Supremecourt, Bail, Delhiriots, सुप्रीमकोर्ट, जमानत, दिल्लीदंगा

Supremecourt, Bail

दिल्ली दंगा: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ज़मानत मामलों में क़ानून के प्रावधानों पर बहस नहीं होनी चाहिए

दिल्ली दंगा: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ज़मानत मामलों में क़ानून के प्रावधानों पर बहस नहीं होनी चाहिए #SupremeCourt #Bail #DelhiRiots #सुप्रीमकोर्ट #जमानत #दिल्लीदंगा

24-07-2021 04:30:00

दिल्ली दंगा: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ज़मानत मामलों में क़ानून के प्रावधानों पर बहस नहीं होनी चाहिए SupremeCourt Bail DelhiRiots सुप्रीमकोर्ट जमानत दिल्लीदंगा

दिल्ली दंगों संबंधी मामले में तीन छात्र कार्यकर्ताओं की ज़मानत रद्द करने की दिल्ली पुलिस की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने इशारा किया है कि वह इस पहलू पर विचार करने को तैयार नहीं है.

नई दिल्ली:उत्तर पूर्व दिल्ली दंगों के मामले में तीन छात्र कार्यकर्ताओं- नताशा, देवांगना और इक़बाल आसिफ तन्हा की जमानत रद्द करने के मुद्दे पर विचार करने की अनिच्छा जाहिर करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बीते गुरुवार को कहा कि जमानत याचिकाओं पर कानून के प्रावधानों को लेकर की जा रही लंबी बहस परेशान करने वाली है.

यूएन में बोले मोदी, अफ़ग़ानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने के लिए न हो - BBC News हिंदी 16 साल बाद बर्फ में दबा मिला जवान का शव: गाजियाबाद के फौजी अमरीश ने 2005 में उत्तराखंड की सतोपंथ चोटी पर फहराया था तिरंगा, लौटते समय खाई में गिर गए थे अफ़ग़ानिस्तान: तालिबान ने हेरात शहर के चौराहों पर चार लोगों की लाशें लटकाईं - BBC Hindi

जस्टिस एसके कौल और जस्टिस हेमंत गुप्ता की पीठ ने तीन छात्रों को जमानत देने के दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ दिल्ली पुलिस की अपील पर सुनवाई कर रही थी. पीठ ने पूछा कि पुलिस को जमानत मिलने से दुख है या फैसलों में की गई टिप्पणियों या व्याख्या से.दिल्ली पुलिस की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि वे दोनों बातों से व्यथित हैं और वे इन पहलुओं पर शीर्ष अदालत को संतुष्ट करने की कोशिश करेंगे.

पीठ ने मेहता से कहा, ‘बहुत कम संभावना है, लेकिन आप कोशिश कर सकते हैं.’न्यायालय ने इशारा किया कि वे तीनों आरोपियों की जमानत रद्द करने के पहलू पर विचार करने को तैयार नहीं हैं, जिन्हें सख्त आतंकवाद रोधी कानून – गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) कानून (यूएपीए) के तहत आरोपी बनाया गया है. headtopics.com

शीर्ष अदालत ने कहा कि जमानत के मामलों पर बहुत लंबी बहस की जा रही है, यह जानते हुए भी कि आजकल वक्त सीमित है और इसने इन अपीलों पर कुछ घंटों से ज्यादा सुनवाई नहीं करने का प्रस्ताव दिया.पीठ ने कहा, ‘यह कुछ ऐसा है जो हमें कई बार परेशान करता है. जमानत के हर मामले पर निचली अदालत, उच्च न्यायालयों और इस अदालत में लंबी बहस होती है.’ साथ ही कहा, ‘जमानत के मामलों में कानून के प्रावधानों पर बहस नहीं की जानी चाहिए.’

