Coronaindelhi, Fruitmarket, Blackmarketing, Delhi News, Delhi Government, Fruit Rates, Black Marketing, Corona İn İndia, Fruit Market, दिल्ली समाचार, Delhi News İn Hindi, Latest Delhi News İn Hindi, Delhi Hindi Samachar

Coronaindelhi, Fruitmarket

दिल्ली का हाल : फलों पर भी कालाबाजारी की मार, कोरोना की आड़ में भाव सातवें आसमान पर

कोरोना काल में लोग फलों का अधिक सेवन का रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा रहे हैं।

10-05-2021 04:02:00

दिल्ली का हाल : फलों पर भी कालाबाजारी की मार, कोरोन की आड़ में भाव सातवें आसमान पर coronainDelhi Fruitmarket Blackmarketing ArvindKejriwal

कोरोना काल में लोग फलों का अधिक सेवन का रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा रहे हैं।

कोरोना की वजह से आई तेजीकोविड महामारी ने कच्चे सौदे के भाव भी आसमान पर पहुंचा दिए हैं। संतरे की मांग पिछले दिनों इतनी बढ़ी कि वह मंडी से ही गायब हो गया है। विदेशी माल्टा जो संतरे का ही एक रूप है वह 200 से 300 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। इसी तरह कीवी जो 10 रुपया में एक मिलती थी वह इन दिनों 36 से 40 रुपये में मिलती है। प्रति पेटी 1000-1200 रुपये में बिक रही है। नासिक से आने वाले अनार के भाव भी काफी तेज हैं। थोक भाव में 70 से 120 रुपये प्रति किलो बिक रहा है तो खुदरा बाजार में आते-आते इसकी कीमत 150 रुपये तक हो जाती है।

ट्विटर और मोदी सरकार में बढ़ा टकराव, रविशंकर प्रसाद ने पूछे कई सवाल - BBC Hindi श्री राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट द्वारा भूमि खरीद के कथित घोटाले की जांच कराए सरकार : प्रियंका गांधी Ghaziabad Loni Incident: ट्विटर इंडिया ने कहा- FIR और बुजुर्ग के पिटाई वीडियो का आकलन कर रहे हैं

सबसे अधिक मांग वाले मौसमी की बात करें तो थोक भाव में इसकी 40 से 70 रुपये प्रति किलो बिक रही है, जो खुदरा बाजार में 100-125 रुपये प्रति किलो बिक रही है। गर्मी की वजह से एक बड़े वाले मौसमी में एक नींबू से ज्यादा रस भी नहीं निकल रहा है। नारियल पानी की मांग भी कोविड की वजह से बढ़ी हुई है। खुदरा बाजार में जो नारियल पानी 40-50 रुपये में मिलता था, वह थोक भाव में ही इतनी कीमत पर बिक रहा है।

किसान तो लूट रहा है, लेकिन बिचौलियों की चांदी है। मासाखोर, आढ़ती फिर खुदरा विक्रेता के बीच ग्राहकों तक भी सौदा पहुंचते-पहुंचते महंगा हो रहा है। मंडी का मासाखोर आढ़त से खरीद लेता है और फुटकर व्यापारियों को महंगा बेच देता है। कुछ लोगों ने कोविड की वजह से भाव भी बढ़ा दिया है। इन दिनों मौसमी, नारियल पानी, कीनू, चेरी, कीवी समेत सभी तरह के साइट्रस फ्रूट के भाव बढ़े हुए हैं। थोक मंडी में तो स्थिति थोड़ी बेहतर हैं, लेकिन रेहड़ी-पटरी पर बिकने वाले फल काफी महंगे हो गए हैं। headtopics.com

- मुकेश कुमार, अध्यक्ष, फ्रूट एंड वेजिटेबल वर्क्स यूनियनकोविड की वजह से आवक भी कम है और जो सौदे आ रहा है वह पिछले साल की तुलना में महंगा है। इन दिनों अंगूर, संतरा मार्केट से गायब है। सेब भी काफी कम आ रहा है और जो बाहर से आ भी रहा है वह काफी महंगा है। सेब की फसल इस बार कम हुई है। नई फसल जो हुई है उसे सी-कोल्ड में डाल दिया गया है। विक्रेता इंतजार में है कि भाव और चढ़ेगा तो उसे मंडी में भेजेंगे। 10 किलोग्राम पेटी वाला सेब इन दिनों 2 हजार रुपये तक बिक रहा है। इसी तरह जामुन भी 200 रुपये किलो तक पहुंच गया है। कोविड के साथ ही रमजान के महीने में भी मांग बढ़ जाती है। इस वजह से महंगाई और ज्यादा है।

- हरवीर सिंह, महासचिव फ्रूट वर्कर यूनियनगर्मी के दिनों में फल के भाव में तो आमतौर पर तेजी रहती है, लेकिन कोविड के नाम पर तेजी और अधिक बढ़ गई है। डॉक्टर सलाह दे रहे हैं कि संतरा, मौसमी, नारियल पानी पीया जाए। ऐसे में थोक भाव से लेकर खुदरा भाव में भी तेजी है। यहां तक कि पपीता भी 60-70 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। अगले दो महीने में भाव में कमी होने की उम्मीद है।

- संदीप खंडेलवाल, अध्यक्ष भानू युवा मोर्चाविस्तार इसलिए इनकी कीमतें भी आसमान छू रही हैं। यूं कहें कि वैश्विक महामारी के दौर में हर तरफ कालाबाजारी हावी है। सब्जियों के भाव थोक में कम है तो रेहड़ी-पटरी पर ऊंची कीमत वसूली जा रही है। मंडियों में फल यह कहकर महंगे बेचे जा रहे हैं कि आवक कम है। मंडियों में मासाखोर एक तरफ कमीशन लेता है तो फिर आढ़ती। इसके बाद फिर रिटेल में जब फल-सब्जियां पहुंचती हैं तो ये भी ऊंची कीमत पर बिकती है। किसानों के हाथ इस बीच खाली रहते हैं।

विज्ञापनकोरोना की वजह से आई तेजीकोविड महामारी ने कच्चे सौदे के भाव भी आसमान पर पहुंचा दिए हैं। संतरे की मांग पिछले दिनों इतनी बढ़ी कि वह मंडी से ही गायब हो गया है। विदेशी माल्टा जो संतरे का ही एक रूप है वह 200 से 300 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। इसी तरह कीवी जो 10 रुपया में एक मिलती थी वह इन दिनों 36 से 40 रुपये में मिलती है। प्रति पेटी 1000-1200 रुपये में बिक रही है। नासिक से आने वाले अनार के भाव भी काफी तेज हैं। थोक भाव में 70 से 120 रुपये प्रति किलो बिक रहा है तो खुदरा बाजार में आते-आते इसकी कीमत 150 रुपये तक हो जाती है। headtopics.com

बागी MLA की अखिलेश से भेंट के मामले में BSP सुप्रीमो मायावती आगबबूला, कहा-सपा का चरित्र दलितविरोधी केरल के पत्रकार सिद्दीक कप्‍पन, साथियों पर से शांतिभंग का आशंका का केस बंद, यह है कारण.. दिल्ली में 5 हजार हेल्थ असिस्टेंट की भर्ती की जाएगी, कोरोना से निपटने के लिए सीएम केजरीवाल का ऐलान

सबसे अधिक मांग वाले मौसमी की बात करें तो थोक भाव में इसकी 40 से 70 रुपये प्रति किलो बिक रही है, जो खुदरा बाजार में 100-125 रुपये प्रति किलो बिक रही है। गर्मी की वजह से एक बड़े वाले मौसमी में एक नींबू से ज्यादा रस भी नहीं निकल रहा है। नारियल पानी की मांग भी कोविड की वजह से बढ़ी हुई है। खुदरा बाजार में जो नारियल पानी 40-50 रुपये में मिलता था, वह थोक भाव में ही इतनी कीमत पर बिक रहा है।

किसान तो लूट रहा है, लेकिन बिचौलियों की चांदी है। मासाखोर, आढ़ती फिर खुदरा विक्रेता के बीच ग्राहकों तक भी सौदा पहुंचते-पहुंचते महंगा हो रहा है। मंडी का मासाखोर आढ़त से खरीद लेता है और फुटकर व्यापारियों को महंगा बेच देता है। कुछ लोगों ने कोविड की वजह से भाव भी बढ़ा दिया है। इन दिनों मौसमी, नारियल पानी, कीनू, चेरी, कीवी समेत सभी तरह के साइट्रस फ्रूट के भाव बढ़े हुए हैं। थोक मंडी में तो स्थिति थोड़ी बेहतर हैं, लेकिन रेहड़ी-पटरी पर बिकने वाले फल काफी महंगे हो गए हैं।

- मुकेश कुमार, अध्यक्ष, फ्रूट एंड वेजिटेबल वर्क्स यूनियनकोविड की वजह से आवक भी कम है और जो सौदे आ रहा है वह पिछले साल की तुलना में महंगा है। इन दिनों अंगूर, संतरा मार्केट से गायब है। सेब भी काफी कम आ रहा है और जो बाहर से आ भी रहा है वह काफी महंगा है। सेब की फसल इस बार कम हुई है। नई फसल जो हुई है उसे सी-कोल्ड में डाल दिया गया है। विक्रेता इंतजार में है कि भाव और चढ़ेगा तो उसे मंडी में भेजेंगे। 10 किलोग्राम पेटी वाला सेब इन दिनों 2 हजार रुपये तक बिक रहा है। इसी तरह जामुन भी 200 रुपये किलो तक पहुंच गया है। कोविड के साथ ही रमजान के महीने में भी मांग बढ़ जाती है। इस वजह से महंगाई और ज्यादा है।

- हरवीर सिंह, महासचिव फ्रूट वर्कर यूनियनगर्मी के दिनों में फल के भाव में तो आमतौर पर तेजी रहती है, लेकिन कोविड के नाम पर तेजी और अधिक बढ़ गई है। डॉक्टर सलाह दे रहे हैं कि संतरा, मौसमी, नारियल पानी पीया जाए। ऐसे में थोक भाव से लेकर खुदरा भाव में भी तेजी है। यहां तक कि पपीता भी 60-70 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। अगले दो महीने में भाव में कमी होने की उम्मीद है। headtopics.com

- संदीप खंडेलवाल, अध्यक्ष भानू युवा मोर्चाआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हां

खबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

आज की पॉजिटिव खबर: 7 साल पहले 7 किसानों संग शुरू की ऑर्गेनिक खेती; अब 1200 किसानों के प्रोडक्ट की मार्केटिंग और प्रोसेसिंग से सालाना टर्नओवर 50 लाख

मध्यप्रदेश के भोपाल में रहने वालीं प्रतिभा एक किसान हैं। 41 साल की प्रतिभा पिछले 7 सालों से ऑर्गेनिक खेती करने के साथ-साथ अन्य किसानों के प्रोडक्ट को प्लेटफॉर्म दे रही हैं। भारत जैसे पुरुष प्रधान देश में प्रतिभा के लिए एक महिला किसान होना किसी चुनौती से कम नहीं था। समाज से पहले उन्हें अपने घर में ही कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। लेकिन, प्रतिभा ने न सिर्फ अपने सपने पूरे किए बल्कि 1200 से ज्यादा ... | Positive story of Pratibha Tiwari, founder of Bhumisha Organics from Bhopal\r\n7 साल पहले 7 किसानों संग शुरू की ऑर्गेनिक खेती; अब 1200 किसानों के प्रोडक्ट की मार्केटिंग और प्रोसेसिंग से सालाना टर्नओवर 50 लाख

कांग्रेस का आरोप: मोदी सरकार की असंवेदनशीलता का परिणाम है कोरोना की दूसरी लहरकांग्रेस का आरोप: मोदी सरकार की असंवेदनशीलता का परिणाम है कोरोना की दूसरी लहर LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI INCIndia PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI INCIndia PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI INCIndia बिल्कुल सही बात है PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI INCIndia Murda bole kafan faade...

चेन्नई रेलवे पुलिस का 'एन्जॉय एन्जामी' पर डांस, कोरोना पर जागरूकता का संदेशचेन्नई रेलवे पुलिस ने अभी काफी वायरल चल रहे गाने एन्जॉय एन्जामी (Enjoy Enjaami') पर भी डांस किया. इस गाने पर केरल पुलिस ने भी हाल ही में डांस किया था. यहां एन्जामी का मोटा माटी अर्थ 'मेरे प्रिय' शब्द से माना जा सकता है.

तारक मेहता एक्ट्रेस मुनमुन दत्ता की टिप्पणी पर फूटा लोगों का गुस्सा, उठी गिरफ़्तारी की मांगTaarak Mehta Ka Ooltah Chashmah फेम मुनमुन दत्ता का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह कथित तौर पर एक जाति विशेष पर आपत्तिजनक टिप्पणी करती नजर आ रही हैं। इस वीडियो पर सोशल मीडिया यूजर्स का गुस्सा फूट पड़ा है और मुनमुन की गिरफ़्तारी की मांग हो रही है। ले जेठा लाल

सुपौल में कोरोना संक्रमित की मौत, अस्पताल पर परिजनों का आरोप- मौत के बाद लगाया ऑक्सीजनमरीज के परिजनों का आरोप है कि विजेंद्र सरदार को सुपौल रेफर करने के बाद डॉक्टरों ने उसका ऑक्सीजन निकाल दिया और उसे जाने के लिए कहा. परिजनों का कहना है कि उन लोगों ने डॉक्टरों से अनुरोध किया कि मरीज की हालत खराब हो रही है और उसे ऑक्सीजन सिलेंडर लगे रहने दिया जाए. rohit_manas Kaun hai ye rohit_manas Lala Kamdev- “सारा ब्रम्हांड ऑक्सीजन से भरा पड़ा है” Chowkidar- ”सारा देश मेरे मूर्ख भक्तों से भरा पड़ा है” rohit_manas Why only news of NDA govt. States. In Maharashtra, Rajasthan, Delhi Whr rape took place, Chattisgarh, Kerala, Jharkhand etc. No new. Shame on Arun puri.Again A new AAP forming propaganda is taking place to reincarnate one more new kejriwal

भारत में कोरोना की तबाही का असर बांग्लादेश पर भी बहुत बुरा - BBC Hindiसमाचार एजेंसी एपी के मुताबिक, देश के स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि कोरोना वायरस का भारत से आया एक वेरिएंट पहली बार बांग्लादेश में पाया गया है. OfficialDMRC Ek hafte me kya stiti sudhar jayegi. I just made ₹70 lakh from Dogecoin!! Follow me and retweet this and I’m giving away 10000 Dogecoins to 100 lucky people! dogetothemoon Dogecoins giveaway DogeCoinTo1Dollar