दिल्ली में हिंसा फैलने की पूरी कहानी

दिल्ली हिंसा: जाफ़राबाद, मौजपुर से भजनपुरा तक आग फैलने की पूरी क्रोनोलॉजी

25-02-2020 12:08:00

दिल्ली हिंसा: जाफ़राबाद, मौजपुर से भजनपुरा तक आग फैलने की पूरी क्रोनोलॉजी

तस्वीरों में देखिए: दिल्ली हिंसा में 22 फ़रवरी से 25 फ़रवरी तक क्या कैसे हुआ कि सात लोगों की जान चली गई.

शेयर पैनल को बंद करेंइमेज कॉपीरइटPTIImage caption24 फरवरी को मौजपुर इलाके के पास पिस्तौल लहराता एक शख़्स22 फरवरी. शनिवार रात दिल्ली के जाफ़राबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे कुछ औरतों के धरने पर बैठने की ख़बरें आईं.सोशल मीडिया पर वायरल कई वीडियो में ये देखा जा सकता है कि बीच सड़क पर स्टेज लगाया जा रहा था. ये नागरिक़ता क़ानून के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों की भीड़ थी.

'भारत हमला करने वाला है' सुनकर पाक सेना प्रमुख के कांपने लगे थे पैर, तब हुई थी अभिनंदन की रिहाई ABVP नेता पर लगा था महिला से उत्पीड़न का आरोप, अब आरोपी AIIMS के बोर्ड में शामिल Ballabgarh Murder: तौसीफ के चाचा बोले- बच्चे ही तो हैं, उनकी उम्र क्या है

सड़कों पर ये भीड़ ऐसे वक़्त में उतर रही थी, जब भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद ने 23 फरवरी को भारत बंद बुलाया था.@BhimArmyChief22 फरवरी की रात कई जगहों पर नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ लोगों के जुटने की ख़बरें आईं. ये सारा जमावड़ा दिल्ली के यमुनापार इलाक़े में हो रहा था. क़रीब पांच किलोमीटर में फ़ैले इस क्षेत्र को आप कुछ यूं समझ सकते हैं.

दिल्ली के कश्मीरी गेट से सात किलोमीटर दूर सीलमपुर है. इसी से सटा है जाफ़राबाद. फिर आता है मौजपुर, जिसके बगल में है बाबरपुर. इसी सड़क से आगे बढ़ने पर आता है यमुना विहार और दाएं मुड़ने पर गोकलपुरी और बाएं मुड़ने पर क़रीब दो-तीन किलोमीटर की दूरी पर आता है भजनपुरा. ये सारे इलाक़े मिक्स आबादी वाले हैं. यहां हिंदू, मुसलमान और सिख रहते हैं.

22 फरवरी को इन इलाक़ों में जब लोग सड़क पर उतरे तो रास्ता बंद होने की वजह से आम लोगों को दिक़्क़तें होनी शुरू हो गईं. ट्रैफिक लगभग ठप हो गया.इमेज कॉपीरइटAFPImage captionदिल्ली के जाफ़राबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे महिलाएं 23 फरवरी की दोपहर23 फरवरी, दिन रविवार

रविवार सुबह से नागरिक़ता क़ानून के समर्थकों और आम लोगों की तरफ़ से रास्ता बंद किए जाने पर प्रतिक्रियाएं और आपत्ति ज़ाहिर की जाने लगीं.इन लोगों का कहना था, ''दिल्ली में दूसरा शाहीन बाग़ नहीं बनने देंगे. बच्चों के बोर्ड एग्ज़ाम हैं, दिक़्क़तें हो रही हैं.''

हालांकि जाफ़राबाद के विरोध प्रदर्शन में बैठी औरतों ने अलग राय रखी.इन औरतों ने बीबीसी संवाददाता भूमिका राय सेफेसबुक लाइवमें कहा, ''हम 45 दिनों से कुछ किलोमीटर पहले विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. लेकिन सरकार का कोई भी नुमाइंदा हमसे मिलने नहीं आ रहा था. जब तक हम सरकार पर प्रेशर नहीं बनाएंगे, तब तक सरकार पर प्रेशर नहीं आएगा. इसलिए हम लोग सड़कों पर उतरे हैं.''

