Covıd, Covıd 2019india, Coronaupdatesindia, Coronadeaths, Deathrate, India Death Rate, Covid 19 İndia Death Rate, Coronavirus, World News İn Hindi, World Hindi News

Covıd, Covıd 2019india

देश में संक्रमितों की संख्या पांच हजार के पार, इटली के नजदीक पहुंच रही मृत्युदर

भारत में कोरोना वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है। इस संक्रमण को फैलाने में तब्लीगी जमात के लोगों का खास योगदान है।

09-04-2020 11:24:00

देश में संक्रमितों की संख्या पांच हजार के पार, इटली के नजदीक पहुंच रही मृत्युदर COVID COVID 2019india coronaupdatesindia coronadeaths DeathRate WHO MoHFW_INDIA

भारत में कोरोना वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है। इस संक्रमण को फैलाने में तब्लीगी जमात के लोगों का खास योगदान है।

विज्ञापनभारत में कोरोना से मृत्युदर- फोटो : अमर उजालाख़बर सुनेंख़बर सुनेंभारत में कोरोना वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है। निजामुद्दीन स्थित मरकज से निकले तब्लीगी जमात के लोगों से देश में कोरोना संक्रमण के मामले चार दिन में दोगुने हो गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में 30 फीसदी मरीज जमाती हैं।

लड़की को दूसरा नाम बता पंजाब से मेरठ लाकर किया मर्डर, काट दिया था टैटू वाला बाजू, 1 साल बाद सुलझी गुत्थी दलित छात्रा ने ऑनलाइन क्लास नहीं कर पाने के चलते की 'आत्महत्या' कोरोना अपडेटः कोविड-19 के इलाज के लिए इबुप्रोफ़ेन का हुआ परीक्षण - BBC Hindi

आंकड़ों को देखें तो मरीजों से संख्या 100 से 1000 पहुंचने में करीब 15 दिन का समय लगा। लेकिन 14 मार्च के बाद से संक्रमण ने तेजी से रफ्तार पकड़ी। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 9 दिन में ही कोविड-19 से संक्रमितों का आंकड़ा 1,000 से बढ़कर 5,000 पहुंच गया। इतना ही नहीं इन 5,000 मामलों के साथ ही भारत में कोरोना से मृत्यु दर अन्य देशों की तुलना में अधिक है।

भारत के मामले में पहले ये कहा जा रहा था कि यहां संक्रमण का खतरा कम होगा क्योंकि कोरोना का अध्ययन करने वाले शोधकर्ताओं ने ये पाया कि ये वायरस खासकर बुजुर्गों पर हमला करता है और भारत की ज्यादातर आबादी युवा है। लेकिन नतीजे इसके उलट थे। भारत में कोरोना से संक्रमितों में युवाओं का प्रतिशत 42 था। आंकड़ों के मुताबिक कोरोना से संक्रमितों में 42 फीसदी मरीजों की उम्र 21 से 40 साल के बीच है।

आइए आंकड़ों से समझने की कोशिश करते हैं...विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 30 मार्च तक कोरोना वायरस के 1,071 मामलों की पुष्टि हुई थी, जो 8 अप्रैल की शाम तक बढ़कर 5,200 से ज्यादा हो गई। इस तरह केवल 9 दिनों में ही भारत में कोरोना वायरस के मामलों में करीब पांच गुना बढ़ोत्तरी हो गई।

महज 5,000 से अधिक मामलों के साथ ही भारत में कोरोना से मृत्युदर दुनिया में आठवें स्थान पर है। अमेरिका, स्पेन, चीन, फ्रांस और ईरान जैसे इस वायरस से भयानक रूप से प्रभावित देशों में 5,000 मामलों को पार करने के बाद भारत की तुलना में कम मौतें हुईं।5,000 संक्रमितों के साथ स्वीडन में मौत का आंकड़ा दुनिया में सबसे ज्यादा रहा। 3 अप्रैल तक स्वीडन में 282 मौतों के साथ कोरोना वायरस के 5,466 मामलों की पुष्टि हुई थी। करीब एक करोड़ की आबादी वाले इस देश में कोविड-19 के कुल 7693 मामले सामने आए हैं। इसकी एक वजह ये भी हो सकती है कि स्वीडन ने अन्य यूरोपीय देशों की तरह सख्त लॉकडाउन के नियमों को लागू नहीं किया गया। लेकिन भारत में लॉकडाउन लगाने की बाद भी मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है।

आंकड़ों पर गौर करें तो पता चलता है कि भारत में कोरोना से रोजाना की औसत मृत्यु दर तकरीबन 15 से 20 फीसदी है। 1 अप्रैल को भारत में कोरोना से मृत्यु दर 28.16 फीसदी थी।5000 लोगों पर स्वीडन में मरने वालों का आंकड़ा 282 था। नीदरलैंड में 276, इटली जो कि कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है यहां 5000 लोगों पर 234 लोगों की जान गई। ब्रिटेन में 233 लोगों की मौतें हुईं, वहीं अन्य यूरोपीय देशों की तुलना में भारत में कोरोना से मृत्यु दर के आंकड़े परेशान कर सकते हैं।

भारत में 5000 संक्रमितों में 149 मौतें हुईं। फ्रांस में 148, ईरान में 145, स्पेन में 136 लोगों की जान गई। चीन से दुनियाभर में फैला ये वायरस यहां ज्यादा तबाही नहीं मचा पाया। मृत्युदर में भारत चीन से आगे है।आंकड़ों पर गौर करें तो 5000 लोगों पर चीन में 132 मौतें ही हुईं। अमेरिका में जहां 100 मौतें हुई वहीं दक्षिण कोरिया में केवल 32 लोगों ने ही इस महामारी से जान गवाई। जर्मनी कोरोना से मृत्युदर में सबसे निचले पायदान पर है। इसके पीछे वहां की सरकार की कामयाब रणनीति है।

चक्रवात 'निसर्ग' की वजह से मुंबई एयरपोर्ट शाम 7 बजे तक के लिए बंद भारत नाम कैसे पड़ा- कहानी 'आग' और 'दरिया' की मुंबई एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान फेडएक्स विमान रनवे पर फिसला, देखें VIDEO

शोधकर्ताओं की मानें तो कोरोना वायरस से संक्रमित प्रति एक हजार व्यक्तियों में से नौ व्यक्तियों की मौत होने की आशंका है। दुनिया भर में इस समय कोरोना वायरस से जुड़ी मृत्यु दर अलग-अलग हैं।मृत्यु दर इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपको किस तरह का ट्रीटमेंट मिला है। और कोई व्यक्ति ये बीमारी फैलने के किस स्तर पर संक्रमित हुआ है।

भारत में मृत्युदर क्यों ज्यादाभारत में कोविड-19 से जिन लोगों की मौत हुई, उनमें से ज्यादातर मामलों में मरीज डायबिटीज और हाइपरटेंशन (बीपी) की समस्या से पीड़ित थे। ऐसे में भारत के लिए खतरा और ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि आईसीएमआर की रिपोर्ट के मुताबिक देश में करीब 9.4 फीसदी लोगों को डायबिटीज है। 12 फीसदी शहरी आबादी और करीब 8 फीसदी ग्रामीण आबादी इन दोनों रोगों की चपेट में है। और ऐसे लोगों को कोरोना का खतरा ज्यादा है।

चीन के 44 हजार केसों के अध्ययन के बाद यह बात सामने आई कि जिन मरीजों में मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय संबंधी या सांस रोग था, उनमें मृत्यु की आशंका पांच गुना ज्यादा थीं। भारत में मामले में भी लगभग यही देखने को मिला।इस वायरस से दुनियाभर में 1,453,804 लोग संक्रमित हैं। भारत में 5734 संक्रमितों के साथ 166 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि 473 मरीज ठीक भी हुए हैं।

भारत में कोरोना वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है। निजामुद्दीन स्थित मरकज से निकले तब्लीगी जमात के लोगों से देश में कोरोना संक्रमण के मामले चार दिन में दोगुने हो गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में 30 फीसदी मरीज जमाती हैं।

विज्ञापनआंकड़ों को देखें तो मरीजों से संख्या 100 से 1000 पहुंचने में करीब 15 दिन का समय लगा। लेकिन 14 मार्च के बाद से संक्रमण ने तेजी से रफ्तार पकड़ी। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 9 दिन में ही कोविड-19 से संक्रमितों का आंकड़ा 1,000 से बढ़कर 5,000 पहुंच गया। इतना ही नहीं इन 5,000 मामलों के साथ ही भारत में कोरोना से मृत्यु दर अन्य देशों की तुलना में अधिक है।

