Duniya Mere Aage, Jansatta Opinion, Sister İn Law & Mother İn Law, Father İn Law & Sister İn Law

Duniya Mere Aage, Jansatta Opinion

दुनिया मेरे आगेः सांध्य बेला में

दुनिया मेरे आगेः सांध्य बेला में

13.7.2019

दुनिया मेरे आगेः सांध्य बेला में

ग्रामीण इलाकों के समाज में हमने अक्सर देखा है कि माता-पिता आम, कटहल, लीची, जामुन और अमरूद जैसे फलदार पेड़ अपनी भावी पीढ़ी, यानी बच्चों को ध्यान में रख कर ही लगाते हैं। उन्हें लगता है कि जब हमारे बच्चे बड़े होंगे, तब तक ये पेड़ भी बड़े हो जाएंगे और फल देने लगेंगे।

जनसत्ता July 13, 2019 2:37 AM सच यह है कि माता-पिता अपने बच्चे को पेट काट कर यानी भूखे रह कर भी पढ़ाते-लिखाते हैं और एक अच्छा इंसान बनाना चाहते हैं। इसके लिए वे हर संभव त्याग करते हैं। हालांकि इस क्रम में वे कई बार बच्चों को विदेश भेज देते हैं, जहां जाने के बाद उन्होंने मां-बाप की सुध तक नहीं ली। कई बार तो मां-बाप के मरने के कई दिनों बाद विदेश में रह रहे बच्चों को इसकी खबर मिलती चंदन कुमार चौधरी सोशल मीडिया पर हाल में एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक बहू अपनी बुजुर्ग सास को पीटती दिख रही थी। यह घटना हमारे जेहन में कई सवाल पैदा करती है कि क्या हमारे समाज का युवा अपने बुजुर्गों को लेकर इतना संवदेनहीन होता जा रहा है कि उनकी पिटाई भी करने में नहीं हिचकता है! इस तरह की खबरें अक्सर सामने आती रहती हैं। हाल ही में एक और खबर सामने आई थी, जिसमें लखनऊ के एक बुजुर्ग दंपति ने अपनी बहू के अत्याचार से परेशान होकर आशा ज्योति केंद्र में न्याय की गुहार लगाई थी। दंपति ने बहू पर चप्पल से मारने का आरोप लगाया था। ऐसी घटनाओं को देखने और सुनने के बाद रूह कांप जाती है। गाहे-बगाहे मीडिया और सोशल मीडिया के बहाने सामने आने वाली ये खबरें लोगों के लिए अब सामान्य-सी घटना बन गई हैं। हालांकि ये घटनाएं सामान्य नहीं हैं, बल्कि चिंता का विषय हैं। ये दर्शाती हैं कि हमारा समाज किस तरह से बुजुर्गों के प्रति इतना असंतुष्ट और असहिष्णु होता जा रहा है कि अपने माता-पिता तक को बर्दाश्त करने के लिए तैयार नहीं है और उसे प्रताड़ित करने के अलावा कई बार पिटाई भी करने से संकोच नहीं करता। सवाल है कि इस तरह की संवेदनहीनता आज के बच्चों के भीतर कहां से आई? जबकि यह जगजाहिर है कि सभी माता-पिता अपने बच्चों को बहुत प्यार करते हैं, उनका हमेशा खयाल रखते हैं। वर्तमान के साथ-साथ भविष्य में उनके समक्ष आने वाली चुनौतियों और परेशानियों से बचाने के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहते हैं। लेकिन अगर कोई बच्चा बड़ा होकर अपने मां-बाप के साथ अमानवीय व्यवहार करे तो यह हमारे समूचे सामाजिक विकास पर एक सवालिया निशान है। यों शहरों में रहने वाले माता-पिता भी अपने बच्चों का उतना ही खयाल रखते हैं। उन्हें अच्छी शिक्षा देने से लेकर आमतौर पर उनकी हर मांग को पूरा करने की कोशिश करते हैं। इसके बावजूद अगर बच्चे अपने माता-पिता के ऐसे समय में कृतघ्नता करते हैं, संवेदनहीन बर्ताव करते हैं तो इस पर हैरानी होगी। सच यह है कि माता-पिता अपने बच्चे को पेट काट कर यानी भूखे रह कर भी पढ़ाते-लिखाते हैं और एक अच्छा इंसान बनाना चाहते हैं। इसके लिए वे हर संभव त्याग करते हैं। हालांकि इस क्रम में वे कई बार बच्चों को विदेश भेज देते हैं, जहां जाने के बाद उन्होंने मां-बाप की सुध तक नहीं ली। कई बार तो मां-बाप के मरने के कई दिनों बाद विदेश में रह रहे बच्चों को इसकी खबर मिलती है। आखिर ऐसी शिक्षा और शिक्षित होने का क्या फायदा जब हम मानवता का पहला पाठ ही भूल जाएं और अपने माता-पिता तक को याद न रखें। जब माता-पिता वृद्ध हो जाते हैं और वे खुद से अपनी देखभाल करने में सक्षम नहीं होते, तब हम उन्हें बोझ मानने लगें या उनकी अनदेखी या पिटाई करें, यह अमानवीय तो है ही, कानूनन भी अपराध है। ऐसी घटनाएं सिर्फ अक्षम या लाचार माता-पिता के साथ ही देखने को नहीं मिलतीं, बल्कि पेंशनभोगी अभिभावकों के साथ भी इस तरह की घटनाएं सामने आती रहती हैं। कई मामले ऐसे देखने में आते हैं, जिनमें अभिभावक अपने बच्चों को अपनी पूरी पेंशन दे देते हैं, लेकिन संतान उन्हें दो वक्त की खुराक तक के लिए तरसाती है। हमें नहीं भूलना चाहिए कि माता-पिता वटवृक्ष की तरह होते हैं, जिनकी छाया में बच्चे फलते-फूलते हैं और उनके पास आकर सुकून का अनुभव करते हैं। इन बातों को भूल कर अगर कोई अपने माता-पिता के प्रति ही दुर्व्यवहार करने लगे तो ऐसी संतान निश्चित रूप से इंसानियत के लिए बोझ है। जवानी के नशे में संतान को यह नहीं भूलना चाहिए कि हर चीज का हिसाब होता है। कभी वे भी वृद्धावस्था में पहुंचेंगे और उनसे ही सीखा हुआ व्यवहार अगर उनके बच्चे भी करने लगें तो पता नहीं उन पर गुजरेगी! आखिर हम कैसे समाज में जी रहे हैं, किस तरह के समाज का निर्माण कर रहे हैं! हमारे देश में बुजुर्गों का हमेशा से सम्मान रहा है। हमें नहीं भूलना चाहिए कि ऐसी घटनाओं का प्रभाव तेजी से फैलता है। ऐसे में अगर समाज में कोई अपने बुजुर्ग अभिभावकों के साथ कोई दुर्व्यवहार करता है तो निश्चित रूप से उसे रोका जाना चाहिए। अपने माता-पिता के खिलाफ बेबात ऐसा व्यवहार करने वाले लोगों का सामाजिक बहिष्कार होना चाहिए, ताकि वे रिश्तों की गरिमा और अहमियत को समझ सकें। Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App ये खबरें पढ़ीं क्‍या? और पढो: Jansatta

