Covid 19, Delhi, Govt, Hospitals, Doctors, Highcourt, कोविड19, दिल्ली, सरकार, अस्पताल, डॉक्टर, हाईकोर्ट

Covid 19, Delhi

दिल्ली हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा- अगर डॉक्टर ही नहीं हैं तो ज़्यादा बिस्तरों से क्या लाभ होगा

दिल्ली हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा- अगर डॉक्टर ही नहीं हैं तो ज़्यादा बिस्तरों से क्या लाभ होगा #Covid19 #Delhi #Govt #Hospitals #Doctors #HighCourt #कोविड19 #दिल्ली #सरकार #अस्पताल #डॉक्टर #हाईकोर्ट

11-05-2021 14:28:00

दिल्ली हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा- अगर डॉक्टर ही नहीं हैं तो ज़्यादा बिस्तरों से क्या लाभ होगा Covid19 Delhi Govt Hospitals Doctors HighCourt कोविड19 दिल्ली सरकार अस्पताल डॉक्टर हाईकोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर के बीच दिल्ली के कोविड केंद्रों पर स्वास्थ्यकर्मियों की कमी की ओर इशारा करते हुए कोर्ट ने कहा कि जब चुनाव आते हैं तो हर अख़बार में पूरे पन्ने का विज्ञापन दिखाई देता है लेकिन अब चिकित्सकों और नर्सिंग कर्मियों की ज़रूरत को लेकर प्रमुख अख़बारों में कोई विज्ञापन नहीं है.

नई दिल्ली:दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा कि जब पर्याप्त संख्या में चिकित्सक ही नहीं हैं तब बिस्तरों और वार्ड का क्या फायदा है?अदालत ने उन दावों के संदर्भ में यह बात कही जिनके मुताबिक द्वारका में समर्पित कोविड केंद्र- इंदिरा गांधी अस्पताल में पर्याप्त चिकित्साकर्मी नहीं हैं.

नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत, एक उलझी पहेली... - BBC News हिंदी राष्ट्रीय महिला आयोग ने सोनिया गांधी से की अपील, महिला सुरक्षा के लिए खतरा हैं पंजाब के मुख्यमंत्री, उन्हें पद से हटाया जाए ब्रिटेन सरकार के इस नियम पर भारत में गहरी नाराज़गी, क्या है मामला? - BBC Hindi

जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस रेखा पल्ली की पीठ ने दिल्ली सरकार से कहा, ‘यह समय है जब आपको और चिकित्सक चाहिए. ज्यादा बिस्तर होने का क्या मायने जब पर्याप्त संख्या में चिकित्सक ही न हों.’दिल्ली सरकार ने जब कहा कि चिकित्सकों की कमी का मुद्दा कभी अदालत के समक्ष उठाया ही नहीं गया, तो पीठ ने कहा कि चिकित्सकों की कमी के संदर्भ में समस्या है और ‘इससे भागिए मत.’

अदालत ने कहा कि जब चुनाव आते हैं तो हर अखबार में पूरे पन्ने का विज्ञापन दिखाई देता है लेकिन अब चिकित्सकों और नर्सिंग कर्मियों की जरूरत को लेकर प्रमुख अंग्रेजी अखबारों में कोई विज्ञापन नहीं है.जब दिल्ली सरकार ने कहा कि इस विषय में एक विज्ञापन दैनिक भास्कर अखबार में था तब अदालत ने पूछा, ‘प्रमुख अंग्रेजी अखबारों में क्यों नहीं?’ headtopics.com

दिल्ली सरकार ने आश्वस्त किया कि विज्ञापन जारी करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और जल्द ही सभी प्रमुख अखबारों में दिखाई देगा लेकिन कुछ समय चाहिए.इस पर अदालत ने कहा कि वह बीते दो हफ़्तों से सरकार को समय ही दे रही है.समाचार एजेंसीपीटीआईके अनुसार, दिल्ली सरकार ने कहा कि उसने वॉक-इन-इंटरव्यू रखे हैं और आने वाले समय में इनकी संख्या बढ़ाई जाएगी.

इस पर अदालत ने सरकार से उसे 250 बेड वाले एक नए अस्पताल की विस्तृत जानकारी- बिस्तरों की संख्या (ऑक्सीजन के साथ और बिना, और आईसीयू और गैर आईसीयू), पेश करने को कहा है. सरकार का कहना है कि अस्पताल में 900 बेड की क्षमता है.इससे पहले अदालत ने सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अस्पतालों को निर्देश दिया कि वे हर दो घंटे में खाली और भरे हुए बिस्तरों की संख्या की ताजा जानकारी दें. अदालत ने कहा कि ऐसा करना मुश्किल काम नहीं है.

कोर्ट ने कहा कि अस्पताल वास्तविक समय में खाली बिस्तरों की संख्या और भर्ती का रिकॉर्ड रखें. यह उनके लिए मुश्किल नहीं होगा कि संबंधित जानकारी दिल्ली सरकार या उसके नोडल अधिकारियों को दिया जाए. ‘हम निर्देश देते हैं कि प्रत्येक दो घंटें में ताजा जानकारी दें.

