Blackfungus, Coronaupdate, Coronavirus, Covid 19, Coronavaccine, Coronavirus, Corona Cases İn İndia, Corona News, Black Fungus, Coronavirus İndia, Coronavirus Vaccine, Coronavirus News İndia, Coronavirus Cases, Corona Vaccine, Corona İn İndia, Corona Cases İn İndia Today, Ladengecoronase, Covishield Vaccine, Covaxin

Blackfungus, Coronaupdate

नए रोग की दस्तक: संक्रमण के साथ पहले नौ दिन काला फंगस तो जान का खतरा

कोरोना मरीजों के लिए अब ब्लैक फंगस (म्यूकॉरमायकोसिस) जान का दुश्मन बन गया है। लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय

11-05-2021 04:42:00

नए रोग की दस्तक: संक्रमण के साथ पहले नौ दिन काला फंगस तो जान का खतरा BlackFungus CoronaUpdate Coronavirus Covid19 Coronavaccine drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI

कोरोना मरीजों के लिए अब ब्लैक फंगस (म्यूकॉरमायकोसिस) जान का दुश्मन बन गया है। लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय

संक्रमण के साथ मरीज में काले फंगस की शिकायत हुई , तो उसकी जान पर खतरा बढ़ जाता है। यह फंगस त्वचा के साथ नाक, फेफड़ों और मस्तिष्क तक को नुकसान पहुंचा सकता है। डॉ. सूर्यकांत के अनुसार काला फंगस पहले से ही हवा और जमीन में मौजूद है।जैसे ही कोई कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाला व्यक्ति इसके संपर्क में आता है, तो उसके चपेट में आने की आशंका अधिक रहती है। वे बताते हैं, जो मरीज जितने लंबे समय तक अस्पताल में रहेगा और जितनी अधिक उसे स्टेरॉयड, एंटीबायोटिक और एंटीफंगल दवाएं चलती रहेंगी, उसे इससे खतरा बढ़ता जाएगा।

राकेश अस्‍थाना की दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर के रूप में नियुक्ति को SC में दी गई चुनौती, फैसले को रद्द करने की मांग पीवी सिंधु सेमीफ़ाइनल में, पदक के और करीब पहुँचीं - BBC Hindi Tokyo Olympic 2020 Live: पीवी सिंधु दो रैकिंग बेहतर यामागुची को सीधे गेमों में हराकर सेमीफाइनल में

वे बताते हैं कि हवा में फंगस की मौजूदगी के कारण यह सबसे पहले नाक में घुसता है। फेफड़ों के बाद रक्त से मस्तिष्क तक पहुंच सकता है। ब्लक फंगस का संक्रमण जितना गंभीर होगा, लक्षण भी उतने ही गंभीर होंगे।नाक पर जहाँ चश्मा अटकता है, वो काली दिखने लगेगी जिसे नेजल ब्रिज कहते हैं। काला फंगस जब मस्तिष्क तक पहुंचेगा, तो व्यक्ति बेहोशी की हालत में रहेगा। जबड़े और दांतों में संक्रमण का स्तर गंभीर होने पर ऑपरेशन की भी जरूरत पड़ सकती है। महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, ओडिशा और दिल्ली में मरीज मिल चुके हैं।

एक्स - रे या सीटी स्कैन में दिखता है कालापनडॉ. सूर्यकांत बताते हैं कि काले फंगस का लक्षण दिखने के बाद जब रोगी के सीने या सिर का एक्स - रे किया जाता है, तो उसमें स्पष्ट तौर पर कालापन दिखता है। संक्रमण की चपेट में आकर मौत की दर 50 फीसदी है। सबसे अधिक खतरा मधुमेह रोगी, गुर्दा प्रत्यारोपण करा चुके व्यक्ति या जिनका शुगर लेवल 300 से 500 तक है, उन लोगों में समय के साथ मौत की आशंका बढ़ जाती है। headtopics.com