चेतावनी: तीसरे पक्ष की सामग्री में विज्ञापन हो सकते हैं.पोस्ट यूट्यूब समाप्त BBC News Hindiइमेज कॉपीरइटReutersजब रविवार की दोपहर को ये सब जाफ़राबाद में हो रहा था, ठीक तभी जाफ़राबाद से सटे मौजपुर में CAA समर्थकों की भीड़ जुटी. दोनों तरफ़ से पत्थरबाज़ी की ख़बरें आईं.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बोले थे- अभिनंदन को नहीं छोड़ा, तो भारत हमला कर देगा; आर्मी चीफ कांप रहे थे गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का 92 साल की उम्र में हार्ट अटैक से निधन पैगंबर के कार्टून पर बड़ा बवाल, भड़के दुनिया भर के मुस्लिम देश!

इमेज कॉपीरइटImage captionदिल्ली पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़ते हुएमौजपुर पहुंचने वालों में दिल्ली बीजेपी नेता कपिल मिश्रा भी रहे.कुछ देर बाद कपिल मिश्रा ने एक वीडियो ट्वीट किया. इस वीडियो में कपिल पुलिस और आम लोगों के साथ खड़े थे.कपिल वीडियो में कहते हैं, ''ये यही चाहते हैं कि दिल्ली में आग लगी रहे. इसीलिए इन्होंने ये रास्ते बंद किए. ये दंगे जैसा माहौल बना रहे हैं. हमारी तरफ़ से एक भी पत्थर नहीं चलाया गया. डीसीपी साहेब हमारे सामने खड़े हैं. आप सबके बिहाफ पर ये बात कह रहा हूं कि ट्रंप के जाने तक तो हम जा रहे हैं. लेकिन उसके बाद हम आपको भी नहीं सुनेंगे, अगर रास्ते खाली नहीं हुए. ठीक है? ट्रंप के जाने तक आप चांद बाग और जाफ़राबाद खाली करवा दीजिए, ऐसी आपसे विनती है. उसके बाद हमें लौटकर आना पड़ेगा. भारत माता की जय. वंदे मातरम.''

@KapilMishra_INDरविवार की शाम होते-होते कुछ जगहों पर पथराव की ख़बरें आईं. दोनों तरफ़ के लोगों की ओर से नारे लगाते वीडियोज़ सोशल मीडिया पर शेयर किए जाने लगे.इमेज कॉपीरइटImage captionदिल्ली पुलिस हिंसा के दौरानरविवार रात यमुनापार इलाके में ट्रैकटर से पत्थरों को लाए जाने के वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे थे. हालांकि ये स्पष्ट नहीं था कि ये पत्थर क्यों जुटाए जा रहे थे.

इमेज कॉपीरइटAFP24 फरवरी, सोमवारसोमवार सुबह जब एक तरफ़ अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अहमदाबाद पहुंचने वाले थे. ठीक तभी दिल्ली के इन्हीं इलाकों से हिंसक झड़पों की ख़बरें आने लगीं.इमेज कॉपीरइटAFPये झड़प मौजपुर से लेकर भजनपुरा के चांदबाग इलाक़े तक हो रही थी. सोमवार सुबह 11 बजे के क़रीब दिल्ली के भजनपुरा इलाक़े में उपद्रवियों ने पेट्रोल पंप के पास खड़ी गाड़ियों में आग लगा दी.

अब हिंसा की आग जाफ़राबाद से लेकर भजनपुरा के लगभग ज़्यादातर इलाक़ों में फ़ैल चुकी थी. भजनपुरा चौक पर मौजूद मज़ार और दुकानों को आग लगा दी गई.Image captionभजनपुरा थाने के पास मज़ार जलने के बादमौजपुर में भी हवा में पिस्तौल लहराता एक युवक नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ धरने पर बैठे प्रदर्शनकारियों वाली सड़क से आता दिखा.

इमेज कॉपीरइटPTIइस शख़्स की पहचान अब तक पुलिस ने आधिकारिक तौर पर ज़ाहिर नहीं की है.सोमवार दोपहर बाद ख़बर आई कि हिंसा में एक पुलिसकर्मी रतन लाल और एक युवक की मौत हो गई.Image captionरतन लालजब ये सब हो रहा था, तब नेताओं की तरफ़ से भी प्रतिक्रियाएं आ रही थीं.