दिल्ली में BJP की करारी हार की RSS ने बताई वजह- 'हर बार मदद नहीं कर सकते मोदी-शाह'



डोनल्ड ट्रंप के सलाहकार रोजर स्टेन को 40 महीने की जेल

देशभर में महाशिवरात्रि की धूम, मंदिरों में उमड़ा शिव भक्तों का सैलाब



'पूर्वोत्तर को 2024 तक उग्रवाद से आज़ादी दिला देंगे'

गीतकार जावेद अख्तर ने वारिस पठान को लगाई लताड़, मुस्लिम लीग के बारे में दिया यह बयान!



क्या दुनिया फिर एक नए युद्ध की तरफ़ बढ़ रही है?

लखनऊ में दिनदहाड़े इंजीनियरिंग के छात्र की चाकू मारकर हत्या, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात



मोदी सरकार की ज़हरीली हवा से जंग, पर्यावरण मंत्रालय के 100 दिन के एजेंडे में आबोहवा को खास तरजीहप्रदूषण के मामले में दिल्ली सहित उत्तर भारत के तमाम शहर पूरी दुनिया में प्रदूषण के नक्शे में सबसे ऊपर हैं. आम दिनों में ज़हर तो सांसों से शरीर में जा ही रहा होता है, पर सर्दी के मौसम में तो सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है. लगता है मोदी सरकार ने इस बात को अब गंभीरता से लिया है और पर्यावरण मंत्रालय अपने 100 दिनों के एजेंडे के तहत आबोहवा आखिर कैसे सुधरे, इस पर एक मसौदा तैयार करने में जुट गया है. जहरीले लोगों से भी जंग है मोदी सरकार को, चले है छल में छेद जो करने । टाइटल अच्छा है . मोदी सरकार की जहरीली हवा .😀😀 बकवास ₹ndtv I hate this chanel

