दिल्ली में एक बुज़ुर्ग कोविड मरीज़ के दर-दर भटकने की कहानी - BBC News हिंदी

दिल्ली में एक बुज़ुर्ग कोविड मरीज़ के दर-दर भटकने की कहानी

08-05-2021 10:00:00

दिल्ली में एक बुज़ुर्ग कोविड मरीज़ के दर-दर भटकने की कहानी

एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल का चक्कर लगाते और ऑक्सीजन की क़तारों में खड़े नौजवानों का जीवन बचाने को लेकर संघर्ष. बीबीसी संवाददाता का आंखों देखा हाल.

समाप्तये जानकारी चंदीप को दी तो वो तुरंत अपनी गाड़ियों को लेकर अल शिफ़ा की तरफ़ चल पड़े. एक एंबुलेंस में मरीज़ और अटेंडेंट था और दूसरी गाड़ी में बाक़ी साथी.आगे भी मिली नाकामीसुरिंदर सिंह जब अल शिफ़ा पहुँचे तो वहाँ कोई बेड उपलब्ध न होने की जानकारी दी गई.

गहलोत की नसीहत पर भड़के कैप्टन: अमरिंदर बोले- गहलोत हमारे पंजाब को छोड़ अपना राजस्थान संभालें, राजस्थान में उनके सामने समस्याएं कम नहीं हैं हवाई सफर के दौरान भारतीय प्रधानमंत्रियों की चार बार ली गई थी तस्‍वीर', देखें PHOTOS दिल्ली के नामी रेस्टोरेंट में साड़ी पर विवाद: साड़ी पहनकर पहुंची महिला को नहीं दी गई एंट्री; महिला आयोग ने पुलिस से कार्रवाई की मांग की

सुरिंदर सिंह का ऑक्सीजन लेवल गिरकर 50 के पास पहुँच गया था. अब उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट के बावजूद सांस लेने में दिक्क़त हो रही थी. उनके साथ आए संप्रीत सिंह लगातार उन्हें हाथ से पंखा झल रहे थे.अल शिफ़ा के डॉक्टरों की टीम ने एंबुलेंस में ही उन्हें देखा और तुरंत किसी वेंटिलेटर वाले बेड पर ले जाने की सलाह दी. मिन्नतें करने के बाद भी अस्पताल आईसीयू बेड नहीं दे पाया.

अस्पताल के डॉक्टरों का कहना था, "मरीज़ को वेंटिलेटर वाले बेड की ज़रूरत है, अभी हमारे पास वेंटिलेटर नहीं है. हम इस स्थिति में मरीज़ को भर्ती नहीं कर सकते हैं."हमने अस्पताल के प्रबंधन से जुड़े कुछ लोगों से बात की. उन्होंने भरोसा दिलाया कि अगर वेंटिलेटर वाला बेड ख़ाली हुआ तो ज़रूर दे दिया जाएगा. थोड़ी देर बाद पता करने पर ही वही जवाब मिला कि आइसीयू बेड ख़ाली नहीं है. headtopics.com

यह भी पढ़ें:कोरोना: विश्वरूप राय चौधरी की बातों में आप भी तो नहीं आ रहेइस दौरान सुरिंदर सिंह को जो सिलिंडर लगा था वो ख़त्म हो गया. वो ऑक्सीजन के लिए तड़पने लगे. बहुत गुहार करने पर कुछ देर के लिए अल शिफ़ा अस्पताल ने अपना एक सिलिंडर दिया.दिल्ली के आश्रम इलाक़े के रहने वाले सुरिंदर सिंह को बचाने के लिए उनके पोते और उसके दोस्त जी-जान से जुटे हुए थे.

फिर जागी उम्मीदजब उनके एक पड़ोसी ने रोते हुए अल शिफ़ा के डॉक्टरों से भर्ती करने की गुहार लगाई तो उन्होंने बताया कि लाजपत नगर के आईबीएस अस्पताल (इंस्टीट्यूट ऑफ़ ब्रेन एंड स्पाइन) में बेड उपलब्ध हैं.कुछ देर में चंदीप के साथी एक और सिलिंडर लेकर अल शिफ़ा पहुंचे. मरीज़ को नया सिलिंडर लगाने के बाद गाड़ी आईबीएस अस्पताल की तरफ़ दौड़ने लगी. लेकिन यहां भी उन्हें निराशा ही हाथ लगी.

