kyu nahi donde paye naxalists kyu nahi mile bbc ko jehadi nahi milte bbc ko kyu hindus ke uper atayachar nahi deakhi dete bbc kyu hindus ke liye biased hai kyu Muslims naxalists terrorists aache lagte hai

जैसे शाहीन बाग की दादियो का मूड भी नहीं पता चला... 500 पर डे PMOIndia ApnaWasuliBhai Usko desh ki aam janta se matlab hi nahi hain ! जाहिल Kaddu।।।। मोदी जी अडानी अम्बानी का मूड पढ़ने में लगे हुए थे। क्यों कि मोदी को किसानों की चिंता नहीं है चिंता अपने अंबानी अडानी की है कि कहीं वो नाराज़ न हो जाये 26th_को_झंडा_किसान_फहरायेगे

जब मनगढ़ंत दुष्प्रचार से प्रेरित एक तुष्टीकृत आक्रामक वोट समूह गैरकानूनी मांगों के लिए सरकार को ब्लैकमेल व हिंसा करे तो सुप्रीम कोर्ट जो किसी वोट का मोहताज नहीं है, देश, संविधान व कानून की रक्षा करेगा व यह संदेश देगा कि देश के नागरिकों/करदाताओं के साथ अन्याय बर्दास्त नहीँ होगा In fact Supreme Court asked the 4 member Committee to act as amicus curiae Latin for 'friend of the court' to assist the court by offering information, expertise, or insight that has a bearing on the issue in the case. Now no MSP to protesters and implement Land Ceiling Act.

Ambani adani ka mood banane se fursat mile tab to padhega jah!£... नाराज़ किसान होते तो मनाए जा सकते है। लेकिन जब कोई बात करते दिखने के लिए बात करने का ढोंग करे। जब कोई बात करके भी कोई मुद्दों और समस्याओं पर चर्चा न करे और न ही समाधान का प्रयास करे । जब कथित किसान नेता वर्ष 2024 के चुनावों की चर्चा करे, देखकर लगता आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ।

सत्य सनातन हिन्दू धर्म राष्ट्र भारत घोषित कराने में यथासंभव सहयोग सुनिश्चित करें देश भक्त Mood to padh liya hai BBC ji, Thoda thehar jaiye,ilaz bhi ho jayega aisa ki sadkon per aana bhool jayenge. Garib kisan? Jaise tum Modi ka nhi padh pate. नेताओं का मुड भाप नहीं पाये! मोदी ने पढ़ा है, अम्बानी व अदानी का मूड

Unpadh hai ji! Kyonki adhiktar kisaan khush hain .... Thank God for bringing bitcoin to man,it has being a great source of blessing to all of man kind who have passion for bitcoin trading. Now the poor are getting rich over night and the rich getting richer. lisaMakT thank you for your proper management .

🤓🤓🤓🎉🤓🎉 kissan क्योंकि वो इन्हे किसान मानते ही नहीं है उनके लिए तो अडानी जी किसान है ना। अम्बानी अदानी दरियादिली ने किसानों का मूड नहीं पढ़ने दिया अन्यथा चुनाव के वक़्त इलेक्टोरल बांड्ज़ कौन और क्यूँ ख़रीदेगा।किसान तो ख़रीदने से रहा। यह हैं असल मकसद किसान आंदोलन का, 26 जनवरी के दिन खालिस्तानी झंडा फहराने पर ढाई लाख डॉलर का इनाम

Informative videos ke liye mere channel ko subscribe karein पंजाब के किसानों को अलग रखो, देखे फिर बाकी कितने बचते हैं अब ये क्या चुतियापा हैं, कोई अपना काम करने कही जाएगा तो उससे जबरन ओपिनियन पूछेंगे वरना काम नही करने देंगे😎 'किसान भाई' अगर नाराज होते तब तो ठीक था ! लेकिन 'किसानों' की आड़ में ये तो देशद्रोही बैठे हैं !

anilvijminister Shyama Prasad Mukerjee founder of BJP extended family Dr DB Mukerjee of Ambala Cantt harassed by Ashoka Dairy - illegal encroachment with BJP support . Shame on Anil Vij BJP Home Minister from same area to support encroachers for Party Funds & monetary Benefits anilvijminister FEAR YOUR KARMA Look into ILLEGAL LAND GRABBING done by your party SUPPORTER and PARTY FUNDER and your neighbour ASHOKA DAIRY on DR MUKHERJEE'S home property RAJOVILLA Sadar Bazar Ambala Cantt. Sharmita Banerjee Bhinder has submitted TEHSIL PAPERS to you & SSP

Modi ji bas business man logo ko hi pad pate he Baki Kishan Jawan jay bad me भारत का सच्चा किसान तो मोदी के साथ हैं और नकली किसान सड़क पर पड़े हैं!हकीकत में दलाल आढ़तियें बिचौलिये कमीशनखोरों की दूकान बंद हो जायेगी इसलिए वो छोटे किसानों को बरगला कर उनकों इकठ्ठा कर इस्तेमाल कर रहे हैं किसान ये बात नहीं समझ पा रहे हैं आने वाले समय में ये बात साबित हो जायेगी!

He went too far making this rosy for cronies सरकार का भी अपना खुफिया तंत्र है। उनको पता है देशभर में कितना विरोध है । Jhooth failana band karo KISSAN naraz nhi h desh ke sirf kuch kissan Punjab or haryana ke h jo wampanthi or congressio ki rajniti ke sikar h ye 5% v nhi h desh ke kissano ka. Padha kisi ne nahin

Bhart nahi backch₹ cc panjab only Adani v ha na पढ़ने के लिए स्कूल कालेज जाना पड़ता है बाकी मित्रों के विकास के अलावा कुछ दिखता है जो किसानों का मूड पढ़ पाएंगे वजा अहंकार जब भाषण की आदत हो तो राशन कैसे मिलेगा 😉😀 narendramodi अपना मूड देखता है। किसानों की उसे भला कैसी परवाह! हाँ कानून की चिंता है कहीं अडानी तेल अंबानी सब्जी टाटा नमक नाराज न हो जाए?

धरने पर बैठे लोग पंजाब के आढ़तिय, शान्तिदूत, ओर कोंग्रेस समर्थित कार्यकर्ता ज्यादा है, उनका उद्देश्य केवल देश मे अस्थिरता का माहौल पैदा करना है, मोदी जी को परेशान करना है, उनको संसद की नही सुननी, न्यायपालिका की नही सुननी, । केवल राजनीति करनी है। जो मोदी सरकार से संतुष्ट नहीं है वो पहले भी ऐसे हथकंडे अजमा चुकें है शाहीन बाग़ हमने देख लिया है वो तो कोरोंना आ गया था। लो अब तो वैक्सीन भी आ गया है आराम से 4 सालों तक बैठने का प्लान बना रहें।

जब नाश मनुज पे छाता है, पहले विवेक मर जाता है! भारत एक बड़ा देश है। यहां पंजाब हरियाणा के किसान अन्य राज्यों की अपेक्षा ज्यादा सुखी सम्पन्न हैं। वो कृषि क्षेत्र में खुले बाजार के पक्ष में नही लगते जबकि अन्य राज्यों के किसान खुले बाजार के पक्ष में है।उनके खेत खलिहान से पैदावार बिक जाए तोMSP से भी कुछ कम दाम पर बेच रहे हैं।