वहीं एक अन्य मामले में सुनवाई करते हुए पीठ ने केंद्र से कहा कि विदेशों से मिल रही सभी तरह की सहायता चाहे वह छोटी हो या बड़ी उसी कृतज्ञता के साथ स्वीकार की जानी चाहिए जिस भावना से वह दी गई है, भले ही वह सिर्फ एक रुपये की ही क्यों न हो.पीठ ने केंद्र से कहा, ‘आपको उस भावना का सम्मान करना होगा जिसके तहत वह (सहायता) दी गई है. इसे (छोटी मात्रा में सहायता को) स्वीकार न करके आप उसे देने वाले व्यक्ति का अपमान कर रहे हैं.’ headtopics.com

चरणजीत सिंह चन्नी हुए भावुक, कहा बचपन में जिस के सिर पर छत नहीं थी उसे CM बना दिया - BBC Hindi रूसः पुतिन की पार्टी ने संसदीय चुनाव में हासिल की जीत, घटा समर्थन - BBC News हिंदी अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत: मठ में फांसी पर लटकता मिला शव; शिष्य आनंद हरिद्वार से और लेटे हनुमान मंदिर के पुजारी और उनके बेटे प्रयागराज से हिरासत में लिए गए

अदालत ने केंद्र सरकार की तरफ से पेश हुए वकील से कहा कि वह इस बारे में निर्देश लें कि छोटी मात्रा में विदेशी सहायता को भारतीय दूतावासों द्वारा क्यों स्वीकार नहीं किया जा रहा.दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) से पूछा कि वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) द्वारा विकसित – एफईएलयूडीए और रे- कोविड जांच क्यों आरटीपीसीआर जांच की तरह लोकप्रिय नहीं हैं.

जस्टिस सांघी और जस्टिस पल्ली की पीठ ने आईसीएमआर का प्रतिनिधित्व कर रहे केंद्र सरकार के स्थायी अधिवक्ता अनुराग अहलूवालिया से सवाल करते हुए मामले की सुनवाई की अगली तारीख पर उन्हें जवाब पेश करने को कहा.अदालत ने आईसीएमआर से दोनों जांचों की क्षमता बताने को भी कहा है.

अदालत ने यह सवाल न्यायमित्र वरिष्ठ अधिवक्ता राजशेखर राव के यह सूचित करने पर पूछा कि इन दोनों जांच की क्षमता न सिर्फ आरटीपीसीआर के बराबर या बेहतर है बल्कि ये सस्ते भी हैं और एक घंटे से भी कम समय में तेजी से परिणाम देते हैं.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

और पढो: द वायर हिंदी »

Delhi में बड़े Terror Module का पर्दाफाश, जांच एजेंसियों ने 6 को दबोचा, देखें स्पेशल रिपोर्ट

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी. जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

Centerlise monitoring is effective Pleas follows centerlise monitoring in medical in covid Minimum team maximum work

दिल्ली की सीमा से प्रदर्शनकारियों को हटाने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई याचिकासुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल हुई है जिसमें कोरोना महामारी को देखते हुए दिल्ली और दिल्ली की सीमा पर प्रदर्शन और धरना दे रहे लोगों को हटाए जाने की मांग की गई है। इस याचिका पर सोमवार को सुनवाई होनी थी जो अब गुरुवार तक टल गई है। अभी हटे नही क्या योगेन्द्र और टिकैत तो वेक्सीन लगाकर भग लिये होंगे।। किसानो को इन दोनो से ठग लिया।। जय जवान जय किसान

संसदीय समितियों की बैठक: तृणमूल ने कहा आयोजन जरूरी, वर्चुअल माध्यम से कराने की मांगतृणमूल कांग्रेस ने कहा है कि संसदीय समितियों की बैठक की जरूरत है ताकि जनहित के मुद्दों पर समय से उठाए जा सकें और उन पर

थाईलैंड की महिला की लखनऊ में कोरोना से मौत, कमिश्नर ने दिए जांच के आदेशपुलिस कमिश्नरेट लखनऊ ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि थाईलैंड की युवती की लखनऊ में कोरोना संक्रमण से मृत्यु के प्रकरण में पुलिस आयुक्त कमिश्नरेट लखनऊ के आदेशानुसार डीसीपी पूर्वी के नेतृत्व में गठित टीम द्वारा जांच प्रारंभ कर दी गयी है.

यूपी: महराजगंज में बारातियों से भरी कार की ट्रक से टक्कर, 5 की मौत, कई घायलहादसे के बाद घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा गया, जहां एक व्यक्ति की इलाज के दौरान मौत हो गई. इस हादसे में कुल पांच लोगो की मौत हो गई. बाकी के बचे तीन लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है.

सुनील छेत्री की टीम ने मालदीव में की घटिया हरकत, मालिक पार्थ जिंदल ने मांगी माफीसुनील छेत्री की टीम ने मालदीव में की घटिया हरकत, देश छोड़ने का मिला आदेश; मालिक पार्थ जिंदल ने मांगी माफी SunilChhetri BengaluruFC AFCCup Covid19 Maldives ParthJindal EaglesFC

यूपी: महराजगंज में बरातियों से भरी कार की ट्रक से टक्कर, चार की मौत, चार घायलयूपी: महराजगंज में बरातियों से भरी कार का ट्रक से टक्कर, चार की मौत, चार घायल UttarPradesh Maharajganj CarTruckAccident Allah raham farmaye Bkl बरातियों से भरी मतलब 50?