भारत के मामले में पहले ये कहा जा रहा था कि यहां संक्रमण का खतरा कम होगा क्योंकि कोरोना का अध्ययन करने वाले शोधकर्ताओं ने ये पाया कि ये वायरस खासकर बुजुर्गों पर हमला करता है और भारत की ज्यादातर आबादी युवा है। लेकिन नतीजे इसके उलट थे। भारत में कोरोना से संक्रमितों में युवाओं का प्रतिशत 42 था। आंकड़ों के मुताबिक कोरोना से संक्रमितों में 42 फीसदी मरीजों की उम्र 21 से 40 साल के बीच है।

बंगाल के श्रमिकों के लिए CM ममता बनर्जी की मांग पर BJP के कैलाश विजयवर्गीय भड़के, कहा-'दीदी' क्‍यों नहीं दे रहीं मदद.. निसर्ग तूफ़ान: महाराष्ट्र के समुद्रतट से टकराया चीन पर चोट: 53 दवाओं के उत्पादन में आत्मनिर्भर बनेगा भारत, मोदी सरकार ने बनाया प्लान

कोरोना वायरस से मौत की दर- फोटो : PTIआइए आंकड़ों से समझने की कोशिश करते हैं...विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 30 मार्च तक कोरोना वायरस के 1,071 मामलों की पुष्टि हुई थी, जो 8 अप्रैल की शाम तक बढ़कर 5,200 से ज्यादा हो गई। इस तरह केवल 9 दिनों में ही भारत में कोरोना वायरस के मामलों में करीब पांच गुना बढ़ोत्तरी हो गई।

महज 5,000 से अधिक मामलों के साथ ही भारत में कोरोना से मृत्युदर दुनिया में आठवें स्थान पर है। अमेरिका, स्पेन, चीन, फ्रांस और ईरान जैसे इस वायरस से भयानक रूप से प्रभावित देशों में 5,000 मामलों को पार करने के बाद भारत की तुलना में कम मौतें हुईं।5,000 संक्रमितों के साथ स्वीडन में मौत का आंकड़ा दुनिया में सबसे ज्यादा रहा। 3 अप्रैल तक स्वीडन में 282 मौतों के साथ कोरोना वायरस के 5,466 मामलों की पुष्टि हुई थी। करीब एक करोड़ की आबादी वाले इस देश में कोविड-19 के कुल 7693 मामले सामने आए हैं। इसकी एक वजह ये भी हो सकती है कि स्वीडन ने अन्य यूरोपीय देशों की तरह सख्त लॉकडाउन के नियमों को लागू नहीं किया गया। लेकिन भारत में लॉकडाउन लगाने की बाद भी मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है।

कोरोना वायरस से मौत की दर- फोटो : PTIआंकड़ों पर गौर करें तो पता चलता है कि भारत में कोरोना से रोजाना की औसत मृत्यु दर तकरीबन 15 से 20 फीसदी है। 1 अप्रैल को भारत में कोरोना से मृत्यु दर 28.16 फीसदी थी।5000 लोगों पर स्वीडन में मरने वालों का आंकड़ा 282 था। नीदरलैंड में 276, इटली जो कि कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है यहां 5000 लोगों पर 234 लोगों की जान गई। ब्रिटेन में 233 लोगों की मौतें हुईं, वहीं अन्य यूरोपीय देशों की तुलना में भारत में कोरोना से मृत्यु दर के आंकड़े परेशान कर सकते हैं।

भारत में 5000 संक्रमितों में 149 मौतें हुईं। फ्रांस में 148, ईरान में 145, स्पेन में 136 लोगों की जान गई। चीन से दुनियाभर में फैला ये वायरस यहां ज्यादा तबाही नहीं मचा पाया। मृत्युदर में भारत चीन से आगे है।आंकड़ों पर गौर करें तो 5000 लोगों पर चीन में 132 मौतें ही हुईं। अमेरिका में जहां 100 मौतें हुई वहीं दक्षिण कोरिया में केवल 32 लोगों ने ही इस महामारी से जान गवाई। जर्मनी कोरोना से मृत्युदर में सबसे निचले पायदान पर है। इसके पीछे वहां की सरकार की कामयाब रणनीति है।

