दिल्लीपुलिस, राकेशअस्थाना, Delhipolice, Rakeshasthana

दिल्लीपुलिस, राकेशअस्थाना

दिल्ली के नए पुलिस आयुक्त बनाए गए पूर्व विशेष सीबीआई निदेशक राकेश अस्थाना

दिल्ली के नए पुलिस आयुक्त बनाए गए पूर्व विशेष सीबीआई निदेशक राकेश अस्थाना #दिल्लीपुलिस #राकेशअस्थाना #DelhiPolice #RakeshAsthana

28-07-2021 20:30:00

दिल्ली के नए पुलिस आयुक्त बनाए गए पूर्व विशेष सीबीआई निदेशक राकेश अस्थाना दिल्लीपुलिस राकेशअस्थाना DelhiPolice RakeshAsthana

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने एजीएमयूटी कैडर से बाहर गुजरात कैडर के राकेश अस्थाना की दिल्ली पुलिस आयुक्त के तौर पर नियुक्ति को मंज़ूरी दी है. अस्थाना की नियुक्ति 31 जुलाई को उनकी सेवानिवृत्ति से कुछ दिन पहले हुई है. उनका कार्यकाल एक साल का होगा.

नई दिल्ली:सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के निदेशक और सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक गुजरात कैडर के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना को मंगलवार को दिल्ली पुलिस आयुक्त नियुक्त किया गया. पूर्व सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में अस्थाना पर भ्रष्टाचार और घूसखोरी के आरोप लगाए थे.

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने इस्तीफ़ा दिया, कहा-दायित्व बदलते रहते हैं - BBC News हिंदी Gujarat: कितनी अनोखी है सीआर पाटिल की कार्यशैली, मिल सकती है गुजरात की जिम्मेदारी, देखें Gujarat के अगले CM को लेकर किन बातों का ध्यान रखेगी BJP, समझें

गृह मंत्रालय (एमएचए) के आदेश के अनुसार, फिलहाल सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक के रूप में कार्यरत अस्थाना तत्काल प्रभाव से दिल्ली पुलिस आयुक्त का कार्यभार संभालेंगे.अस्थाना की नियुक्ति 31 जुलाई को उनके सेवानिवृत्त होने से कुछ दिन पहले हुई है. उनका कार्यकाल एक साल का होगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने एजीएमयूटी कैडर से बाहर गुजरात कैडर के अस्थाना की दिल्ली पुलिस आयुक्त के तौर पर नियुक्ति को मंजूरी दी.एसीसी ने शुरू में उनकी सेवा को 31 जुलाई को उनकी सेवानिवृत्ति की तारीख से एक वर्ष की अवधि के लिए या अगले आदेश तक जो भी पहले हो, तक बढ़ा दिया. headtopics.com

ऐसे बहुत कम उदाहरण हैं जब एजीएमयूटी कैडर के बाहर से एक आईपीएस अधिकारी को दिल्ली पुलिस प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया हो.अस्थाना इससे पहले केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के विशेष निदेशक के तौर पर सेवा दे चुके हैं.अस्थाना को अगस्त 2020 में बीएसएफ का प्रमुख नियुक्त किया गया. उन्होंने स्वापक नियंत्रण ब्यूरो के प्रमुख का अतिरिक्त प्रभार भी संभाला. अस्थाना नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) के महानिदेशक भी रह चुके हैं.

पुलिस अधिकारी ने सीबीआई के विभिन्न रैंकों में सेवा देने के अलावा गुजरात पुलिस में विभिन्न पदों पर कार्य किया है. जून के अंत में एसएन श्रीवास्तव के सेवानिवृत्त होने के बाद वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी बालाजी श्रीवास्तव वर्तमान में दिल्ली पुलिस आयुक्त का कार्यभार संभाल रहे हैं.

एनडीटीवीकी रिपोर्ट के अनुसार, अस्थाना की नियुक्ति ने दिल्ली पुलिस में चिंता पैदा कर दी है क्योंकि उन्हें बाहरी के रूप में देखा जा रहा है.रिपोर्ट में कहा गया, एसएस जोग और अजयराज शर्मा वह अन्य कैडर के तीसरे अधिकारी हैं जिन्हें शीर्ष पुलिस पद दिया गया है. कुछ अधिकारियों ने इस ओर भी इशारा किया कि मौजूदा आयुक्त बालाजी श्रीवास्तव को एसएन श्रीवास्तव के सेवानिवृत्त होने पर मुश्किल से एक महीने पहले अतिरिक्त प्रभार दिया गया.

