दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा- ऐसे में आतंकवाद के अपराध की गंभीरता नहीं बचेगी - BBC News हिंदी

दिल्ली दंगा मामले में हाई कोर्ट की टिप्पणी- ऐसे में आतंकवाद के अपराध की गंभीरता नहीं बचेगी

16-06-2021 09:37:00

दिल्ली दंगा मामले में हाई कोर्ट की टिप्पणी- ऐसे में आतंकवाद के अपराध की गंभीरता नहीं बचेगी

नताशा नरवाल, देवंगना कलिता और आसिफ़ इक़बाल तन्हा को ज़मानत देते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने सरकार पर कई सवाल उठाए हैं.

इमेज कैप्शन,नताशा नरवाल जब जेल में थीं तभी उनके पिता का कोविड से निधन हो गया थाक्या है मामलापिंजरा तोड़ की एक्टिविस्ट और जेएनयू की छात्राएँ नताशा नरवाल, देवंगना कलिता और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्र आसिफ़ इक़बाल तन्हा को दिल्ली पुलिस ने बीते साल दिल्ली दंगों की साज़िश रचने के आरोप में गिरफ़्तार किया था.

IPS राकेश अस्थाना की नियुक्ति पर हंगामा, AAP विधायक दिल्ली विधानसभा में उठाएंगे मुद्दा पेगासस जासूसी: ममता बनर्जी ने मोदी सरकार को दी चुनौती महाराष्ट्र कैबिनेट का बड़ा फैसला, छात्रों को राहत, निजी स्कूलों को करनी होगी फीस में 15% कटौती

इन दोनों को बीते साल उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों के मामले में हिरासत में लिया गया था. पहले दिल्ली पुलिस ने इन्हें 23 मई को गिरफ़्तार किया और फिर इन पर 29 मई को यूएपीए के तहत मामला दर्ज कर लिया गया. उस समय ये दोनों तिहाड़ जेल में न्यायिक हिरासत पर थीं.

दिल्ली दंगे: अपने-अपने चश्मे, अपना-अपना सचआसिफ़ इक़बाल को दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने 19 मई, 2020 को यूएपीए के तहत उस समय गिरफ़्तार किया गया था, जब पहले से ही वे सीएए और एनआरसी विरोधी प्रदर्शनों के सिलसिले में दर्ज एक मामले में न्यायिक हिरासत में थे. headtopics.com

इनकी ज़मानत याचिका पर फ़ैसला सुनाते हुए हाई कोर्ट ने कहा, "ऐसा लगता है कि राज्य की नज़र में विरोध के संवैधानिक अधिकार और आतंकवादी गतिविधि के बीच फ़र्क करने वाली रेखा कुछ धुंधली हो गई है."इमेज स्रोत,Getty Imagesजस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और अनूप जयराम बंबानी की बेंच ने यह कहते हुए तीनों छात्रों को ज़मानत दे दी कि 'इनके ऊपर लगाए गए आरोप प्रथम दृष्टया यूएपीए के सेक्शन 15 (आपराधिक कृत्य), सेक्शन 17 (आपराधिक गतिविधि के लिए फंड जुटाने की सज़ा) और सेक्शन 18 (साज़िश रचने की सज़ा) के अनुरूप नहीं हैं.'

हाई कोर्ट ने कहा, "ऐसे में यूएपीए के सेक्शन 43D(5) के तहत ज़मानत देने पर लगनी वाली पाबंदियाँ इन पर लागू नहीं होतीं."ज़मानत देते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा, "हम यह कहने के लिए विवश हैं कि ऐसा लगता है कि असहमति को दबाने के लिए सरकार के ज़हन में विरोध के संवैधानिक अधिकार और आतंकवादी गतिविधि के बीच का फ़र्क धुंधला हो गया है. अगर इस रवैए को बढ़ावा मिलता है तो ये लोकतंत्र के लिए दुखद दिन होगा."

विशेष सावधानी बरतने की सलाहसंसद ने साल 2004 में प्रिवेंशन ऑफ़ टेररेज़म एक्ट (पोटा) को हटा दिया था. इसके बाद, संशोधन करने यूएपीए लाया गया, जिसमें 'आतंकवादी कृत्य', 'साज़िश' और 'आतंकवादी कृत्य करने की तैयारी' जैसी बातें शामिल की गईं.