अस्पताल में हर दिन खतरनाकफंगल संक्रमण का खतरा उन कोरोना संक्रमितों को अधिक है जो लंबे समय तक अस्पताल में रहते हैं। आईसीयू और वेंटिलेटर यूनिट में भर्ती मरीजों को कई तरह की दवाएं दी जाती हैं। दवाएं शरीर को कमजोर करती हैं। इससे हवा में मौजूद काला फंगस आसानी से शरीर में प्रवेश कर रोगी की जान का दुश्मन बन रहा है।

विस्तार (केजीएमयू) के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के प्रमुख डॉ. सूर्यकांत बताते हैं कि संक्रमण के बाद पहले नौ दिन बहुत अहम हैं।विज्ञापनसंक्रमण के साथ मरीज में काले फंगस की शिकायत हुई , तो उसकी जान पर खतरा बढ़ जाता है। यह फंगस त्वचा के साथ नाक, फेफड़ों और मस्तिष्क तक को नुकसान पहुंचा सकता है। डॉ. सूर्यकांत के अनुसार काला फंगस पहले से ही हवा और जमीन में मौजूद है।

जैसे ही कोई कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाला व्यक्ति इसके संपर्क में आता है, तो उसके चपेट में आने की आशंका अधिक रहती है। वे बताते हैं, जो मरीज जितने लंबे समय तक अस्पताल में रहेगा और जितनी अधिक उसे स्टेरॉयड, एंटीबायोटिक और एंटीफंगल दवाएं चलती रहेंगी, उसे इससे खतरा बढ़ता जाएगा।

वे बताते हैं कि हवा में फंगस की मौजूदगी के कारण यह सबसे पहले नाक में घुसता है। फेफड़ों के बाद रक्त से मस्तिष्क तक पहुंच सकता है। ब्लक फंगस का संक्रमण जितना गंभीर होगा, लक्षण भी उतने ही गंभीर होंगे।नाक पर जहाँ चश्मा अटकता है, वो काली दिखने लगेगी जिसे नेजल ब्रिज कहते हैं। काला फंगस जब मस्तिष्क तक पहुंचेगा, तो व्यक्ति बेहोशी की हालत में रहेगा। जबड़े और दांतों में संक्रमण का स्तर गंभीर होने पर ऑपरेशन की भी जरूरत पड़ सकती है। महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, ओडिशा और दिल्ली में मरीज मिल चुके हैं। headtopics.com

चीन में कोरोना की नई लहर की चिंता और वैक्सीन पर सवाल - BBC Hindi तालिबान के डर से अफ़ग़ानिस्तान से मददगारों को अपने यहाँ ले जा रहा अमेरिका - BBC Hindi Tokyo Olympics: बैडमिंटन में पीवी सिंधु से मेडल की उम्मीद, क्वार्टर फाइनल में यामागुची से मुकाबला जारी

एक्स - रे या सीटी स्कैन में दिखता है कालापनडॉ. सूर्यकांत बताते हैं कि काले फंगस का लक्षण दिखने के बाद जब रोगी के सीने या सिर का एक्स - रे किया जाता है, तो उसमें स्पष्ट तौर पर कालापन दिखता है। संक्रमण की चपेट में आकर मौत की दर 50 फीसदी है। सबसे अधिक खतरा मधुमेह रोगी, गुर्दा प्रत्यारोपण करा चुके व्यक्ति या जिनका शुगर लेवल 300 से 500 तक है, उन लोगों में समय के साथ मौत की आशंका बढ़ जाती है।

अस्पताल में हर दिन खतरनाकफंगल संक्रमण का खतरा उन कोरोना संक्रमितों को अधिक है जो लंबे समय तक अस्पताल में रहते हैं। आईसीयू और वेंटिलेटर यूनिट में भर्ती मरीजों को कई तरह की दवाएं दी जाती हैं। दवाएं शरीर को कमजोर करती हैं। इससे हवा में मौजूद काला फंगस आसानी से शरीर में प्रवेश कर रोगी की जान का दुश्मन बन रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

