Maharashtra, Konkanregion, Naturalcalamities, Mumbai-General, Konkan, Natural Calamities, Konkan Region Of Maharashtra, Cyclone İn Maharashtra, Tourism State Goa, Cyclone İn Konkan, Goa, Konkan, Many Districts Of Western Maharashtra, Nisarga Cyclone, Tauktae Cyclone, महाराष्ट्र में प्राकृतिक आपदाएं, कोंकण, Maharastra News

Maharashtra, Konkanregion

दो वर्षो से प्राकृतिक आपदाएं झेलता आ रहा है कोंकण, पिछले साल निसर्ग और इस साल टाक्टे तूफान ने मचाया कहर

दो वर्षो से प्राकृतिक आपदाएं झेलता आ रहा है कोंकण, पिछले साल निसर्ग और इस साल टाक्टे तूफान ने मचाया कहर #Maharashtra #KonkanRegion #NaturalCalamities

24-07-2021 05:15:00

दो वर्षो से प्राकृतिक आपदाएं झेलता आ रहा है कोंकण , पिछले साल निसर्ग और इस साल टाक्टे तूफान ने मचाया कहर Maharashtra KonkanRegion NaturalCalamities

सांगली में कृष्णा की बाढ़ ही कहर बरपा रही है। दूसरी ओर महाराष्ट्र का विशाल जल क्षमता वाला कोयना बांध भी इसी क्षेत्र में स्थित है। कोयना बांध से भी पिछले कुछ ही दिनों में 10000 क्यूसेक पानी छोड़ा जा चुका है।

प्राकृतिक सुंदरता का खजाना समेटे महाराष्ट्र का कोंकण क्षेत्र पिछले दो वर्षो से प्राकृतिक आपदाएं झेलता आ रहा है। चार दिनों से हो रही मूसलधार बारिश ने इस क्षेत्र के भरते घावों को एक बार फिर कुरेद दिया है। कोंकण और पश्चिम महाराष्ट्र में आई इस बाढ़ को इन्हीं क्षेत्रों में 2005 एवं 1967 में आई बाढ़ से भयावह बताया जा रहा है।

कोरोना से हुई मौत का प्रमाणपत्र, मुआवजा के लिए गाइडलाइन बनाए सरकार: सुप्रीम कोर्ट Gaurav Bhatia Vs Supriya Shrinate: UP में Yogi सरकार के काम को लेकर भ‍िड़े दोनों प्रवक्ता I am going to install 5G Mobile Tower... ऐसे मैसेज से सावधान!

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को प्रमुख पर्यटन राज्य गोवा से जोड़ने वाली करीब 500 किमी. की सागरतटीय पट्टी कोंकण क्षेत्र के नाम से जानी जाती है। मुंबई से गोवा की ओर सड़क मार्ग से जाते हुए बाईं ओर हरी-भरी पहाडि़यों के बीच महाड, पेण, खेण, चिपलूण जैसे शहर एवं छोटे-छोटे गांव साथ चलते हैं तो दाहिनी ओर कुछ दूर जाने पर समुद्र साथ-साथ चलता है। मुंबई से करीब पौने दो सौ किमी. का सफर तय करने के बाद बाईं ओर ही पोलादपुर के पहाड़ी रास्तों से महाराष्ट्र के हिल स्टेशन महाबलेश्वर पर जाया जा सकता है।

महाबलेश्वर में पिछले तीन दिनों में रिकॉर्ड बारिशसमुद्र तल से 1,439 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस हिल स्टेशन से पांच नदियां कृष्णा, कोयना, वेरना, सावित्री एवं गायत्री निकलती हैं। इनमें कृष्णा देश की चौथी सबसे बड़ी नदी है, जो महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना एवं आंध्र प्रदेश होते हुए 1400 किमी. का सफर तय कर बंगाल की खाड़ी में मिलती है। अन्य चार नदियां भी महाराष्ट्र के बड़े हिस्से से गुजरती हैं। इसी महाबलेश्वर ने पिछले तीन दिनों में 1534.4 मिमी. बारिश रिकार्ड की है, जो अब तक की सबसे ज्यादा है। इसका असर यहां से निकलनेवाली नदियों एवं उन नदियों के मार्ग में पड़नेवाले कोंकण एवं पश्चिम महाराष्ट्र के नगरों-कस्बों में पड़ना स्वाभाविक है। सांगली में कृष्णा की बाढ़ ही कहर बरपा रही है। दूसरी ओर महाराष्ट्र का विशाल जल क्षमता वाला कोयना बांध भी इसी क्षेत्र में स्थित है। कोयना बांध से भी पिछले कुछ ही दिनों में 10,000 क्यूसेक पानी छोड़ा जा चुका है। headtopics.com

यह भी पढ़ेंमुंबई सहित महाराष्ट्र के ज्यादातर बड़े शहर पेयजल के लिए कोयना जैसे बड़े बांधों में बरसात के दिनों में संचित जल पर ही निर्भर करते हैं। इसलिए इन बांधों के क्षेत्र में पर्याप्त बारिश होना भी जरूरी है। लेकिन पिछले कुछ दिनों में इन क्षेत्रों में सामान्य से बहुत ज्यादा बारिश होना विपदा का कारण बन गया है। मुसीबत का कारण सिर्फ पिछले कुछ दिनों से हो रही बरसात ही नहीं है। सागरतटीय क्षेत्र होने के कारण पिछले दो वर्ष में कोकण पट्टी ने दो बड़े तूफान भी सहे हैं।

यह भी पढ़ेंकुछ माह पहले टाक्टे तूफान ने मचाई थी तबाही पिछले वर्ष आए निसर्ग तूफान से हुई बर्बादी से कोंकण उबर भी नहीं पाया था कि कुछ माह पहले आए टाक्टे तूफान ने भी इसी क्षेत्र को अपना निशाना बनाया। लोग अभी तक इन तूफानों में उजड़ चुके अपने घर भी नहीं दुरुस्त कर पाए हैं। यही क्षेत्र अपने स्वादिष्ट हापुस आमों एवं काजू के लिए जाना जाता है। देश को 80 फीसद स्ट्राबेरी महाबलेश्वर देता है। टाक्टे ने इन सारी फसलों को तबाह कर किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया था। इनका मुआवजा अभी तक किसानों को नहीं मिल पाया है। दूसरी ओर कोरोना के असर से भी कोंकण एवं पश्चिम महाराष्ट्र के जिले अभी बाहर नहीं आ सके हैं। इस महामारी से मुंबई जैसा महानगर भी अब राहत महसूस करने लगा है। लेकिन कोंकण एवं पश्चिम महाराष्ट्र के कई जिलों में अब भी सख्ती बरती जा रही है। इस कारण इन क्षेत्रों में उद्योग धंधे अभी ठीक से शुरू नहीं हो सके हैं। रायगढ़ का पेण कस्बा पूरे देश में गणपति मूíतयों के निर्माण के लिए जाना जाता है। कोरोना की शुरुआत के बाद से मूíतयों की मांग कम हुई तो कस्बे के मूíतकारों की कमर ही टूट गई है।

और पढो: Dainik jagran »

पटना के युवाओं का कमाल का काम: सफाई कर्मियों की हड़ताल से जब बीमार पड़ने लगे लोग, तब मोहल्ले के युवाओं ने 5 घंटे में साफ किया 6 KM तक का कचरा

सफाई कर्मियों की हड़ताल से शहर में गंदगी का पहाड़ बनता जा रहा है। गंदगी के कारण लोग बीमार पड़ रहे हैं। ऐसे में पटना के कुछ युवा नजीर बन गए और खुद सफाई का मोर्चा संभाल लिया। रातभर में 6 KM तक का इलाका कचरा मुक्त कर दिया। इस टीम में ऐसे यूथ भी शामिल रहे जिन्होंने कभी अपने घरों में सफाई के लिए झाड़ू तक नहीं उठायी थी। रविवार रात को 5 घंटे तक सफाई अभियान चलाकर युवकों ने एक बड़ी आबादी को कचरे से मुक्ति दिलाई... | Bihar News; In Patna, the youth of the locality cleaned 6 KM of garbage in 5 hours

मुंबई: 7 साल की दिव्यांग बेटी से यौन दुराचार, आरोपी पिता को 5 साल की सजापत्नी पर दबाव डालने के लिए वो उसके सामने अपनी बेटी का यौन शोषण करने लगा. पहली बार जब मां ने ये देखा तो वो मानसिक रूप से बेहद परेशान हो गई. लेकिन इस घटना को वो किसी और को बता न सकी.

