Education, College, Admission, Delhi High Court, Enrollment Fraud

Education, College

दाखिले की राह

दाखिले की राह in a new tab)

21-09-2021 02:47:00

दाखिले की राह in a new tab)

यह अपने आप में एक विडंबना है कि कड़ी मेहनत करने वाला कोई विद्यार्थी सिर्फ इसलिए किसी पाठ्यक्रम में दाखिला लेने से वंचित रह जाए कि वहां नियमों को ताक पर रख कर कुछ अन्य विद्यार्थियों को जगह दे दी गई।

शायद यही वजह है कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने साफ लहजे में कहा है कि लाखों विद्यार्थी योग्यता के आधार पर शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश के लिए कड़ी मेहनत करते हैं, इसलिए अब समय आ गया है कि ऐसे संस्थानों में पिछले दरवाजे से दाखिले का चलन बंद हो। अदालत ने इस संदर्भ में पांच छात्रों की एक अपील को खारिज कर दिया, जिन्हें चिकित्सा शिक्षा विभाग की ओर से आयोजित केंद्रीकृत काउंसलिंग में शामिल हुए बिना ही भोपाल के एलएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल और अनुसंधान केंद्र ने प्रवेश दे दिया गया था।

महंगे पेट्रोल पर प्रियंका गांधी का तंज, हवाई चप्पल वालों का सड़क पर सफर भी मुश्किल पश्चिम बंगाल में बीजेपी नेता की गोली लगने से मौत, राजनीतिक विवाद तेज - BBC Hindi पाकिस्तान में महिला ने एक साथ सात बच्चों को दिया जन्म - BBC News हिंदी

यों देश के सभी सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेजों में नीट परीक्षा परिणाम के आधार पर केंद्रीकृत काउंसलिंग व्यवस्था के जरिए ही दाखिले की व्यवस्था है। इस संबंध में सर्वोच्च न्यायालय भी निर्देश जारी कर चुका है। इस आधार पर भारतीय चिकित्सा परिषद ने अप्रैल, 2017 में ही संबंधित पांचों छात्रों के प्रवेश को निरस्त करने से संबंधित पत्र जारी किए थे। उसके बाद भी कई बार ध्यान दिलाया गया। लेकिन हैरानी की बात है कि न तो उन छात्रों ने और न ही मेडिकल कॉलेज ने उन पर गौर करने की जरूरत समझी।

कॉलेज ने इन छात्रों को परीक्षाओं में भी शामिल होने की अनुमति दी और आगे बढ़ने दिया। सवाल है कि कॉलेज का जो प्रबंधन निर्धारित प्रक्रिया में एक भी बिंदु में चूक की वजह से किसी विद्यार्थी को दाखिले से वंचित कर दे सकता है, उसने इतने अहम मामले में नियमों की अनदेखी कर छात्रों को पिछले दरवाजे से संस्थान में प्रवेश कैसे दिया! यही नहीं, न सिर्फ छात्रों ने अपने दाखिले को निरस्त करने के भारतीय चिकित्सा परिषद के पत्र को महत्त्व नहीं दिया, बल्कि बार-बार ध्यान दिलाए जाने के बावजूद संस्थान को इस संबंध में कोई कार्रवाई करना जरूरी नहीं लगा! नतीजतन, उन छात्रों ने अपने जीवन के अहम चार साल गंवा दिए। headtopics.com

दरअसल, मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए देश भर में निजी और सरकारी संस्थानों की एक शृंखला खड़ी हो चुकी है। इनमें दाखिलों के लिए एक निर्धारित प्रक्रिया है और इसी के तहत हर साल विद्यार्थियों को जगह मिलती है। लेकिन इसके समांतर ऐसे सवाल भी उठते रहे हैं कि कुछ संस्थानों में फीस या डोनेशन के नाम पर भारी रकम के बदले नियम और प्रक्रिया को धता बता कर भी दाखिला दे दिया जाता है।

इसका खमियाजा उन विद्यार्थियों को उठाना पड़ता है, जिन्होंने बहुत मेहनत से तैयारी की होती है और प्रतिभा की कसौटी पर वे बेहतरीन होते हैं। पिछले दरवाजे से किसी भी संस्थान में प्रवेश या नौकरी का सीधा नुकसान मेधा को तो उठाना ही पड़ता है, यह कानून के भी खिलाफ है। अफसोसनाक यह है कि अदालतों के स्पष्ट निर्देशों और निर्धारित प्रक्रिया के बावजूद कुछ संस्थानों के प्रबंधन अपने स्तर पर इस तरह की गड़बड़ी करते हैं, जिसकी कीमत मेधावी विद्यार्थियों को चुकानी पड़ती है।

और पढो: Jansatta »