यह भी पढ़ेंकोरोना: भारत में दूसरी लहर क्या अब कमज़ोर पड़ चुकी है?एक और अस्पताल ने फिर वही कहा जो दो अस्पताल पहले कह चुके थे, कोई आइसीयू बेड ख़ाली नहीं है.अब तक रात के दो बज चुके थे. अब सुरिंदर सिंह को सफ़दरजंग अस्पताल ले जाया गया लेकिन वहां भी बेड नहीं मिला. वो रात भर एंबुलेंस में ही अस्पताल दर अस्पताल भटकते रहे. आख़िरकार परिजन थक-हारकर उन्हें घर वापस ले गए.

दस दिनों से बीमार सुरिंदर सिंह के लिए ऑक्सीजन जुटाने के लिए चंदीप और उनके साथी अलग-अलग लाइनों में लगते हैं, कहीं ऑक्सीजन मिलती है, कहीं नहीं.सुरिंदर के पोते संप्रीत कहते हैं, ''सबसे मुश्किल है ऑक्सीजन जुटाना, चार लोग लाइनों में लगते हैं तो किसी एक को वक़्त पर ऑक्सीजन मिल पाती है. जब हमें दिल्ली में कहीं ऑक्सीजन नहीं मिली तो हम हरियाणा गए. वहाँ गैस तो थी लेकिन हमें ये कहकर मना कर दिया गया कि दिल्ली के लोगों के लिए ऑक्सीजन नहीं है, सिर्फ़ लोकल लोगों के सिलिंडर भरे जा रहे हैं.'' headtopics.com

कैप्टन को मिला हरियाणा के मंत्री विज का साथ: BJP नेता बोले- पाक PM और सेना प्रमुख ने रची पंजाब में सिद्धू को सत्ता में लाने की साजिश; कांग्रेस ने अमरिंदर का सियासी कत्ल किया त्योहारों से पहले महंगाई की मार: 1000 रुपए का हो सकता है घरेलू LPG सिलेंडर, इस पर मिलने वाली सब्सिडी पूरी तरह बंद कर सकती है सरकार ट्यूटर ने छात्रा से कोचिंग में रेप किया: होशंगाबाद में अश्लील VIDEO बनाया, ब्लैकमेल किया; मां को मारने की धमकी देकर 9 महीने से कर रहा था दुष्कर्म

डॉक्टरों ने कहा था कि बिना वेंटिलेटर के सुरिंदर सिंह बच नहीं पाएंगे लेकिन उनकी जान बचाने में लगी युवाओं की टीम हर हालत में उन्हें दिलासा देती रही. जब उनकी सांस टूटती तो वो हाथ थाम लेते और कहते कि अंकल आपको कुछ होने नहीं देंगे.हर स्तर पर प्रयास करने के बाद अगले दो दिनों तक उनके लिए कहीं बेड नहीं मिल सका, लेकिन इस दौरान शायद लगातार मिले ऑक्सीजन सपोर्ट की वजह से उनकी हालत में थोड़ा सुधार आया और उनका ऑक्सीजन लेवल 50 से बढ़कर 70 तक पहुंच गया.

फिर ऑक्सीजन ख़त्मतीसरे दिन उनका सिलिंडर कहीं भी नहीं भर सका तो एक बार फिर उनकी जान बचाने की कोशिश में जुटे युवाओं का हौसला टूटने लगा. संदीप ने कांपती हुई आवाज़ में फ़ोन करके बताया कि अंकल की हालत सुधर रही है लेकिन एक घंटे में ऑक्सीजन ख़त्म हो जाएगी.एक दिन पहले ही मैं जीबी पंत इंजीनियरिंग कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर जोशिल के संपर्क में आया था.

वो सिलिंडर भरवाकर लोगों की मदद कर रहे हैं. जब सुरिंदर सिंह की जान बचाने में लगे नौजवान ने फ़ोन किया तो ऑक्सीजन ख़त्म होने से ठीक पहले प्रोफ़ेसर जोशिल उनके लिए सिलिंडर लेकर घर पहुंच गए. वे अब तक दो सिलिंडर सुरिंदर सिंह के लिए उपलब्ध करवा चुके हैं.यह भी पढ़ें

:इमेज कैप्शन,काली शर्ट में सबसे बाएं डॉक्टर जोशिलचौथे और पाँचवें दिन भी सुरिंदर सिंह के लिए बेड की तलाश जारी रही लेकिन हर तरफ़ से निराशा ही हाथ लगी.हालांकि पाँचवा दिन आते-आते डॉक्टरों ने ये भरोसा ज़रूर दिया कि सुरिंदर सिंह की हालत में अब सुधार हो रहा है. उनकी डूब रही आंखों में चमक-सी लौट आई है. लेकिन वो अब भी ऑक्सीजन सपोर्ट पर ही हैं. headtopics.com