Karnataka crisis | कर्नाटक का संकट: कई विधायकों का इस्तीफा, पीएम मोदी और शाह पर आरोपनई दिल्ली। कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस की सरकार खतरे में है। बताया जा रहा है कि लगभग दर्जन भर विधायकों ने अपना इस्तीफा दे दिया है। भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ने कहा कि एक दर्जन से ज्यादा विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस-जेडी-एस सरकार पतन की ओर अग्रसर है। अगर राज्यपाल हमें विश्वास मत परीक्षण करने का निर्देश देते हैं तो हम तैयार हैं। गौड़ा ने कहा, नंबर हमारे पक्ष में हैं। हमारे पास 107 विधायक हैं। इस बीच, सभी विधायकों का अमित शाह से मिलने की खबर भी है। शाह से मिलकर ही तय होगा कर्नाटक का भविष्य।

कांग्रेस में नेतृत्व संकट जल्द हो सकता है खत्म, पार्टी चुन सकती है कार्यवाहक अध्यक्षआम चुनाव में पार्टी की हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. भक्तो तुम्हे उल्ला टाला माफ नही करेगा, एक मेंटल बच्चे का भविष्य लो ₹e लगा दिया🤣😂 RahulGandhi बीजेपी के लिए दुख की बात हैं

एक और एक ग्यारह: राम मंदिर पर मध्यस्थता पर सुप्रीम कोर्ट की नजरराममंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 25 जुलाई को होगी. मामला मध्यस्थ पैनल को लेकर है. कोर्ट का मानना है कि पहले मध्यस्थ पैनल अपनी रिपोर्ट पेश कर दें. पक्षकार गोपाल विशारद की मांग थी कि चूंकि मध्यस्थता से बात नहीं बन रही है तो कोर्ट दखल दे, अब कोर्ट रिपोर्ट मिलने के बाद तय करेगा कि मध्यस्था जारी रहेगी या नहीं. हिंदू पक्ष की तरफ से वकील रंजीत कुमार ने कहा है कि 1950 से ये मामला चल रहा है लेकिन अभी तक सुलझ नहीं पाया है. मध्यस्थता कारगर नहीं रही है इसलिए अदालत को तुरंत फैसला सुना देना चाहिए. पक्षकार ने कहा कि जब ये मामला शुरू हुआ था तब वह जवान थे, लेकिन अब उम्र 80 के पार हो गई है. लेकिन मामले का हल नहीं निकल रहा है. ashu3page MinakshiKandwal nehabatham03 good ashu3page MinakshiKandwal nehabatham03 priyankagandhi why Your own mp and mla not like Congress then how mango people like you ashu3page MinakshiKandwal nehabatham03 Obviously.....जिसकी लाठी उसकी भैंस 🤔

उपचुनाव से ठीक पहले बड़े मुश्किल में फंस सकते हैं अखिलेश यादव और मायावती, जानें- पूरा मामलाउत्तर प्रदेश में अहम उपचुनाव से पहले विपक्ष के दो प्रमुख नेता मायावती और अखिलेश यादव बड़े संकट में फंसते दिख रहे हैं, क्योंकि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) भष्टाचार के दो नए मामलों की जांच कर रही है, जिनमें ये दोनों नेता संलिप्त हैं. प्रदेश में 1,100 करोड़ रुपये के चीनी मिल घोटाले में नौकरशाहों और राजनेताओं की सांठगांठ की पोल खुल रही है. सरकारी संपत्तियों की बिक्री में बसपा सुप्रीमो मायावती के पूर्व सचिव नेतराम फंसे हैं, जबकि कई करोड़ के रेत खनन घोटाले का तार समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के सहयोगी गायत्री प्रजापति और छह नौकरशाहों से जुड़ा है. मने फिर से CBI कास ये जाँच सीबीआई करती तो ज्यादा अच्छा लगता लेकिन ये जाँच तो मोदी जी करा रहे हैं। चुनाव को खराब करने के लीये मुद्दा भटकाने के किये बेरोज़गारी नवजवानों और किसानों महिलाओं की सुरक्षा महंगाई डीज़ल पेट्रोल गैस के दाम दाऊद इब्राहिम विजय माल्या