और पढो: BBC News Hindi »

जिस देश में राजदूत ही नहीं, वहां से उसे वापस बुलाने की बात कर रहे विदेश मंत्री

पाकिस्तान की संसद ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के इस्लाम विरोधी बयान को लेकर सोमवार को निंदा प्रस्ताव पेश किया। इतना ही नहीं विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने फ्रांस से अपने राजदूत वापस बुलाने का भी प्रस्ताव दिया। लेकिन, यहां गौर करने वाली बात यह है कि फ्रांस में पिछले तीन महीने से पाकिस्तान का कोई राजदूत है ही नहीं। | Pakistan National Assembly in a unanimous resolution has asked the government to recall its ambassador to France

बहूत ही दूख की बात है Unemployed youth Ka junoon aor ghussa kahaN aor kaise nikalwana hai isme Yeh neta Shaitan ke bhi guru haiN. जाकर केजरी बाल से पूछो वो सब क्रोनॉलजी समझा देगा बहुत दुःख होता है ज़ब लोग भाईचारे की बात छोङ कर हिंसा की बातें करते हैं ये ज़ानने के बाद कि हिंसा किसी के हित में नही है। पूरे देश में क्रोनोलॉजी फैली है

कपिल मिश्रा के साथ ये वही है जिसकी पहचान दिल्ली पुलीस शारुख के रूप में कर रही है ShahrukhMuslimTerrorist IslamicJihad जिहादियों_का_आर्थिक_बहिष्कार इनको डर लगता है यहां BJP power me hai Catch him basrard Bik*u bbc mazar ka bahot dukh hai tumhe or jo police wala shaheed hua hai uska kuch nhi.. इस पिस्तौल लिये हुए आदमी का नाम नही बताउगे क्यो ये तुम्हारा मौसा होगा अंग्रेज चले गये bc bbc को भी ले जाते

देखो सारे साले मुल्ला को ArrestTerroristKapilMishra समस्या वो नहीं जो आप कह रहे हैं, समस्या तो वो है जो आप फैला रहे हैं - रायता। आप जैसों के वजह से दिल्ली जल रहा है Aatankwadi ये सब सोची समझी साजिश का हिस्सा है , विदेशी मेहमान के सामने ? Islamic Aatankbaad सरकार पर प्रेशर बनाएंगे ये? मोदी पे प्रेशर?! आज तक पहचाना नहीं क्या मोदी को कट लो अपने अपने रास्ते इससे पहले कि मोदी फ्री हो जाए आपको देखने के लिए

बीबीसी बकवास क्या दिखना चाह्ती हे बीबीसी ये कह रही ये औरत बन्दर भगा रही थी कुछ भी कह सकते हे बीबीसी वाले बकवास saliltripathi Safed jhut, ye terrorist muslim nikla to saaf likh dia ki naam nahi pta laga hai iska, Shahrukh hai iska naam sabko saaf pta hai, kyu chupa rahi hai naam, kya propaganda hai? DelhiRiots DelhiBurning 😔😓😔 🇮🇳📘🙏

Inka chehara to saaf saaf najar Aa Raha Hai kya abhi tak inko arrest kiya! समाधान नहीं खुराक मांग रहे, होना तो ये चाहिये कि CCTV की मदद लेते हुए,हर अराजक तत्व को देखते ही गायब कर दिया जाये और मीडिया भौंके तो कनेक्शन काट दिया जाये । फोटो देखकर बहुत कुछ समझ में आ सकता है ध्यान से देखिए कोई क्रॉनोलौजी नहीं है । बस घुसपैठियों को टिकाना है देश को तोड़ के एक ओर घुसपैठियों का देश बनाना है। अब तुम बीबीसी जी चाटुकारिता करोगे आदत से मजबूत जो हो

हरामजादे संविधान बचा रहे हैं। क्रोनोलॉजी अनुराग ठाकुर कपिल मिश्रा दिल्ली में हिंसा परिणाम : मासूमों की मौत राजनीतिक परिणाम : राजनीतिक दीर्घकालिक लाभ... यह सुनियोजित इस्लामिक अतांक है। अंग्रेज़ चले गए अपना न्यूज़ चैनल छोड़ गए, क्रोनोलॉजी सिंपल विक्टम कार्ड खेल रहे शांतिदूत ट्रम्प को देख कर कुछ जेहादी सड़कों पर बंदूक लिए आपने देखे,कुछ जेहादी पेन और माइक पकड़े हुए मीडिया में हैं इन्हें भी पहचानिए।आतंकियों में इन्हें 'स्कूल मास्टर'के बेटे दिखे।दिल्ली में जिन्ना वाली आजादी मांगते लोग नहीं दिखे,हमारी सड़कें रोकते,आग लगाते पत्थर,बंदूक चलाते लोग नहीं दिखे, बस कपिल दिखे।

ये वही लोग हैं जो पहले 'राम-अल्हा'के नाम पर अपने-अपने धर्म को कलंकित किया फिर 'झूठे-देशभक्ति'के नाम पर देश को कलंकित किया और अब 'सेना' की वर्दी पहनकर देश की रक्षा करने वाले सेना को कलंकित कर रहे हैं। मगर अफसोस लोग इसमें भी अपने-अपने सुविधानुसार पहचान ढूंढ हीं लेते हैं। 🙏🙏🙏 पूरा घटनाक्रम प्री प्लान था।