आख़िरकार मिला बेडये रिपोर्ट लिखे जाने के वक़्त आख़िरकार शुक्रवार की देर रात उनका ऑक्सीजन स्तर 70 से 80 के बीच था, तभी दिल्ली के एक अस्पताल में उन्हें बेड मिल गया लेकिन अब उन्हें वेंटिलेटर की ज़रूरत नहीं होगी.चंदीप और उनके साथी फिर भी ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था करने में जुटे थे क्योंकि आगे का कुछ पता नहीं. चंदीप के मुताबिक़ अब तक सुरिंदर सिंह के लिए आठ जंबो सिलिंडर ऑक्सीजन इस्तेमाल की जा चुकी है.

यह भी पढ़ें:मई के दूसरे सप्ताह में प्रतिदिन कोरोना के आठ-नौ लाख मामले आ सकते हैं: भ्रमर मुखर्जीवो कहते हैं, "एक गुरुद्वारे से जुड़े लोगों ने भी हमें ऑक्सीजन भेजी है. इस दौरान जो भी शख़्स हमारी मदद कर रहा है वो हमारे लिए किसी भगवान से कम नहीं है."

प्रेम चोपड़ा का जन्मदिन: हीरो बनने आए थे प्रेम चोपड़ा लेकिन बन गए थे विलेन, खौफ ऐसा था कि उन्हें देखते ही पत्नियां छुपा लेते थे लोग AUKUS में भारत की एंट्री नहीं: अमेरिका ने कहा- भारत और जापान को शामिल नहीं करेंगे; इंडो-पैसिफिक में ब्रिटेन-ऑस्ट्रेलिया से की है पार्टनरशिप 95 साल की ड्राइवर दादी: पोती को कार चलाते देख बोलीं- मुझे भी ड्राइविंग करनी है, 3 महीने में सीखा कार चलाना, ड्राइविंग लाइसेंस के लिए किया आवेदन

चंदीप कहते हैं, "हम 10 दिनों से जद्दोजहद कर रहे हैं. सरकार कहीं नज़र नहीं आ रही है. जिस तरह से हम मोहल्ले के लोग जुटकर अपने अंकल को बचाने में लगे हैं सरकार भी तो ऐसा कर सकती है. ऐसा लग रहा है कि संकट की इस घड़ी में हमें बेसहारा छोड़ दिया गया है."

ये कहते-कहते उनकी आंखों में आंसू भर आए. उनके अंकल की सेहत अब सुधर रही है.बीबीसी से फ़ोन पर बात करते हुए वो कहते हैं, "अस्पतालों ने तो कह दिया था कि हमारे अंकल नहीं बचेंगे लेकिन हम जुटे रहे. अब बस आपकी दुआओं का सहारा है. अगर ऑक्सीजन मिलती रही तो हम अपने अंकल को बचा लेंगे. ना उनका हौसला टूटा है और ना ही हमारा."

और पढो: BBC News Hindi »

US दौरे पर PM मोदी, अब होगा आतंक पर वार! देखें हल्ला बोल

दो साल बाद अमेरिका के लिए पीएम मोदी की उड़ान तेजी से बदलती दुनिया में भारत की आन-बान और शान को दमदार अंदाज़ में दर्ज कराएगी. ये पहला मौका होगा जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन आमने सामने मुलाकात करेंगे. माना जा रहा है कि पीएम मोदी और जो बाइडेन की मुलाकात में अफगानिस्तान में तालिबान राज और उसके बाद के बढ़ते खतरे पर भी बात होगी. भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूती देने के अलावा प्रधानमंत्री के एजेंडे में आतंकवाद पर दुनिया को कड़ा संदेश देना भी शामिल होगा. SCO की बैठक में पीएम मोदी आतंकवाद को लेकर चीन और पाकिस्तान के सामने खरी-खरी सुना चुके हैं. आज हल्ला बोल में देखें इसी मुद्दे पर चर्चा.