शोधकर्ताओं की मानें तो कोरोना वायरस से संक्रमित प्रति एक हजार व्यक्तियों में से नौ व्यक्तियों की मौत होने की आशंका है। दुनिया भर में इस समय कोरोना वायरस से जुड़ी मृत्यु दर अलग-अलग हैं।मृत्यु दर इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपको किस तरह का ट्रीटमेंट मिला है। और कोई व्यक्ति ये बीमारी फैलने के किस स्तर पर संक्रमित हुआ है।

कोरोना वायरस से मौत की दर- फोटो : PTIभारत में मृत्युदर क्यों ज्यादाभारत में कोविड-19 से जिन लोगों की मौत हुई, उनमें से ज्यादातर मामलों में मरीज डायबिटीज और हाइपरटेंशन (बीपी) की समस्या से पीड़ित थे। ऐसे में भारत के लिए खतरा और ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि आईसीएमआर की रिपोर्ट के मुताबिक देश में करीब 9.4 फीसदी लोगों को डायबिटीज है। 12 फीसदी शहरी आबादी और करीब 8 फीसदी ग्रामीण आबादी इन दोनों रोगों की चपेट में है। और ऐसे लोगों को कोरोना का खतरा ज्यादा है।

चीन के 44 हजार केसों के अध्ययन के बाद यह बात सामने आई कि जिन मरीजों में मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय संबंधी या सांस रोग था, उनमें मृत्यु की आशंका पांच गुना ज्यादा थीं। भारत में मामले में भी लगभग यही देखने को मिला।इस वायरस से दुनियाभर में 1,453,804 लोग संक्रमित हैं। भारत में 5734 संक्रमितों के साथ 166 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि 473 मरीज ठीक भी हुए हैं।

विज्ञापनआगे पढ़ें और पढो: Amar Ujala »

WHO MoHFW_INDIA देश में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ना चिंता की बात है भारत सरकार को और सख्त कदम उठाना पढ़ेंगे इटली की बात कुछ और है उन्होंने नियमों का पालन सख्ती से नहीं किया. WHO MoHFW_INDIA Bc gnd faadte rehte ho logo ki 24×7 😅😅 WHO MoHFW_INDIA not good. WHO MoHFW_INDIA Italy ka population 6cr. Hai, Uttar Pradesh ka population 23cr. Hai,

भारत में कोविड-19: देश में कोरोना के मामले बढ़े, अकेले महाराष्ट्र में 48 की मौतIndia News: देश में कोरोना वायरस ( Coronavirus ) के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कोविड-19 (Covid-19) के कारण देश में अब तक 124 लोगों की मौत हो चुकी है। देश में कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन (Lockdown in India) जारी है। Looks like whole India is impacted by covid19... लगता है ये कोरोना भी एक तरह का बुखार है जो किसी किसी मे इसके लक्षण भुखार के रुप मे दिखते है किसी को निमोनिया साथ मे ओर किसी को कुछ भी लक्षण दिखाई नही देता जब ज्यादा टाईम तक ये शरीर मे रहता है ओर उस मरीज को ओर भी अलग से कोई बिमारी है तो ये ज्यादा घातक हो जाता हैं ड़र है तो घर है

सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने दिए बड़े संकेत, देश में बढ़ सकता है लॉकडाउनसर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने दिए बड़े संकेत, देश में बढ़ सकता है लॉकडाउन allpartymeeting covid19 coronavirus inindia lockdownindia PMOIndia narendramodi PMOIndia narendramodi सब तो ठीक है लेकिन अब तो हमलोगों को प्रधानमंत्री जी बेरोजगारी भत्ता भी दिलवा ही दीजिए 🤔 इस मुश्किल घड़ी में 🙏🙏🙏🙏🙏🙏 PMOIndia narendramodi Good PMOIndia narendramodi Punjab government extends curfew till 30 April.