दिल्ली पुलिस में असंतोष के बावजूद केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा अस्थाना की राष्ट्रीय राजधानी के पुलिस प्रमुख के रूप में नियुक्ति और नियुक्ति का समय प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से उनके संबंधों की ओर इशारा करता है.सीबीआई में अस्थाना का कार्यकालमालूम हो कि साल 2018 में सीबीआई के तत्कालीन निदेशक आलोक वर्मा और तत्कालीन विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के भ्रष्टाचार मामले को लेकर बड़ा विवाद खड़ हुआ था और वर्मा ने अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप में एफआईआर दर्ज किया था. headtopics.com

मुंबई: बलात्कार पीड़िता की मौत, बर्बर हमले के बाद बेहोशी की हालत में मिली थी - BBC News हिंदी विजय रुपाणी के सीएम की कुर्सी छोड़ने के पीछे क्या अहम कारण हैं? Gujarat CM को लेकर Mansukh Mandaviya पर BJP क्यों खेल सकती है दांव? देखें

इस विवाद के चलते अस्थाना और वर्मा को 21 अक्टूबर 2018 की आधी रात को छुट्टी पर भेज दिया गया था, बाद में दोनों को सीबीआई से बाहर कर दिया गया.राकेश अस्थाना ने केंद्र एवं राज्य सरकार दोनों विभागों में कार्य किया है. सीबीआई में नियुक्ति के बाद उन्होंने चारा घोटाले की जांच की थी जिसमें बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को सजा हुई थी.

गुजरात में तैनाती के दौरान उन्होंने तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में वडोदरा पुलिस कमिश्नर समेत कई महत्वपूर्ण पदों पर काम किया था.सीबीआई में विवाद के समय निदेशक आलोक वर्मा ने 15 अक्टूबर 2018 को अस्थाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि मोईन कुरैशी मामले में उन्होंने एक आरोपी से 2.95 करोड़ रुपये की रिश्वत ली थी ताकि उसके खिलाफ आरोपों को हल्का किया जा सके.

सतीश सना बाबू नाम के इस आरोपी को बाद में सीबीआई द्वारा गवाह बनाया गया था. और पढो: द वायर हिंदी »

प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक...देखें तालिबान की सरकार में कौन-कौन शामिल

तालिबान ने अंतरिम सरकार की घोषणा कर दी है. इस अंतरिम सरकार में प्रधानमंत्री यानी सरकार के प्रमुख की भूमिका में मुल्ला हसन अखुंद होंगे. मुल्ला हसन अखुंद तालिबान की रहबरी शूरा यानी लीडरशिप काउंसिल का चीफ है और तालिबान प्रमुख मुल्ला हिब्तुल्लाह अखुंदजादा के बेहद करीबियों में शामिल हैं. मुल्ला बरादर को तालिबान सरकार में डिप्टी पीएम बनाया गया है. डिप्टी पीएम की भूमिका में मुल्ला हन्नाफी की भी भूमिका रहेगी. इसके अलावा मुल्ला याकूब तालिबान सरकार में रक्षा मंत्री होगा और सिराजुद्दीन हक्कानी तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों का मंत्री होगा. शेर मोहम्मद अब्बास स्तनकजई तालिबान सरकार में उपविदेश मंत्री होगा. खैरुल्लाह खैरख्वा तालिबान सरकार में सूचना मंत्री होगा. जबकि तालिबान प्रवक्ता जैबुल्लाह मुजाहिद को उप सूचना मंत्री की जिम्मेदारी मिल रही है. अब्दुल हकीम को तालिबान सरकार का न्याय मंत्री बनाया गया है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें खबरदार.