गोवा: 10 कांग्रेस विधायक हुए BJP में शामिल, कल मंत्रिमंडल में मिल सकती है जगहबुधवार को एक बहुत बड़े राजनैतिक घटनाक्रम में बीजेपी ने कांग्रेस में सेंध लगाते हुए उसे दो फाड़ कर दिया और कांग्रेस के दस विधायकों को अपने में शामिल कर लिया. भारत माता की जय 👍✌👌💐 Kya Yah bjp ki uplabdhi mani jayegi? सारे सेक्युलर संख्या बढ़ाने में लगे हैं,कम्युनल क्या करें मजबूरी है वरना भारत इस्लामी स्टेट बन जायेगा, एजाज ने बताया ही 40 करोड़ हो गये हैं



नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन

हम 15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं: AIMIM नेता का भड़काऊ बयान

Gold in Sonbhadra: सोनभद्र की पहाड़ियों में दबा हो सकता है 3 हजार टन सोना, एक्‍सपर्ट टीम कर रही है सर्वे - three thousand gold estimated in sonbhadra mountains | Navbharat Times

भारत ने हमारे साथ बहुत अच्छा सलूक नहीं कियाः ट्रंप

ओवैसी की सभा में एक लड़की ने लगाए 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, AIMIM चीफ ने दी सफाई

नागरिकता संशोधन कानून चिंताजनक: अमरीकी आयोग

राष्ट्रपति मैक्रों ने विदेशी इमामों के फ्रांस आने पर लगाया बैन, कहा- ये कट्टरपंथ फैलाते हैं

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

13 जुलाई 2019, शनिवार समाचार

पिछली खबर

बेबाक बोल- अमर बेल

अगली खबर

राजपाटः उलट पुलट
दिल्ली में BJP की करारी हार की RSS ने बताई वजह- 'हर बार मदद नहीं कर सकते मोदी-शाह' डोनल्ड ट्रंप के सलाहकार रोजर स्टेन को 40 महीने की जेल देशभर में महाशिवरात्रि की धूम, मंदिरों में उमड़ा शिव भक्तों का सैलाब 'पूर्वोत्तर को 2024 तक उग्रवाद से आज़ादी दिला देंगे' गीतकार जावेद अख्तर ने वारिस पठान को लगाई लताड़, मुस्लिम लीग के बारे में दिया यह बयान! क्या दुनिया फिर एक नए युद्ध की तरफ़ बढ़ रही है? लखनऊ में दिनदहाड़े इंजीनियरिंग के छात्र की चाकू मारकर हत्या, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात DNA ANALYSIS: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पहली भारत यात्रा का संपूर्ण विश्लेषण कीवी क्रिकेटर का कमाल, तीनों फॉर्मेट में 100 मैच खेलने वाला दुनिया का पहला खिलाड़ी बना Arth: A Culture Fest : आज से दिल्‍ली में दिखेगी भारत की संस्‍कृति की झलक राशिफल 21 फरवरी: महाशिवरात्रि पर आज इन राशिवालों पर बरसेगी कृपा, जानें किसे होगा बड़ा लाभ अखिलेश का योगी पर हमला, बोले- प्रदेश की बड़ी आबादी दहशत में, क्या यही रामराज्य है?
नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन हम 15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं: AIMIM नेता का भड़काऊ बयान Gold in Sonbhadra: सोनभद्र की पहाड़ियों में दबा हो सकता है 3 हजार टन सोना, एक्‍सपर्ट टीम कर रही है सर्वे - three thousand gold estimated in sonbhadra mountains | Navbharat Times भारत ने हमारे साथ बहुत अच्छा सलूक नहीं कियाः ट्रंप ओवैसी की सभा में एक लड़की ने लगाए 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, AIMIM चीफ ने दी सफाई नागरिकता संशोधन कानून चिंताजनक: अमरीकी आयोग राष्ट्रपति मैक्रों ने विदेशी इमामों के फ्रांस आने पर लगाया बैन, कहा- ये कट्टरपंथ फैलाते हैं कोई मरने आ रहा है तो ज़िंदा कैसे हो जाएगा: योगी आदित्यनाथ कार्टून: अबकी बार... दीवार के पार जब राजीव गांधी ने सोनिया के क़रीब आने के लिए दी थी रिश्वत चेन्नई में CAA के खिलाफ प्रदर्शन: पुलिस की मंजूरी के बिना हजारों की संख्या में मुस्लिम सड़क पर उतरे UP पहुंचे शरद पवार ने पूछा- मंदिर के लिए ट्रस्ट तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं?