Coronavirusınındia, Union Health Minister, Mansukh Mandaviya, Administration Of Vaccine Doses, India Vaccination Coverage, Ministry Of Health, Vaccination İn India, देश में टीकाकरण का आंकड़ा, Covid Vaccination Drive İn India, Covıd-19 Vaccination Drive, Union Health Ministry On Vaccination, Covıd-19 Vaccination Data Of India, Covid-19 Vaccine İn India, Coronavirus Vaccine İn India, Vaccines Against Covıd-19, İmmunisation Drive İn India, देश में टीकाकरण की रफ्तार

Coronavirusınındia, Union Health Minister

देश में टीकाकरण का आंकड़ा 97.23 करोड़ के पार, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बोले- अगले हफ्ते तक लगा दी जाएगी 100 करोड़ से ज्‍यादा डोज

देश में टीकाकरण का आंकड़ा 97.23 करोड़ के पार, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बोले- अगले हफ्ते तक लगा दी जाएगी 100 करोड़ से ज्‍यादा डोज #CoronaVirusInIndia

16-10-2021 18:20:00

देश में टीकाकरण का आंकड़ा 97.23 करोड़ के पार, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बोले- अगले हफ्ते तक लगा दी जाएगी 100 करोड़ से ज्‍यादा डोज CoronaVirusInIndia

देश में कोविड रोधी टीकाकरण का आंकड़ा 97.23 करोड़ को पार कर गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया का कहना है कि अगले हफ्ते कोविड-19 रोधी टीकाकरण का आंकड़ा 100 करोड़ को पार कर जाएगा। पढ़ें यह रिपोर्ट...

देश में बीते 24 घंटों में 8,36,118 वैक्सीन खुराक दी गई है। इसके साथ देश में कोविड रोधी टीकाकरण का आंकड़ा 97.23 करोड़ को पार कर गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि अब तक 1,03,75,703 स्वास्थ्य कर्मियों को पहली खुराक जबकि 90,68,232 को वैक्‍सीन की दूसरी खुराक लगाई गई है। यही नहीं अग्रिम पंक्ति के 1,83,61,275 कार्यकर्ताओं को पहली और 1,54,90,253 को वैक्सीन की दूसरी खुराक दी जा चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को कहा कि अगले हफ्ते कोविड-19 रोधी टीकाकरण का आंकड़ा 100 करोड़ को पार कर जाएगा।  

उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बोले-मथुरा की तैयारी, छिड़ी बहस - BBC News हिंदी काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट का उद्घाटन करेंगे PM मोदी, जानें कैसा होगा इसका ब्लूप्रिंट Parag Agrawal Twitter CEO बने तो अग्रवाल स्वीट्स की क्यों हो रही चर्चा?

यह भी पढ़ेंइसके साथ ही वैक्‍सीन को लेकर मिथक और टीका लगवाने में हिचक को दूर करने के उद्देश्य से गायक कैलाश खेर का एक कोविड-गान भी जारी किया गया। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि हमने 17 सितंबर को एक दिन में 2.5 करोड़ खुराक लगाई थी। अगले हफ्ते तक हम 100 करोड़ के आंकड़े पर पहुंच जाएंगे। ऐसा सभी लोगों के एकजुट प्रयासों के चलते संभव हो पाया है। अब तक लगाई गई वैक्‍सीन के आंकड़ों से पता चलता है कि आबादी के करीब 70 फीसद हिस्से को पहली खुराक जबकि करीब 30 फीसद को दोनों खुराक दी जा चुकी है।

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि किसी भी वैक्‍सीन के विकास में पांच से 10 साल का समय लगता है लेकिन भारत ने बहुत कम समय में कोविड-19 रोधी टीका विकसित किया। इस मौके पर पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि विपक्ष की ओर से देश में कुछ झूठ फैलाए जाने के बावजूद कोविड रोधी टीकाकरण अब एक जन आंदोलन बन गया है। उन्होंने कांग्रेस नीत संप्रग शासन के दौरान 2004 से 2014 के बीच सार्वजिनक क्षेत्र में टीका विनिर्माण को रोके जाने का भी जिक्र किया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि विपक्ष ने स्वदेश निर्मित टीके के सुरक्षित होने के बारे में एक नकारात्मक भ्रम फैलाने की कोशिश की।   headtopics.com

और पढो: Dainik jagran »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

Abaadi Kahan Thi Itni...

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम: सहकारिता और आपसी समझदारी हो सकती है सभी समस्याओं का निदानदूसरे विश्वयुद्ध के पहले यूरोप में रेस्तरां के बाहर कॉफी और सैंडविच के दाम लिखे होते थे। साथ ही यह चेतावनी भी होती थी कि कस्टमर्स के वहां कॉफी पीते समय भी उसके दाम बढ़ सकते हैं। महंगाई का यह हाल था कि जीने से अधिक महंगा मरना हो गया था। कॉफिन के दाम आसमान छू रहे थे। ‘द ग्रेट गेट्सबी’ नामक फिल्म में उन साधन-संपन्न लोगों पर व्यंग किया गया है कि महंगाई के दौर में शानदार दावतों का आयोजन किया जा रहा था।... | Jayprakash Chouksey's column - Co-operation and mutual understanding can solve all problems

जानिए मछुआरे परिवार में जन्मे APJ अब्दुल कलाम का राष्ट्रपति पद तक का सफरAPJ Abdul Kalam Birth Anniversary 2021 आज भारत के पास अग्नि 5 जैसी मिसाइल भी है जिसकी मारक क्षमता 5000 किलोमीटर से अधिक है। अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में देश को अग्रिम पंक्ति में ला खड़ा करने वाले महान विज्ञानी भारत रत्न डा. कलाम के जन्मदिन (15 अक्टूबर) पर विशेष...

टैरो राशिफल 16 अक्टूबर 2021: कुंभ को मिलेगा मेहनत का फल, जानें अपनी राशि का हालTarot horoscope 16 अक्टूबर 2021: टैरो कार्ड कह रहे हैं कि आज के दिन कुंभ राशि वालों को उनकी मेहनत का फल मिलेगा. वहीं मीन राशि वालों का आत्मविश्वास बढ़ेगा. जानें आज का टैरो राशिफल और हर एक राशि का उपाय. BhawnaSharma_05 क्या समाचार माध्यमों के इस तरह अंधविश्वास को बढ़ावा देना सही है

आज का इतिहास: द वॉल्ट डिज्नी कंपनी का जन्मदिन; चूहे की उछलकूद देखकर मिकी माउस का आइडिया आया, इसने डिज्नी को एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का बादशाह बनायाआपके बचपन की खूबसूरत यादों में मिकी माउस और डोनाल्ड डक तो जरूर होंगे। आज इन कार्टून कैरेक्टर को बनाने वाली कंपनी डिज्नी का जन्मदिन है। 16 अक्टूबर 1923 को बनी डिज्नी कंपनी आज 98 साल की हो गई है। | Today is the birthday of The Walt Disney Company; Mickey Mouse's idea came after seeing the rat jump, which made Disney the king of the entertainment industry शाहरुख खान से ही यह देश की पहचान है क्या भाइयों भारत देश ही ऐसा की बाहरी खान को शाहरुख़ खान ऐसे मवाली और गुंडागर्दी को पनाह मिल रहा है अगर दुसरे देश रहता तो ऐसे ऐसे लोगों को सजाए मौत मिल चुकी होती और पहचान है बर्बाद कर दिया देश को

शिक्षा का उपहास उड़ाने वाली परीक्षा: छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों का कर दिया रोबोटीकरणहिंदू कालेज के राजनीति शास्त्र विभाग का इस वर्ष का मामला सबसे रोचक है। वहां अनारक्षित श्रेणी के अंतर्गत कुल 20 सीटों पर प्रवेश होना था पर 26 छात्रों को प्रवेश देना पड़ा क्योंकि सभी के 100 फीसद मार्क्‍स थे। Cbse_official Delhiuniversit BJP4India Dikh raha hai sir.. apki Opinion ki spelling dekh kar..

आरती खोसला का कॉलम: वायु प्रदूषण पर डब्ल्यूएचओ के निर्देशों का भारत पर असरविश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 2005 के बाद पहली बार वायु गुणवत्ता दिशानिर्देशों में संशोधन कर नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। ये हमारी सेहत के लिए नुकसानदेह प्रदूषकों पर लगाम कसने और उनकी सीमा निर्धारित करने का काम करते हैं। ये वायु प्रदूषण के स्वास्थ्य प्रभावों का आंकलन भी प्रदान करते हैं। इसके चलते इन्हें कई सरकारें अपने देश के वायु गुणवत्ता मानकों का आधार बनाती हैं। | Aarti Khosla's column - Impact of WHO's directives on air pollution on India