वारदात: Dhanbad के जज की मौत के पीछे का असली सच! देखें

धनबाद में जज उत्तम आनंद की मौत के पीछे अब भी कई सवाल घूम रहे हैं. ये मौत वाकई एक हादसा था या हत्या? इस वीडियो में तस्वीर दिखा रही है कि एक शख्स सड़क के बिल्कुल बायीं ओर जॉगिंग कर रहा है. तभी अचानक पीछे से एक टेंपो आता है और जॉगिंग कर रहे शख्स को धक्का मार कर आगे बढ़ जाता है. पहली नज़र में यही गुमान होता है कि सड़क हादसे का एक मामला है. मगर इससे पहले कि आप किसी नतीजे पर पहुंचे, इसी सीसीटीवी तस्वीर की हर फ्रेम को अब गौर से देखिएगा. इसलिए कि इसी तस्वीर का जो बारीक पहलू है उसके बाद पूरा केस ही पलट जाएगा. इस केस की फॉरेंसिक जांच भी हो रही है. इस मामले में आज रांची हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए सुनवाई की है. इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अदालत ने झारखंड के डीजीपी और धनबाद के एसएसपी से जवाब तलब किया है. इस मामले में चीफ जस्टिस की बेंच ने डीजीपी से कहा कि अगर पुलिस जांच करने में विफल रहती है तो यह मामला सीबीआई को जा सकता है. देखें वारदात का ये एपिसोड.

drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI लोगों को जानबूझकर डराना बंद करो । सकारात्मक तो कुछ लिख नहीं पाओगे । drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI जनता का दुश्मन कौन है ? जनता ने जिसको वोट नही दिया वही जनता का दुश्मन है और हो सकता है कि वो अपनी दुश्मनी निभा रहा है । कोरोना क्या है वायरस है या तरंग है जो सांस के रास्ते शरीर के भीतर जाकर नुकसान कर रही है.. गली गली जो टावर लगे है इसकी जाँच हो तरंग तो टॉवर से निकलती PMOIndia

चेतन सकारिया के पिता के बाद पीयूष चावला के पिता का कोरोना से निधनभारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी लेग स्पिनर पीयूष चावला के पिता का सोमवार को कोरोना संक्रमण के कारण निधन हो गया। वह 65 वर्ष के थे CricketNews IPL2021 PiyushChawala ChetanSakariya

म्यूकरमायकोसिस: कोरोना के मरीजों में अब ‘काला फंगस’ बन रहा जानलेवा - BBC News हिंदीकोरोना महामारी से लड़ रहे डॉक्टरों के लिए अब ‘काला फंगस’ एक बड़ी चुनौती बन कर सामने आया है. इसके कारण लोगों को अपनी आंखें भी खोनी पड़ सकती है. एक और पैसा बनाने का धंधा, ये अस्पताल से ही मरीजों में फैलता है।

ब्लैक फंगस पर बोले चिकित्सक- ये नाक के जरिये करता है हमलाआंखों और नाक के आसपास दर्द या लालिमा, साथ में बुखार, सरदर्द, खांसी, हांफना, खूनी उल्टी और मानसिक दशा में बदलाव इस संक्रमण के लक्षण हैं जो ब्लैक फंगस होने का इशारा करते हैं।

ड्रैगन का पर्दाफाश, ट्विटर पर प्रचार के लिए फर्जी अकाउंट का सहारा ले रहा चीनबड़ी संख्या में चीनी राजनयिकों ने ट्विटर और फेसबुक पर अपना अकाउंट खोल रखा है जबकि चीन में इन दोनों पर प्रतिबंध लगा हुआ है। एसोसिएटेड प्रेस और आक्सफोर्ड इंटरनेट इंस्टीट्यूट ने इस मामले में सात महीने तक गहन पड़ताल की। SAlexNero1 SAlexNero1 PrinceAgrahari चाइनीस को जहां मिल जाए वहां ठोको ट्यूटर खुद प्रोपोगंडा चलाता है।फर्जी एकाउंट की भरमार है।कोई भी न्यूज ट्रेंड कराने की सुपारी ली जाती है। टुकड़े टुकड़े गैंग काफी सक्रिय है।

संकट के सिपाही : मुसीबत पर भारी सामाजिक जिम्मेदारी, समझ के साथ सेवा का भावसंकट के सिपाही : मुसीबत पर भारी सामाजिक जिम्मेदारी, समझ के साथ सेवा का भाव Coronawarriors Coronavirus covid19 jairamthakurbjp