Lockdown, पिग्मी हॉग, स्वाइन फ्लू, अफ्रीकी स्वाइन फ्लू, असम, संक्रमण, वायरस

Lockdown, पिग्मी हॉग

दुनिया का सबसे छोटा और दुर्लभ सूअर लॉकडाउन में | DW | 06.08.2020

#Lockdown में है दुनिया का सबसे छोटा और दुर्लभ सूअर. पिग्मी हॉग्स कहलाने वाला यह विश्व का सबसे छोटा और दुर्लभ सूअर है.

09-08-2020 20:02:00

Lockdown में है दुनिया का सबसे छोटा और दुर्लभ सूअर. पिग्मी हॉग ्स कहलाने वाला यह विश्व का सबसे छोटा और दुर्लभ सूअर है.

पिग्मी हॉग ्स कहलाने वाले विश्व के सबसे छोटे और दुर्लभ सूअर की किस्म को भी एक वायरस के कारण लॉकडाउन में रखना पड़ रहा है. इसे कोरोना वायरस नहीं बल्कि अफ्रीकी स्वाइन फ्लू वायरस से खतरा है.

इबोलाकोविड-19 की तरह यह भी एक वायरस से फैलता है और संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने वाले लोग बीमार हो जाते हैं. इबोला के अधिकतर मामले अफ्रीका के गरीब इलाकों में देखे गए हैं.डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेलस्सा बुखारयह बुखार चूहों के कारण फैलता है. चूहों के मल या मूत्र के संपर्क में आने से इंसान बीमार हो सकता है. बीमार व्यक्ति के शारीरिक द्रव से यह दूसरों में फैल सकता है. बच्चों पर इसका ज्यादा बुरा असर होता है.

संसद के बाद अब कृषि बिल को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, विपक्ष की अपील बेअसर क्या महाराष्ट्र में सियासत का नया चैप्टर लिखा जा रहा है? गांजा वाकई इतना ख़तरनाक है या जांच एजेंसियों ने इसे घातक बना दिया है? - BBC News हिंदी

डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेसीसीएचएफक्रीमियन कॉन्गो हेमोरहेजिक फीवर उन परजीवियों के काटने से होता है जो इंसानों, जानवरों या पक्षियों के शरीर पर रह कर उनका खून चूस कर जीते हैं. यह बीमारी भी इंसानों से इंसानों में फैलती है. मृत्यु दर बहुत ज्यादा होती है.

डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेपीला बुखारअर्बन येलो फीवर पीले बुखार की सबसे खतरनाक किस्म है. इस बीमारी का टीका विकसित किया जा चुका है. इस लिहाज से इसका खतरा बाकी बीमारियों की तुलना में कम है.डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे से

जीकाजीका का बुखार एडीस मच्छर के काटने से होता है. यह मच्छर दिन में काटता है. गर्भवती महिलाओं में जीका होने से मां और बच्चे दोनों की जान को खतरा होता है. इसका कोई टीका उपलब्ध नहीं है.डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेचिकनगुनियायह बीमारी भी एडीस मच्छर के काटने से ही फैलती है. रिहाइशी इलाकों में इसके फैलने का खतरा ज्यादा होता है. इस बीमारी के लक्षण डेंगू जैसे होते हैं. भारत में हर साल इसके कई मामले सामने आते हैं.

डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेजानवरों से फैलने वाले फ्लूइसमें एवियन और स्वाइन फ्लू शामिल हैं. 2009 में स्वाइन फ्लू को वैश्विक महामारी (पैंडेमिक) घोषित किया गया था. यह दुनिया भर में फैला था लेकिन कोरोना वायरस की तुलना में काफी कम मामले सामने आए थे.

डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेमौसमी फ्लूयह हर साल मौसम बदलने के साथ होने वाला फ्लू है. यह वायरस के कारण होता है और इसकी दो किस्में होती हैं: ए और बी. बड़ी उम्र के लोगों को इससे बचने के लिए सालाना टीका लेने के लिए कहा जाता है.

डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेफ्लू महामारीअगर किसी ऐसे वायरस के कारण फ्लू होता है जिसके खिलाफ लोगों के शरीर में प्रतिरोधक क्षमता का विकास नहीं हो पाता है तो वह वैश्विक महामारी की शक्ल ले सकता है. और बीमारी को समझने और टीका विकसित करने में काफी समय लग सकता है.

कृषि बिल पर देश भर में किसानों का विरोध, तस्वीरों में देखिए - BBC News हिंदी लखनऊ: आठ साल से भाई कर रहा था नाबालिग बहन का रेप, छुपाती रही मां बिहार चुनावः गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में शामिल हुए - BBC News हिंदी

डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेमर्समिडल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम एक तरह के कोरोना वायरस के कारण होता है. यह बीमारी ऊंटों के कारण फैलती है. 2012 से 2015 के बीच यह बीमारी 24 देशों में फैली और 400 लोगों की जान गई.डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे से

हैजासाफ सफाई की कमी और गंदे पानी से हैजा फैलता है. इसमें बुखार नहीं होता. मरीज का पेट खराब होता है, दस्त के कारण कमजोरी होती है और कुछ मामलों में तो कुछ घंटों में ही जान चली जाती है.डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेमंकी पॉक्सयह उसी किस्म के वायरस के कारण फैलता है जिससे चेचक होता है. अपने नाम से विपरीत यह बंदरों से नहीं, चूहों के कारण फैलता है. जानवरों से इंसानों में पहुंचने के बाद इंसानों के बीच संक्रमण फैलने लगता है.

डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेप्लेगयह छोटे जानवरों में मिलने वाले बैक्टीरिया से फैलता है. ज्यादातर चूहे इसके लिए जिम्मेदार होते हैं. प्लेग की सबसे आम किस्म है ब्यूबोनिक प्लेग जो इंसान से इंसान में नहीं फैलता है.डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे से

लेप्टोस्पायरोसिसइस बीमारी के बारे में कम जानकारी के कारण अकसर डॉक्टर इसे पहचानने में गलती करते हैं. अगर वक्त रहते ही सही एंटीबायोटिक दिए जाएं तो इलाज मुमकिन है.डब्ल्यूएचओ ने आगाह किया था इन 15 बीमारियों के खतरे सेमेनिंगनाइटिसमेनिंगोकोकल मेनिंगनाइटिस दिमाग पर असर करता है. इस बीमारी का मृत्यु दर 50 प्रतिशत है. एंटीबायोटिक दे कर इसे रोका ना जाए तो यह दूसरों में भी फैल सकती है.

और पढो: DW Hindi »

Bollywood Drugs Connection: दीपिका से पूछताछ दूर तलक जाएगी! देखें दंगल

ड्रग्स केस में फंसी बॉलीवुड की हीरोइन नंबर वन दीपिका पादुकोण से आज एनसीबी ने साढ़े 5 घंटों तक पूछताछ की है. पूछताछ के बाद दीपिका अपने घर पहुंच गई हैं और आज की पूछताछ पर वो अपनी लीगल टीम से बातचीत कर सकती हैं. उधर सारा अली खान और श्रद्धा कपूर की एनसीबी के सामने पेशी हो रही है. सूत्रों के मुताबिक सारा ने ड्रग्स सेवन से इनकार किया है लेकिन सुशांत सिंह राजपूत से नजदीकी को माना है. उनके साथ पार्टियां करने की बात मानी है. उधर आज करण जौहर के प्रोडक्शन हाउस के पूर्व अधिकारी क्षितिज प्रसाद की गिरफ्तारी हो गई. इसीलिए आज हम पूछ रहे हैं कि दीपिका से पूछताछ दूर तलक जाएगी? देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकती हैं ये 21 दवाएं, स्टडी में दावा - lifestyle AajTakदुनिया भर में कोरोना वायरस की वैक्सीन के ट्रायल जारी हैं. इस बीच वैज्ञानिकों को एक और सफलता हाथ लगी है. वैज्ञानिकों ने 21 ऐसी इसका उपचार सिर्फ होम्योपैथ और आयुर्वेद से ही है जो भी अपने देश की पुरानी पद्धति को अपनाए गा खान पान और सूर्योदय से पहले उठ कर व्यायाम करेंगा वो हमेशा ऐसे बीमारियों से दुर रहेगा जो भी बाहर का बना खाना चाट पिज्जा बर्गर मौगी चाट मिठाई इत्यादि खायेगा वो 100% बीमार होगा Hajaro logo ki roj jaan jaa rahi hai or koyi much nahi Kar paa Raha hai kab aayegi Corona ki sahi dawayi

दिल्ली में कोरोना वायरस के 1404 नए मामले आए सामने, 16 लोगों की मौतदिल्ली में शनिवार को कोरोना वायरस के 1404 नए मामले सामने आए हैं। जबकि 16 लोगों की मौत हो चुकी है। इसी के साथ कुल संक्रमितों

बिना लक्षणों वाले कोरोना पॉजिटिव में भी होते हैं उतने ही वायरस | DW | 07.08.2020जिन लोगों में कोरोना वायरस होने के बावजूद बीमारी के कोई लक्षण नहीं दिखते, उनमें भी 'वायरल लोड' कम नहीं होता. एक स्टडी से पता चला है कि ऐसे लोगों के नाक, गले और फेफड़ों में लक्षण वाले मरीजों के बराबर ही वायरस होते हैं.

कोरोना वायरस के चलते अंटार्कटिका में चल रहे अहम वैज्ञानिक प्रयोग थमेइस महादेश में चलने वाले सबसे बड़े वैज्ञानिक शोधों को एक साल तक के लिए रोका गया है.

कोरोना वायरस ट्रेंड: महामारी का नहीं दिख रहा कोई अंत | DW | 07.08.2020कुछ देश लॉकडाउन में लगातार ढील दे रहे हैं, तो दूसरे देशों से नए मामलों की रिपोर्ट आ रही है. वैश्विक स्तर पर मिल रहे आंकड़े दिखाते हैं कि महामारी का फिलहाल अंत नहीं दिख रहा. डॉयचे वेले लेकर आया है आपके लिए ताजा आंकड़े.

सिंगापुर में कोरोना वायरस के टीके का प्रारंभिक स्तर का परीक्षण शुरूसिंगापुर में कोविड-19 के टीके के लिए प्रारंभिक स्तर का क्लीनिकल परीक्षण शुरू हो गया है और अगले सप्ताह ट्रायल में शामिल