इमेज स्रोत,Getty Imagesपोटा से पहले देश में टेररिस्ट एंड डिसरप्टिव एक्टिविटिज़ (प्रिवेंशन) एक्ट (टाडा) लागू था जिसे 1995 में हटाया गया था. मंगलवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा, "आतंकवादी कृत्य की परिभाषा आतंकवाद की समस्या के आधार पर तय होनी चाहिए, जिस तरह से संसद ने टाडा और पोटा को लेकर तय की थी." headtopics.com

असम-मिज़ोरम सीमा विवाद: असम पुलिस के घायल जवान की मौत, मृतक संख्या सात हुई Modi सरकार vs ऑल में तब्दील हुआ Pegasus जासूसी विवाद, देखें खबरदार बिहार के स्वास्थ्य मंत्री बोले- राज्य में ऑक्सीजन की कमी से नहीं कोई मौत

'आतंकवाद' का अर्थ समझने के लिए हाई कोर्ट ने इस तरह के मामलों में सुप्रीम कोर्ट की ओर से सुनाए गए कई फ़ैसलों का हवाला भी दिया.दिल्ली दंगों पर अपनी जाँच रिपोर्ट में एमनेस्टी इंटरनेशनल ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोपजैसे, सुप्रीम कोर्ट ने 'हितेंद्र विष्णु ठाकुर बनाम महाराष्ट्र सरकार' के मामले में कहा था, "आतंकवाद, बढ़ी हुई अराजकता और हिंसा का परिणाम है. क़ानून व्यवस्था को बिगाड़ने से ही आतंकवादी गतिविधि नहीं होती. यह ऐसी गतिविधि होनी चाहिए, जिससे निपटने में क़ानूनी एजेंसियाँ सामान्य क़ानूनों को असमर्थ पाएँ."

इसी फ़ैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, "हर आतंकवादी भले ही अपराधी हो मगर हर अपराधी को आतंकवादी का तमगा नहीं दिया जा सकता."उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा मामले में अभियुक्त छात्रों को ज़मानत देते हुए हाई कोर्ट ने कहा, "जब कड़े क़ानूनी दंड का प्रावधान हो तो विशेष सावधानी बरतकर सब चीज़ों को समझना चाहिए."

और पढो: BBC News Hindi »

Monsoon Session के दूसरे हफ्ते भी हंगामा, देखें एक और एक ग्यारह

संसद के मॉनसून सत्र का दूसरा हफ्ता भी लगातार हंगामे की भेंट चढ रहा है. संसद के दोनों सदनों में आज भी हंगामा बरपा. विपक्ष ने आज भी मोरचाबंदी जारी रखी. विपक्षी दलों ने सरकार की घेराबंदी का अभियान जारी रखा है. विपक्षी दलों की बैठक भी हुई है. जासूसीकांड, कृषि कानून और महंगाई तमाम मुद्दों पर तनातनी है. राज्यसभा 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई तो लोकसभा में भी शोर-शराबा होता रहा. उधर विपक्षी दलों के साथ बैठक के बाद राहुल गांधी गरजे - कहा कि जासूसी कांड- कृषि कानूनों को लेकर पीछे नहीं हटेंगे और सरकार सदन में चर्चा करे. ज्यादा जानकारी के लिए देखें एक और एक ग्यारह.

sarfraz_shahi Nuksan tu logo ka hoya Judge ka kya gya Mota paisa ander liya Bakwas ki , judge ki bakwas se logo ke jo apni duniya ch0d ke chale gye vo vapis thode na aa jaye ge sarfraz_shahi Danga karo Court bacha lega जज साहेब को जानना होगा की आतंकवाद का पहला लक्षण ही यही है 🤫🤫

दिल्ली में 22 फरवरी के बाद एक दिन में सबसे कम कोरोना के नए मामलेDelhi Coronavirus Update: दिल्ली में कोरोना के नए मामले 22 फरवरी के बाद सबसे कम सामने आए. दिल्ली में सोमवार को समाप्त 24 घंटों में कोविड के 131 नए मामले सामने आए और 16 मरीजों की मौत हो गई. यह 22 फरवरी के बाद एक दिन में सबसे कम नए मामले हैं. मौतें 5 अप्रैल के बाद एक दिन में सबसे कम हुई हैं. दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 0.22% है जो कि 21 फरवरी के बाद सबसे कम है. 19 मार्च के बाद सबसे कम एक्टिव मामले हैं. यूपी में चुनाव होने वाले हैं न इसलिए कोविड 19 कम हो रहे है।।।

