दानिश सिद्दीक़ी की मौत के बाद अफ़ग़ानिस्तान में भारतीयों के लिए सरकार की चेतावनी - BBC News हिंदी

दानिश सिद्दीक़ी की मौत के बाद अफ़ग़ानिस्तान में भारतीयों के लिए सरकार की चेतावनी

24-07-2021 15:31:00

दानिश सिद्दीक़ी की मौत के बाद अफ़ग़ानिस्तान में भारतीयों के लिए सरकार की चेतावनी

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान का जैसे-जैसे नियंत्रण बढ़ रहा है, भारत सरकार की चिंता भी बढ़ती जा रही है. भारत सरकार ने अफ़ग़ानिस्तान में अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए चेतावनी जारी की है.

में मीडिया के लिए सलाहहाल ही में समाचार एजेंसी रॉयटर्स के फ़ोटोग्राफ़र दानिश सिद्दीकी की अफ़ग़ानिस्तान में रिपोर्टिंग के दौरान मौत हो गई थी. तालिबान के साथ सुरक्षा बलों की मुठभेड़ के वक़्त दानिश अफ़ग़ान सुरक्षा बलों के साथ रिपोर्टिंग कर रहे थे.मीडिया के लिए एडवाइजरी में कहा गया है, "ग्राउंड रिपोर्टिंग के लिए अफ़ग़ानिस्तान जाने वाले भारतीय मीडिया के सदस्यों को विशेष रूप से इस ओर ध्यान दिलाया जाता है. हाल की दुखद घटनाओं को देखते हुए ये ज़रूरी हो गया है कि ग्राउंड पर रिपोर्टिंग कर रहे सभी भारतीय मीडिया कर्मी काबुल दूतावास के पब्लिक अफेयर्स एंड सिक्यॉरिटी विंग से संपर्क करें. वहाँ उन्हें उनकी यात्रा की जगहों के बारे में विशेष जानकारी दी जाएगी. इससे न केवल भारतीय मीडिया कर्मियों को ख़तरे का आकलन करने में मदद मिलेगी बल्कि ज़रूरत पड़ने पर दूतावास भी उन्हें फौरी मदद मुहैया करा सकेगा."

ट्रंप ने अपनी भतीजी पर किया मुक़दमा, मैरी ट्रंप बोलीं- हताशा की निशानी - BBC News हिंदी 24 करोड़ डोज़ क्या हो जाएंगे बर्बाद, ग़रीबों को नहीं मिलेगी कोरोना वैक्सीन? - BBC News हिंदी हवाई सफर के दौरान भारतीय प्रधानमंत्रियों की चार बार ली गई थी तस्‍वीर', देखें PHOTOS

इसके अलावा भारत के विदेश मंत्रालय ने अफ़ग़ानिस्तान में काम कर रही भारतीय कंपनियों को कहा है कि प्रोजेक्ट वाली जगहों पर भारतीय कर्मचारियों को लाने ले जाने के लिए विशेष सुरक्षा बंदोबस्त किए जाएं.अफ़ग़ानिस्तान के पश्चिमी प्रांत में संघर्ष के बाद तालिबान को खदेड़ने का दावा

अशरफ़ गनी का बयानअफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ गनी ने शुक्रवार को अमेरिका और अफ़ग़ानिस्तान के संबंधों को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन से शुक्रवार को फोन पर बात की. अशरफ़ गनी ने बताया कि फ़ोन पर हुई इस बातचीत के दौरान राष्ट्रपति बाइडन ने यह भरोसा दिलाया कि अमेरिका अफ़ग़ान नेशनल डिफ़ेंस एंड सिक्योरिटी फ़ोर्स (एएनडीएसएफ़) का समर्थन जारी रखेगा. headtopics.com

ट्विटर पर गनी ने लिखा है कि हमें विश्वास है कि एएनडीएसएफ़ अफ़ग़ानिस्तान की रक्षा करने में सक्षम है. गनी के अनुसार, दोनों नेताओं ने इस बात पर ज़ोर दिया कि अफ़ग़ान लोग अमन, शांति और सुरक्षा के लिए एकजुट हों. दोनों देशों के बीच स्थापित पुराने रिश्ते वैसे ही बने रहें. राजनयिक और आर्थिक साझेदारी भी बनी रहे. साथ ही पिछले 20 सालों में जो दोनों देशों ने मिलकर हासिल किया, उसे संरक्षित रखा जाये.

व्हाइट हाउस ने भी दोनों नेताओं की बातचीत के बाद एक बयान जारी किया, जिसमें कहा गया कि राष्ट्रपति जो बाइडन और अशरफ़ गनी के बीच एक स्थायी द्विपक्षीय साझेदारी बनाये रखने को लेकर बात हुई. बयान में कहा गया है कि जो बाइडन ने महिलाओं, लड़कियों और अल्पसंख्यकों सहित अफ़ग़ान लोगों के लिए विकास और मानवीय सहायता सहित अमेरिकी समर्थन बनाये रखने पर ज़ोर दिया.

बयान में ये भी कहा गया है कि बाइडन और गनी इस बात पर सहमत हुए कि तालिबान का मौजूदा आक्रमण समझौतों के ज़रिये समस्या को हल करने के विपरीत है. जो बाइडन ने इस बात पर भी फिर से ज़ोर दिया कि अमेरिका अफ़ग़ान फ़ोर्स को आत्म-रक्षा के लिए सहायता देने के लिए प्रतिबद्ध है. दोनों नेताओं के बीच यह बातचीत ऐसे समय में हुई है, जब अफ़ग़ानिस्तान में हिंसा के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं.

राष्ट्रपति गनी ने कहा है कि उन्होंने एक नया सिक्यॉरिटी प्लान बनाया है जिसके लागू होने के बाद मौजूदा सुरक्षा परिस्थितियाँ बदलेंगी. इस नये सिक्योरिटी प्लान के अंतर्गत एएनडीएसएफ़ बड़े शहरों, हवाई अड्डों, हाइवे, सीमा से सटे कस्बों जैसे महत्वपूर्ण रणनीतिक स्थानों पर सुरक्षाबलों की संख्या बढ़ायेगी. headtopics.com

रईस अमरोहीः जॉन एलिया के भाई, जिनके क़त्ल ने कराची को हिला दिया - BBC News हिंदी नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में ताज़ा वीडियो से उठे सवाल, आत्महत्या पर संदेह गहराया - BBC News हिंदी कर्नाटक: दलित बच्चे के मंदिर जाने और पिता पर जुर्माना लगाने का क्या है पूरा मामला - BBC News हिंदी

पिछले दो महीने में 200 से ज़्यादा ज़िले तालिबान के कब्ज़े में चले गए हैं. इनमें कुछ महत्वपूर्ण सीमावर्ती कस्बे भी शामिल हैं. लेकिन सरकार ने बड़े भरोसे से कहा है कि वो इन इलाक़ों को वापस अपने कब्ज़े में ले लेगी, जिनमें ख़ासतौर पर हेरात और कंधार प्रांत के सीमावर्ती कस्बे शामिल हैं.

आईएस में शामिल ब्रिटिश युवकों के स्मार्ट फ़ोन से क्या मिला?29 जून की एडवाइज़रीअफ़ग़ानिस्तान में बिगड़ती सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनज़र भारतीय विदेश मंत्रालय ने वहां रह रहे भारतीयों के लिए एडवाइजरी जारी की है.एडवाइजरी में कहा गया है कि अफ़ग़ानिस्तान में रह रहे सभी भारतीयों को अपने काम और रहने की जगह और साथ ही कहीं आने-जाने के दौरान अपनी सुरक्षा को लेकर सचेत और सावधान रहने की सलाह दी जाती है.

इसके अलावा वहां रहने वाले भारतीयों को काबुल दूतावास की वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन कराने की सलाह दी गई है.एडवाइजरी में कहा गया है, "सभी भारतीय नागरिकों को ये सख्त सलाह दी जाती है कि उन्हें गैर ज़रूरी यात्राओं से बचना चाहिए. दिन के समय कहीं आने जाने से बचा जाना चाहिए."

"सरकारी गाड़ियों, सेना के काफिले, बड़े अफसरों, सुरक्षा एजेंसियों की गाड़ी से फासला बनाकर चलना चाहिए. ये संभावित टारगेट हो सकते हैं. भीड़भाड़ वाली सार्वजनिक जगहों जैसे बाज़ार, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, रेस्तरां जाने से बचना चाहिए." और पढो: BBC News Hindi »

दिग्विजय का हिंदू-मुस्लिम आबादी पर बयान: बोले- देश में मुस्लिमों की जन्म दर में हिंदुओं से ज्यादा गिरावट, यह 2028 तक बराबर हो जाएगी

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने हिंदू-मुसलमान की बढ़ती आबादी को लेकर बड़ा बयान दिया है। दिग्विजय ने कहा कि मुसलमानों की जन्म दर घट रही है। साल 2028 तक हिंदुओं और मुसलमानों की जन्म दर बराबर हो जाएगी। उन्होंने एक स्टडी का हवाला देते हुए कहा- 1951 के बाद से मुसलमानों की जन्म दर में गिरावट हिंदुओं की तुलना में अधिक रही है। जनसंख्या वृद्धि को लेकर मुसलमानों से को... | Former Chief Minister of Madhya Pradesh and senior Congress leade, birth rate of Hindus and Muslims

डर तो इस बात है कि कही अशरफ गनी का हल भी नज़्ज़िबुल्लाह की तरह न हो देखतें है अमेरिका इस बारे मे क्या करता है ये BBC भी पता नहीं, कहां से क्या-2 लाता है। किसने मारा क्यों मारा, सबको झोल कर देता है। भारत सरकार अपने भारतीयों के लिए क्या कर रही है.. narendramodi जी से अपील है कि दानिश साहिब के परिवार को 1 करोड़ का मुआवजा दें।

Taliban की दहशत के बीच Afghanistan में Sikh Community के लोग कर रहे पलायनरिपोर्टिंग करने के लिहाज से इस वक्त दुनिया का सबसे खतरनाक मुल्क अगर कोई है. तो वो है अफगानिस्तान. और आजतक ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को दुनिया के सामने लाने का बीड़ा उठाया है. आजतक की टीम लगातार अफगानिस्तान के अलग-अलग इलाकों की ग्राउंड रियलिटी को कवर कर रही है. अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) के बढ़ते दबदबे के चलते वहां रह रहीं सिख परिवार (Sikh Families) खौफ में है और इसी डर के चलते 53 परिवार जलालाबाद (Jalalabad) को छोड़कर इंडिया (India) आ गए हैं. और वहां सिर्फ 6 से 7 सिख परिवार ही बची हैं. Aajtak ने जाना उनका दर्द. देखें वीडियो. भारत में मुस्लिम समुदाय और सिख समुदाय एक हैं तो जलन हो रही है- आज तक जहाँ देश के ऊपर धर्म का कब्ज़ा हो फिर देश का कोई मतलब नहीं रह जाता, क्यों जलालत झेल रहें है ये लोग, क्यों नहीं मिल जाते पानी में नमक की तरह... INCIndia AITCofficial was not just against CAA but these helpless sikhs

टोक्यो ओलंपिक: भारत की हॉकी में रोमांचक जीत, निशानेबाज़ी में मेडल की उम्मीद - BBC News हिंदीटोक्यो ओलंपिक में शनिवार का दिन भारत के लिए काफ़ी एक्शन भरा है, किन किन खेलों में मिल सकता है मेडल. Congratulations Great salute to you guys

देश के कई हिस्सों में बाढ़ से तबाही: महाराष्ट्र में बाढ़ से जुड़े हादसों में 136 मौतें, कर्नाटक के 7 जिलों में रेड अलर्ट; गोवा के कई शहर पानी में डूबेमहाराष्ट्र में शनिवार को भी बारिश का कहर जारी है। गुरुवार शाम से लेकर अब तक बारिश से जुड़ी अलग-अलग घटनाओं में 136 लोगों की मौत हो चुकी है। बुरी तरह प्रभावित ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी, सतारा, सांगली और कोल्हापुर जिलों से 8 हजार से ज्यादा लोगों को NDRF, नेवी और आर्मी ने रेस्क्यू किया है। 200 से ज्यादा गांवों का प्रमुख इलाकों से संपर्क टूट गया है। | heavy rain in maharashtra: NDRF, Army and Navy have rescued more than 8 thousand people so far, 129 people died in the state; Red alert of rain for the next two days in many districts नर्सेज भर्ती 2018 को अस्थायी पदस्थान को 1 साल से ऊपर हो गया फ़ाइल मंत्री RaghusharmaINC के पास पड़ी है वो ध्यान नही दे रहे है मंत्री जी आम नर्सेज को कार्य बहिष्कार के लिए मजबूर नही करें 12000 नर्सेज में बहुत आक्रोश है ajaymaken RahulGandhi SachinPilot ashokgehlot51

बढ़ रहा है दायरा: अफगानिस्तान के आधे हिस्से में तालिबान ने जमाया कब्जाअमेरिका के ज्याइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिले ने कहा है कि तालिबान ने अब तक अफगानिस्तान के करीब आधे हिस्से

अफगानिस्तान में कदम-कदम पर खतरा, 'लाइफ लाइन' पर कब्जे की कोशिश में तालिबानतालिबान (Taliban) जानता है कि अगर उसे अफगानिस्तान (Afghanistan) पर कब्जा करना है तो अफगानिस्तान के हाईवे (HighWays) पर कब्जा करना होगा और अफगान फोर्सेज किसी भी कीमत पर ऐसा होने नहीं देना चाहतीं.

अफगानिस्तान: तालिबानियों के हमले में मारे गए 100 नागरिक, अब भी जमीन पर पड़े हैं शवकंधार प्रांत के स्पिन बोल्डक जिले में कथित तौर पर 100 लोगों की बड़ी ही बेरहमी से हत्या कर दी गई। अफगानिस्तान का गृह मंत्रालय Very sad