ये वही लोग हैं जो पहले 'राम-अल्हा'के नाम पर अपने-अपने धर्म को कलंकित किया फिर 'झूठे-देशभक्ति'के नाम पर देश को कलंकित किया और अब 'सेना' की वर्दी पहनकर देश की रक्षा करने वाले सेना को कलंकित कर रहे हैं। मगर अफसोस लोग इसमें भी अपने-अपने सुविधानुसार पहचान ढूंढ हीं लेते हैं। 🙏🙏🙏

दिल्ली में हिंसा के बाद रोहतक में अलर्ट, सभी अधिकारियों की छुट्टियां रद्दsatenderchauhan शुक्र है दलाल मीडिया को थोड़ा तो वक़्त मिला दिल्ली वासियों के लिये कल से😢

Delhi CAA Clash: दिल्ली में कैसे हुई हिंसा की शुरूआत, जानिए इसके बारे में सब कुछशनिवार रात सैकड़ों महिलाएं जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास CAA के खिलाफ धरने पर बैठ गईं. धरना प्रदर्शन की वजह से सड़क बाधित हो गई. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से हटने की अपील की, लेकिन वह नहीं माने. जिसके बाद बीजेपी नेता कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) ने रोड ब्लॉक किए जाने के खिलाफ एक वीडियो पोस्ट कर CAA समर्थकों से रविवार दोपहर तीन बजे मौजपुर चौक आने को कहा. urban naxali ka janch hona chahiye delhi ko aaj hinsha ki muh pe dhakalne walle PFI SIMI URBAN NAXALI GANG he Blame d orange flags....Arghhhhh those r Carets 😭😭😭😭 जे भूतनी के तू बोल रहा है ऐसी खबरों से ही तो तेरी ये भांड की दुकान चलती है नही तो कुत्ता भी तूने ना पूछे🕵️😎

दिल्ली हिंसा के विरोध में मुंबई में लोगों ने किया प्रदर्शन, आठ हिरासत मेंनागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा के बाद अब आर्थिक राजधानी मुंबई में लोग इस हिंसा विरोध में सड़क पर उतर आए। CPMumbaiPolice MumbaiPolice CAA_NRCProtests CPMumbaiPolice MumbaiPolice R u sure , caa k khilaf hinsa hui ya caa k support me hinsa hui?

CAA पर कैसे भड़की दिल्ली में हिंसा, 10 प्वाइंट में जानें सब कुछजाफराबाद में CAA समर्थकों और विरोधियों के बीच हुए पथराव के बाद सोमवार को मौजपुर में भी दोनों समूहों के बीच हिंसा भड़क गई. इस दौरान एक शख्स ने 8 राउंड फायरिंग की, तो वहीं पथराव के दौरान एक हेड कॉन्स्टेबल और एक नागरिक की मौत हो गई. इंडिया टुडे ग्रुप टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ इंडिया टुडे को टुकड़े-टुकड़े गेम को बचाता है

डोनाल्ड ट्रंप को दिखाने के लिए दिल्ली के कई इलाकों में हिंसा की साजिश!ट्रंप को दिखाने के लिए दिल्ली के कई इलाकों में हो रही हिंसा: सूत्र TrumpInIndia TrumpIndiaVisit narendramodi realDonaldTrump narendramodi realDonaldTrump ह जिसे देख कर ही तो उसने बोला इस्लामिक टेरीरिसम ओर वैसे दिखाने की जरूरत नही है साफ साफ सब्दो में लिखा है कुरान में वो भी पढ़ सकते हो जिसे जानना है ये इस्लामिक टेरीरिसम क्या होता है narendramodi realDonaldTrump सब फर्जी है यह दंगा मोदी से जलते है नंगाई कर रहे है दंगाई narendramodi realDonaldTrump ये मोदी को बदनाम करने की साजिश है सब एक प्लानिग के साथ हो रहा है इसमें सरकार विरोधी सब मिले हुए है।

Delhi Violence: दिल्ली की हिंसा पर कांग्रेस नेताओं की सद्भाव की अपीलदिल्ली के कुछ इलाकों में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर भड़की हिंसा के बीच कांग्रेस नेताओं ने लोगों से सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने की अपील की है। पहले भड़काया अब शांति की अपील 😁😁 Aur woh Chokidaar kehan hai Aren't they are cowards! They should be punished after Enquiry and I request Government to Hand over the Case of riots to NIA. Sleeper Cells are active in NCR . Country say Upar Koi Nahi