In the country of 140 crore people, why cant we have a literate leader as PM. Political Party does not matter , may it be BJP, Congress etc. 'Point is Actual Welfare of Public & Common Man.' मोदीजी_इस्तीफा_दो SonuSoodRealHero क्रिकेटर इरफ़ान पठान पर गुजरात पुलिस से रिटायर सैयद_इब्राहिम ने इरफान पर उनकी बहू के साथ नाजायज संबंध रखने का आरोप लगाया है पुलिस ने बताया कि सैयद इब्राहिम की बहू इरफान पठान की चचेरी बहन है बताया जाता है कि यह शादी भी उन्होंने ही कराई थी🤦🏻‍♂️विडियो संलग्न

अमेरिका: फीनिक्स में होटल में गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत, सात घायलअमेरिका के फीनिक्स में एक होटल में रविवार को कहासुनी के बाद हुई गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई और सात अन्य घायल

दिल्ली के एक अस्पताल में 80 से ज्यादा स्टाफ कोरोना संक्रमित, एक डॉक्टर की मौतदिल्ली के सरोज सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के करीब 80 स्वास्थ्य कर्मी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है. जबकि एक डॉक्टर एके रावत का शनिवार का निधन हो चुका है. उन्होंने कोरोना रोधी टीके की डोज भी ली थी. वह 58 साल के थे. अस्पताल की चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ पीके भारद्वाज ने एनडीटीवी को बताया कि अप्रैल से मई महीने के बीच करीब 80 मेडिकल स्टाफ की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है. Sir I want to help shardha who is suffering in Hydearbad with 2000 rs main itna hi kar skta hun pls share her account number Mere known me bohot log hai.. Jinko dono lagne ke 2 machine baad mar gaye इस महान लापारवाही के लिए सरकार को श्री केजरीवाल को पद्मा पुरस्कार से सम्मानित करना चाहिए। साथ ही सभी टीवी चैनलों को केजरीवाल से प्रश्न न पुछने के लिए जनता चंदा इकट्ठा कर पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग प्रदान करें।

Rajasthan: बिना इलाज दर-दर भटक रहे लोग, अपनी पीठ ठोकने में बिजी CM Gehlot!कोरोना को लेकर विशेषज्ञों की सबसे बड़ी चेतावनी ये रहती है कि आप उसे हल्के में न लें. लेकिन जब लॉकडाउन लगाने वाली सरकारें ही आत्मप्रशंसा में डूब जाएं तो फिर सोचिए ये कितना बड़ा खतरा साबित हो सकता है. राजस्थान में कोरोना बेकाबू होने के बाद लॉकडाउन लगा दिया गया फिर भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कहते हैं कि उनके राज्य में दिल्ली और दूसरे राज्यों से बेहतर हालात हैं. लेकिन क्या वाकई में ऐसा है. जयपुर से शरत कुमार की ये रिपोर्ट देखिए. हमीरपुर UP में यमुना नदी की फ़ोटो भी देश को दिखाओ। जय सियाराम,जय भीम

स्थिति अब कंट्रोल में, दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से न जाए एक भी जान: केजरीवालदिल्ली में कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. इसी को ध्यान में रखते हुए सीएम केजरीवाल ने शुक्रवार को हाई लेवल मीटिंग की. इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को कई महत्वपूर्ण निर्देश दिए. इससे पहले उन्होंने कहा कि दिल्ली में अब ऑक्सीजन की स्थिति कंट्रोल में आ रही है. PankajJainClick अब ना रोटी की फिक्र है ना रोजगार की तलाश है मोदी” “शाह” की मेहरबानी से देश उस दौर में पहुँच गया है जहां जिंदा रहना ही विकास है..? PankajJainClick followed by press conference, ads, paid interviews with light questions PankajJainClick Corona is out of control.Plz don't wait for a corona peak or third wave. We r not sure how corona virus will behave in next few days or month but we know our public behaviour and population density. Complete Lockdown as soon as possible. Jai hind

फिर हिंसा: बंगाल में भाजपा-टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प में एक की मौत, छह घायलफिर हिंसा: बंगाल में भाजपा-टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प में एक की मौत, छह घायल WestBengal VoilenceInBengal MamataOfficial BJP4Bengal MamataOfficial BJP4Bengal Ye hal abhi ka h lucknow me 18 plus valo ke liye vaccination center hi nhi h MamataOfficial BJP4Bengal बंगाल की पुलिस भी ममता बानो की कठपुतली बनी हुई है न्यूज़ ऑपोजिट दिखा रहा है जबकि टीएमसी के गुंडों ने ही हमला किया है,बीजेपी के कार्यकर्ताओं पर MamataOfficial BJP4Bengal What the hell CMOfficeWB WBPolice CPKolkata is doing?Handover to central forces if you can't control riots.