पीठ ने मामले में सुनवाई चार हफ्ते बाद तय करते हुए कहा कि जमानत के मामले अंतिम न्यायिक कार्यवाही की प्रकृति के नहीं होते हैं और जमानत दी जानी है या नहीं, इस पर प्रथमदृष्टया निर्णय लिया जाना होता है.शीर्ष अदालत जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की छात्रा नताशा नरवाल और देवांगना कलीता तथा जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र आसिफ इकबाल तन्हा को पिछले साल उत्तर-पूर्व दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा से संबंधित मामले में 15 जून को जमानत देने के उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दिल्ली पुलिस की याचिका पर सुनवाई कर रही थी.

सुनवाई की शुरुआत में, छात्रों की तरफ से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि उन्हें कुछ वक्त चाहिए क्योंकि आरोप-पत्र 20,000 पन्नों का है.उन्होंने कहा, ‘हमारे पास 20,000 पन्नों का प्रिंट लेने का साधन नहीं है. हमें इसे पेन ड्राइव में दाखिल करने की अनुमति दें.’ पीठ ने पेन ड्राइव को रिकॉर्ड में दाखिल करने के सिब्बल के अनुरोध को स्वीकार कर लिया.

मालूम हो कि बीते 15 जून कोदिल्ली हाईकोर्टने यूएपीए के तहत गिरफ्तार नरवाल, कलीता और तन्हा को जमानत दे दी थी.जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और जस्टिस एजे भंभानी की पीठ ने जमानत देते हए कहा था, ‘हम यह कहने के लिए बाध्य हैं कि असहमति की आवाज को दबाने की जल्दबाजी में सरकार ने विरोध के संवैधानिक अधिकार और आतंकवादी गतिविधियों के अंतर को खत्म-सा कर दिया है. अगर यह मानसिकता जोर पकड़ती है तो यह लोकतंत्र के लिए दुखद दिन होगा.’ headtopics.com

भारत ने विकसित की पहली DNA वैक्सीन, 12 साल से ऊपर वालों को दी जा सकती है : PM मोदी 'आईए, भारत में कोरोना वैक्सीन बनाइए' : UN में पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें अफगानिस्तान में तालिबानी सजा का दौर शुरू: हेरात शहर में किडनैपिंग के 4 आरोपियों को दिनदहाड़े गोलियां मारी, बीच चौराहे घंटों क्रेन से टांगे रखी डेड बॉडी

वहीं, तन्हा के जमानती आदेश में कहा गया, ‘हालांकि मुकदमे के दौरान राज्य निस्संदेह साक्ष्य को मार्शल करने का प्रयास करेगा और अपीलकर्ता के खिलाफ लगाए गए आरोपों को सही करेगा. जैसा कि हमने अभी कहा ये सिर्फ आरोप हैं और जैसा कि हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं, हम प्रथमदृष्टया इस प्रकार लगाए गए आरोपों की सत्यता के बारे में आश्वस्त नहीं हैं.’

हालांकि सर्वोच्च न्यायालय ने इस फैसले के कुछ अंश पर नाराजगी जाहिर करते हुए18 जून को कहाथा कि हाईकोर्ट ने जमानत आदेश में ही पूरे आंतकरोधी यूएपीए कानून की व्याख्या कर डाली है. उन्होंने कहा था कि ये फैसला अन्य मामलों के लिए नजीर नहीं बनाया जाए.दिल्ली पुलिस का कहना है कि नरवाल, कलीता और तन्हा और अन्य ने कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को बाधित करने की कोशिश के तहत सीएए विरोधी प्रदर्शनों का इस्तेमाल किया.

कई अधिकार कार्यकर्ताओं, अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों और पर्यवेक्षकों का मानना है कि यह मामला विवादित सीएए और एनआरसी कानून का विरोध करने वालों को निशाना बनाने का एक तरीका है.द वायरने भी अपनी रिपोर्ट में बताया है कि सार्वजनिक तौर पर भड़काऊ भाषण देने वाले और हिंसा के लिए उकसाने वाले कई दक्षिणपंथी नेताओं पर कोई कार्रवाई नहीं हुई.

