देश में तेजी से बढ़ रहा टीकाकरण का आंकड़ा, बूस्टर डोज को लेकर सरकार पर दबाव

देश में तेजी से बढ़ रहा टीकाकरण का आंकड़ा, बूस्टर डोज को लेकर सरकार पर दबाव #Covid19 #BoosterDoseVaccination

Covid 19, Boosterdosevaccination

27-11-2021 08:10:00

देश में तेजी से बढ़ रहा टीकाकरण का आंकड़ा, बूस्टर डोज को लेकर सरकार पर दबाव Covid19 BoosterDoseVaccination

यूरोपीय संघ का मानना है कि टीके की दोनों डोज लेने के नौ महीने के बाद किसी व्यक्ति के शरीर में कोरोना वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता खत्म हो जाती है यानी उसके बाद वह फिर से संक्रमित होकर नए सिरे से संक्रमण फैलाने का कारण बन सकता है।

कोरोना के नए वैरिएंट के सामने आने के बाद तीसरी लहर की बढ़ती आशंका के बीच टीके की बूस्टर डोज लगाने की अनुमति देने के लिए सरकार पर दबाव बढ़ गया है। इसके साथ ही टीके के असर की अवधि को नौ महीने तक सीमित करने के यूरोपीय देशों के प्रस्ताव ने भारतीयों के लिए बेरोकटोक आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए बूस्टर डोज की जरूरत बढ़ा दी है। सरकार अभी तक सभी वयस्कों को दो डोज देने को अपनी प्राथमिकता बता रही है, लेकिन देश में बड़ी संख्या में टीके की उपलब्धता को देखते हुए बूस्टर डोज को इसमें रुकावट के रूप में नहीं देखा जा सकता है। देश में कोविड-19 वैक्सीनेशन का आंकड़ा 120.96 करोड़ के पार पहुंच गया। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार शुक्रवार शाम 7 बजे तक कोविड वैक्सीन की 65 लाख से ज्यादा डोज लगाई गई हैं।

यह भी पढ़ेंदरअसल, कोरोना के बढ़ते संक्रमण और उसके कारण लगाए जा रहे प्रतिबंधों के विरोध में लोगों के प्रदर्शन को देखते हुए यूरोपीय संघ ने टीकाकरण के आधार पर बेरोकटोक आवाजाही के लिए नए नियम बनाने की जरूरत बताई है। प्रस्तावित नियमों में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से मान्यता प्राप्त कोरोना रोधी टीके की समय सीमा नौ महीने तक सीमित रखने को कहा गया है। जाहिर है नौ महीने की समय सीमा तय होने के कारण मार्च तक दोनों डोज लेने वाले दिसंबर के बाद यूरोपीय देशों की यात्रा नहीं कर पाएंगे। इसी तरह अप्रैल तक दोनों डोज लेने वालों पर जनवरी के बाद और मई तक दोनों डोज लेने वालों पर फरवरी के बाद यूरोप में बेरोकटोक यात्रा पर प्रतिबंध लग जाएगा और धीरे-धीरे ऐसे लोगों की संख्या बढ़ती चली जाएगी। वैसे भी ऐसे लोगों की संख्या ज्यादा है जिन्हें दोनों डोज लगे छह से सात महीने का वक्त हो चुका है।

यह भी पढ़ेंयूरोप के प्रस्ताव पर अधिकारियों की चुप्पीयूरोपीय संघ के नए प्रस्ताव पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी साफ-साफ कुछ भी कहने से बचते रहे। उनका कहना था कि टीकाकरण का फैसला एनटागी (नेशनल टेक्निकल एक्सपर्ट ग्रुप आन इम्युनाइजेशन) लेता है। एनटागी यदि बूस्टर डोज की अनुशंसा करता है तो सरकार उस पर विचार कर सकती है। दैनिक जागरण ने इस संबंध में एनटागी के प्रमुख डा. एनके अरोड़ा से बात करने की कोशिश की, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका। headtopics.com

Uttarakhand School Reopen News: 31 जनवरी से खुलेंगे 10वीं से 12वीं तक के स्कूल, उत्तराखंड सरकार का बड़ा फैसला

यह भी पढ़ेंबूस्टर डोज पर एनटागी की बैठक अगले हफ्तेअगले हफ्ते बूस्टर डोज और बच्चों के टीकाकरण को लेकर एनटागी की बैठक प्रस्तावित है, लेकिन बताया जा रहा है कि उसमें सिर्फ गंभीर बीमारी से ग्रस्त वयस्कों को बूस्टर डोज देने और गंभीर बीमारी से ग्रस्त बच्चों के टीकाकरण को लेकर विचार किया जाएगा।

आइसीएमआर में एक राय नहींदरअसल, बूस्टर डोज को लेकर भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) का रवैया भी समझ से परे रहा है। इसके महानिदेशक डा. बलराम भार्गव ने पिछले दिनों ने यहा था कि बूस्टर डोज का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। हालांकि, आइसीएमआर के पूर्व महानिदेशक डा. एके गांगुली का कहना है कि अगर टीके की उपलब्धता हो तो बूस्टर डोज लगाई जा सकती है, खासकर बुजुर्गो और स्वास्थ्यकर्मियों को क्योंकि उन्हें खतरा ज्यादा है।

यह भी पढ़ेंदुनिया के कई देश लगा रहे बूस्टर डोजदुनिया के कई देश बूस्टर डोज लगा रहे हैं और देश के विज्ञानी भी इस पर जोर दे रहे हैं। टीके या संक्रमण के बाद बनने वाली एंटीबाडी के तीन महीने में खत्म हो जाने को इसका सबसे बड़ा आधार बता रहे हैं। जाहिर है तीसरी लहर के पहले बूस्टर डोज लोगों को कोरोना से बचाने में अहम साबित हो सकती है।

Mouni Roy Wedding: बंगाली रीति-रिवाजों के साथ मौनी रॉय ने की शादी, देखिए Wedding Album

और पढो: Dainik jagran »

10तक: पश्च‍िमी यूपी की चुनावी जंग बीजेपी के ल‍िए क्यों बनी चुनौती?

