Delhihighcourt, Houserent, Delhi News, Delhi Government, Delhi High Court, Announcement Of Chief Minister, House Rent, Corona İn Delhi, दिल्ली समाचार, Delhi News İn Hindi, Latest Delhi News İn Hindi, Delhi Hindi Samachar

Delhihighcourt, Houserent

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा- मुख्यमंत्री का वादा पूरा किया जाना है जरूरी, सरकार दे मकान का किराया

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक अहम फैसले में कहा कि किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा किए गए वादे या घोषणा को लागू करना

23-07-2021 02:42:00

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा- मुख्यमंत्री का वादा पूरा किया जाना है जरूरी, सरकार दे मकान का किराया DelhiHighCourt HouseRent ArvindKejriwal

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक अहम फैसले में कहा कि किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा किए गए वादे या घोषणा को लागू करना

न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह ने अपने फैसले में कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 29 मार्च, 2020 को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि कोई व्यक्ति किराया देने में असमर्थ है तो दिल्ली सरकार भुगतान करेगी। मुख्यमंत्री द्वारा दिया गया आश्वासन या वचन जायज अपेक्षाओं के सिद्धांतों के आधार पर लागू किया जा सकता है। अदालत ने कहा, मुख्यमंत्री का बयान स्पष्ट रूप से लागू करने योग्य वादे के समान है, जिस पर सरकार को विचार करना चाहिए। नागरिकों से किए गए वादे बिना ठोस और उचित कारणों के टूटने नहीं चाहिए।

Kohli, Dhoni और Ganguly में तुलना क‍रना क‍ितना सही? व‍िक्रांत गुप्ता ने बताया Lucknow Rain: चंद घंटों की बारिश में शहर में सैलाब सा नजारा! देखें क्या हैं हालात बिहार: दो छात्रों के खाते में आए 960 करोड़, बैंक ने बताया तकनीकि खराबी

दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने कहा कि जायज उम्मीद का सिद्धांत केवल वास्तविक सरकारी नीति या सरकारी अधिसूचना पर आधारित हो सकता है, न कि राजनीतिक जुमले पर। उन्होंने कहा कि जब तक कोई वास्तविक सरकारी नीति नहीं है, तब तक एक वादा वैध अपेक्षा के सिद्धांत के आधार पर दावे का आधार नहीं हो सकता।

मकान मालिकों की याचिका पर दिया फैसलाअदालत ने यह फैसला नजमा नामक महिला व कुछ मकान मालिकों की याचिका पर दिया, जिसने कहा कि वह दैनिक मजदूर है और कोविड -19 में आर्थिक तंगी के बाद मकान किराया चुकाने में असमर्थ हैं। मकान मालिकों ने कहा कि उन्हें किराया नहीं मिल रहा है। अदालत ने कहा कि एक निर्वाचित पद पर बैठे व्यक्ति से नागरिकों को उम्मीद रहती है, विशेष रूप से संकट के समय में। लिहाजा दिल्ली सरकार को इस पर विचार कर कदम बढ़ाना चाहिए। headtopics.com

विस्तार जरूरी है। कोर्ट ने दिल्ली सरकार को कोरोना महामारी के दौरान मुख्यमंत्री द्वारा गरीबों का मकान किराया देने के जुमले पर छह हफ्ते में अमल करने का आदेश दिया। देश में सियासी स्थितियों को देखते हुए दिल्ली हाईकोर्ट के इस फैसले को अहम माना जा रहा है।विज्ञापन

न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह ने अपने फैसले में कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 29 मार्च, 2020 को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि कोई व्यक्ति किराया देने में असमर्थ है तो दिल्ली सरकार भुगतान करेगी। मुख्यमंत्री द्वारा दिया गया आश्वासन या वचन जायज अपेक्षाओं के सिद्धांतों के आधार पर लागू किया जा सकता है। अदालत ने कहा, मुख्यमंत्री का बयान स्पष्ट रूप से लागू करने योग्य वादे के समान है, जिस पर सरकार को विचार करना चाहिए। नागरिकों से किए गए वादे बिना ठोस और उचित कारणों के टूटने नहीं चाहिए।

दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने कहा कि जायज उम्मीद का सिद्धांत केवल वास्तविक सरकारी नीति या सरकारी अधिसूचना पर आधारित हो सकता है, न कि राजनीतिक जुमले पर। उन्होंने कहा कि जब तक कोई वास्तविक सरकारी नीति नहीं है, तब तक एक वादा वैध अपेक्षा के सिद्धांत के आधार पर दावे का आधार नहीं हो सकता।

मकान मालिकों की याचिका पर दिया फैसलाअदालत ने यह फैसला नजमा नामक महिला व कुछ मकान मालिकों की याचिका पर दिया, जिसने कहा कि वह दैनिक मजदूर है और कोविड -19 में आर्थिक तंगी के बाद मकान किराया चुकाने में असमर्थ हैं। मकान मालिकों ने कहा कि उन्हें किराया नहीं मिल रहा है। अदालत ने कहा कि एक निर्वाचित पद पर बैठे व्यक्ति से नागरिकों को उम्मीद रहती है, विशेष रूप से संकट के समय में। लिहाजा दिल्ली सरकार को इस पर विचार कर कदम बढ़ाना चाहिए। headtopics.com

बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की रिश्तेदार बोलीं- पीएम मोदी अच्छा काम कर रहे कोहली के फैसले पर बोले BCCI के सचिव जय शाह- छह महीने से चल रही थी चर्चा Afghanistan: Kabul में पावर स्टेशन के पास रॉकेट हमला

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Delhi में बड़े Terror Module का पर्दाफाश, जांच एजेंसियों ने 6 को दबोचा, देखें स्पेशल रिपोर्ट

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी. जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

ArvindKejriwal Inki kaun sunta hai koe ? ArvindKejriwal ऐसे संदेश का स्वागत है... यह बात सभी मुख्यमंत्रियों और प्रधानमंत्री को भी माननी चाहिये ऐसा होने लगे तो जनता को झूठे प्रलोभन देने वाले नेताओं की जुमलेबाजी पर लगाम लगेगी ArvindKejriwal सुने मुख्यमंत्री जी । ArvindKejriwal ArvindKejriwal RahulGandhi SoniaGandhi priyankagandhi promises are to be broken

Farmers protest: नई दिल्ली में किसानों का विरोध, अमेरिका ने नागरिकों को सुरक्षा अलर्ट जारी कियानई दिल्ली में किसानों का विरोध, अमेरिका ने नागरिकों को सुरक्षा अलर्ट जारी किया FarmersProtest USA SecurityAlert

दिल्ली में मानसून : बारिश ने पकड़ी रफ्तार, एक हफ्ते में ही जुलाई का औसत पारदिल्ली में मानसून : बारिश ने पकड़ी रफ्तार, एक हफ्ते में ही जुलाई का औसत पार Delhi Monsoon Rain

किसानों का कल से दिल्ली कूच: कृषि कानूनों के विरोध में जंतर-मंतर पर रोज 200 किसान जुटेंगे, संसद सत्र के बीच दिल्ली सरकार ने दी इजाजतनए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों को दिल्ली में जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की इजाजत मिल गई है। यह परमिशन 22 जुलाई से लेकर 9 अगस्त तक है। प्रदर्शन का समय सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक रहेगा। दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने शर्तों के साथ प्रदर्शन की मंजूरी दी है। | Farmer protest Delhi authority gives permission to protest at Jantar Mantar

किसानों का आज से दिल्ली कूच: कृषि कानूनों के विरोध में जंतर-मंतर पर रोज 200 किसान जुटेंगे, संसद सत्र के बीच दिल्ली सरकार ने दी इजाजतनए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों को दिल्ली में जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की इजाजत मिल गई है। यह परमिशन 22 जुलाई से लेकर 9 अगस्त तक है। प्रदर्शन का समय सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक रहेगा। दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने शर्तों के साथ प्रदर्शन की मंजूरी दी है। | Farmer protest Delhi authority gives permission to protest at Jantar Mantar

प्राइवेट स्कूलों के लिए मुसीबत बना दिल्ली सरकार का आदेश | private schoolदिल्ली में कई ऐसे पैरेंट्स हैं, जो कोरोना की आर्थिक मार के चलते अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में भेज रहे हैं। लेकिन कई बार पूरी फीस न भरने के चलते प्राइवेट स्कूल बच्चों को ट्रांसफर सर्टिफिकेट देने में आनाकानी कर रहे हैं।

दिल्ली सरकार ने जंतर मंतर पर किसानों को धरना प्रदर्शन की इजाजत दीदिल्ली सरकार ने जंतर मंतर पर किसानों को धरना प्रदर्शन की इजाजत दे दी है. दिल्ली सरकार ने इसके लिए औपचारिक आदेश जारी कर दिया है. 22 जुलाई से लेकर 9 अगस्त तक सुबह 11:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक संयुक्त किसान मोर्चा के अधिकतम 200 प्रदर्शनकारी किसानों को धरना प्रदर्शन की इजाजत दी गई है. करोना के कारण स्कूल बंद हैं एक साल से , और सालो तुम धरने की पर्मिशन दे रहे हो , शर्म नहीं है तुम्हें , पड़ाई का इतना नुक़सान हो रहा है , तीसरी लहर गा गा कर तुमने हमारे कान पका दिए , अब धरना खोल दे , तुम सारे साले 🦮और 🐖 ही हो Good. These r not super spreaders. These are antidote for virus. Waw india 🇮🇳 u r great किसानों को धरना प्रदर्शन के लिए इजाजत दे रही है। जिस कारण से ये स्थिति बनी है उस समस्या को ही हल कर दो जिससे ये नोबत ही नही आये। अब कोरोना की तीसरी नही आयेगी क्या हम ये समझ😂😂