दिल की सेहत को लक्षणों से समझें: पैर में सूजन, थकान और सांस लेने में दिक्कत को नजरअंदाज न करें क्योंकि पिछले 20 साल में सबसे ज्यादा मौतें हदय रोगों से हुईंविश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, पिछले 20 सालों में दुनिया में होने वाली मौतों का सबसे बड़ा कारण हृदय से जुड़े रोग हैं। जब हृदय की मांसपेशियां रक्त को पर्याप्त मात्रा में पम्प नहीं कर पाती हैं तब हृदय रोगों की शुरआत होती है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। जैसे कि रक्त वाहिकाओं का सिकुड़ना, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट का धीरे-धीरे कमजोर हो जाना या फिर हार्ट का कठोर हो जाना। ऐसा होने पर उसमें न तो प... | formula to protect heart from cardiovascular disease know how to stay heart healthy ड्यूटी के दौरान कोरोनावायरस से निधन हुए पुलिसकर्मियों को कोरोना शहीद का दर्जा दिया जाय, इसे आकस्मिक निधन या साधारण निधन सरकार न माने, एक वर्ष हो गए कोरोनाशहीद के लिए शासन के पास कोई योजना या नियम नही है। इन्हे इग्नोर न करो। मै_भारतीय_दिव्यांग_हूं। RightToCoronaWarrior एक तो टैक्स चोरी उपरसे सिनाजोरी। Respected sir I was complain to Mr. Sarad singh (E) district division officers, but Mr. Sarad sir not take any action. Mr. Kaushlendra a forjery frady involved as a pump attend postbin dhobiya tunki rewa office. He is retairment on 30.07.2021,so plz take immediately action.

भारत से सटी तिब्बती सीमा पर पहली बार पहुंचे शी जिनपिंग, दौरे से किया हैरानचीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अरुणाचल प्रदेश से सटे रणनीतिक रूप से अहम तिब्बत के सीमावर्ती शहर न्यिंगची का दौरा किया है. शी जिनपिंग चीन के ऐसे पहले राष्ट्रपति हैं जिन्होंने तिब्बत की यात्रा की है. इस दौरान उन्होंने नई और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण रेलवे लाइन का जायजा लिया.

Farmers Protests: केंद्र सरकार खुले मन से किसान संगठनों से वार्ता को तैयार : नरेंद्र सिंह तोमरFarmers Protests जंतर-मंतर पर जहां आंदोलनकारी किसान संगठनों की किसान संसद लगी वहीं संसद परिसर में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा कि उन्हें वार्ता में खुले मन से आना चाहिए। सरकार इसके लिए पूरी तरह तैयार है। nstomar माेदीके तलवे चाटते रहाे भाेसडिके गाेदी मिडिया nstomar बार्ता नहीं तीनों कानून वापसी चाहिए अगली सरकार किसानों की सरकार होनी चाहिए किसान नेताओं के नेतृत्व में बिपक्षी पार्टीयों को एकजुट होना चाहिए अभी नहीं तो फिर कभी नहीं किसान एकता जिंदाबाद nstomar दैनिक जागरण दुनियां का नंबर 1 बिक कर छपने वाला अखबार बना

आंध्र प्रदेश: कोरोना के डर से 15 महीने से बंद परिवार को पुलिस ने बचायाभारत समेत वैश्विक स्तर पर कोरोना का डर इस तरह हावी है कि आंध्र प्रदेश में एक पड़ोसी की कोविड-19 से मौत के बाद एक परिवार

हरियाणा: आज से खुलेंगे छठवीं से आठवीं कक्षा के स्कूल, साइकिल से आने और घर से पानी लाने का निर्देशहरियाणा: आज से खुलेंगे छठवीं से आठवीं कक्षा के स्कूल, साइकिल से आने और घर से पानी लाने का निर्देश Hariyana SchoolReopen mlkhattar mlkhattar आरएसएस इनकम टैक्स नही देती। RSS देश,विदेश से उसे मिलनेवाले चंदे की जानकारी सार्वजनिक नही करती। राष्ट्रीय_स्वयंसेवक_संघ को मोदी सरकार ने देशभर में कितनी जमीन मुफ्त दी है? RSSorg से संलग्न 800 सेवाभावी संस्थाओं को सरकारी योजनाओं के तहत कितना पैसा दिया?