दिल्‍ली में होटल, क्‍लब और रेस्‍तरां के बार में अभी सर्व नहीं होगी शराब : आबकारी विभागदिल्ली में करीब दो महीने से बंद रेस्तरां को 50 फीसदी की क्षमता के साथ उसमें 21 जून तक ‘ट्रायल’ के तौर पर बैठकर खाने (डाईन-इन) सुविधा देने की इजाजत दे दी.दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के सभी बाजारों, बाजार परिसरों, मॉल और रेस्तरां (50 प्रतिशत बैठने की क्षमता तक) को परीक्षण के आधार पर 14 जून की सुबह पांच बजे से 21 जून की सुबह पांच बजे तक एक सप्ताह के लिए काम करने की अनुमति दी है. Ghar Mey PIO. घर पर ही पियो। वैसे भी जब भी होटेल या बार में जाओ 8-10 हज़ार तो यूँ ही फुर हो जाते हैं। अगले दिन खुद फिर नोर्मल। जब घर में डिलीवर हो रहा है तो बाहर जा कर पीने की क्या जरूरत है 🤣🤣

दिल्ली दंगा: यूएपीए के तहत दर्ज मामले में तीन लोगों को मिली ज़मानत - BBC Hindiपिंजड़ा तोड़ संगठन की कार्यकर्ताओं देवांगना कलीता और नताशा नरवाल और जामिया के छात्र आसिफ़ इक़बाल तन्हा को दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को ज़मानत दे दी. हनन में सब कुछ .. फिर ... कोई विशेष.. ध्यान में सूचित क्यों..🎭 Italian marines mercilessly killed our fishermen. If Madam is so 'patriotic' can she tell us in which jail are the marines lodged in? मोदी का upa के समय का ब्यान याद है

दिल्ली में विदेश जाने वाले स्टूडेंट्स के लिए खुला स्पेशल वैक्सीनेशन सेंटर, इन्हें भी मिलेगा फायदाइस स्पेशल वैक्सीनेशन सेंटर का उद्घाटन 14 जून 2021 को किया गया था. ये उन सभी नागरिकों के लिए उपलब्ध होगा जिन्हें 31 अगस्त 2021 तक की अवधि में अंतरराष्ट्रीय यात्रा करने की आवश्यकता है. पासपोर्ट के साथ इसके लिए सभी अनिवार्य दस्तावेज ले जाना अनिवार्य है. AajTak सोशल मीडिया के मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक और फॉलो करे फेसबुक - इंस्टाग्राम - ट्विटर - व्हाट्सएप्प - समीर श्रीवास्तव Dear 112, सर अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई, और ऊपर से हम लोगों को धमकी दी जा रहीं है! प्लीज़ त्वरित कार्रवाई कीजिए HDFCERGOGIC HDFCERGOHealth I bought the policy from it. They are not giving me the cashless claim. They cheated with us. Kindly help us. My father is Hospitalized, we don't have cash money. Policy Number: 2825 1008 2092 9500 001 MoHFW_INDIA

दिल्ली: सफदरजंग एयरपोर्ट पर आईटी बिल्डिंग में आग लगी, चार कर्मचारियों को सुरक्षित बाहर निकाला गयादिल्ली: सफदरजंग एयरपोर्ट पर आईटी बिल्डिंग में आग लगी, चार कर्मचारियों को सुरक्षित बाहर निकाला गया safdarjungairport Fire Justice for ssc gd CAPF candidate 2018 🙏 pls 55,000 remaining Medical fit candidates Waiting for more than 3 year's 🙏 1 lakh 11 thousand seats are vaccant in Central armed police force pls give us Justice 🙏 🇮🇳 Jai Hind 🇮🇳 sir Corruption,Cheating,Frauds,Forgery Of Doc's,Harassment,Molesting Drug Peddling Blackmailing & Threatening Acts By SBI to me & my 80+Sr.Parents,SBI stil Hiding My Home Loan Sanction Letter.Nor RBI,CONSUMER FORUM,Gov.Take Any Action Infact Equaly Supporting&involved In Their Crimes

दिल्ली स्थित इजरायली दूतावास के पास हुए ब्लास्ट मामले में दो संदिग्धों की तस्वीरें सामने आईंदिल्ली स्थित इजरायली दूतावास के पास हुए ब्लास्ट मामले में दो संदिग्धों की तस्वीरें सामने आई हैं। यह ब्‍लास्‍ट 29 जनवरी को हुआ था। धमाके के बाद सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई थीं। इलाके को पूरी तरह से सील कर दिया गया था। धमाके में कोई हताहत नहीं हुआ था। सीसीटीवी फुटेज में दो व्‍यक्ति दिख रहे हैं। ये इजरायली दूतावास के पास उस जगह की तरफ जाते दिख रहे है जहां धमाका हुआ था।