कुलगाम में फिर आतंकियों का निशाना बने गैर-कश्मीरी, अबतक 11 लोगों की हत्या

जम्मू कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों ने एक बार फिर से गैर कश्मीरी को निशाना बनाया है. एक तरफ कश्मीर में आतंकी लगातार टार्गेट किलिंग कर रहे हैं और दूसरी तरफ 24 अक्टूबर को वर्ल्ड कप में पाकिस्तान से क्रिकेट मैच होने जा रहा है, इस क्रिकेट मैच को लेकर भी अब सियासत गरमा गई है. सवाल उठ रहे हैं कि जब पाकिस्तान से लगातार आतंकियों की खेप कश्मीर को दहलाने की साजिश रच रही है तो फिर पाकिस्तान से क्रिकेट मैच खेलने का क्या मतलब है और ये सवाल अकेले कांग्रेस नहीं उठा रही खुद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का भी यही मानना है कि पाकिस्तान से मैच खेलने को लेकर विचार किया जाना चाहिए. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

रूस में पुतिन की पार्टी चुनावी धांधली के आरोपों के बीच जीत की ओर - BBC Hindiपुतिन की यूनाइटेड रशिया पार्टी ने मतदान के कुछ ही घंटों के बाद देश के संसदीय चुनाव में जीत की घोषणा की है. मोदी की पार्टी की तरह कौन रोके पथ .. कौन समझे सोच .. प्रयत्न में कितने लगे .. विरोध में कितने सजे.. भाव से अवगत कितने सच .. कहें कितनों में किनसे अब⚡ One of the corrupt politician in the world

महाराष्ट्र: मंदिर की रखवाली करने वाले बुजुर्ग दंपत‍ि की संद‍िग्ध हालत में मिली लाशमहाराष्ट्र के वाश‍िम ज‍िले से एक सनसनीखेज खबर आई है ज‍िसमें एक मंद‍िर की रखवाली करने वाले दंपत‍ि की लाश घर में ही म‍िली. पुल‍िस जब मौके पर पहुंची तो देखा क‍ि अंदर से कुंडी बंद थी.

इस हफ्ते वाशिंगटन में क्वाड देशों की पहली बैठक, अंतर्विरोध दूर करने की होगी चुनौतीइस सप्ताह वाशिंगटन में क्वाड देशों की पहली वैयक्तिक शिखर बैठक विश्व राजनीति की दशा-दिशा बदलने वाली साबित हो सकती है। समन्वय मजबूत करें तो स्वाभाविक है कि जिसे खबरदार किया जा रहा है उसके कानों में चेतावनी गूंजेगी।

रूस: पर्म शहर की यूनिवर्सिटी में गोलीबारी से 8 की मौत, देखें खौफनाक मंजररूस की राजधानी मास्को से करीब 1300 किलोमीटर दूर पर्म शहर में एक यूनिवर्सिटी में गोलीबारी हुई है. इस गोलीबारी में अब तक 8 लोगों की मौत की खबर है. सुरक्षा बलों ने गोली चलाने वाले को गिरफ्तार कर लिया है. बताया जा रहा है कि ये गोलीबारी पर्म स्टेट यूनिवर्सिटी में हुई और हमलावर यूनिवर्सिटी का ही छात्र है. बताया जा रहा है कि हमलावर पीएसयू की एक बिल्डिंग में घुसा और फायरिंग शुरू कर दी. हथियार लिए शख्स करीब 11 बजे यूनिवर्सिटी कैंपस में पहुंचा और गोलियां चलानी शुरू कर दीं. घटना के कुछ देर बाद ही वह फरार हो गया था लेकिन फिर बाद में गिरफ्तार कर लिया गया. देखिए ये वीडियो. शांतिदूत हर जगह कमाल कर रहे है लगता है दुनिया को मुहम्मद के समय में पहुंचा कर ही मानेंगे शातिप्रिय समुदाय से होगा

तालिबान सरकार में तेल कंपनियों की मनमानी, काबुल में बढ़ने लगे पेट्रोल-डीजल के दामकाबुल में पिछले एक हफ्ते में ईंधन की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि हुई है। स्थानीय लोगों ने तालिबान सरकार से तेल कंपनियों और ईंधन के आयातकों से अधिक शुल्क को रोकने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया है। Wo bhi gst mai laa re hai kya ? 😂😂😂😂😂😂😂😂 धन्यवाद आपका जो आपने काबुल की न्यूज दी,, अबे मूर्ख बनाने की भी सीमा है,, काबुल के न्यूज से क्या लेना देना बे,, यहां की भी न्यूज बता दो ,,और पूछ लो अपने आका से

अदालती बोझ घटाएंगे सशक्त न्यायाधिकरण, देश की कोर्ट में न्यायिक और तकनीकी विशेषज्ञों की भारी कमीउच्चतम न्यायालय ने हाल ही में कहा है कि केंद्र सरकार न्यायाधिकरणों में अधिकारियों की नियुक्ति न करके इन अर्ध न्यायिक संस्थाओं को शक्तिहीन कर रही है। दरअसल अधिकरणों में बड़ी संख्या में खाली पदों पर नियुक्तियां नहीं होने से वे ठीक से काम नहीं कर पा रहे हैं।