मालूम हो कि दिल्ली दंगों से जुड़ी एफआईआर 59 के तहत अब तक कुल पंद्रह लोगों को जमानत मिल चुकी है.गौरतलब है कि 24 फरवरी 2020 को उत्तर-पूर्व दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून के समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसा भड़क गई थी, जिसने सांप्रदायिक टकराव का रूप ले लिया था. हिंसा में कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई थी तथा करीब 200 लोग घायल हो गए थे. इन तीनों पर इनका मुख्य ‘साजिशकर्ता’ होने का आरोप है. headtopics.com

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

कानपुर की जनता के साकार होते सपनों का गवाह आईआईटी मेट्रो स्टेशन rajiasup UPMetro:साकारहोतेसपने KanpurMetro MetroWalaKanpur BadalRahaKanpur मंत्रिपरिषद ने उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई, इटावा के अंतर्गत 500 बेडेड सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल के निर्माण कार्यों की पुनरीक्षित प्रायोजना हेतु ₹48,988.61 लाख के व्यय सहित सम्पूर्ण प्रायोजना को स्वीकृति प्रदान कर दी है।

सुप्रीम कोर्ट: पटाखों का स्वास्थ्य पर असर दिल्ली वालों से पूछो, पाबंदी के एनजीटी के आदेश में दखल से इनकारसुप्रीम कोर्ट: पटाखों का स्वास्थ्य पर असर दिल्ली वालों से पूछो, पाबंदी के एनजीटी के आदेश में दखल से इनकार SupremeCourt Delhi FireCrackers Order Ban Health

पेगासस पर रिपोर्ट देने वाले 'द वायर' के दफ़्तर पहुंची दिल्ली पुलिस, DCP बोले- रूटीन चेकिंगद वायर दुनियाभर के उन 16 मीडिया संस्थानों में से है, जो पेगासस स्पाईवेयर के लीक हुए फोन नंबर के डेटाबेस के जरिए इसके लक्ष्यों की पहचान में जुटी हैं।

'...थोड़े दिन देखते हैं हम लोग' : दिल्ली में स्कूल खोलने पर बोले CM अरविंद केजरीवालकई राज्यों ने स्कूल खोल दिए हैं तो कईयों ने स्कूल खोलने का ऐलान कर दिया है. Sir please punjab ko bacha lo Baki din inhe ghumna bhi hein

23 जुलाई : आज दिनभर इन खबरों पर बनी रहेगी नजर, जिनका होगा आप पर असरहर रोज हम अलग-अलग खबरों से दो-चार होते हैं। हमारी आंखों के सामने से कई सारी खबरें गुजरती हैं। इनमें से कुछ ऐसी अहम खबरें

'सरकार तो बन जाती है, पर दोबारा नहीं आती', सचिन पायलट का सीएम गहलोत पर तंजसचिन पायलट ने कहा, राजस्थान में सरकार तो बन जाती है, लेकिन दोबारा कभी रिपीट नहीं होती. कभी 20 तो कभी 50 सीट ही आती है. हालांकि, बाद में उन्होंने बात संभालते हुए ये भी कहा कि कैसे हमारी सरकार दोबारा आए, उसको लेकर कुछ सुझाव भी दिए हैं. SachinPilot sharatjpr RaghusharmaINC एनआरएचएम प्रबंधकीय वर्ग के खंड कार्यक्रम प्रबन्धक, लेखाकार , ब्लॉक हैल्थ सुपरर्वाइज़र , डाटा एंट्री ऑपरेटर , कम्प्युटर ऑपरेटर व पीएचसी आशा सूपरर्वाइज़र को घोषणा पत्र मे किए वादे को पूर्ण करते हुए नियमित करने की कृपा करें।

Parliament Monsoon Session live: जासूसी कांड पर संचार मंत्री के बयान पर हंगामा, राज्यसभा स्थगितमॉनसून सत्र की कार्यवाही का आज तीसरा दिन है. आज सदन के बाहर जंतर-मंतर पर किसानों की 'संसद' चलेगी. वहीं, सदन के अंदर 'ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं' वाले जवाब को लेकर हंगामे के आसार हैं. इस पर विपक्ष विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव पेश करने की तैयारी में है. इसके अलावा पेगासस जाजूसी विवाद का मुद्दा गरमाया रहेगा.