चुनाव यूं तो कभी भी किसी दल के लिए हलवा नहीं होता, लेकिन 2014 के बाद देश में देखा गया कि बीजेपी राज्य दर राज्य आसानी से चुनाव जीतने लगी. यूपी में तो तीन चुनाव बीजेपी ने तमाम चुनौतियों के बाद जीत लिया. लेकिन क्या इस बार बहुत कठिन है डगर चुनाव की? इस सवाल के पीछे वजह कुछ इस प्रकार हैं. जैसे- पश्चिमी यूपी में पार्टी की रणनीति संभाल रहे अमित शाह कैराना से लेकर मथुरा तक गलियों में प्रचार कर रहे हैं. वोटर के घर-घर जाकर वोट मांग रहे हैं. दिल्ली में जाटों के साथ बैठक करते हैं. जाटों से कहते हैं कि डांटना है तो घर आ जाइए लेकिन वोट गलत जगह मत डालिए. इन सबकी नौबत क्यों आई है? और पढो >>

Sirf medicine bechane ke liye hai drug mafia ka Kamal hai *भारत की चुनाव रैलियों की कसम* 'ओमिक्रॉन' अफ्रीका वायरस तुझे इस बार देश में घुसने नहीं देंगे

Corona new Variant: दक्षिण अफ्रिका में मिले कोरोना के नए Variant से दुनिया में मचा हड़कंप !कोरोना के नए वेरिएंट की खबर से पूरी दुनिया में एक बार फिर से दहशत फैल गई है। कोरोना का यह नया रूप दक्षिण अफ्रिका में मिला है, जिसे B.1.1.529 नाम दिया गया है।...

हिमालय के नीचे प्लेटों के खिसकने से उत्तराखंड में ग्लेशियर ने बदला था रास्ताः स्टडीहिमालय की गोद में स्थित उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में करीब 10 से 20 हजार साल पहले टेक्टोनिक हलचल की वजह से एक बड़े ग्लेशियर ने अपना रास्ता बदल लिया. ये कोई एक बार में होने वाली घटना नहीं थी. टेक्टोनिक हलचल और जलवायु परिवर्तन की वजह से धीरे-धीरे एक अनजान ग्लेशियर ने रास्ता बदलकर पहाड़ के दूसरी तरफ मौजूद ग्लेशियर का हाथ थाम लिया. इस समय इस अनजान ग्लेशियर की लंबाई 5 किलोमीटर है.

कोरोना के नए वैरियंट के कारण भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरे पर मंडराए संकट के बादलसाउथ अफ़्रीका में इस सप्ताह कोविड-19 का नया प्रकार सामने आया है। साउथ अफ़्रीका को यात्रा करने वालों के लिए यूके की लाल सूची में जोड़ा जाना है और अन्य देशों से यात्रा प्रतिबंध भी लगने की उम्मीद है।

नीट पीजी काउंसलिंग में हो रही देरी से डाक्टर नाराज, कल से करेंगे देशव्यापी हड़तालनेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट पोस्टग्रेजुएट (NEET PG) काउंसलिंग 2021 में हो रही देरी से नाराज फेडरेशन आफ रेजिडेंट डाक्टर्स एसोसिएशन (FORDA) ने शनिवार से देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। सुप्रीम कोर्ट में ईडब्ल्यूएस कोटा मानदंड पर निर्णय लंबित है। इसी वजह से देरी हो रही है।

क्या डेल्टा से ज़्यादा ख़तरनाक हो सकता है कोरोना का नया वेरिएंट, भारत में भी अलर्टदुनियाभर में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट को लेकर चिंता जताई जा रही है। इसे अब तक का सबसे ज़्यादा म्यूटेशन वाला वेरिएंट बताया जा रहा है। इसमें इतने ज़्यादा म्यूटेशन हैं कि इसे एक वैज्ञानिक ने डरावना बताया है तो दूसरे वैज्ञानिक ने इसे अब तक सबसे ख़राब वेरिएंट कहा है।

यूपी चुनाव 2022: फिरोजाबाद में चूड़ी कारखाने के मजदूरों से चर्चायूपी चुनाव 2022: फिरोजाबाद में चूड़ी कारखाने के मजदूरों से चर्चा UPElections2022 UPElectionWithAmarUjala votekaro वोटकरो Raj_CMO_कंप्यूटर_भर्ती_जारी_करवाओ कंप्यूटर_अनुदेशक_भर्ती_विज्ञप्ति_जारी_करो ⛔आप भी किसी बच्चे के अभिभावक हैं ⛔अपने बच्चों को कंप्यूटर शिक्षा दीजिए ⛔'राजस्थान की प्रथम IT क्रान्ति' में आइए हमारा साथ दीजिए। 🙏🙏 ashokgehlot51 GovindDotasra RajGovOfficial DrBDKallaINC 10 Raj_CMO_कंप्यूटर_भर्ती_जारी_करवाओ कंप्यूटर_अनुदेशक_भर्ती_विज्ञप्ति_जारी_करो ♦️कंप्यूटर अनुदेशक भर्ती की विज्ञप्ति जारी करें ♦️कंप्यूटर शिक्षक ग्रेड 1व 2 के पद सृजित करें ♦️राजस्थान को कंप्यूटर साक्षर बनाएं। 🙏🙏 ashokgehlot51 GovindDotasra RajGovOfficial DrBDKallaINC 11