All boot licker, agenda spreader are rejoicing under patronization of tadipar and jumlebaz feku Blue eyed what! भ्रष्टतम मोदी जी की पंसद pbhushan1 challenge his appointment. Go to the master of the roster. आजकल सड़क छाप राज कर रहे हे और राज करने की काबिलियत वाले सड़क पर हे देश के 50 % कोरोना केस सिर्फ़ केरल राज्य से हैं ..उस राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी नही हैं .. इसीलिए सवाल नही सन्नाटा है ।।

राकेश अस्थाना बने दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर, गुजरात कैडर के हैं IPSगृह मंत्रालय ने राकेश अस्थाना को दिल्ली पुलिस का नया कमिश्नर नियुक्त करने के संबंध में आदेश जारी कर दिया है. अस्थाना इस समय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक (डीजी) पद पर तैनात हैं. TanseemHaider और चुनावी चंदा..? यूँही पुरस्कृत नहीं करता हैं तडीपार TanseemHaider शुभ कामनाएं TanseemHaider चोर भी रहेगा और बीजेपी को मदद करेगा तो उसको इनाम मिलेगा ही

Delhi Police Commissioner: गुजरात कैडर के आइपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना बने दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नरदिल्ली पुलिस को नया कमिश्नर मिला है। राकेश अस्थाना को यह नई जिम्मेदारी मिली है। राकेश अस्थाना फिलहाल बीएसएफ के डीजी हैं। आयुक्त का अतिरिक्त कार्यभार संभाल रहे यूटी कैडर के 1988 बैच के आइपीएस बालाजी श्रीवास्त से तत्काल प्रभाव से यह जिम्मेदारी हटा ली गई है। राकेश अस्थाना..?वो भी देश की राजधानी के कमिश्नर ...? Bihar_Needs_Physical_Teachers Fabulous

राकेश अस्थाना: गुजरात कैडर के IPS, जो मोदी-शाह के रहे 'भरोसेमंद' - BBC News हिंदीराकेश अस्थाना की सिर्फ़ तीन सालों के अंतराल में पाँच अलग-अलग पदों पर नियुक्ति की गई है. तू भी अब संभल

IPS राकेश अस्थाना बने दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर, कांग्रेस ने खड़े किए सवालIPS राकेश अस्थाना दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर बने; कांग्रेस के प्रवक्ता Pawankhera ने कहा है कि राकेश अस्थाना को नियमों की अनदेखी करके यह पद दिया गया है. Delhi India (patelanandk ) Pawankhera patelanandk विरोध करते करते कांग्रेसी कहीं कांग्रेस का विरोध न करने लगे Pawankhera patelanandk पप्पू को बना दें Pawankhera patelanandk On which issue Congress has not raised question? But the result is always 👎🏿👎🏿👎🏿

जिम्मेदारी: दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर बने राकेश अस्थाना, मोदी सरकार ने की नियुक्तिदिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर बने राकेश अस्थाना, मोदी सरकार ने की नियुक्ति Delhi DelhiPolice rakeshasthana HMOIndia DelhiPolice HMOIndia DelhiPolice Amar Ujala सोशल मीडिया के मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक और फॉलो करे फेसबुक - इंस्टाग्राम - ट्विटर - व्हाट्सएप्प - समीर श्रीवास्तव HMOIndia DelhiPolice आउटसोर्स कर्मचारी ने अपने जीवन समय विभागो में सेवा को दिया हैउन्हें विभाग द्वारा नियमित आधार पर अन्य कर्मचारी की नियुक्ति पर आउटसोर्स को विभाग से निकालने का डर रहता है तब उम्र के हिसाब से आउटसोर्स वालोंको काम मिलने के अवसर नहि होते है व उनके परिवार को पालन पोषण बहुत ही कठिन है

कल से दिल्ली में उत्तर प्रदेश के बीजेपी सांसदों की बड़ी बैठकयह बैठक दो दिन होगी- 28 और 29 जुलाई. 28 को बृज, पश्चिम और कानपुर क्षेत्र के सांसदों की बैठक होगी. वहीं 29 को अवध, काशी और गोरखपुर क्षेत्र कि बैठक होगी. इस बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तरप्रदेश बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव , प्रदेश संगठन मंत्री सुनील बंसल और प्रभारी राधामोहन सिंह भी मौजूद रहेंगे.