भारत में कोरोना: सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने दिए बड़े संकेत, देश में बढ़ेगा लॉकडाउन?India News: पीएम मोदी की विपक्षी नेताओं संग कोरोना वायरस ( Coronavirus in India) पर चर्चा। विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा में पीएम ने देश में कोरोना के हालात पर चर्चा की। पीएम ने बैठक में लॉकडाउन बढ़ाने के संकेत दिए हैं। देश को लॉक डाउन करने के साथ ही कुछ धर्म विशेष लोगों को भी लॉक डाउन करने की आवश्यक्ता

भारत में अनौपचारिक क्षेत्र के 40 करोड़ कर्मचारियों को गरीबी में धकेल सकता है कोरोना संकटभारत में अनौपचारिक क्षेत्र के 40 करोड़ कर्मचारियों को गरीबी में धकेल सकता है कोरोना संकट Coronavirus Outbreakindia ilo ilo सोनिया गाॅधी जी के फार्मूले से 2,75,443 करोड रुपया बचाकर देश मे हर जिले मे एक AIMS बन सकता हॆ । देश बचाओ । करोना भगाओ । ilo भारत की मीडिया से अनुरोध है कि इस Corona के संकट में कभी सिलेंडर बांटने वाले हाकर्स का भी हौसला बढाने का कष्ट करें इस दुखद घड़ी मे वो भी किसी योद्धा से कम नही हैं घर-घर,गाँव-गाँव बिना जान की फिक्र किये पहुंच रहे हैं! sardanarohit SwetaSinghAT narendramodi ilo 130 करोड में 40 करोड नौकरी गवा देगे मेरे 50,40 के करीब काम करते हैं अकडा या कुछ भी लिख दो

देश में बढ़ सकता है लॉकडाउन, कई राज्य सरकारों ने केंद्र से किया है आग्रह: सूत्रIndia News: देश में जारी 21 दिनों का लॉकडाउन बढ़ाया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार, कई राज्य सरकारों ने केंद्र से इसका आग्रह किया है। बता दें कि देश में कोरोना फैलने के बाद कनाडा सरकार की तरह भारत सरकार भी अपने नागरिकों की finencily मदद करे 🤝 सही निर्णय नहीं तो सभी के जान का खतरा बढ़ जाए गा कुछ तब्लीगी लोगों के कारण पूरे देश क्यों सजा दी रही है जिन्होनें गुनाह किया उसे सजा दी जाय 2.3 हजार लोगों के लिऐ 130 करोड़ आम जनता को सजा दी जा रही है पहले 7दिन 144 फिर 21 दिन लाकडाउन से वैसे भी देश व व्यापार 10 साल पीछे चला गया है

कोरोना वायरस: देश में 149 लोगों की मौत, संक्रमित लोगों का आंकड़ा पांच हज़ार के पारदुनिया भर में कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1,431,900 हो गई है और 82,172 लोगों की मौत हो चुकी है. वायरस के केंद्र रहे चीन के वुहान शहर में 73 दिन बाद लॉकडाउन हटा. ईरान में संसद खोली गई. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री दूसरे दिन भी आईसीयू में. एकबूंद बूंद से घट भर जाता

निसर्ग: मुंबई में 129 साल के बाद आएगा चक्रवाती तूफ़ान दिल्ली BJP अध्यक्ष पद से मनोज तिवारी की छुट्टी, आदेश कुमार गुप्ता को मिली जिम्मेदारी कोरोना अपडेटः प्रधानमंत्री मोदी बोले, कोरोना महामारी विश्वयुद्ध के बाद आया सबसे बड़ा संकट है - BBC Hindi BJP विधायक ने सोनू सूद से मांगी मदद तो अलका लांबा ने जमकर लताड़ा, कहा- देश में इन्हीं की सरकार फिर भी मदद, शर्म हो तो... लॉकडाउन: राम माधव के अनुसार 90 फ़ीसदी प्रवासी मज़दूर अपने काम की जगह पर टिके हैं पुलिस चीफ़ की ट्रंप को नसीहत 'आप कोई ढंग की बात नहीं कर सकते तो मुँह बंद रखिए' सीमा पर अच्छी खासी तादाद में चीन के लोगः राजनाथ सिंह BHIM ऐप यूज़र्स सावधान, 70 लाख भारतीयों के निजी डेटा पर सेंध लगने का दावा पानी में खड़े तीन दिन मौत का इंतेज़ार करती रही गर्भवती हथिनी मनोज तिवारी हटे, आदेश गुप्ता को मिली दिल्ली भाजपा की कमान राहुल का ट्वीट- क्या भारतीय सीमा में नहीं घुसा कोई चीनी सैनिक? स्पष्ट करे सरकार